Skip Navigation Links
बृहस्पति का कन्या में गोचर – क्या पड़ेगा प्रभाव


बृहस्पति का कन्या में गोचर – क्या पड़ेगा प्रभाव

बृहस्पति को सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह माना जाता है। नवग्रहों में भी यह बहुत ही महत्वपूर्ण ग्रह माना जाता है। बृहस्पति ग्रह को ही देवगुरु कहा जाता है। वैदिक ज्योतिष में तो बृहस्पति को बहुत ही भाग्यशाली माना जाता है। मानव जीवन में ज्ञान, सफलता, समृद्धि, अच्छी शिक्षा, प्रसिद्धि और संतान पक्ष का प्रतिनिधित्व करता है। बृहस्पति का राशि परिवर्तन एक बड़ी ज्योतिषीय घटना माना जाता है क्योंकि यह एक राशि में लगभग 13 महीने तक रहता है। 11 अगस्त 2016 को बृहस्पति कन्या राशि में प्रवेश करेगा (Jupiter will enter virgo on 11th august) और 12 सितंबर 2017 तक कन्या राशि में ही रहेगा। कन्या राशि का स्वामी बुध है जो कि बृस्पति का बौधिक रूप से शत्रु है ऐसे में बृहस्पति अन्य राशियों पर क्या प्रभाव पड़ेगा? आइये जानते हैं क्या कहते हैं एस्ट्रोयोगी के ज्योतिषाचार्य।



किस राशि पर क्या पड़ेगा प्रभाव?


एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों के अनुसार बृहस्पति सामान्यत: संबद्ध जातकों के जीवन में सफलता, समृधि और खुशी देने वाला होता है। 11 अगस्त को होने वाला परिवर्तन भी सामान्यत अच्छे परिणाम ही लेकर आयेगा इसकी उम्मीद कर सकते हैं। लेकिन कुछ जातकों की चंद्र राशि और लग्न के अनुसार हो सकता है यह अपेक्षित परिणाम न लेकर आये। वृष, सिंह, वृश्चिक, मकर और मीन लगन या राशि में जन्म लेने वाले जातकों के लिये बृहस्पति का यह परिवर्तन बहुत भाग्यशाली रहने के आसार हैं। तो वहीं मिथुन, कन्या और धनु को औसत यानि मिले जुले परिणाम मिलने की संभावना है। मेष, कर्क, तुला और कुंभ को नकारात्मक परिणाम मिलने के संभावना प्रबल है।

यह तो था ऊपरी तौर पर आकलन आइये अब प्रत्येक राशि पर अन्य ग्रहों की स्थिति, राशि और गरु ग्रह बृहस्पति के साथ अन्य ग्रहों का संबंध, जिन घरों या नक्षत्रों में बृहस्पति रहेगा ये इन सब पहलुओं का आकलन करने पर यह कैसे आपको प्रभावित करेगा बताते हैं।


बृहस्पति के राशि परिवर्तन का मेष राशि पर प्रभाव


मेष जातकों के लिये बृहस्पति के इस परिवर्तन को अनुकूल नहीं कहा जा सकता। मेष जातकों को अपने संबंधों के मामलों में थोड़ा सतर्क रहने की आवश्यकता है। परिजनों के साथ वाद-विवाद या मतभेद पैदा होने के आसार हैं। आपका कोई करीबी कोई दोस्त आपका शुभचिंतक होने का दावा करे तो इस तरह के लोगों से सावधान रहें तो बेहतर होगा। आप पर मिथ्यारोप भी जड़े जा सकते हैं इसलिये सावधानी बरतते हुए हर निर्णय सोच-समझकर लें। आपके लिये सलाह है कि प्रतिस्पर्धियों की हरकतों पर नज़र रखें और अपने हर कार्य को सावधानीपूर्वक अंजाम दें विशेषकर कानूनी कार्रवाई या फिर कागजी काम में किसी प्रकार की लापरवाही न करें। कीमती चीजों को भी संभाल कर रखने की आवश्यकता है चोरी हो सकती है। अचनाक कुछ ऐसे खर्च भी आ सकते हैं जिनसे आप बच नहीं सकते यह आपकी आर्थिक रुप से भी चिंताएं बढ़ा सकता है। बृहस्पति के इस परिवर्तन से होने वाले दुष्प्रभावों को कम करने के लिये गरीबों की मदद करें। धार्मिक कार्यक्रमों में भाग लें व दान-पुण्य करें। अपनी परेशानियों को कम करने व बृहस्पति के गोचर के नकारात्मक प्रभावों से बचने के उपाय जानने के लिये आप मदद ले सकते हैं हमारे ज्योतिषाचार्यों की। इसके लिये आपको किसी भी अप्वाइंटमेंट की जरुरत नहीं होगी। साथ ही आप 100 से भी अधिक भारत के जाने माने ज्योतिषाचार्यों में से परामर्श के लिये बेहतर विकल्प को चुन सकते हैं। परामर्श करने के लिये अभी डाउनलोड करें भारत की पहली एस्ट्रोलॉजर ऐप।


बृहस्पति के राशि परिवर्तन का वृष राशि पर प्रभाव


वृष जातकों के लिये देवगुरु बृहस्पति का यह परिवर्तन बहुत भाग्यशाली रहने के आसार हैं। एक लंबे अरसे से जिस शुभ अवसर की तलाश में आप हैं वह अवसर आपको उपलब्ध हो सकता है। कार्यस्थल पर आपने पिछले दिनों जो कड़ी मेहनत की है पदोन्नति के रूप में उसका पुरुस्कार भी आपको मिलने की संभावना है। उच्चाधिकारियों एवं सहकर्मियों के साथ भी आपके संबध मधुर बने रहने की उम्मीद है। व्यवसायी जातक भी अच्छी आमदन की उम्मीद कर सकते हैं। इस दौरान किये गये निवेश के भी सकारात्मक परिणाम मिल सकते हैं। आपकी आर्थिक स्थिति भी अच्छी बनी रहने के आसार हैं। अपने परिवार को बढ़ाने के बारे में भी आप विचार कर सकते हैं अविवाहित जातकों के लिये परिणय सूत्र में बंधने और विवाहित जातकों को संतान रत्न प्राप्ति होने की पूरी संभावनाएं बन सकती हैं। इस अच्छे समय में बड़ों के सम्मान और दानपुण्य के जरिये आप और भी फलदायी बना सकते हैं। समय आपके अनुकूल है लेकिन समय भी आपका साथ तभी देता है जब आप उसकी कदर करें और सही चीज को सही समय पर करें। आपके लिये कौनसा सा समय सही हो सकता है यह जानने के लिये आप देश के जाने माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। अभी बात करने के लिये क्लिक करें।


बृहस्पति के राशि परिवर्तन का मिथुन राशि पर प्रभाव


यदि पिछले समय से आप अपने जीवन में कुछ बाधाएं महसूस कर रहे हैं। आपकी सफलता में कुछ अड़चने आपको नजर आ रही हैं तो यह समय आपके लिये उन तमाम बूरे अनुभवों से पार पाने का है। 11 अगस्त से होने वाला बृहस्पति का यह परिवर्तन आपको तमाम चिंताओं से मुक्ति दिलाने वाला साबित हो सकता है। हालांकि घर परिवार के साथ आपके लगाव में थोड़ी कमी आ सकती है। हो सकता है आप कुछ पल सांसारिक बंधनों से मुक्त होकर अकेले में बिताना पसंद करें। आपको थोड़ा सचेत भी रहने की आवश्यकता है दुर्घटना का शिकार हो सकते हैं खासकर किसी जानवर के कारण आप चोटिल हो सकते हैं। इस समय किसी भी प्रकार की सट्टेबाजी या जुए आदि से दूर ही रहें तो बेहतर रहेगा अन्यथा आपको काफी हानि उठानी पड़ सकती है। कार्यस्थल पर भी वरिष्ठ अधिकारियों और सहकर्मियों से वाद-विवाद से बचकर रहें अन्यथा परिणाम नकारात्मक मिल सकते हैं हो सकता है आपकी नौकरी पर ही संकट पैदा हो जाये। इस समय अध्यात्म, योग के जरिये ध्यान करने में मन लगायें व अच्छे समय का इंतजार करें। आपका अच्छा समय कब आयेगा यह जानने के लिये आप परामर्श कर सकते हैं देश के प्रतिष्ठित ज्योतिषाचार्यों से। अभी परामर्श करने के लिये डाउनलोड करें भारत की पहली एस्ट्रोलॉजर ऐप।


बृहस्पति के राशि परिवर्तन का कर्क राशि पर प्रभाव


बृहस्पति के इस संक्रमण से हो सकता है आपको अपेक्षानुसार परिणाम न मिलें। करियर या व्यवसाय में हाथ लगी असफलता आपका तनाव बढ़ा सकती है। या फिर सुदूर क्षेत्र में आपका तबादला भी किया जा सकता है। आपको अपने संबंधों के मामले में भी सतर्क और गंभीर होने की जरुरत है। अपने दोस्तों और संबंधियों से किसी प्रकार के अंतर्विरोध से बचें। आपको अपने जीवन से भी अंसुतष्टि हो सकती है। हो सकता है अपने जीवन के उद्देश्य और सार्थकता पर भी विचार करने को मजबूर हों। लगातार मिल रही असफलताओं से आप खुद को बहुत ही थका और हारा हुआ महसूस कर सकते हैं। कुछ धार्मिक स्थलों की यात्रा पर भी आप जा सकते हैं लेकिन यदि आपने किसी लंबी यात्रा की योजना बना रखी है तो इस पर जल्द से जल्द पुनर्विचार करने की आवश्यकता है। किसी बड़ी योजना में निवेश करने से भी इस समय पर बचें व्यवसाय में हानि होने के संकेत हैं। आपको इस समय ज्ञानार्जन करने, धार्मिक पुस्तकों का अध्ययन कर उनसे सबक लेने की जरुरत है। लेखन, प्रकाशन और शैक्षणिक क्षेत्रों में रूचि रखने वाले जातकों के लिये यह बहुत सही समय है इन्हें इस समय का सदुपयोग करना चाहिये। अधिक जानकारी के लिये परामर्श करें हमारे ज्योतिषाचार्यों से, किसी भी दिन किसी भी समय, वो भी बिना किसी अप्वाइंटमेंट के इसके लिये लिंक पर क्लिक करें


बृहस्पति के राशि परिवर्तन का सिंह राशि पर प्रभाव


बृहस्पति इनके दूसरे घर में दाखिल हो रहा है, यह आपके जीवन में एक सकारात्मक समय साबित हो सकता है। जो भी अड़चने आपने अतीत में झेली हैं वे समाप्त होने के आसार नजर आ रहे हैं। परिवार, संबंधी और दोस्तों से मिले सहयोग और खुशी से एक समृद्ध और आरामदायक जीवन जीने का आनंद भी आपको मिल सकता है। बृहस्पति के इस राशि परिवर्तन से आपको अपने परिवार के साथ खुशी मनाने के कुछ अहम अवसर मिल सकते हैं। अपने सामाजिक जीवन में आप प्रतिष्ठा पाने की उम्मीद कर सकते हैं। आपके बढ़े हुए कद और पद से आपका सामाजिक रुतबा भी कायम हो सकता है। जो प्रतिस्पर्धी आपकी सफलता की राह में रोड़े अटकाने की सोच रहे हैं उन्हें मुंह की खानी पड़ सकती है। पैतृक व्यवसाय को चला रहे जातकों को थोड़ी बहुत परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। सफलता व्यक्ति के आत्मविश्वास में तो वृद्धि करती ही है लेकिन कई बार वह उसे अंहकारी और अतिविश्वासी भी बना देती है आपके लिये सलाह है कि आप इस स्थिति से बचकर रहें। जो अविवाहित जातक विवाह के बंधन में बंधने के इच्छुक हैं उनके प्रयास भी सफल हो सकते हैं। जो विवाहित जातक संतान पाने के इच्छुक हैं उनके लिये भी यह अच्छा समय है और कामयाबी मिल सकती है। कुछ के घर में किलकारियां गूंजने की संभावना है। और ज्यादा जानने  के लिये परामर्श करें हमारे ज्योतिषाचार्यों से, किसी भी दिन किसी भी समय, वो भी बिना किसी अप्वाइंटमेंट के इसके लिये डाउनलोड करें भारत की पहली एस्ट्रोलॉजर ऐप और 100 से भी ज्यादा ज्योतिषाचार्यों में से करें क्षमतानुसार ज्योतिषाचार्य से परामर्श।


बृहस्पति के राशि परिवर्तन का कन्या राशि पर प्रभाव


भौतिक रूप से सुख-सुविधाओं की बात करें तो बृहस्पति का यह संक्रमण आपके लिये अच्छा नहीं कहा जा सकता। विशेषकर संपत्ति के मामलों में समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। भारी-भरकम खर्च भी आपकी चिंताओं को बढ़ा सकते हैं। आपके लिये सलाह है कि सबसे बना कर चलें। संबंधों के मामलों में आप पर संकट के बादल मंडरा सकते हैं दोस्तों एवं सगे-संबंधियों से संबंध खराब हो सकते हैं। विवाह के इच्छुक जातकों की राह में भी रुकावटें आ सकती हैं। हो सकता है संसार से विमुख होकर आप अध्यात्म की और रूख करें। आपके लिये सलाह है कि बड़े बुजूर्गों की सेवा करें और आंतरिक शांति के लिये किसी विशेषज्ञ के मार्गदर्शन में ध्यान करने के लिये भी थोड़ा समय निकालें। यदि आप भी स्वयं या किसी चाहने वाले में आपके प्रति विरक्ति का भाव महसूस कर रहे हैं तो इसके कारण और निवारण के लिये परामर्श कर सकते हैं हमारे ज्योतिषाचार्यों से किसी भी दिन किसी भी समय। अभी परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।


बृहस्पति के राशि परिवर्तन का तुला राशि पर प्रभाव


बृहस्पति कन्या राशि में गोचर होने के साथ ही आपके 12वें घर में होगा जो कि हानि देने व खर्च बढ़ने के संकेत देता है, इसलिये इसे आपके लिये भाग्यशाली नहीं कहा जा सकता। बृहस्पति के गोचर के दौरान हो सकता है परिणाम आपके पक्ष में न आयें। संबंधों के मामलों में भी ऐसी परिस्थितियां पैदा हो सकती है जिससे आप अपने परिवार से अलग होने तक का विचार बना सकते हैं। किसी लंबी यात्रा पर जाने के भी संकेत हैं। हो सकता है कि सांसारिक मोह को त्याग कर एक यात्रा खुद की तलाश के लिये भी करने निकलें। संपत्ति संबंधी लेन-देन के मामलों में भी आपको सावधान रहने की आवश्यकता है। जमीन के विक्रय करने में बाधाएं आ सकती हैं और इस विवाद के चलते आप तनावग्रस्त भी हो सकते हैं। परिवार के किसी सदस्य द्वारा किये गये अत्यधिक खर्च से भी आपकी आर्थिक दिक्कतें बढ़ सकती हैं। केवल मात्र दिखावे के लिये किये जा रहे भारी भरकम खर्चों पर अंकुश लगाने की भी आपको आवश्यकता है। घरेलु कलह के चलते आपका स्वास्थ्य भी खराब होने के संकेत हैं। विशेषकर पाचनतंत्र संबंधी समस्याओं के प्रचि सचेत रहें। भगवान विष्णु की पूजा करना आपके लिये लाभकारी सिद्ध हो सकता है। पूजा अर्चना पूरे विधि-विधान से करने से ही फलीभूत होती है, जिस प्रकार एक चिकित्सक बिमारी की जड़ का पता लगाता है उसी प्रकार एक ज्योतिषाचार्य भी ग्रहों की चाल व ग्रह दोष का पता लगाकर उनके समाधान बताता है। आप भी परामर्श कर सकते हैं देश के जाने माने 100 से भी ज्यादा ज्योतिषाचार्यों से। अभी परामर्श करने के लिये डाउनलोड करें भारत की पहली एस्ट्रोलॉजर ऐप।


बृहस्पति के राशि परिवर्तन का वृश्चिक राशि पर प्रभाव


बृहस्पति का कन्या राशि में गोचर होना आपके लिये काफी भाग्यशाली रहने के आसार हैं। यही वो समय है जिसका लंबे समय से आप इंतजार कर रहे हैं। अतीत में किये गये अथक प्रयासों और कड़ी मेहनत के मीठे फल के स्वाद को चखने का यही समय है। कार्यस्थल पर आप अपने लक्ष्यों को पाने में कामयाब हो सकते हैं। कार्य के प्रति आपके समर्पण भाव का उचित पारितोषिक भी आपको मिलने की उम्मीद है। करियर और आय संबंधी मामलों के लिये भी यह समय आपके लिये बहुत अच्छा रहने के आसार हैं। आप ऊर्जावान रहेंगें और दोस्त भी आपकी मदद के लिये हमेशा तैयार रहें इसकी उम्मीद कर सकते हैं। परिजनों का भी आपको भरपूर समर्थन मिलने की संभावना है। आपका स्वास्थ्य भी सामान्यत: अच्छा रहने के आसार हैं। दान पुण्य करके आप अपनी खुशियों को और बढ़ा सकते हैं और एक समृद्ध, स्वस्थ, सफल और सार्थक जीवन का आनंद ले सकते हैं। लेकिन कई बार अवसर हमारे सामने होते हैं और हम उन्हें देख नहीं पाते, सफलता की सीढ़ी बिल्कुल एक कदम आगे होती है लेकिन हम कदम बढ़ाने का हौसला ही नहीं कर पाते। आपसे भी कहीं यह भाग्यशाली अवसर चूक न जाये। अच्छे समय का लाभ आपको कैसे मिलेगा यह जानने के लिये आप परामर्श कर सकते हैं एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से। अभी परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।


बृहस्पति के राशि परिवर्तन का धनु राशि पर प्रभाव


करियर और व्यवसाय के लिहाज से आपके लिये बृहस्पति का कन्या राशि में गोचर होना बिल्कुल भी सही नहीं कहा जा सकता है। हो सकता है आपको अपने लक्ष्यों में बार-बार बाधाओं का सामना करना पड़े। कार्यस्थल पर वरिष्ठ कर्मियों से अपेक्षित सहयोग मिलने की उम्मीद न के बराबर है। हो सकता है आप असंतुष्ट होकर नौकरी बदलने पर भी विचार करें। असल में यह समय आपके लिये परीक्षा की घड़ी कहा जा सकता है। परिस्थितियां बार-बार आपका इम्तिहान लेंगी आपके लिये सुझाव है कि अपने संयम को न खोयें और परिस्थितियों का डटकर सामना करें समय भी हिम्मत करने वालों का अंतत: साथ देता है। व्यवसायी जातक लंबी अवधि की योजनाओं में निवेश कर सकते हैं। भगवान विष्णु के मंत्रों का जाप करना आपकी समस्याओं को कम कर सकता है। लेकिन यदि मंत्रों के उच्चारण व पूजा की विधि मालूम न हो तो उसका विपरीत प्रभाव भी पड़ जाता है। सही तरीका आपको विद्वान ज्योतिषाचार्य ही बता सकते हैं। भारत की पहली एस्ट्रोलॉजर ऐप के जरिये आप परामर्श कर सकते हैं 100 से भी ज्यादा जाने-माने ज्योतिषाचार्यों से। अभी परामर्श करने के लिये ऐप डाउनलोड करें।


बृहस्पति के राशि परिवर्तन का मकर राशि पर प्रभाव


मकर जातकों के लिये 11 अगस्त 2016 से बृहस्पति का कन्या राशि में गोचर करना अति शुभकारी है। यह आपके नौंवे घर में दाखिल होगा जो भाग्य का स्थान माना जाता है। इस काल में बृहस्पति की कृपा आप पर बरसेगी और आप हर क्षेत्र में सकारात्मक परिणाम मिलने की उम्मीद कर सकते हैं। व्यावसायिक जीवन में सहयोगी साथियों और वरिष्ठ सहकर्मियों का अपेक्षित सहयोग मिलना आपकी संतुष्टि का कारण हो सकता है। कुछ सामाजिक और धार्मिक गतिविधियों की और भी आपका रुझान हो सकता है। यदि पिछले कुछ समय से आपके काम किन्हीं बाधाओं से रूके हुए हैं, आपको बार-बार असफलता का मुंह देखना पड़ा है या फिर किसी बड़े नुक्सान को आपने झेला है तो यह समय इन तमाम बूरे अनुभवों की भरपायी करने वाला साबित हो सकता है। यदि आप अपने लिये कोई घर खरीदने का सपना देख रहे हैं तो यह समय इस सपने को पूरा करने के लिये बिल्कुल उचित है। स्वास्थ्य की और से भी हल्की-फुल्की चीजों को छोड़ दें तो आप एक स्वस्थ जीवन का आनंद मिलने की कामना कर सकते हैं। आपके संबंध परिजनों और दोस्तों से मधुर बने रहेंगें और एक रोमांटिक जीवन का मजा ले सकते हैं। शुभ समय में भी करने और न करने वाली कुछ बातें होती हैं आपके लिये यह शुभ समय पूर्ण रुप से लाभकारी कैसे होगा इसके लिये विद्वान ज्योतिषाचार्यों से परामर्श लें। एस्ट्रोयोगी पर आप के जाने माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।


बृहस्पति के राशि परिवर्तन का कुंभ राशि पर प्रभाव


बृहस्पति का कन्या राशि में गोचर होना आपके लिये हो सकता है अपेक्षानुसार परिणाम देने वाला साबित न हो। इस समय परिस्थितियां आपके प्रतिकूल ही बनी रहने के आसार हैं। अपने आस-पास की परिस्थितियों से आप पर नकारात्मक विचार भी हावी हो सकते हैं। आपके लिये यह वो समय है जब आपको अड़चनों, चिंताओं और तनाव जैसी परिस्थितियों का सामना करने के लिये दिमागी रुप से तैयार रहना चाहिये। आपके लिये जो चीजें मायने रखती हैं उनके छिन जाने की संभावनाएं भी प्रबल हैं। कार्यस्थल से भी आपको किसी ऐसी जगह स्थानांतरित किया जा सकता है जहां आप न जाना चाहें। आर्थिक तंगी और कार्यदबाव के चलते आपका स्वास्थ्य बिगड़ने के आसार भी नजर आ रहे हैं। आपके लिये सलाह है कि यदि बहुत ही जरुरी हो तो ही यात्रा पर निकलें। व्यवसायी जातक इस समय किसी भी प्रकार के निवेश से बचें अन्यथा चपत लग सकती है। आपके लिये सलाह है कि भगवान विष्णु की पूजा के साथ-साथ देवगुरु बृहस्पति के बीज मंत्रों का जाप करें, इससे हालात कुछ नियंत्रित हो सकते हैं। ज्योतिषीय उपाय जानने के लिये  परामर्श करें हमारे ज्योतिषाचार्यों से, किसी भी दिन किसी भी समय, वो भी बिना किसी अप्वाइंटमेंट के इसके लिये डाउनलोड करें भारत की पहली एस्ट्रोलॉजर ऐप और 100 से भी ज्यादा ज्योतिषाचार्यों में से करें अपने मनपसंद ज्योतिषाचार्य से परामर्श।


बृहस्पति के राशि परिवर्तन का मीन राशि पर प्रभाव


बृहस्पति का यह गोचर आपके सातंवे घर में हो रहा है इससे यह सपष्ट सकेंत मिलता है कि आपके जीवन में कुछ सकारात्मक बदलाव होंगे। इस समय में आप अपेक्षानुसार परिणाम मिलने की उम्मीद कर सकते हैं। परिजनों और सगे-संबधियों से मधुर संबंध बने रहने की संभावना है। प्रेमी जातकों के लिये भी यह समय बहुत अच्छा रहने के आसार हैं। जो अविवाहित जातक विवाह के बंधन में बंधना चाहते हैं उनके लिये भी यह समय बहुत भाग्यशाली रहने की उम्मीद है। जो जातक पहले से विवाहित हैं उन्हें भी अपने जीवनसाथी का भरपूर सहयोग मिलेगा जिससे उनके संबंधों में मधुरता बनी रहेगी। संतान प्राप्ति की इच्छा रखने वाले जातकों के घर नये मेहमान को लाने का यह उचित समय है। आपकी आर्थिक स्थिति भी अच्छी बनी रहने के आसार हैं जिस कारण किसी फायदेमंद योजना में निवेश करने का विचार कर सकते हैं। अन्य स्त्रोतों से प्राप्त आय से भी आपकी आर्थिक स्थिति और सुदृढ़ हो सकती है। अपनी ऊर्जा व उपलब्धियों से आप इस समय में खूब नाम कमा सकते हैं। आप धार्मिक कार्यक्रमों में भी बढ़चढ़ कर हिस्सा ले सकते हैं। इस समय आपके सामाजिक और व्यावसायिक संबंध भी विस्तरित होने की उम्मीद हैं। कुल मिलाकर खुशियों के स्वागत के लिये तैयार रहें। समय आपके अनुकूल है लेकिन समय भी आपका साथ तभी देता है जब आप उसकी कदर करें और सही चीज को सही समय पर करें। आपके लिये कौनसा सा समय सही हो सकता है यह जानने के लिये आप देश के जाने माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। अभी बात करने के लिये क्लिक करें।


यह भी पढ़ें

क्या आपके बने-बनाये ‘कार्य` बिगड़ रहे हैं? सावधान ‘विष योग` से   |   शनिदेव की बदली चाल, वक्री से हुए मार्गी, क्या पड़ेगा प्रभाव?   

राशि के अनुसार धन प्राप्ति के मंत्र   |   आपका राशि चक्र और रूचि   |   आपकी राशि और नापसंद बातें   |   आपका राशि चक्र और शौक

पंचक - क्यों नहीं किये जाते इसमें शुभ कार्य ?   |   राशिनुसार धारण करें रत्न   |   दाम्पत्य जीवन में कलह और मधुरता के योग





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

मार्गशीर्ष – जानिये मार्गशीर्ष मास के व्रत व त्यौहार

मार्गशीर्ष – जानिय...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है...

और पढ़ें...
शनि शिंगणापुर मंदिर

शनि शिंगणापुर मंदि...

जब भी जातक की कुंडली की बात की जाती है तो सबसे पहले उसमें शनि की दशा देखी जाती है। शनि अच्छा है या बूरा यह जातक के भविष्य के लिये बहुत मायने ...

और पढ़ें...
जानिये उत्पन्ना एकादशी व्रत कथा व पूजा विधि

जानिये उत्पन्ना एक...

एकादशी व्रत कथा व महत्व के बारे में तो सभी जानते हैं। हर मास की कृष्ण व शुक्ल पक्ष को मिलाकर दो एकादशियां आती हैं। यह भी सभी जानते हैं कि इस ...

और पढ़ें...
हिंदू क्यों करते हैं शंख की पूजा

हिंदू क्यों करते ह...

शंख हिंदू धर्म में बहुत ही पवित्र माना जाता है। जैसे इस्लाम में अज़ान देकर अल्लाह या खुदा का आह्वान किया जाता है उसी तरह हिंदूओं में शंख ध्वन...

और पढ़ें...
भैरव जयंती – भैरव कालाष्टमी व्रत व पूजा विधि

भैरव जयंती – भैरव ...

क्या आप जानते हैं कि मार्गशीर्ष मास की कालाष्टमी को कालाष्टमी क्यों कहा जाता है? इसी दिन भैरव जयंती भी मनाई जाती है क्या आप जानते हैं ये भैरव...

और पढ़ें...