Skip Navigation Links
दिवाली की खरीददारी में दिखाएं समझदारी


दिवाली की खरीददारी में दिखाएं समझदारी

दिवाली का त्यौहार हो और कोई खरीददारी न हो ऐसा कैसे हो सकता है। दिवाली एक दिन का त्यौहार तो है नहीं धनतेरस, छोटी दिवाली, दिवाली, गोवर्धन पूजा, भैया दूज ये सब त्यौहार लगातार ही मनाये जाते हैं। इसलिये दिवाली की रौनक कई दिन पहले शुरु हो जाती है। खरीददारी के लिये धनतेरस का दिन विशेष तौर पर शुभ माना जाता है ये अलग बात है कि इस दिन बर्तन खरीदने का महत्व ज्यादा माना जाता है विशेषकर पीतल के बर्तन। इसके पिछे मान्यता है कि इसी दिन धनतेरस के देवता माने जाने वाले धनवंतरी समुद्र मंथन के दौरान अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे। लेकिन सिर्फ बर्तन ही नहीं आप और भी बहुत कुछ खरीद सकते हैं तो दिवाली के इस फेस्टिव सीज़न में क्या खरीदें और क्या सावधानियां रखें ताकि आपको चपत न लगे इसी के बारे में बताएंगें इस लेख में।


दिवाली पर क्या खरीदें


पारंपरिक और आधुनिक परिधान

त्यौहार तभी खास लगता है जब उसे उसके पारंपरिक परिधानों को पहन कर मनायें। क्षेत्र विशेष के अनुसार हर त्यौहार पर कुछ खास पारंपरिक परिधान पहने जाते हैं। लेकिन इसका यह भी तात्पर्य नहीं है कि आप फैशनेबल कपड़ों को खरीदें ही नहीं। त्यौहार के रिवाज़ पूजा आदि आप पांरपरिक परिधान में पूरे करें। इससे आप अपनी सांस्कृति विरासत से खुद को जुड़ा हुआ भी महसूस करेंगें। जब अपने दोस्तों के साथ सेलिब्रेट करना हो तो अपने अत्याधुनिक डिजाइनर कपड़ों को भी पहन सकते हैं। त्यौहारों के अवसर पर काफी ऑफर भी चल रहे होते हैं अत: आप अपनी पसंद अनुसार इनका फायदा भी उठा सकते हैं।


घर व दफ्तर की साज-सज्जा के लिये खरीददारी

दिवाली के अवसर पर अपने घर और दफ्तर हर स्थान की साफ-सफाई, लिपाई-पुताई कर उसे सजाया जाता है। लेकिन अंदरूनी साज-सज्जा तब तक अधूरी लगती है जब तक की कुछ सजावटी सामान न खरीदा जाये। आजकल वास्तु के अनुसार भी बहुत सारा सजावटी सामान बाजार में मौजूद होता है जिसकी खरीददारी कर आप अपने घर से नकारात्मक ऊर्जा को दूर भगा सकते हैं और साथ ही आपके घर की शोभा बढ़ेगी। इसमें फर्नीचर से लेकर दिवारों के लिये पेंटिंग तक, बंदनवार से लेकर फ्लावर पॉट तक कुछ भी आप अपनी पंसद अनुसार खरीददारी कर सकते हैं।


इलेक्ट्रोनिक सामान  

घर में टीवी, फ्रिज या अन्य इलेक्ट्रोनिक सामान के लिये दिवाली का समय सही रहता है क्योंकि इस समय बड़े-बड़े ब्रांड भी अपने उत्पादों पर काफी आकर्षक ऑफर देते हैं। कीमतों में भी छूट होती है। यदि आपको इस तरह के सामान की आवश्यकता है तो आप इस समय यह खरीददारी कर सकते हैं।


दोस्तों के लिये उपहार

दिवाली का त्यौहार आपसी भाईचारे का भी प्रतीक होता जा रहा है। अपने दोस्तों को कुछ न कुछ उपहार देने का चलन भी प्राचीन समय से है। इसलिये अपने दोस्तों के लिये उपहार लेना बिल्कुल भी न भूलें।


पूजा की सामग्री

कई बार ऐसा होता है कि हम अपनी जरुरत का सामान तो खरीद लेते हैं, लेकिन पूजा के सामान की याद हमें तभी आती है जब पूजा का समय सर पर होता है। दिवाली के अवसर पर तो पांच त्यौहार होते हैं और सभी में कुछ-कुछ न सामग्री प्रतिदिन चाहिये होती है। मसलन धनतेरस पर आपको पूजा की सामग्री तो चाहिये ही साथ ही अतिरिक्त दिये भी चाहिये। क्योंकि इस दिन दीपदान भी किया जाता है। तो बिना किसी हड़बड़ाहट के पहले से सोचकर रखें कि किस दिन क्या सामग्री चाहिये उसी अनुसार सामग्री खरीदें। इसका एक फायदा यह भी हो सकता है कि एक साथ सामग्री खरीदने पर आपको यह कुछ सस्ते दामों पर भी मिल सकती है।


खरीददारी पर क्या रखें सावधानियां


छूट न बन जाये लूट

दिवाली के अवसर पर काफी लुभावने ऑफर दिये जाते हैं लेकिन आप खरीददारी ध्यान से करें, कहीं उत्पाद पर दी जा रही छूट आपकी लूट का कारण न बन जाये। छूट अपनी जगह है और उत्पाद की गुणवत्ता अपनी जगह, इसलिये जो भी चीज आप खरीद रहे हैं, उसकी गुणवत्ता के साथ कोई समझौता न करें, विशेषकर मंहगी और रोजमर्रा की जरुरत की चीज़ों में सावधानी रखें।


दिवाली से पहले ही करें खरीददारी

बहुत सारे लोगों को आदत होती है कि उन्हें हर काम अंतिम क्षणों में ही करना होता है। इसलिये खरीददारी को भी वे टालते रहते हैं। हमारा सुझाव है कि आप दिवाली की शॉपिंग दिवाली से थोड़ा पहले कर लें तो बेहतर होगा। क्योंकि ऐन मौके पर बाज़ारों में भीड़ ज्यादा होती है तो आपको दिक्कत हो सकती है। दूसरा यदि आप योजना बनाकर अलग-अलग दिनों में अलग-अलग सामान की खरीददारी करें तो बेहतर रहेगा जैसे कि यदि आपको कपड़ों की खरीददारी करनी है, इलेक्ट्रोनिक का सामान खरीदना है या फिर ज्वैलरी खरीदनी है तो एक ही दिन यदि जल्दबाजी में खरीददारी करेंगें तो हो सकता है आप ज्यादा अच्छी खरीददारी न कर सकें लेकिन यदि एक दिन आप एक जैसी ही चीज़ों की खरीद पर ध्यान देंगें तो आपको थकान भी नहीं होगी और कई दुकानों पर मोल-भाव कर अच्छी तरह से खरीददारी कर सकते हैं।


बिगड़ न जाये बजट

शॉपिंग एक ऐसी चीज़ है जिसे चाहे कितना भी कर लो कम ही लगती है। वैसे भी जब बड़े-बड़े चौंधियाने वाले मॉल्स में घुसते हैं तो पैसों की कुछ कीमत ही नजर नहीं आती। इसलिये दुकानों की चकाचौंध में अपने जेब का ध्यान रखें। बेहतर होगा यदि आप पहले से सोच कर चलें कि मुझे बस इतने तक ही खरीददारी करनी है। क्योंकि एक बार आपका बजट अगर बिगड़ गया तो फिर उसे पटरी पर लाने के हो सकता है आपको अपनी बहुत सारी अहम जरुरतों में कटौति करनी पड़े।


सामान व जेब का रखें ध्यान

बड़ी दुकानों व मॉल्स आदि में तो फिर भी डिजीटल मनी यानि डेबिट और क्रेडिट कार्ड से आप भुगतान कर सकते हैं। ज्यादा कीमत वाले सामान को किश्तों में भी खरीदा जा सकता है क्योंकि इस समय बहुत सारे ब्रांड बिना ब्याज दर के किश्तों पर सामान देने को तैयार होते हैं। लेकिन आजकल फ्रॉड भी बहुत होने लगा है इसलिये अपने कार्ड की डिटेल किसी को न दें और सावधानी से इसका प्रयोग करें। लेकिन भीड़-भड़ाके वाले थोक बाज़ारों से खरीददारी करने में जहां आपको लगभग नकद भुगतान करना होता है वहां अपनी जेब का ध्यान रखें क्योंकि ऐसे अवसरों पर चोर-उच्चके, जेबकतरे काफी सक्रिय हो जाते हैं।


आपकी दिवाली हो खुशियों वाली, एस्ट्रोयोगी की ओर से आपको दिवाली की बहुत-बहुत हार्दिक शुभकामनाएं


संबंधित लेख

इस दिवाली कौनसे रंगों से बढ़ेगी घर की शोभा   |   दिवाली पर यह पकवान न खाया तो क्या त्यौहार मनाया   |   दिवाली 2016   |    

 दिवाली पूजा मंत्र   |  दीपावली –  पूजन विधि और शुभ मूहूर्त   ।   लक्ष्मी-गणेश मंत्र   |   लक्ष्मी मंत्र   ।

गोवर्धन पूजा - गोवर्धन पूजा कथा और शुभ मुहूर्त   |   भैया दूज - भाई बहन के प्यार का पर्व   |   छठ पूजा - व्रत विधि और शुभ मुहूर्त   |




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

गीता जयंती 2016 - भगवान श्री कृष्ण ने कुरुक्षेत्र में दिया था गीता का उपदेश

गीता जयंती 2016 - ...

कर्मण्यवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन |मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोSस्त्वकर्मणि ||मनुष्य के हाथ में केवल कर्म करने का अधिकार है फल की चिंता करन...

और पढ़ें...
मोक्षदा एकादशी 2016 – एकादशी व्रत कथा व महत्व

मोक्षदा एकादशी 201...

एकादशी उपवास का हिंदुओं में बहुत अधिक महत्व माना जाता है। सभी एकादशियां पुण्यदायी मानी जाती है। मनुष्य जन्म में जाने-अंजाने कुछ पापकर्म हो जा...

और पढ़ें...
2017 में क्या कहती है भारत की कुंडली

2017 में क्या कहती...

2016 भारत के लिये काफी उठापटक वाला वर्ष रहा है। जिसके संकेत एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों ने उक्त समय दिये भी थे। खेलों के मामले में भी हमने कह...

और पढ़ें...
क्या हैं मोटापा दूर करने के ज्योतिषीय उपाय

क्या हैं मोटापा दू...

सुंदर व्यक्तित्व का वास्तविक परिचय तो व्यक्ति के आचार-विचार यानि की व्यवहार से ही मिलता है लेकिन कई बार रंग-रूप, नयन-नक्स, कद-काठी, चाल-ढाल आ...

और पढ़ें...
बुध कैसे बने चंद्रमा के पुत्र ? पढ़ें पौराणिक कथा

बुध कैसे बने चंद्र...

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मनुष्य के जीवन को ग्रहों की चाल संचालित करती है। व्यक्ति के जन्म के समय ग्रहों की जो दशा होती है उसी के आधार पर उसक...

और पढ़ें...