Skip Navigation Links
टी-20 विश्वकप - एशिया जीत लिया क्या विश्व भी जीतेंगें


टी-20 विश्वकप - एशिया जीत लिया क्या विश्व भी जीतेंगें

बांग्लादेश की धरती पर टी-20 एशिया कप जीतने का जोश अभी ठंडा नहीं हुआ कि भारतीय खिलाड़ी अब टी-20 विश्वकप को हाथ में उठाने को बेताब हैं। भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को एशिया कप में हालांकि कुछ खास चुनौतियों का सामना नहीं करना पड़ा और सितारों ने उनका पूरा साथ दिया। एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों के अनुसार धोनी पर राहू की महादशा चल रही है जिससे विदेशी सरजमीं पर वह शत्रु पर विजय प्राप्त कर सके। ऐसे में यह जानना भी दिलचस्प है कि क्या इस विजय रथ को वे आगे यानि टी-20 विश्व कप में भी जारी रख पायेंगें। इस पर एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों ने धोनी की जन्म कुंडली के आधार पर ग्रहचाल से विश्वकप में भारत की स्थिति का पूर्वानुमान लगाया है। आइये जानते हैं क्या कहते हैं इस समय भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के सितारे।


नाम: महेन्द्र सिंह धोनी

जन्म तिथि: 7 जुलाई 1981

जन्म समय: 11:15:00

जन्म स्थान: रांची


आप भी अपनी ज्योतिषीय समस्याओं का समाधान एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करके कर सकते हैं। ज्योतिषाचार्यों से बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

उपरोक्त विवरण के अनुसार महेन्द्र सिंह धोनी का जन्म कन्या लग्न में हुआ व उनकी चंद्र राशि कन्या है। इस समय इन पर राहू की महादशा चल रही है जिसमें अतंर्दशा में शुक्र विराजमान है इस समय इनकी कुंडली में प्रत्यंतर दशा में गुरु विद्यमान है।

धोनी की कुंडली के अनुसार जून 2017 तक धोनी का समय बहुत अच्छा है। इस समय शुक्र भाग्येश पीरियड में चल रहा है। हालांकि धोनी को सेहत के प्रति सचेत रहना होगा, ग्रहों का संकेत है कि विश्वकप के दौरान इनका शारीरिक स्वास्थ्य बिगड़ सकता है। अब आपको बताते हैं कि भारत के हर मैच पर धोनी के सितारों की क्या दशा रहेगी। यहां क्लिक कर आप जान सकते हैं कि आपके सितारे क्या कहते हैं।

15 मार्च को न्यूजीलैंड के साथ भिड़ेगा भारत

वैसे तो विश्वकप 8 मार्च से शुरु होगा लेकिन भारत का पहला मैच न्यूजीलैंड के साथ 15 मार्च को होगा। इस दिन नवम चंद्रमा होने से समय, धोनी के लिये शुभ है। इनका शुक्र भी मजबूत रहेगा जो कि काम बनाने वाला ग्रह माना जाता है, साथ ही शुक्र शत्रु के घर में बैठा है जिससे जीत मिलने के प्रबल आसार हैं। मेहनत कराने वाला ग्रह मंगल भी इनका बहुत अच्छा है लेकिन धोनी को इस दिन अति आत्मविश्वास से बचना होगा अन्यथा यह उनके लिये हानिकारक हो सकता है।

19 मार्च को होगा पाकिस्तान से सामना

एशिया कप में पहले भारत फिर बांग्लादेश के हाथों करारी मात खाने का गम शायद टीम अभी भुला भी नहीं पाई है कि एक बार फिर भारत एक बड़ी चुनौति के रुप में उसके सामने होगा। वहीं विश्वकप में अभी तक भारत को हराना उसके लिये एक सपना ही बना हुआ है, यह मनोवैज्ञानिक दबाव तो पाकिस्तान पर होगा ही लेकिन धोनी के मजबूत सितारे मनोबल के साथ उसके पराक्रम को बढाने वाले भी हैं। इस दिन धोनी का चंद्रमा ग्यारहवां रहेगा जोकि बहुत शुभ माना जाता है, उस पर यह अपनी राशि का भी है जिससे चंद्रमा को और अधिक बल मिलता है। यह मन को प्रसन्नचित करनेवाला होता है। वहीं मंगल भी अपनी राशि का है जो कि शत्रु स्थान पर बैठा है यह पराक्रम को बढाता है व शत्रु को कमजोर करने में सहायक होता है। हालांकि इस दिन नीच का बुध होने से धोनी को स्वास्थ्य के प्रति अतिरिक्त सावधानी रखनी होगी।

23 मार्च भारत बनाम ग्रुप 2 से कोई टीम

इस दिन भारत का मुकाबला ग्रुप दो में चुनी गई किसी टीम के साथ होगा। मुकाबला चाहे किसी भी टीम के साथ हो लेकिन इस दिन धोनी का चंद्रमा प्रथम रहेगा जिसे शुभ ही माना जाता है। हालांकि बुध इस समय नीच का होगा जिसे स्वास्थ्य के लिहाज से हानिकारक ही माना जाता है। लेकिन फिर भी टीम की जीत के आसार इस दिन भी हैं।

27 मार्च को सामने होगा ऑस्ट्रेलिया  

इस दिन धोनी का चंद्रमा दूसरा है यह भी इनके लिये अच्छा ही है, पराक्रम भी मजबूत है, भाग्य भी सहयोग करने वाला है। लेकिन इस दिन परिस्थितियां थोड़ी बदल सकती हैं। धोनी के धुरंधर शायद उनकी अपेक्षाओं पर खरा न उतर पायें। इसलिये टक्कर कड़ी रहने की संभावना है। टीम का भरपूर सहयोग मिला तो आसानी से जीत हासिल की जा सकती है।

इसके बाद 30, 31 मार्च को सेमीफाइनल व 3 अप्रैल को फाइनल की जंग होगी। उम्मीद है भारत अंत तक इस जंग में बना रहेगा। क्योंकि घरेलू मैदान और दर्शक तो खिलाड़ियों का जोश बढायेंगें ही साथ ही टी-20 में दुनिया की शीर्ष टीम होने का गौरव भी भारतीय क्रिकेट टीम खोना नहीं चाहेगी। बाकि क्रिकेट अनिश्चितताओं का खेल है और अपवाद कहीं भी हो सकते हैं।

एस्ट्रोयोगी पर अन्य ज्ञानवर्धक लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें।




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

गीता जयंती 2016 - भगवान श्री कृष्ण ने कुरुक्षेत्र में दिया था गीता का उपदेश

गीता जयंती 2016 - ...

कर्मण्यवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन |मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोSस्त्वकर्मणि ||मनुष्य के हाथ में केवल कर्म करने का अधिकार है फल की चिंता करन...

और पढ़ें...
मोक्षदा एकादशी 2016 – एकादशी व्रत कथा व महत्व

मोक्षदा एकादशी 201...

एकादशी उपवास का हिंदुओं में बहुत अधिक महत्व माना जाता है। सभी एकादशियां पुण्यदायी मानी जाती है। मनुष्य जन्म में जाने-अंजाने कुछ पापकर्म हो जा...

और पढ़ें...
2017 में क्या कहती है भारत की कुंडली

2017 में क्या कहती...

2016 भारत के लिये काफी उठापटक वाला वर्ष रहा है। जिसके संकेत एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों ने उक्त समय दिये भी थे। खेलों के मामले में भी हमने कह...

और पढ़ें...
क्या हैं मोटापा दूर करने के ज्योतिषीय उपाय

क्या हैं मोटापा दू...

सुंदर व्यक्तित्व का वास्तविक परिचय तो व्यक्ति के आचार-विचार यानि की व्यवहार से ही मिलता है लेकिन कई बार रंग-रूप, नयन-नक्स, कद-काठी, चाल-ढाल आ...

और पढ़ें...
बुध कैसे बने चंद्रमा के पुत्र ? पढ़ें पौराणिक कथा

बुध कैसे बने चंद्र...

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मनुष्य के जीवन को ग्रहों की चाल संचालित करती है। व्यक्ति के जन्म के समय ग्रहों की जो दशा होती है उसी के आधार पर उसक...

और पढ़ें...