Skip Navigation Links
टी-20 विश्वकप सेमिफाइनल – भारत बनाम वेस्टइंडिज किसके हक में हैं सितारे


टी-20 विश्वकप सेमिफाइनल – भारत बनाम वेस्टइंडिज किसके हक में हैं सितारे

टी-20 विश्वकप 2016 में आखिर ऑस्ट्रेलिया को पटखनी देकर भारत ने दिखा दिया कि वह विश्वकप अपने घर में रखने के लिये कितना बेताब है। हालांकि अभी इसके लिये उसके सामने दो बड़ी चुनौतियां हैं जिसमें पहली को पार किया तो ही वह महामुकाबले तक पंहुच पायेगा। 31 मार्च को भारत टी-20 विश्वकप के दूसरे सेमिफाइनल मुकाबले में वेस्टइंडिज के साथ भिड़ेगा। बतादें कि पहला सेमिफाइनल ईंगलैंड और न्यूजीलैंड के बीच 30 मार्च को होगा। अभी तक भारत के साथ जितने भी मैच का पूर्वानुमान एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों ने लगाया है वह बिल्कुल सटीक रहा है। ऑस्ट्रेलिया के साथ होने वाले मैच से पहले हमने कहा था कि संघर्ष के बाद जीत शायद धोनी की किस्मत बन गयी है। और यह भी कहा था कि धोनी पर इस समय राहू की महादशा चल रही है जिसके कारण उन्हें इतना संघर्ष करना पड़ रहा है और खिलाड़ियों के सामने स्वास्थ्य संबंधी समस्यायें आ सकती हैं। एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों ने वेस्टइंडिज के साथ होने वाले सेमिफाइनल मुकाबले का पूर्वानुमान भी लगाया है जो कुछ इस तरह है। सबसे पहले जानते हैं भारतीय कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी के बारे में-



नाम: महेन्द्र सिंह धोनी

जन्म तिथि: 7 जुलाई 1981

जन्म समय: 11:15:00

जन्म स्थान: रांची


उपरोक्त विवरण के अनुसार महेन्द्र सिंह धोनी का जन्म कन्या लग्न में हुआ व उनकी चंद्र राशि भी कन्या है। इस समय इन पर राहू की महादशा चल रही है व अतंर्दशा में शुक्र विराजमान है। प्रत्यंतर दशा में बृहस्पति है।

इस साल के लिये मंगल और सूर्य की गति महेंद्र सिंह धोनी के लिये एक शुभ कारक योग बना रही है। राहू भी केंद्र में आकर मित्र के साथ बैठा है व खेल वाले घर पर दृष्टि डाल रहा है जिसे अशुभ नहीं कहा जा सकता। मंगल और राहू के योग से जीत की प्रबल संभावनायें इनके लिये बनती हैं। लेकिन इसके साथ ही चंद्रमा पर राहू की दृष्टि भी पड़ रही है जिसे शुभ नहीं कहा जा सकता, ग्रहों की यह स्थिति संकेत करती है कि मैच के अंत तक संघर्ष चल सकता है लेकिन फैसला भारत के पक्ष में आने के प्रबल आसार हैं हालांकि धोनी के मन में लगातार संदेह की स्थिति भी बनी रहेगी।

ये तो था भारतीय कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी के ग्रहों का हाल आइये अब एक नजर डालते हैं वेस्टइंडिज टीम के कप्तान डरेन समी के सितारों पर।

नाम: डरेन समी

जन्म तिथि: 20 दिसंबर 1983

जन्म समय: 12:00:00

जन्म स्थान: मिकाउड क्वाटर, सैंट लुसिया

इस विवरण के अनुसार डरेन समी का जन्म मीन लग्न व आर्द्रा नक्षत्र में हुआ इनकी चंद्र राशि मिथुन है। इस समय इन पर शनि की महादशा चल रही है जबकि अंतर्दशा केतु की है तो प्रत्यंतर दशा में शुक्र विराजमान है।

इनके ग्रहों की वर्तमान दशा के अनुसार मंगल का राहू के साथ बैठना इनके लिये अशुभ है वहीं चंद्रमा का 12वां होना भी इनके लिये अच्छे संकेत नहीं दे रहा। गोचर में शनि के साथ विचरण करना भी इनके लिये विषयोग बना रहा है। इस तरह खेल की दृष्टि से इस दिन कोई शुभ ग्रह न होने के कारण इनके लिये परिणाम अशुभ मिलने के आसार हैं। हालांकि कुंडली में मंगल का केंद्र में होना इनके लिये कुछ सहायक जरुर होगा जिससे हो सकता है मैच इनके पक्ष में आ जाये लेकिन अशुभ राहु के साथ बैठने के कारण हाथ आती जीत भी इनसे छिटक सकती है।

वहीं खेल के नजरिये से देखें तो अपने पिछले मैच में भारत जहां ऑस्ट्रेलिया जैसी मजबूत टीम से जीता है तो वेस्टइंडीज को अफगानिस्तान जैसी नई और निम्न दर्जे की टीम से मात खानी पड़ी है। भारत को जहां मनोवैज्ञानिक लाभ मिलेगा तो वहीं वेस्टइंडिज पर मनोवैज्ञानिक दबाव भी रहेगा। हालांकि दोनों टीमें अपनी तरफ से जीतने के लिये खेलेंगी लेकिन ग्रहों की दशा से पलड़ा भारत का ही भारी नजर आ रहा है बाकि क्रिकेट अनिश्चितताओं का खेल तो है ही। एस्ट्रोयोगी की ओर से भारतीय खिलाड़ियों को शुभकामनायें कि वे विश्वकप को अपने घर में रखने में कामयाब हों। एस्ट्रोयोगी पर अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें। 




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

मार्गशीर्ष – जानिये मार्गशीर्ष मास के व्रत व त्यौहार

मार्गशीर्ष – जानिय...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है...

और पढ़ें...
शनि शिंगणापुर मंदिर

शनि शिंगणापुर मंदि...

जब भी जातक की कुंडली की बात की जाती है तो सबसे पहले उसमें शनि की दशा देखी जाती है। शनि अच्छा है या बूरा यह जातक के भविष्य के लिये बहुत मायने ...

और पढ़ें...
जानिये उत्पन्ना एकादशी व्रत कथा व पूजा विधि

जानिये उत्पन्ना एक...

एकादशी व्रत कथा व महत्व के बारे में तो सभी जानते हैं। हर मास की कृष्ण व शुक्ल पक्ष को मिलाकर दो एकादशियां आती हैं। यह भी सभी जानते हैं कि इस ...

और पढ़ें...
हिंदू क्यों करते हैं शंख की पूजा

हिंदू क्यों करते ह...

शंख हिंदू धर्म में बहुत ही पवित्र माना जाता है। जैसे इस्लाम में अज़ान देकर अल्लाह या खुदा का आह्वान किया जाता है उसी तरह हिंदूओं में शंख ध्वन...

और पढ़ें...
भैरव जयंती – भैरव कालाष्टमी व्रत व पूजा विधि

भैरव जयंती – भैरव ...

क्या आप जानते हैं कि मार्गशीर्ष मास की कालाष्टमी को कालाष्टमी क्यों कहा जाता है? इसी दिन भैरव जयंती भी मनाई जाती है क्या आप जानते हैं ये भैरव...

और पढ़ें...