Skip Navigation Links
सूर्य ग्रहण कैसे करेगा आपकी राशि को प्रभावित


सूर्य ग्रहण कैसे करेगा आपकी राशि को प्रभावित

9 मार्च को भारतीय समयानुसार देशभर के अधिकांश हिस्सों में सूर्य ग्रहण देखने को मिलेगा। सूर्य ग्रहण पूर्ण, आशिंक और वलयाकार तीन प्रकार का होता है। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों की गतिविधियां या कहें ग्रहों की चाल प्रत्येक मनुष्य, जीव-जगत आदि को प्रभावित करती है। ऐसे में हम आपको बताने जा रहे हैं कि यह सूर्य ग्रहण कैसे आपकी राशि को प्रभावित करेगा। कैसा रहेगा आपका राशिफल सूर्यग्रहण के दिन। सूर्य ग्रहण के प्रभाव से कैसे बचने के लिये क्या उपाय किये जायें।



सूर्य ग्रहण - राशिनुसार किसके लिए है शुभाशुभ

ग्रहण इस शब्द में ही नकारात्मकता झलकती है। एक प्रकार के संकट का आभास होता है, लगता है जैसे कुछ अनिष्ट होगा। ग्रहण एक खगोलीय घटना मात्र नहीं हैं एक और जहां इसका वैज्ञानिक महत्व है तो दूसरी और ज्योतिषाचार्यों के अनुसार यह एक आध्यात्मिक घटना होती है जिसका जगत के समस्त प्राणियों पर काफी प्रभाव पड़ता है। विशेषकर सूर्य ग्रहण एवं चंद्र ग्रहण का। राशिनुसार सूर्यग्रहण के प्रभाव को एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्य कुछ इस तरह देखते हैं। एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से ग्रहण संबधि उपायों हेतु परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।

मेष- मेष राशि के जातकों के लिये यह सूर्य ग्रहण शुभ रहेगा, विशेषकर जमीन से जुड़े मामलों में लाभ मिलेगा।

वृष- वृष जातकों के लिये सूर्य ग्रहण अच्छे संकेत नहीं दे रहा है, इस समय घर में अशांति हो सकती है, मात्रि शक्ति की हानि हो सकती है।

मिथुन- इस राशि के जातकों के लिये भी यह सूर्य ग्रहण अशुभ रहने के आसार हैं। पारिवारिक झगड़े बढ सकते हैं, संतान पक्ष की ओर से हानि भी हो सकती है।

कर्क- कर्क राशि के जातकों के लिये भी सूर्य ग्रहण शुभ है। यदि लंबे समय से ऋण के बोझ से मुक्त नहीं हो पा रहे हैं तो इससे मुक्ति मिलने के प्रबल आसार हैं बशर्तें आप प्रयासरत रहें।

सिंह- इस राशि के जातकों के लिये यह सूर्य ग्रहण बहुत ही अशुभ रह सकता है। सहकर्मियों से वाद-विवाद बढ़ सकता है, गृह-क्लेश रहने के भी आसार हैं साथ ही व्यावसायिक रुप से भी सावधान रहने की आपको आवश्यकता है। व्यवसाय में धोखा मिलने की भी प्रबल संभावना है।

कन्या- कन्या राशि के जातकों के लिये भी सूर्य ग्रहण बहुत हानिकारक हो सकता है। इस राशि के जातक अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें। यात्रा करने से बचें दुर्घटना का शिकार होने के आसार हैं। आर्थिक रुप से भी इन्हें हानि हो सकते हैं। यह सूर्य ग्रहण कन्या जातकों के लिये अनिष्टकारी रहने के संकेत दे रहा है।

तुला-  तुला जातकों के लिये भी सूर्य ग्रहण के शुभ संकेत नहीं हैं। तुला जातक इस समय धर्म-कर्म में बहुत कम रुचि लेंगें। पैतृक संपत्ती से हानि होने के आसार बन रहे हैं।

वृश्चिक- जो जातक लंबे समय से बेरोजगारी की मार झेल रहे हैं उन वृश्चिक जातकों को काम मिलने की संभावना है। यदि किसी प्रतियोगी परीक्षा का परिणाम आना है तो सफल उम्मीद्वारों की सूची में आपका नाम भी हो सकता है अर्थात सूर्य ग्रहण वृश्चिक जातकों के लिये शुभ है जिस कारण इन जातकों को नौकरी के अवसर मिल सकते हैं।

धनु- धनु जातकों के लिये सूर्य ग्रहण सकारात्मक परिणाम लाने के संकेत दे रहा है। परिवार में शांति बनी रहने के आसार हैं। जो जातक विद्या ग्रहण कर रहे हैं उनके लिये यह विशेषकर लाभकारी रहने के आसार हैं। जो दंपति संतान के इच्छुक हैं उनकी मनोकामना भी पूर्ण हो सकती है।

मकर- मकर राशि के जातकों के लिये भी सूर्य ग्रहण खर्चीला साबित हो सकता है, आक्स्मिक हानि हो सकती है। पारिवारिक जीवन में भी खलल पड़ सकता है। दंपतियों में मनमुटाव होने की प्रबल संभावनांए हैं।

कुंभ- कुंभ राशि के जातकों को विशेष सावधानी रखने की जरुरत है। इस राशि के जातकों के लिये यह ग्रहण विशेष रुप से अनिष्टकारी साबित हो सकता है। इन्हें आर्थिक, पारिवारिक, स्वास्थ्य, व्यावसायिक हर पहलु पर सचेत रहना होगा।

मीन- मीन राशि के जातकों के लिये भी यह सूर्यग्रहण धन की हानि होने के संकेत दे रहा है। जीवनसाथी या फिर प्रेम संबंधों के प्रति भी सावधान रहें तो बेहतर रहेगा।


सूर्य ग्रहण पर क्या रखें सावधानियां

एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों की सलाह है कि ग्रहण काल के समय खाना न खांए न ही कुछ पीयें, प्रभु का स्मरण करते हुए पूजा, जप, दान आदि धार्मिक कार्य करें। इस समय नवग्रहों का दान करना भी लाभकारी रहेगा। जो विद्यार्थी अच्छा परिणाम चाहते हैं वे ग्रहण काल में पढाई शुरु न करें बल्कि ग्रहण के समय से पहले से शुरु कर ग्रहण के दौरान करते रहें तो अच्छा रहेगा। घर में बने पूजास्थल को भी ग्रहण के दौरान ढक कर रखें। ग्रहण से पहले रात्रि भोज में से खाना न ही बचायें तो अच्छा रहेगा। यदि दुध, दही या अन्य तरल पदार्थ बच जांयें तो उनमें तुलसी अथवा कुशा डालकर रखें इससे ग्रहण का प्रभाव उन पर नहीं पड़ेगा। ग्रहण समाप्ति पर पूजा स्थल को साफ कर गंगाजल का छिड़काव करें, देव मूर्ति को भी गंगाजल से स्नान करवायें व तदुपरांत भोग लगायें।

ग्रहण काल का समय

भारतीय समयानुसार देशभर में प्रात: 5 बजकर 45 मिनट से सूर्य ग्रहण शुरु होगा जो कि ज्योतिषाचार्यों के अनुसार लगभग 7:27 मिनट तक रहेगा। ग्रहण का सूतक काल ग्रहण के 12 घंटे पहले से शुरु होगा। कुलमिलाकर देश के कुछ हिस्सों को छोड़कर पूरे देश में थोड़ी-थोड़ी देर के लिये सूर्य ग्रहण दिखाई देगा। इस ग्रहण की अवधि भारत में लगभग 1 घंटा 42 मिनट तक की रहेगी। दुनिया के अन्य हिस्सों में लगभग सुबह के 10 बजे तक इस ग्रहण को देखा जा सकेगा।

2016 में लगने वाले अन्य ग्रहण

23 मार्च को लगेगा आंशिक चंद्रग्रहण

भारतीय समयानुसार ग्रहण सूतक लगेगा: 15:09 बजे, ग्रहण चरम पर: 17:17, सूतक समाप्त होगा: 19:24 बजे

1 सितंबर को होगा सूर्य ग्रहण

भारतीय समयानुसार ग्रहण सूतक लगेगा: 11:43 बजे पूर्ण ग्रहण शुरू होगा: 12:47 बजे ग्रहण चरम पर: 14:31 बजे पूर्ण ग्रहण समाप्त होगा: 16:25 बजे सूतक समाप्त होगा: 17:30 बजे

16-17 सिंतबर को चंद्र ग्रहण

16 सितंबर को भारतीय समयानुसार ग्रहण सूतक लगेगा: 22:24 बजे ग्रहण चरम पर: 00:24 बजे सूतक समाप्त होगा: 02:23 बजे




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

यहाँ भगवान शिव को झाड़ू भेंट करने से, खत्म होते हैं त्वचा रोग

यहाँ भगवान शिव को ...

ईश्वर भी कितना महान है, ना कोई इच्छा होती है ना कोई चाह होती है भक्त जो भी दे प्यार से सब स्वीकार कर लेता है। शायद यही एक बात है जो भगवान को ...

और पढ़ें...
मार्गशीर्ष – जानिये मार्गशीर्ष मास के व्रत व त्यौहार

मार्गशीर्ष – जानिय...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है...

और पढ़ें...
शनि शिंगणापुर मंदिर

शनि शिंगणापुर मंदि...

जब भी जातक की कुंडली की बात की जाती है तो सबसे पहले उसमें शनि की दशा देखी जाती है। शनि अच्छा है या बूरा यह जातक के भविष्य के लिये बहुत मायने ...

और पढ़ें...
जानिये उत्पन्ना एकादशी व्रत कथा व पूजा विधि

जानिये उत्पन्ना एक...

एकादशी व्रत कथा व महत्व के बारे में तो सभी जानते हैं। हर मास की कृष्ण व शुक्ल पक्ष को मिलाकर दो एकादशियां आती हैं। यह भी सभी जानते हैं कि इस ...

और पढ़ें...
हिंदू क्यों करते हैं शंख की पूजा

हिंदू क्यों करते ह...

शंख हिंदू धर्म में बहुत ही पवित्र माना जाता है। जैसे इस्लाम में अज़ान देकर अल्लाह या खुदा का आह्वान किया जाता है उसी तरह हिंदूओं में शंख ध्वन...

और पढ़ें...