Skip Navigation Links
श्री कृष्ण मंदिर – जन्माष्टमी पर यहां उमड़ती है श्रद्धालुओं की भीड़


श्री कृष्ण मंदिर – जन्माष्टमी पर यहां उमड़ती है श्रद्धालुओं की भीड़

16 कलाओं में निपुण भगवान विष्णु के अवतार श्री कृष्ण को ठाकुर जी, नंदलाल, बांके बिहारी, मुरली मनोहर, बनवारी, कन्हैया, गोकुलनाथ, गोपाल, हरि न जाने कितने ही नामों से पुकारा जाता है। इनकी बाल लीलाओं से लेकर रासलीलाओं तक सब कुछ चमत्कारिक हैं, ये मोहन मनमोहक हैं आइये आपको बताते हैं इनकी भगवान श्री कृष्ण के कुछ प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में जहां देश ही नहीं बल्कि दुनिया भर से श्रद्धालु बांसुरी की तान पर राधा रानी को नचाने वाले प्यारे कृष्ण कन्हैया के दर्शनों के लिये आते हैं।


भगवान श्री कृष्ण के प्रसिद्ध मंदिर


वृंदावन मंदिर


माना जाता है कि वृंदावन भगवान श्री कृष्ण की बाल लीलाओं का गवाह है। उनका बचपन ब्रज की ही गलियों में बिता था। कहा तो यह भी जाता है कि यहां पर स्थित मदन-मोहन, जुगल किशोर, गोपीनाथ और गोविंद जी के मंदिर गोपाल की लीलाओं से प्रभावित होकर वृंदावन में भगवान कृष्ण मुरारी के दर्शनों के लिये पंहुचे सम्राट अकबर ने बनवाये थे। यहां से थोड़ी दूरी पर पेड़ों के लिये जाना जाने वाला मथुरा भी स्थित हैं यहां स्थति इस्कॉन मंदिर एवं बांके बिहारी मंदिर पर भी श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ता है। वहीं वृंदावन में ही जहां पर राधा में कृष्ण और कृष्ण में राधा नजर आती हैं। जहां राधावल्लभ विग्रह के दर्शन से ही श्रद्धालुओं की इच्छाएं पूर्ण हो जाती हैं इस राधावल्लभ मंदिर में भी सच्ची श्रद्धा से ही श्रद्धालु राधावल्लभ के दुर्लभ दर्शन कर पाता है। राधावल्लभ मंदिर की कहानी क्या है पढ़ें पूरा लेख।



द्वारकाधीश मंदिर


गुजरात के द्वारका के बारे में मान्यता है कि मथुरा छोड़ने के बाद भगवान श्री कृष्ण ने स्वयं इस नगरी को अपने हाथों से बसाया था। भगवान कृष्ण द्वारा बसाई इस द्वारका नगरी को सप्त पुरियों में से एक माना जाता है साथ ही यहां स्थित द्वारकाधीश मंदिर को भी चार धामों में से एक माना जाता है। द्वारकाधीश का यह 5 मंज़िला मंदिर 72 पिलरों पर बना हुआ है, जिसे लगभग 2500 साल पुराना बताया जाता है। 


इस्कॉन मंदिर

इस्कॉने के माध्यम से ही भगवान श्री कृष्ण की लीलाएं विश्व पटल पर आज छायी हैं। श्रीमद्भगवदगीता के संदेश को दुनिया के अलग-अलग कौने में पंहुचाने के लिये भी इस संस्था के प्रयास सराहनीय हैं। विश्व भर से कृष्ण भक्त इस्कॉन मंदिर में आते हैं हालांकि इस्कॉन के मंदिर मथुरा के अलावा देश के अन्य हिस्सों के साथ अमेरिका जैसे देशों में भी हैं लेकिन भगवान कृष्ण की नगरी मथुरा का आकर्षण विदेशी श्रद्धालुओं को बड़ी संख्या में यहां खींच ही लाता है।


राजगोपाल स्वामी मंदिर


यह मंदिर भी काफी प्रसिद्ध है, दक्षिण भारत के सभी कृष्ण मंदिरों में स्वामी मंदिर की लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इस मंदिर को दक्षिण भारत का द्वारका कहा जाता है। यहां भी जन्माष्टमी के दिन श्रद्धालुओं की भारी भीड़ लगती है।


वेणु गोपाल मंदिर

यह मंदिर भी दक्षिण भारत के प्रसिद्ध मंदिरों में से एक माना जाता है। कर्णाटक के मैसूर स्थित इस वेणुगोपाल मंदिर का नजारा बहुत ही अद्भुत है। कृष्ण सागर बांध के समीप बने इस मंदिर भगवान वंशीधर बांसुरी बजाते हुए नजर आते हैं।


इनके अलावा भी भगवान श्री कृष्ण के देश-भर में अनेक मंदिर हैं जिनकी अपनी-अपनी कहानियां और मान्यताएं हैं। लेकिन सिर्फ मंदिर जाकर ही भगवान श्री कृष्ण को प्रसन्न नहीं किया जा सकता। इसके लिये उनकी विधिपूर्वक पूजा भी जरुरी है, और सबसे जरुरी हैं कुछ बातें जिनका आपको ध्यान रखना चाहिये, जो सिर्फ विद्वान ज्योतिषाचार्य ही आपको बता सकते हैं। देश भर के जाने माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करने के लिये डाउनलोड करें भारत की पहली एस्ट्रोलॉजर ऐप।


यह भी पढ़ें

सावन के बाद आया, श्रीकृष्ण जी का माह ‘भादों   |   श्री कृष्ण जन्माष्टमी - 2016   |   भक्तों की लाज रखते हैं भगवान श्री कृष्ण   |  

कृष्ण जन्माष्टमी: कृष्ण भगवान की भक्ति का त्यौहार   |   गीता सार   |   राधावल्लभ मंदिर वृंदावन   |  श्री कृष्ण चालीसा   |   कुंज बिहारी आरती   |  

 बांके बिहारी आरती   |   बुधवार - युगल किशोर आरती 




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

गुरु चाण्डाल दोष – कैसे बनता है गुरु चांडाल योग व क्या हैं उपाय

गुरु चाण्डाल दोष –...

ज्योतिषशास्त्र कुंडली के अनुसार हमारे भविष्य का पूर्वानुमान लगाता है। इसके लिये ज्योतिषशास्त्री अध्ययन करते हैं ग्रहों की दशाओं का। इन दशाओं ...

और पढ़ें...
चैत्र मास - पर्व व त्यौहार

चैत्र मास - पर्व व...

चैत्र मास का हिंदू धर्म में धार्मिक और सांस्कृतिक रूप से बहुत अधिक महत्व है। क्योंकि फाल्गुन और चैत्र ये दो मास प्रकृति के बहुत ही खूबसूरत मा...

और पढ़ें...
फाल्गुन – फाल्गुन मास के व्रत व त्यौहार

फाल्गुन – फाल्गुन ...

फाल्गुन यह मास हिंदू पंचाग का आखिरी महीना होता है इसके पश्चता हिंदू नववर्ष का आरंभ होता है। हिंदू पंचाग के बारह महीनों में पहला महीना चैत्र क...

और पढ़ें...
राहू देता है चौंकाने वाले परिणाम

राहू देता है चौंका...

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार सभी जातकों का भूत वर्तमान व भविष्य जातक की जन्मकुंडली में ग्रहों की दशाओं से प्रभावित होता है। इसी प्रभाव के कारण कु...

और पढ़ें...
फाल्गुन अमावस्या – क्यों खास है इस वर्ष फाल्गुनी अमावस्या

फाल्गुन अमावस्या –...

फाल्गुन मास जो कि अल्हड़पन और मस्ती के लिये जाना जाता है और हिंदू वर्ष का अंतिम मास है। फाल्गुन माह में पड़ने वाली अमावस्या ही फाल्गुन या कहे...

और पढ़ें...