Skip Navigation Links


मीन प्रेम राशिफल 2017

मीन प्रेम राशिफल 2017

मीन जातकों का प्रेमजीवन वर्ष 2017 में अधिकतर समय तक अच्छा रहने के आसार हैं लेकिन बीच-बीच में कुछ समय मुश्किलों भरा भी रह सकता है। वर्ष के आरंभ में ही बृहस्पति कन्या लग्न में रहेंगें जिसका मीन जातकों पर अच्छा प्रभाव पड़ेगा। इस समय आप अपने संबंधों को लेकर सुरक्षित महसूस कर सकते हैं। प्रेमी युगल परिजनों को विश्वास में लेकर जीवन के अगले पड़ाव की ओर कदम बढ़ा सकते हैं। जनवरी के अंत में हालांकि शनिदेव जिनका अक्सर जातकों को बहुत भय रहता है वे अपनी राशि बदलेंगें लेकिन आप पर इसका प्रभाव सामान्य रहने के आसार हैं।

फरवरी में बृहस्पति का वक्र होना परिवार के बड़े-बुजूर्गों को आपके खिलाफ कर सकता है, प्रेमी युगल इस समय सतर्क रहें। इस समय आप जिन्हें अपने बहुत करीब समझते हैं हो सकता है वे भी आपके खिलाफ हो जायें। इसलिये जो भी कदम उठाएं वह सोच-समझकर ही उठाएं। अपने पराये को परखने के लिहाज से यह वक्त आपका मार्गदर्शक हो सकता है। इस समय अपने साथी को कोई ऐसी बात बिल्कुल न कहें जिससे उसकी भावनाएं आहत हों। आप अपनी सूझ-बूझ और संयम से अपने साथी को विश्वास में ले सकते हैं

अप्रैल का समय प्रेम संबंधों के मामले में अच्छा कहा जा सकता है इस महीने में वक्री शुक्र का आपकी राशि में उच्च का होना आपके संबंधों के मजबूत होने का ईशारा कर रहा है। जून तक आप अच्छे प्रेमजीवन का आनंद ले सकते हैं। प्यार का इजहार करने के लिये यह मीन जातकों के लिये सही समय है तो वहीं पहले से प्यार में खोये जातकों को अपने प्यार को परिवार में परिवर्तित करने के लिये भी सही है। विवाहित जातक संतान का विचार बना सकते हैं।

लेकिन जून महीने के शुरु होते ही जैसे ही शुक्र आपकी राशि से निकल जायेंगें आपके साथी के साथ मतभेद पैदा हो सकते हैं। कुछ जातकों के बीच तो विवाद इतना बढ़ सकता है कि वे अलग होने तक के निर्णय पर पंहुच जायें। आपके लिये सलाह है कि इस समय अपने रिश्ते की अहमियत को समझें और जल्दबाजी में कोई निर्णय न लें अन्यथा हो सकता आप किसी सच्चे और विश्वसनीय साथी को खो दें। वहीं इस समय आपके प्रेमजीवन में पैदा हुई खलबली से आपका कामकाजी जीवन भी प्रभावित हो सकता है। अपने प्यार को काम के आड़े न ही आने दें तो बेहतर रहेगा।

सितंबर के महीने में आपके प्यार की गाड़ी फिर से पटरी पर लौटने की उम्मीद कर सकते हैं। राशि परिवर्तन के बाद आपकी राशि से ग्याहरवें घर में केतु का आना घर में किसी मांगलिक कार्य के होने का संकेत हैं। परिणय सूत्र में बंधनें के लिये यह एक दम उचित समय कहा जा सकता है। हालांकि इसी समय में बृहस्पति का राशि परिवर्तन विवाहित जातकों की अपने जीवनसाथी से संबंधी चिंता बढ़ा सकता है। वर्ष का बाकि समय अच्छा रहने की उम्मीद कर सकते हैं।