Skip Navigation Links
राशि के अनुसार करें नववर्ष का स्वागत, पायें एक अच्छी शुरुआत


राशि के अनुसार करें नववर्ष का स्वागत, पायें एक अच्छी शुरुआत

31 दिसंबर की रात को जैसे ही रात्रि के 11 बजकर 59 मिनट और 59 सैकेंड से घड़ियां आगे बढी आसामन में शोरगुल के साथ पटाखों की छिटकती रोशनी दिखाई दी, नए साल के स्वागत में किलकारियों की गूंज सुनाई दी, एक दूसरे को बधाईयां देने का सिलसिला शुरु हुआ और हैप्पी न्यू इयर एक अंतर्राष्ट्रीय स्लोगन बनता हुआ दिखाई दिया। हो भी क्यों न आखिर लोग इस दिन को आशा की एक नई किरण के रुप में देखते हैं। हर कोई नए साल को लेकर उत्साहित है ऐसे में आप अपनी राशि के अनुसार नए साल 2016 का स्वागत कर इसकी एक अच्छी शुरुआत कर सकते हैं, आइए जानते हैं कैसे करें अपनी राशि अनुसार नव वर्ष का स्वागत।

मेष

अंग्रेजी की एक कहावत है ‘फर्स्ट इंप्रैशन इज द लास्ट इंप्रैशन’ इसलिए साल की शुरुआत अपने ईष्ट देवताओं की पूजा से करें, अपने बड़ों एवं गुरुओं से लिए सबक स्मरण करें, दोस्तों के साथ उत्सव मनाएं लेकिन अति उत्साह से बचें क्योंकि अति उत्साह कई बार मजा किरकिरा कर देता है।

वृष

वृष राशि वाले जातक शांति प्रिय स्वभाव के होते हैं, हुड़दंग बाजी इन्हें रास नहीं आती अत: आप अपने परिजनों के साथ, अपने चाहने वालों के साथ नए साल का स्वागत करें। अपने प्रियजन को कोई भेंट दे सकते हैं परिवार को बाहर घुमाने या फिल्म दिखाने का कार्यक्रम भी बना सकते हैं।

मिथुन

मिथुन राशि के व्यक्ति सज्जन और उदार हृद्यी होते हैं। विपरीत लिंगी के प्रति आपका आकर्षण कुछ ज्यादा ही रहता है। आप नव वर्ष की शुरुआत दान-पुण्य करके करें। अपने प्रेमी या दोस्तों या परिजनों के साथ मस्ती भरा समय बीताएं व अपना 2016 का राशिफल जरुर पढ़ें।

कर्क

कर्क राशि के जातक ग्रहणशील, धैर्यवान और एकाग्र होते हैं। नए वर्ष का स्वागत अपने चाहने वालों के साथ उत्सव मनाते हुए करें। परिवार के मंगल की कामना करें। दोस्तों के साथ पार्टी करें लेकिन मर्यादा का उल्लघंन न करें।

सिंह

सिंह राशि के जातक जुबान के धनी होते हैं। अपने चाहने वालों से नए साल को लेकर जो वादे किए हैं उन्हें पूरा करें। मनोरंजन आपको काफी पसंद होता है इसलिए परिवार के साथ पिकनिक मनाएं। आपके सितारे बुलंद हैं इसलिए दान-पुण्य करके अपने लिए नेकी बटोरने की शुरुआत साल के पहले दिन से ही शुरु करें।

कन्या

अक्सर आपके बारे में लोग गलत धारणा बना लेते हैं इसलिए नए साल पर अपने प्रियजनों को सरपराइज़ पार्टी देकर इस धारणा तोड़ एक सकारात्मक शुरुआत कर सकते हैं। दूसरों की खुशी में अपनी खुशी होती है। किसी गरीब के चेहरे पर मुस्कान लाकर साल की अच्छी शुरुआत कर सकते हैं।

तुला

प्रेम और सुंदरता का ग्रह आपकी राशि का स्वामी है। इसलिए अपने चाहने वाले को अपने जीवन साथी की इच्छा का ध्यान रखें। शोर-शराबा, भीड़-भाड़ अगर पसंद नहीं है तो घर पर भी अच्छे से सेलिब्रेट कर सकते हैं। जीवन संगीनी या संतान के हाथ से किसी गरीब को गर्म कपड़े दान करके आत्मिक शांति एवं साल की अच्छी शुरुआत कर सकते हैं।

वृश्चिक

अपने प्यार किसी नव वर्ष पार्टी में ले जाकर एक आनंदमयी शुरुआत कर सकते हैं। विवाहित हैं तो अपनी संगिनी को कोई सरपराइज़ गिफ्ट दे सकते हैं। माता-पिता व घर के बड़े-बुजुर्गों का आशीर्वाद लें साल की शुरुआत अच्छी रहेगी।

धनु

धनु राशि के व्यक्ति जीवन के वास्तविक अर्थ को समझते हैं। आप साल की शुरुआत किसी धार्मिक आयोजन से कर सकते हैं। युवा जातक काफी खुले विचारों के होते हैं, इसलिए अपने दोस्तों के साथ मदहोशी के आलम में साल के ये शुरुआती पल गुजार सकते हैं बस जोश के साथ होश बरकरार रखें।

मकर

मकर राशि के जातक काफी संवेदशनशील और खुश मिजाज होते हैं लेकिन इनके दिल को चोट भी बहुत जल्दी पंहुचती है। इसलिए नव वर्ष 2016 का उत्सव मनाएं लेकिन बेगानी महफ़िल से दूरी बनाएं। बुजूर्गों की सेवा-टहल करें उनका आशीर्वाद लें, साल का पहला दिन अच्छा गुजरेगा।

कुंभ

कुंभ राशि के जातक काफी भावुक और चंचल स्वभाव के होते हैं। इन्हें हमेशा कुछ नया करने की आदत होती है। नया साल है नया दिन है इसलिए इस मौके पर चौका लगाना तो बनता है। जमकर नए साल पर धमाल करें और अपनी खुशी में दूसरों को भी शरीक करें। साल की शुरुआत को और भी अच्छा करने के लिए बस आप जैसी खुशी दूसरों को मिले इसकी प्रार्थना करें, निश्चित रुप से आपकी शुरुआत अच्छी होगी।

मीन

मीन राशि के जातक दिखावा व चालाकी पसंद नहीं करते, दोस्त भी गिनचुने पर बहुत अच्छे होते हैं, इसलिए अपने दोस्तों के साथ नए साल का उत्सव मनाएं। अपने प्रेमी या जीवन साथी के साथ साल के शुरुआती लम्हों को यादगार बना सकते हैं। किसी जरुरतमंद दोस्त की मदद करें आपके साल की शुरुआत अच्छी रहेगी।




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

गीता जयंती 2016 - भगवान श्री कृष्ण ने कुरुक्षेत्र में दिया था गीता का उपदेश

गीता जयंती 2016 - ...

कर्मण्यवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन |मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोSस्त्वकर्मणि ||मनुष्य के हाथ में केवल कर्म करने का अधिकार है फल की चिंता करन...

और पढ़ें...
मोक्षदा एकादशी 2016 – एकादशी व्रत कथा व महत्व

मोक्षदा एकादशी 201...

एकादशी उपवास का हिंदुओं में बहुत अधिक महत्व माना जाता है। सभी एकादशियां पुण्यदायी मानी जाती है। मनुष्य जन्म में जाने-अंजाने कुछ पापकर्म हो जा...

और पढ़ें...
2017 में क्या कहती है भारत की कुंडली

2017 में क्या कहती...

2016 भारत के लिये काफी उठापटक वाला वर्ष रहा है। जिसके संकेत एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों ने उक्त समय दिये भी थे। खेलों के मामले में भी हमने कह...

और पढ़ें...
क्या हैं मोटापा दूर करने के ज्योतिषीय उपाय

क्या हैं मोटापा दू...

सुंदर व्यक्तित्व का वास्तविक परिचय तो व्यक्ति के आचार-विचार यानि की व्यवहार से ही मिलता है लेकिन कई बार रंग-रूप, नयन-नक्स, कद-काठी, चाल-ढाल आ...

और पढ़ें...
बुध कैसे बने चंद्रमा के पुत्र ? पढ़ें पौराणिक कथा

बुध कैसे बने चंद्र...

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मनुष्य के जीवन को ग्रहों की चाल संचालित करती है। व्यक्ति के जन्म के समय ग्रहों की जो दशा होती है उसी के आधार पर उसक...

और पढ़ें...