Skip Navigation Links
जानिए राहू परिवर्तन कैसे करेगा आपको प्रभावित


जानिए राहू परिवर्तन कैसे करेगा आपको प्रभावित

भारतीय ज्योतिष में राहू व केतू को नवग्रहों में शामिल किया जाता है लेकिन खगोलिय दृष्टि से पिंड रुप में इन ग्रहों के मौजूद न होने से इन्हें छाया ग्रह कहते हैं।

चन्द्रमा अपनी कक्षा में दक्षिण से उत्तर की ओर चक्कर लगाता है इस दौरान वह सूर्य के तेजोमंडल को पार करता है, क्रॉसिंग का यही बिंदु राहू के नाम से जाना जाता है। इस बिंदु से 180 डिग्री दूर दूसरा बिंदू, जिसमें चन्द्रमा सूर्य के प्रभामंडल को उत्तर से दक्षिण की ओर काटता है, केतु कहलाता है। 

सभी ग्रह एक निश्चित समयावधि तक प्रत्येक राशि में रहते हुए अगली राशि की और अग्रसर होते हैं लेकिन राहू और केतू हमेशा वक्री होकर घूमते हैं। इन्हें एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करने में 18 महीने का समय लग जाता है।

राहू को एक अशुभ ग्रह माना जाता है, दिन में राहूकाल के समय किसी भी शुभ काम को नहीं किया जाता। लेकिन कुछ ऐसी स्थितियां भी हैं जिनमें राहू बहुत शुभ फल देता है। 30 जनवरी को राहू कन्या से सिंह राशि में प्रवेश करेगा व केतु कुंभ राशि में दाखिल होगा। राहू-केतु के इस परिवर्तन का सभी 12 राशियों पर प्रभाव पड़ेगा। आइये जानते हैं किस राशि पर कैसी रहेगी राहू की दृष्टि। राहू दोष से बचने के लिए भारत के प्रतिष्ठित ज्योतिषाचार्यों से बात करें आज ही डाऊनलोड करें एस्ट्रोयोगी एप्प

मेष – मेष राशि के जो जातक विदेशों में शिक्षा पाना चाहते हैं या पाने के इच्छुक हैं, उनके लिए राहू की यह स्थिति फायदेमंद है। जबकि अपने गृह क्षेत्र में शिक्षा प्राप्त करने वालों के लिए स्थिति चिंताजनक हो सकती है। मेष जातकों के आत्मबल में कमी आएगी या फिर स्वयं पर कुछ ज्यादा ही विश्वास करेंगें यानि ओवर कॉन्फिडेंस के शिकार हो सकते हैं। कार्य संबंधी आकस्मिक यात्रा पर भी जाना पड़ सकता है। किसी भी कार्य को आवेश या जल्दबाजी में न करें। कोई बड़ा निर्णय लेने से पहले अपने मित्रों, परिजनों व अनुभवी व्यक्तियों से राय जरुर लें।

वृष – वृष जातकों को गृह-क्लेश का सामना करना पड़ सकता है। विशेषकर माता व दोस्तों के साथ मन-मुटाव हो सकता है। आपका मन अशांत व विचलित हो सकता है लेकिन आपके लटके हुए कार्यों के सिरे चढ़ने की पूरी-पूरी संभावना है। यदि अपनी किसी संपत्ति को बेचना चाहते हैं तो यह स्थिति आपके लिए लाभकारी सिद्ध हो सकती है।

मिथुन – राहू की यह दशा मिथुन राशि के जातकों के लिए लाभकारी योग बना रही है। आपको छोटी-छोटी यात्राओं के अवसर मिलेंगें। किसी धार्मिक यात्रा पर भी जा सकते हैं। आपका पराक्रम बढेगा व धर्म के प्रति आस्था में भी वृद्धि होगी। हां किसी भी प्रकार के बाह्याडंबर या दिखावे से बचकर रहेंगें तो अच्छा रहेगा।

कर्क – कर्क जातकों को इस समय थोड़ा सचेत रहने की आवश्यकता है। राहू की यह दशा आपकी जेब पर भारी पड़ सकती है। आपके खर्चे बढ़ने की संभावना है। इसके साथ ही पारिवारिक जीवन में भी थोड़ा संकट पैदा हो सकता है। खासकर ससुराल पक्ष की ओर से संबंधों में खटास पैदा हो सकती है। इसलिए कुछ दिनों के लिए अपने रिश्तेदारों के साथ संबंधों में गहराई से लिप्त न हों ना ही उनकी बहुत ज्यादा उपेक्षा करें। हां पैतृक संपत्ति प्राप्त होने की प्रबल संभावनाएं हैं।

सिंह - राहू की इस दशा का आपके स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा, आपका क्रोध भी सातवें आसमान पर जा सकता है जिससे संबंध बिगड़ सकते हैं। इसलिए अपनी वाणी पर नियंत्रण रखते हुए संयंम बनाएं रखें। संतान की शिक्षा को लेकर भी आपकी चिंता बढ़ सकती है इसलिए बच्चों की शिक्षा का ध्यान रखें। काम के लिहाज से समय आपके लिए सही है। कामकाज के सिलसिले में निवास स्थान से दूर भी जाना पड़ सकता है।

कन्या – कन्या राशि के जातकों पर आर्थिक बोझ बढ़ने की संभावना है, खर्चों में बढोतरी होगी। आपमें असुरक्षा की भावना, अकेलापन घर कर सकता है। पूजा-पाठ से भी विरक्ति महसूस करेंगें लेकिन यदि किसी कार्य को पूरी लग्न व सिद्दत से करेंगें तो सफलता मिलेगी। यदि आपके व्यवसाय या कार्य के तार विदेश से जुड़े हैं तो ऐसी परियोजनाओं में सफलता मिलने के भी आसार हैं।

तुला – तुला राशि के जातकों के लिए भी समय काफी अनुकूल है। आपके भाग्य में लंबी विदेश यात्रा का योग भी बन रहा है। यदि जन्म स्थान से दूर रहने की आपकी इच्छा रही है तो वह पूरी होने की संभावना है। आपके काम बनेंगें व धन की आवक में भी वृद्धि होगी। विद्यार्थियों को भी घूमने-फिरने के पर्याप्त अवसर मिलेंगें इसलिए अपनी शिक्षा पर भी ध्यान देने की जरुरत होगी अन्यथा स्थिति चिंताजनक हो सकती है।

वृश्चिक – आपके लिए समय थोड़ा कठिन है। कार्यस्थल पर आपकी हर छोटी-छोटी बातें भी नोट की जांएगी। अपने वरिष्ठ अधिकारियों व सहकर्मियों के साथ लड़ाई-झगड़ा, तकरार होने की संभावना है, जिससे आपकी पदोन्नति में भी बाधा आ सकती है। इसलिए आपके लिए सलाह है कि अपने वरिष्ठ अधिकारियों व सहकर्मियों के साथ बना कर रखें।

धनु – इस समय आपको मेहनत बहुत ज्यादा करनी पड़ेगी लेकिन अपने कार्य में सफलता हासिल करेंगें। हो सकता है आपकी शुरुआत थकान भरी रही हो लेकिन साल के मध्य का समय आपके कार्य में तेजी लाएगा। मन को शांत रखते हुए धैर्य से काम लें। भाग्य से ज्यादा अपने कर्म पर फोकस रखें।

मकर – आपके लिए समय अच्छा है। हालांकि स्वास्थ्य संबंधि हल्की परेशानियों से दो-चार होना पड़ सकता है, लेकिन समय पर किए उपचार से आराम मिल जाएगा। सट्टा बाजार यानि शेयर मार्केट से जुड़े लोगों को लाभ मिल सकता है। रियल एस्टेट वालों को भी मुनाफा मिलने की संभावना है।

कुंभ – पारिवारिक रुप से आपकी चिंताए बढ़ सकती हैं विशेषकर अपने जीवनसाथी को लेकर चिंतित हो सकते हैं। आपकी व्यक्तिगत परेशानियों का असर आपके कार्यक्षेत्र में भी आपको प्रभावित कर सकता है। ग्रह-क्लेश से मुक्ति के उपाय करने के बारे में सोच सकते हैं।

मीन – मीन जातकों को स्वास्थ्य संबंधि दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। इस समय आपके शत्रु बहुत होंगें। हो सकता है कोर्ट-कचहरी के चक्कर भी लगाने पड़ें। अपने दोस्तों से सलाह लेने में संकोच न करें। एक अच्छी सलाह से आप हर मुश्किल से पार पाने में कामयाब हो सकते हैं।

अन्य एस्ट्रोलेख पढने के लिए यहां क्लिक करें




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

मार्गशीर्ष – जानिये मार्गशीर्ष मास के व्रत व त्यौहार

मार्गशीर्ष – जानिय...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है...

और पढ़ें...
शनि शिंगणापुर मंदिर

शनि शिंगणापुर मंदि...

जब भी जातक की कुंडली की बात की जाती है तो सबसे पहले उसमें शनि की दशा देखी जाती है। शनि अच्छा है या बूरा यह जातक के भविष्य के लिये बहुत मायने ...

और पढ़ें...
जानिये उत्पन्ना एकादशी व्रत कथा व पूजा विधि

जानिये उत्पन्ना एक...

एकादशी व्रत कथा व महत्व के बारे में तो सभी जानते हैं। हर मास की कृष्ण व शुक्ल पक्ष को मिलाकर दो एकादशियां आती हैं। यह भी सभी जानते हैं कि इस ...

और पढ़ें...
हिंदू क्यों करते हैं शंख की पूजा

हिंदू क्यों करते ह...

शंख हिंदू धर्म में बहुत ही पवित्र माना जाता है। जैसे इस्लाम में अज़ान देकर अल्लाह या खुदा का आह्वान किया जाता है उसी तरह हिंदूओं में शंख ध्वन...

और पढ़ें...
भैरव जयंती – भैरव कालाष्टमी व्रत व पूजा विधि

भैरव जयंती – भैरव ...

क्या आप जानते हैं कि मार्गशीर्ष मास की कालाष्टमी को कालाष्टमी क्यों कहा जाता है? इसी दिन भैरव जयंती भी मनाई जाती है क्या आप जानते हैं ये भैरव...

और पढ़ें...