Skip Navigation Links
सिद्धार्थ मल्होत्रा - महादशा में बुध काम होंगें शुद्ध


सिद्धार्थ मल्होत्रा - महादशा में बुध काम होंगें शुद्ध

बतौर सहायक निर्देशक बॉलीवुड में कदम रखने वाले सिद्धार्थ मल्होत्रा आज कल बुलंदी पर हैं। मल्होत्रा ने बतौर अभिनेता 2012 में आयी करन जोहर की फिल्म स्टूडैंट ऑफ द इयर से शुरुआत की। फिल्म ने लोगों का समर्थन और तारीफें तो बटौरी ही साथ ही उनके करियर ने भी एक दम तेजी पकड़ी। हंसी तो फंसी, एक विलन के बाद अक्षय कुमार के साथ ब्रदर्स में बॉक्सर के किरदार की भी खूब सराहना हुई। 18 मार्च को उनकी अगली फिल्म कपूर एंड संस भी रीलिज होने जा रही है। 16 जनवरी को सिद्धार्थ मल्हौत्रा 31 साल के हो जाएंगे, ऐसे में आइये जानते हैं कि बॉलीवुड के इस उभरते हुए सितारे के सितारे, क्या कहते हैं ?

यहां क्लिक कर जानें अपना राशिफल

नाम- सिद्धार्थ मल्होत्रा 

जन्म तिथि- 16 जनवरी 1985 

जन्म स्थान- दिल्ली 

इस कुंडली के अनुसार लग्न- वृष, चंद्र राशि- वृश्चिक, नक्षत्र- अनुराधा पहला चरण, महादशा- बुध, अंतर्दशा- बृहस्पति व प्रत्यंतर दशा में शनि है।

सिद्धार्थ मल्होत्रा की इस कुंडली के अनुसार ग्रह इनके पक्ष में हैं। बुध की महादशा व अंतर्दशा में बृहस्पति होने से इन्हें अपने कर्मक्षेत्र में अच्छा प्रतिफल मिलने की संभावना है। शुक्र मंगल के साथ मिलकर आर्थिक रुप से अतिरिक्त लाभ मिलने की ओर ईशारा कर रहा है। वहीं आने वाले समय में शुक्र इनके लिए राजा व बुध मंत्री की भूमिका निभाएंगे जिससे इन्हें कार्यक्षेत्र में ख्याति के साथ धन भी प्राप्त होगा। राहु का वृष राशि में होना भी इनके लिए मेहनत करवाने वाला तो होगा, लेकिन धन का योग भी बना रहा है। हालांकि केतू का कन्या राशि में होना इनके लिए मानसिक रुप से तनाव ला सकता है। इन्हें अपने आंतरिक स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहना होगा। चंद्रमा का नीच राशि में होना संकेत करता है कि सबकुछ होने के बावजूद भी ये संतुष्ट नहीं होंगें, जिससे नकारात्मक विचार भी इन पर हावि रह सकते हैं। खास तौर पर 14 मार्च तक का समय इनके लिए काफी कठिन है, इस दौर में इन्हें नकारात्मक विचारों से बचना चाहिए।

कुल मिलाकर आने वाला समय इनके लिए बहुत अच्छा साबित होगा। एस्ट्रोयोगी की और से इन्हें जन्मदिन की बहुत-बहुत शुभकामनाएं।

अन्य लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

गीता जयंती 2016 - भगवान श्री कृष्ण ने कुरुक्षेत्र में दिया था गीता का उपदेश

गीता जयंती 2016 - ...

कर्मण्यवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन |मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोSस्त्वकर्मणि ||मनुष्य के हाथ में केवल कर्म करने का अधिकार है फल की चिंता करन...

और पढ़ें...
मोक्षदा एकादशी 2016 – एकादशी व्रत कथा व महत्व

मोक्षदा एकादशी 201...

एकादशी उपवास का हिंदुओं में बहुत अधिक महत्व माना जाता है। सभी एकादशियां पुण्यदायी मानी जाती है। मनुष्य जन्म में जाने-अंजाने कुछ पापकर्म हो जा...

और पढ़ें...
2017 में क्या कहती है भारत की कुंडली

2017 में क्या कहती...

2016 भारत के लिये काफी उठापटक वाला वर्ष रहा है। जिसके संकेत एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों ने उक्त समय दिये भी थे। खेलों के मामले में भी हमने कह...

और पढ़ें...
क्या हैं मोटापा दूर करने के ज्योतिषीय उपाय

क्या हैं मोटापा दू...

सुंदर व्यक्तित्व का वास्तविक परिचय तो व्यक्ति के आचार-विचार यानि की व्यवहार से ही मिलता है लेकिन कई बार रंग-रूप, नयन-नक्स, कद-काठी, चाल-ढाल आ...

और पढ़ें...
बुध कैसे बने चंद्रमा के पुत्र ? पढ़ें पौराणिक कथा

बुध कैसे बने चंद्र...

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मनुष्य के जीवन को ग्रहों की चाल संचालित करती है। व्यक्ति के जन्म के समय ग्रहों की जो दशा होती है उसी के आधार पर उसक...

और पढ़ें...