Skip Navigation Links


वृष राशिफल 2017

वृष राशिफल 2017

वृषभ जातक स्वभाव से शांत, मेहनती और शारीरिक रुप से हष्ट-पुष्ट होते हैं। वर्ष 2017 आपके लिये कभी खुशी कभी गम लेकर आ सकता है लेकिन खुशियां होंगी ज्यादा और गम होंगें कम, इसी उम्मीद से नव वर्ष 2017 में बढाइयेगा कदम।

साल की शुरुआत में आपको थोड़ा सचेत रहने की आवश्यकता है। क्योंकि इस समय राशि स्वामी शुक्र का केतु के साथ युक्ति संबंध रहेगा। विशेषकर भावनात्मक रूप से आपको आहत होना पड़ सकता है इसलिये प्रेम-संबंधों के मामले में हर कदम संभल कर उठाना होगा। विवाहित जातक अपने जीवनसाथी में पूर्णतया विश्वास जतायें अन्यथा संबंधों में खटास पैदा हो सकती है।

जनवरी के अंतिम सप्ताह में शनि के राशिपरिवर्तन से आप पर शनि की ढ़ैय्या आरंभ होगी जिससे आपकी परेशानियां बढ़ सकती हैं। इस समय यदि आप भाग्य के भरोसे बैठेंगे तो यह आपकी बड़ी भूल साबित हो सकती है, इसलिये कठिन परिश्रम करें। शनि एक न्यायप्रिय देवता हैं, इसलिये कड़ी मेहनत का फल आपको मिल सकता है। कार्यस्थल पर पदोन्नति के आसार हैं लेकिन आपको थोड़ा संयम से रहने की आवश्यकता होगी क्योंकि वरिष्ठ अधिकारियों के साथ मतभेद पैदा होने की संभावनाएं भी प्रबल हैं। ढ़ैय्या का ज्यादा असर आपके कर्मक्षेत्र, आपके सम्मान व आपके नाम पर पड़ने के आसार हैं। यदि न्यायालय में कोई मामला लंबित है और परिणाम अपेक्षित है तो हो सकता है यह फैसला आपके पक्ष में न आये।

व्यावसायिक जीवन में भले ही आपको थोड़ी परेशानियों का सामना करना पड़े लेकिन व्यक्तिगत जीवन में शुभ समाचार आपके जख्मों पर मरहम का काम करेंगें। संतान पक्ष की ओर से आपको बहुत ज्यादा खुशी देने वाला समाचार मिल सकता है।

हालांकि अप्रैल में शनि के वक्री होने से आपको शनि की ढ़ैय्या से कुछ समय के लिये मुक्ति मिलेगी। आपके लिये एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों की सलाह है कि शनि की ढ़ैय्या के प्रभाव को कम करने का उपाय जरुर करवायें।

आसमान से टपके, खजूर में अटके कुछ ऐसा ही आपके साथ अप्रैल के बाद के समय में हो सकता है। क्योंकि शनि की ढ़ैय्या से मुक्त होने के साथ ही बुध का मेष राशि में वक्र होना आपके लिये शुभ नहीं कहा जा सकता है। इस दौरान आपके खर्चे बढ़ने की संभावनाएं प्रबल होंगी जिससे आप कठिन आर्थिक हालातों का सामना भी कर सकते हैं। इस समय स्वास्थ्य के प्रति भी आपको सचेत रहने की आवश्यकता होगी विशेषकर गर्मी संबंधी बिमारियां आपको अपनी जकड़ में ले सकती हैं। माता के स्वास्थ्य के लिये भी यह समय हानिकारक हो सकता है लेकिन भाई-बहनों के लिये अच्छा रहने के आसार हैं। हालांकि इसी समय गुरु भी कन्या राशि में रहेंगें जिनके प्रभाव से इन तमाम परिस्थितियों में आपको सगे-संबंधियों से उचित सलाह भी मिलने की संभावना है।

सितंबर में राहू-केतु राशि परिवर्तन करेंगे, यह समय आपके लिये बहुत भाग्यशाली रहने के आसार हैं। राहू जहां आपके पराक्रम में वृद्धि कर सकते हैं और शत्रुओं पर विजय प्राप्त करवा सकते हैं वहीं केतु जो कि भाग्य क्षेत्र में होंगें आपकी रुचि धर्म-कर्म के कामों की ओर बढ़ा सकते हैं। हो सकता है इस दौरान आपके परिवार में बड़े स्तर पर किसी मांगलिक कार्य का आयोजन हो।

लेकिन चिंता कि बात यह है कि आपके लिये यह सौभाग्यशाली समय बहुत ज्यादा समय के लिये नहीं है। राहू-केतु के राशि परिवर्तन के तीन दिन बाद ही बृहस्पति भी राशि परिवर्तन करेंगें जिससे आपकी परेशानियां फिर से बढ़ सकती हैं। इस समय किसी भी महत्वपूर्ण फैसले को लेने से पहले अच्छे से उसके सकारात्मक और नकारात्मक पहलुओं पर विचार-विमर्श कर लें हो सके तो अनुभवी व्यक्तियों से सलाह अवश्य लें। आगे के समय में साल के अंत तक आपको ऐसे ही उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकते हैं।