Skip Navigation Links
2016 का मूलांक 7 मानें या 9 क्या कहते हैं ज्योतिषाचार्य


2016 का मूलांक 7 मानें या 9 क्या कहते हैं ज्योतिषाचार्य

साल 2016 का आगमन हुआ तो ज्योतिष शास्त्र के विद्वान भी ज्योतिष की अलग-अलग विद्याओं से इस साल के भविष्य का अनुमान लगाने लगे। ज्योतिष शास्त्र का ही एक संभाग है, अंक ज्योतिष। इसके अनुसार जिस प्रकार हम वर्ष को लिखते हैं, उसी प्रकार उसके अंकों की गणना कर मूलांक ज्ञात किया जाता है। मूलांक के अनुसार ही ग्रहों की दशा पर विचार कर भविष्य के अनुमान लगाए जाते हैं। 2016 का भी अंक ज्योतिष के अनुसार विद्वानों ने अनुमान लगाया है, लेकिन मूलांक पर ज्योतिष शास्त्रियों में मतभेद हैं। कुछ ज्योतिष विद्वानों ने 2016 को 2016=9 के रुप में गणना कर मूलांक 9 माना है, तो कुछ ने सिर्फ 2016 के सिर्फ अंतिम 16 अंकों का योग कर मूलांक 7 मानकर वर्ष के भविष्य को बताया है। आइए एक नजर डालते हैं अंक 9 व 7 पर, क्या है ज्योतिषाचार्यों की राय ? भारत के प्रतिष्ठित ज्योतिषाचार्यों से बातचीत कर अपनी शंकाओं का समाधान जानें। आज ही डाऊनलोड करें एस्ट्रोयोगी एप्प

कुछ ज्योतिष शास्त्रियों ने माना है कि 2016 का मूलांक 9 ही शुभ है। 9 का स्वामी मंगल है, जिसका इस साल अच्छा असर रहेगा। चूंकि मंगल का रंग लाल है और यह अत्यधिक उर्जा पैदा करने वाला ग्रह है, ऐसे में इस वर्ष गुस्से पर काबू रखने की सलाह दी जाती है। मूलांक 9 मानने वाले विद्वानों ने हिदायत भी दी है कि 2016 को 2016 ही लिखें, सिर्फ 16 लिखने का महत्व अच्छा नहीं है, बल्कि यह दुर्घटना एवं आपदाओं का सूचक है।

वहीं 2016=9 की बजाय 16=7 मूलांक मानने वाले विद्वानों ने 7 अंक को कल्याणकारी बताते हुए कहा है कि 7 अंक केतू का है। चूंकि केतू छाया ग्रह है, इसलिए यह जिस भी ग्रह से साथ होता है उसी के अनुसार फल देता है।

हालांकि मंगल का केतु के साथ सैद्धांतिक रुप से शत्रुता का संबंध होता है। लेकिन अंक ज्योतिष के कुछ विद्वान नव वर्ष की कुंडली के अनुसार केतू को उच्च राशि मीन में और मंगल शुक्र की राशि तुला में गोचर बताए हैं, जिससे 2016 में मूलांक 9 स्वामी मंगल का केतू से षडाष्टक संबंध बनता है।

फिर भी अधिकतर विद्वानों ने इस साल को मंगल का साल माना है। 9 अंक वालों के लिए यह बहुत ही शुभ, उत्साह और उर्जा से भरपूर साल रहने वाला है। लेकिन अपने क्रोध पर नियंत्रण व अपनी उर्जा को सकारात्मक एवं रचनात्मक कार्यों में इस्तेमाल कर, आप अपने कार्यों को मुकाम तक पंहुचा सकते हैं। राष्ट्रीय स्तर पर 2016 में हमें दुर्घटनाओं एवं विस्फोटों के प्रति सचेत रहते हुए अपनी सुरक्षा व्यवस्था को मजबूत करना होगा। इस पर क्लिक कर आप एस्ट्रोयोगी के अन्य लेख भी पढ़ सकते हैं।




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

गीता जयंती 2016 - भगवान श्री कृष्ण ने कुरुक्षेत्र में दिया था गीता का उपदेश

गीता जयंती 2016 - ...

कर्मण्यवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन |मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोSस्त्वकर्मणि ||मनुष्य के हाथ में केवल कर्म करने का अधिकार है फल की चिंता करन...

और पढ़ें...
मोक्षदा एकादशी 2016 – एकादशी व्रत कथा व महत्व

मोक्षदा एकादशी 201...

एकादशी उपवास का हिंदुओं में बहुत अधिक महत्व माना जाता है। सभी एकादशियां पुण्यदायी मानी जाती है। मनुष्य जन्म में जाने-अंजाने कुछ पापकर्म हो जा...

और पढ़ें...
2017 में क्या कहती है भारत की कुंडली

2017 में क्या कहती...

2016 भारत के लिये काफी उठापटक वाला वर्ष रहा है। जिसके संकेत एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों ने उक्त समय दिये भी थे। खेलों के मामले में भी हमने कह...

और पढ़ें...
क्या हैं मोटापा दूर करने के ज्योतिषीय उपाय

क्या हैं मोटापा दू...

सुंदर व्यक्तित्व का वास्तविक परिचय तो व्यक्ति के आचार-विचार यानि की व्यवहार से ही मिलता है लेकिन कई बार रंग-रूप, नयन-नक्स, कद-काठी, चाल-ढाल आ...

और पढ़ें...
बुध कैसे बने चंद्रमा के पुत्र ? पढ़ें पौराणिक कथा

बुध कैसे बने चंद्र...

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मनुष्य के जीवन को ग्रहों की चाल संचालित करती है। व्यक्ति के जन्म के समय ग्रहों की जो दशा होती है उसी के आधार पर उसक...

और पढ़ें...