Skip Navigation Links
Personality Analysis

व्यक्तित्व विश्लेषण

अपनी राशि चुनें और पढ़े अपना व्यक्तित्व

व्यक्तित्व यानि कि व्यक्ति में समाहित तत्व साधारण शब्दों में अर्थ समझें तो व्यक्तित्व किसी भी व्यक्ति के बाहरी आवरण के साथ-साथ उसके गुण-अवगुण को प्रदर्शित करता है। किसी भी शख्स की झलक मात्र से ही हम अनुमान लगाने लगते हैं कि यह ऐसा होगा यह वैसा होगा। एक और जहां व्यक्ति की कद-काठी, रुप-रंग, चाल-ढाल व्यक्ति के बाहरी व्यक्तित्व को प्रदर्शित करते हैं तो वहीं क्रोधी, संयमी, सहनशील, निडर, सपष्ट, मुखर, शांत, अंतर्मुखी-बहिर्मुखी, मिलनसार, संकुचित, प्रगतिशील, परंपरावादी, काल्पनिक, व्यावहारिक, रचनात्मक, विध्वंसक आदि विशेषताएं व्यक्ति के आंतरिक व्यक्तित्व का हिस्सा होती हैं। कुल मिलाकर प्रत्येक व्यक्ति की कुछ खास विशेषताएं होती हैं जो उसे दूसरों से अलग करती हैं। व्यक्ति के अंदर निहित गुणों को ही असल में व्यक्तित्व कहा जाता है। मनोविज्ञान जहां व्यक्ति के इन गुणों के आधार पर उसके व्यवहार का पूर्वानुमान लगाता है तो वहीं ज्योतिषशास्त्र व्यक्ति अर्थात जातक की राशि और जन्मकुंडली में ग्रहों की दशा के हिसाब से उसके व्यक्तित्व का पूर्वानुमान लगाता है। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार ग्रहों की चाल के साथ-साथ व्यक्ति का व्यक्तित्व भी प्रभावित होता है।

अक्सर जातक के महत्वपूर्ण सामाजिक संस्कारों के समय, विशेषकर विवाह के मौके पर कुंडलियों का मिलान होता है उसके जरिये जातकों का व्यक्तित्व ही असल में मिलाया जाता है कि इनकी प्रकृति एक दूसरे से मेल खाती है या नहीं। इतना ही नहीं अक्सर किसी कंपनी में नौकरी के समय भी पूछा जाता है, अपने बारे में बताओ, यह भी आपके व्यक्तित्व के बारे में ही पूछा जाता है। फिर सवाल होता है आपके कमजोर एवं मजबूत पक्ष के बारे में यानि कि विकनेस और स्ट्रैंथ, यह भी आपके व्यक्तित्व के आंतरिक पक्ष की बात है। तो व्यक्तित्व ही असल में व्यक्ति की पहचान होती है। इसलिये हर कोई व्यक्तित्व को जानना चाहता है और हर किसी को अपने व्यक्तित्व की जानकारी होनी भी चाहिये। अब सवाल यह है कि इसका आकलन कैसे करें तो इसका जवाब भी सीधा सा है। एस्ट्रोयोगी के इस पेज पर अपनी राशि के चिन्ह पर क्लिक करें और अपने व्यक्तित्व के बारे में जानें।

फ्री रीडिंग्स