Skip Navigation Links
एकदिवसीय क्रिकेट विश्वकप 2015 ओपनिंग मैच – ज्योतिष विश्लेषण


एकदिवसीय क्रिकेट विश्वकप 2015 ओपनिंग मैच – ज्योतिष विश्लेषण

14 फ़रवरी 2015! इस साल यह तारीख़ केवल वैलेंटाइन्स डे की नहीं है| यह दिन इस साल केवल प्यार का दिन नहीं है| यह तारीख़ अंतर्राष्ट्रीय एकदिवसीय क्रिकेट विश्व कप में दो देशों के बीच होने वाले पहली टक्कर की है| क्रिकेटप्रेमियों का चार साल का लम्बा इंतज़ार अब ख़त्म होने को है| 2015 में अंतर्राष्ट्रीय एकदिवसीय क्रिकेट विश्व कप ऑस्ट्रेलिया में होने जा रहा है| जहाँ एक और गत विश्वविजेता भारत अपने दबदबे को बनाए रखने के लिए पूरे जोर-शोर से तैयार है वहीँ चार बार इस खिताब को अपने नाम कर चुकी ऑस्ट्रेलिया एक बार फिर से इतिहास रचने की तैयारी में है| न्यूजीलैंड, इंग्लैंड, श्रीलंका, पाकिस्तान, वेस्टइंडीज और अन्य टीमें भी कमर कस कर बैठीं हैं|


14 फ़रवरी को अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद विश्व कप 2015 का पहला और दूसरा मैच होने जा रहा है| श्रीलंका बनाम न्यूज़ीलैण्ड और इंग्लैंड बनाम ऑस्ट्रेलिया| श्रीलंका की अगुवाई की ज़िम्मेदारी एंजेलो मैथ्यूस के कंधों पर है, वहीँ न्यूज़ीलैण्ड की कमान ब्रैंडन मैकुलम के हाथों पर है| दूसरें मैच में ओन मॉर्गन के नेतृत्व में इंग्लैंड और माइकल क्लार्क की अगुवाई में ऑस्ट्रेलिया के बीच ज़बरदस्त टक्कर होने की उम्मीद है|

वैदिक ज्योतिष विद्या के अनुसार यदि अपनी टीम के नेतृत्व कर रहें कप्तानों की कुंडली पर नज़र डाली जाए तो एक क्रिकेट मैच की गणना कर पाना संभव हो पाता है जो काफी हद तक सही होता है| तो जानते है कि 14 फ़रवरी 2015 को होने वाले क्रिकेट मैच के परिणाम, ज्योतिषी परिदृश्य से|


श्रीलंका के कप्तान एंजेलो मैथ्यूस है जिनका जन्म 02 जून 1987 को कोलोंबो में हुआ| उनकी जन्मतिथि की गणना से उनकी चन्द्रराशि कर्क निकलती है जिसका स्वामी ग्रह है चंद्रमा| 14 फ़रवरी को चन्द्रमा मैथ्यूस की जन्मकुंडली के पांचवे घर पर बैठा हुआ है जो एक लाभकारी स्थिति है पर चूंकि चन्द्रमा नीच का है इसलिए इसके सकारात्मक प्रभाव समाप्त हो जाएंगे|

इससे यह तय होता है कि मैथ्यूस की अगुवाई में श्रीलंका बेहतर प्रदर्शन अवश्य ही करेगी किन्तु संभावनाएं है कि परिणाम उनके हित में न हो| हालाँकि श्रीलंका अपने प्रतिद्वंदियों को बराबर की टक्कर देगा किन्तु विजय तो किसी एक की ही होगी|

ब्रैंडन मैकुलम, न्यूज़ीलैण्ड के कप्तान, का जन्म 27 September 1981 में न्यूज़ीलैण्ड के डुनेडिन में हुआ था| मैकुलम की चन्द्रराशि सिंह है और उनका स्वामी ग्रह सूर्य है|

14 फ़रवरी को स्वामी ग्रह सूर्य मैकुलम की कुंडली के दूसरें घर पर विराजमान है जो अपने सुप्रभाव से जातक को दृढ़ संकल्पी और महत्त्वकांक्षी बनाता है| इसके साथ ही चन्द्रमा कुंडली के चौथे स्थान पर रहेगा जिसके सुप्रभाव से न्यूज़ीलैण्ड की टीम दर्शकों का ख़ासा मनोरंजन करेगी| हालाँकि जीत के लिए न्यूज़ीलैण्ड को भी एडी-चोटी का जोर लगाना होगा| एस्ट्रोयोगी ज्योतिषियों के अनुसार न्यूज़ीलैण्ड और श्रीलंका के मैच में न्यूज़ीलैण्ड का पलड़ा भारी दिखाई दे रहा है और उनके जीतने के आसार प्रबल बनते दिखाई दे रहे है|

Match 02 – England Vs Australia

क्रिकेट विश्व कप के दूसरें मैच में इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया एक दूसरें का सामना करते नज़र आएँगे| इंग्लैंड के कप्तान ओन मॉर्गन 10 सितम्बर 1986 में आयरलैंड के डबलिन में जन्मे थे| वैदिक ज्योतिष गणना के अनुसार मॉर्गन की चन्द्रराशि वृश्चिक है और उनका स्वामी ग्रह मंगल है|

14 फ़रवरी को मॉर्गन की जन्मकुंडली के पांचवे घर में स्वामी ग्रह मंगल के होने के कारण मॉर्गन ऊर्जावान रहेंगे| उनकी कुंडली में इस दिन वृश्चिक में चन्द्रमा के आगमन के कारण उन्हें यदि जीत हासिल करनी है तो कड़ी मेहनत करनी होगी| हालाँकि इंग्लैंड की बल्लेबाजी से ज्यादा बेहतर उनकी गेंदबाज़ी होगी किन्तु बिना कड़े प्रयास के जीत हासिल कर पाना संभव नहीं दिखाई पड़ रहा है|

ऑस्ट्रेलिया के कप्तान माइकल क्लार्क का जन्म 02 अप्रैल 1981 में लिवरपूल में हुआ था| उनकी चन्द्रराशि कुम्भ है और स्वामी ग्रह शनि|

14 फ़रवरी को शनि के दसवें घर यानि वृश्चिक में आ जाने से क्लार्क को इसका सुखद व सकारात्मक प्रभाव मिलेगा| क्लार्क अपनी टीम को जीत की ओर लेकर जाएंगे|

चन्द्रमा भी दसवें स्थान पर स्थित है जो उनका कर्मस्थल भी है| क्लार्क इस समय इस मैच को केवल एक खेल की तरह नहीं बल्कि अपनी ज़िम्मेदारी के रूप में देखेंगे और अपने दायित्वों को पूरी ईमानदारी से निभाएंगे|

एस्ट्रोयोगी ज्योतिषियों के अनुसार यह मैच कांटे की टक्कर का होगा लेकिन सितारे और ग्रह ऑस्ट्रलिया का साथ दे रहे हैं| अपनी ज़मीन पर विश्वकप खेले जाने का लाभ तो ऑस्ट्रेलिया को मिलेगा ही| इसलिए ऑस्ट्रेलिया की जीत के आसार अधिक और प्रबल है|




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

उपनयन संस्कार – हिंदू धर्म का दसवां संस्कार है यज्ञोपवीत

उपनयन संस्कार – हि...

उपनयन या कहें यज्ञोपवीत या विद्याध्ययन आरंभ करने का संस्कार भी कह सकते हैं। हिंदू धर्म में यह बहुत ही महत्वपूर्ण संस्कार है। सोलह संस्कारों म...

और पढ़ें...
शुक्र राशि परिवर्तन - 29 जून को शुक्र बदलेंगें राशि जानें राशिफल

शुक्र राशि परिवर्त...

ज्योतिषशास्त्र में शुक्र ग्रह बहुत अधिक मायने रखते हैं। लाभ, सुख-समृद्धि एवं कला क्षेत्र के प्रतिनिधि भी शुक्र माने जाते हैं। वृषभ एवं तुला र...

और पढ़ें...
देवशयनी एकादशी 2017 – चार मास तक सौते हैं भगवान विष्णु

देवशयनी एकादशी 201...

साल भर में आषाढ़ महीने की शुक्ल एकादशी से लेकर कार्तिक महीने की शुक्ल एकादशी तक यज्ञोपवीत संस्कार, विवाह, दीक्षाग्रहण, ग्रहप्रवेश, यज्ञ आदि ध...

और पढ़ें...
कैलाश मानसरोवर – कब और कैसें करें मानसरोवर यात्रा

कैलाश मानसरोवर – क...

भारत धार्मिक विविधताओं का देश है। यहां लगभग सभी धर्मों के अनुयायी मिलते हैं, सभी धर्मों के धार्मिक तीर्थ स्थल भी यहां खूब हैं। लेकिन हिंदू धर...

और पढ़ें...
सलमान खान – वक्री शनि के कारण नहीं हुई भाईजान की ईद मुबारक

सलमान खान – वक्री ...

भाई जान के नाम से मशहूर सलमान खान का बॉलीवुड में सिक्का चलता है। सलमान खान के प्रशंसक बड़ी संख्या में हैं। कुछ प्रशंसक लड़कियां तो उनकी इतनी ...

और पढ़ें...