Skip Navigation Links
रियो ओलिंपिक 2016 - क्या पीवी सिंधु रचेंगी स्वर्णिम इतिहास


रियो ओलिंपिक 2016 - क्या पीवी सिंधु रचेंगी स्वर्णिम इतिहास

रियो ओलिंपिक में सोने की दहलीज पर खड़ी बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने फाइनल में पंहुच कर एक इतिहास तो रच ही दिया है लेकिन अगर आज वे स्वर्ण पदक जीतने में कामयाब हो जाती हैं तो यह भारत के लिये स्वर्णिम इतिहास होगा। वैसे तो सफलता का सीधा सूत्र कड़ी मेहनत ही होती है लेकिन कुछ चीज़ें ऐसी भी होती हैं जो हमारे हाथ में नहीं होती। ज्योतिषशास्त्र की भाषा में ग्रहों की दशा भी एक ऐसी ही चीज है जिस पर किसी का नियंत्रण नहीं है। वे किस जातक के साथ, कब कौनसा खेल, खेल जायें कुछ कहा नहीं जा सकता। आप भी अगर ऐसा महसूस करते हैं कि आपके साथ भी अपेक्षानुसार कुछ नहीं हो रहा है तो आप भी हमारे ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। एस्ट्रोयोगी पर देश के जाने-माने ज्योतिषाचार्यों से अपनी शंकाओं के समाधान जान सकते हैं। डाउनलोड करें भारत की पहली एस्ट्रोलॉजर ऐप। एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्य पीवी सिंधु की सूर्यकुंडली के अनुसार क्या पूर्वानुमान लगा रहे हैं आइये जानते हैं।


नाम – पुसरला वेंकट सिंधु

जन्मतिथि – 5 जुलाई 1995

जन्म समय – उपलब्ध नहीं है

जन्म स्थान – हैदराबाद, भारत


पी.वी सिंधु का जन्म समय उपलब्ध न होने के कारण सूर्य कुंडली के अनुसार ज्योतिषाचार्यों ने इनकी चंद्र राशि कन्या बताई है। सूर्य कुंडली के अनुसार लग्न में सूर्य और शुक्र का होना एवं मंगल का सिंह राशि में होना सिंधु के लिये बहुत ही शुभ माना जा सकता है। ग्रहों के इस योग से जातक के मान-सम्मान और पराक्रम में वृद्धि के संकेत मिलते हैं। इसके साथ ही कन्या राशि का चंद्रमा मन में एक नई ऊर्जा, एक नई चेतना और कुछ नया करने का जुनून पैदा करता है। गोचर अवस्था में इस समय बृहस्पति कन्या राशि में चल रहा है। इससे भी सिंधु को विजय श्री मिलने की प्रबल संभावनाएं हैं। वहीं प्रतिद्वंदी स्थान पर मंगल और शनि बैठें हैं जो कि  प्रतिद्वंदी को क्मजोर करता है लेकिन शनि का साथ उलटफेर करने के रास्ते भी खुले रखता है विशेषकर शारीरिक रुप से अपने स्वास्थ्य के प्रति भी सिंधु को सचेत रहने की आवश्यकता होगी। आज की तारीख में सिंधु का ताराबल बहुत अच्छा है लेकिन चंद्रबल थोड़ा कमजोर है। इसलिये सिंधु को पूरी मुस्तैदी और सूझ-बूझ के साथ खेलना होगा।


कहते हैं जो लड़ने की हिम्मत रखते हैं वक्त भी उन्हीं का साथ देता है। उम्मीद है सिंधु रियों में भारत को स्वर्ण पदक दिलाएंगी। एस्ट्रोयोगी की ओर से उन्हें फाइनल तक पहुंचने पर बधाई और फाइनल मैच के लिये शुभकामनाएं।


यह भी पढ़ें

 दीपा करमाकर क्या कहते हैं इस जिमनास्ट के सितारे   |   रियो ओलिंपिक 2016 - क्या भारतीय खिलाड़ियों को मिलेगा सितारों का साथ   |   

युवाओं के लिए कुछ खास है 2016   |   2016 - क्या खेलों में चमकेगा भारत   |   2016 - क्या कहते हैं भारत के सितारे   |   2016 - क्या कहते हैं आपके सितारे 




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

सूर्य ग्रहण 2017 जानें राशिनुसार क्या पड़ेगा प्रभाव

सूर्य ग्रहण 2017 ज...

26 फरवरी को वर्ष 2017 का पहला सूर्यग्रहण लगेगा। सूर्य और चंद्र ग्रहण दोनों ही शुभ कार्यों के लिये अशुभ माने जाते हैं। पहला सूर्यग्रहण हालांकि...

और पढ़ें...
सूर्य ग्रहण 2017

सूर्य ग्रहण 2017

ग्रहण इस शब्द में ही नकारात्मकता झलकती है। एक प्रकार के संकट का आभास होता है, लगता है जैसे कुछ अनिष्ट होगा। ग्रहण एक खगोलीय घटना मात्र नहीं ह...

और पढ़ें...
गुरु चाण्डाल दोष – कैसे बनता है गुरु चांडाल योग व क्या हैं उपाय

गुरु चाण्डाल दोष –...

ज्योतिषशास्त्र कुंडली के अनुसार हमारे भविष्य का पूर्वानुमान लगाता है। इसके लिये ज्योतिषशास्त्री अध्ययन करते हैं ग्रहों की दशाओं का। इन दशाओं ...

और पढ़ें...
धन प्राप्ति के लिये श्री कृष्ण के आठ चमत्कारी मंत्र

धन प्राप्ति के लिय...

भगवान श्री कृष्ण की अपने भक्तों पर विशेष अनुंकपा होती है। वे सखा के रूप में सुदामा का उद्धार करते हैं तो अर्जुन के सारथी बन उन्हें कर्तव्य पा...

और पढ़ें...
आपके माथे पर लिखा है आपका भाग्य, बताती हैं रेखाएं

आपके माथे पर लिखा ...

क्या आपने कभी महसूस किया है कि पहली बार में आप जिस शख्स को देखते हैं और जो धारणा उस समय बनाते हैं आगे चलकर वह उस पर खरा नहीं उतरता। या फिर कई...

और पढ़ें...