Skip Navigation Links
इस दिवाली कौनसे रंगों से बढ़ेगी घर की शोभा


इस दिवाली कौनसे रंगों से बढ़ेगी घर की शोभा

दिवाली का त्यौहार नजदीक आते ही मानो जन जीवन चहकने लग जाता है। चहकेगा क्यों नहीं आखिर यह त्यौहार अपने आस-पास और भी बहुत सारे त्यौहार लेकर आता है। त्यौहारों को लेकर चाव, उमंग तो सभी में होती है। लेकिन दिवाली पर सबसे ज्यादा उत्साह होता है घर को सजाने-संवारने का, गहरे से हर चीज़ की सफाई करने का। यानि घर को एक दम चकाचक टिप-टॉप रखने का। घर की सजावट के लिये जो सबसे पहले ख़याल आता है वो है घर में रंग-रोगन करने का। आज आपको इसी बारे में बताएंगें कि दिवाली पर आप कैसे रंगों से अपने घर को हसीन बना सकते हैं और किन बातों का रंगाई-पुताई के लिये ध्यान रखना है।


रंग-रोगन के समय ध्यान रखने योग्य बातें

 


वास्तु के अनुसार हों रंग

घर में रंग करने से पहले यही सवाल होता है कि किस तरह का रंग घर में किया जाये। कौनसा रंग करना शुभ रहेगा। इसके लिये पहली बात जो ध्यान रखने लायक है वो यह कि आप जिस रंग से घर को रंगना चाहते हैं क्या वह वास्तु की दृष्टि से सही है। इसलिये रंग-रोगन करने से पहले एक बार वास्तु टिप्स अवश्य लें लें। इसके लिये आप एस्ट्रोयोगी पर देश भर के जाने-माने विद्वान ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। अभी परामर्श करने के लिये आप इस लिंक पर क्लिक कर रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया पूरी करें। रजिस्ट्रेशन के तुरंत बाद 100 रुपये तक की बातचीत आप निशुल्क कर सकते हैं।


स्पेस के अनुसार करें रंग

यदि आपके घर का आकार बड़ा है और उसमें स्पेस ज्यादा है तो उसमें गहरे रंगों का इस्तेमाल कर सकते हैं। गहरे और हल्के रंगों के कॉबिनेशन कलर भी आप करवा सकते है। लेकिन यदि घर छोटा है और स्पेस कम है तो इनमें हल्के रंग अच्छा लगता है।


इंटिरियर के अनुसार रंग

रंग का चयन करते समय एक चीज़ और जो ध्यान रखने लायक है वह है आपके घर का इंटीरियर। अपने घर के अंदरूनी हिस्सों में अपने फर्निचर, दरवाज़े-खिड़कियां उनके पर्दे आदि के साथ मैचिंग कलर करवाना आपके घर की शोभा में चार चांद लगा देगा।

 

कमरों के उदेश्यानुसार रंग

अपनी पसंद तो जरूरी है और उसके अनुसार रंग आप कर सकते हैं लेकिन रंग करवाते समय कमरों के इस्तेमाल का ध्यान रखें। हर कमरे का एक उद्देश्य होता है कि वह किस प्रयोग में लाया जा रहा है। शयनकक्ष, अध्ययन कश, बैठक, रसोई, स्नानागार आदि। बच्चों के कमरे में कुछ गहरे और हल्के रंगों के कॉन्ट्रास्ट रंग करने चाहिये, इसी तरह स्टडी रूम यानि अध्ययन कक्ष में हरा रंग करना चाहिये, यह समृद्धि का प्रतीक भी माना जाता है। अपने शयनकक्ष अर्थात बेडरूम के लिये गुलाबी, आसमानी जैसे हल्के रंग की पुताई करवा सकते हैं। रिश्तों में मधुरता लाने और मन की शांति के लिये इस तरह के रंग अच्छे माने जाते हैं। सजावट के लिये आजकल खूब चर्चित हो रहे वॉल फेशन का इस्तेमाल कर सकते हैं। यानि वॉल पेंटिंग, वॉल आर्ट या अन्य तरीकों से अपने शयनकक्ष की दीवारों को सजा सकते हैं। इसी तरह ड्राइंग रूम, बाथरूम, किचन एवं पूजा घर को भी अलग अंदाज में रंग सकते हैं।


संबंधित लेख

दिवाली 2016   |     दिवाली पूजा मंत्र   |    दीपावली –  पूजन विधि और शुभ मूहूर्त   ।   दिवाली पर यह पकवान न खाया तो क्या त्यौहार मनाया   |  

लक्ष्मी-गणेश मंत्र   |   लक्ष्मी मंत्र   ।   गोवर्धन पूजा - गोवर्धन पूजा कथा और शुभ मुहूर्त   |   भैया दूज - भाई बहन के प्यार का पर्व   |   

छठ पूजा - व्रत विधि और शुभ मुहूर्त   |




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

गीता जयंती 2016 - भगवान श्री कृष्ण ने कुरुक्षेत्र में दिया था गीता का उपदेश

गीता जयंती 2016 - ...

कर्मण्यवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन |मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोSस्त्वकर्मणि ||मनुष्य के हाथ में केवल कर्म करने का अधिकार है फल की चिंता करन...

और पढ़ें...
मोक्षदा एकादशी 2016 – एकादशी व्रत कथा व महत्व

मोक्षदा एकादशी 201...

एकादशी उपवास का हिंदुओं में बहुत अधिक महत्व माना जाता है। सभी एकादशियां पुण्यदायी मानी जाती है। मनुष्य जन्म में जाने-अंजाने कुछ पापकर्म हो जा...

और पढ़ें...
2017 में क्या कहती है भारत की कुंडली

2017 में क्या कहती...

2016 भारत के लिये काफी उठापटक वाला वर्ष रहा है। जिसके संकेत एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों ने उक्त समय दिये भी थे। खेलों के मामले में भी हमने कह...

और पढ़ें...
क्या हैं मोटापा दूर करने के ज्योतिषीय उपाय

क्या हैं मोटापा दू...

सुंदर व्यक्तित्व का वास्तविक परिचय तो व्यक्ति के आचार-विचार यानि की व्यवहार से ही मिलता है लेकिन कई बार रंग-रूप, नयन-नक्स, कद-काठी, चाल-ढाल आ...

और पढ़ें...
बुध कैसे बने चंद्रमा के पुत्र ? पढ़ें पौराणिक कथा

बुध कैसे बने चंद्र...

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मनुष्य के जीवन को ग्रहों की चाल संचालित करती है। व्यक्ति के जन्म के समय ग्रहों की जो दशा होती है उसी के आधार पर उसक...

और पढ़ें...