Skip Navigation Links
भारत खेल 2018 - खेलों में कैसा रहेगा भारत का प्रदर्शन?


भारत खेल 2018 - खेलों में कैसा रहेगा भारत का प्रदर्शन?

नव वर्ष को लेकर सबके मन में उत्सुकुता होती है। व्यक्तिगत से लेकर पूरे जगत तक लिये हम जान लेना चाहते हैं कि आने वाला समय कैसा रहने वाला है, सामान्य है तो बेहतर कैसे हो, बेहतर है तो और बेहतर कैसे करें और यदि समय कठिनाइयों भरा है तो उसका इंतजाम क्या किया जाये। यही प्रश्न देश व समाज के हालातों के बारे में भी होते हैं। हर कोई जानना चाहता है भारत के लिये नया साल कैसा रहेगा। भारत में रहने वाले विभिन्न क्षेत्रों पर आने वाले समय में क्या प्रभाव पड़ेगा। राजनीति हो या व्यापार, मनोरंजन हो या खेल अपनी-अपनी रूचि के अनुसार हम जानना चाहते हैं उन के लिये यह नया साल क्या खास लेकर आ रहा है। तो इसी कड़ी में एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्य आपको बता रहे हैं कि खेल व खिलाड़ियों के लिये 2018 कैसा रहेगा।


आपकी राशि के अनुसार 2018 आपके लिये कैसा रहेगा जानने के लिये पढ़ें अपना वार्षिक राशिफल 2018

 

भारत की कुंडली के अनुसार ग्रहों की दशा

भारत की कुंडली के अनुसार इस समय भारत पर राशि स्वामी चंद्रमा की महादशा चल रही है, 2018 के आगमन के समय भारत की कुंडली में राहू की अंतर्दशा तो केतु प्रत्यंतर में होंगे। वर्ष 2018 का वर्ष लग्न कन्या है। भारत की कुंडली वृषभ लग्न और कर्क राशि की है। वर्ष आरंभ के समय भारत के लग्न स्वामी शुक्र वर्ष लग्न से चौथे स्थान पर राजयोग की सृष्टि करते हुए खेलों के कारक माने जाने वाले शनि के साथ गोचर कर रहे हैं। वहीं खेल व प्रतियोगिता का कारक मंगल भी माने जाते हैं जो कि वर्ष लग्न से दूसरे तो भारत की राशि से चौथे स्थान में गोचररत हैं। कुल मिलाकर खेलों के मामले में भारत की स्थिति काफी अच्छी रहने के आसार हैं।


2018 में खेल प्रतियोगिता

2018 का वैश्विक खेल कैलेंडर तो काफी विस्तरित है जिसे कई कारणों के चलते यहां पर हम नहीं दे सकते। लेकिन भारत में मुख्यत: क्रिकेट, हॉकी, शतरंज और एथलिटिक्स के इनडोर व आऊटडोर खेल ही ज्यादा लोकप्रिय हैं। इनमें भी क्रिकेट का खुमार अधिक चढ़ा रहता है तो हॉकी हमारा राष्ट्रीय खेल है।

 

2018 अंडर-19 क्रिकेट वर्ल्डकप

आईसीसी द्वारा 2018 में अंडर-19 क्रिकेट विश्वकप का आयोजन न्यूजीलैंड में किया जा रहा है। 13 जनवरी से आरंभ होकर 3 फरवरी को इसका फाइनल मुकाबला खेला जायेगा। 16 टीमों को चार ग्रुप में बांटा गया है जिसमें भारत ग्रुप बी का हिस्सा है। भारत का पहला मैच 14 जनवरी को ऑस्ट्रेलिया के साथ होगा। इसके पश्चात दूसरा व तीसरा मैच भारतीय टीम 16 व 19 जनवरी को खेलेगी।

खेल के कारक माने वाले मंगल 17 जनवरी को स्वराशि वृश्चिक में आ जायेगे जो कि वर्ष लग्न से पराक्रम का स्थान है। इस विश्वकप में भारतीय टीम अपनी मजबूत दावेदारी पेश कर सकती है।

 

आईसीसी 2018 महिला वर्ल्डकप टी-20

इसके पश्चात क्रिकेट की बड़ी प्रतियोगिता की बात की जाये तो महिला क्रिकेट का टी-20 विश्वकप भी इसी साल 2 नवंबर से 25 नवबंर तक होना है। नवंबर में मंगल भारत की राशि से अष्टम भाव में होंगे, अष्टम मंगल को बहुत ही शुभ माना जाता है। इस विश्वकप में भी भारतीय महिला क्रिकेट टीम अपना श्रेष्ठ प्रदर्शन कर सकती है।

 

2018 IAAF वर्ल्ड इंडोर चैंपियनशिप

IAAF यानि इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ एथेलेटिक्स फेडरेशन द्वारा मार्च के आरंभ में ही 1 से 4 मार्च तक ब्रिटेन में इंडोर गेम्स का आयोजन किया जा रहा है। इस समय मंगल व शनि एक साथ होंगे जिससे संभव है भारत का प्रदर्शन उत्साहजनक न रहे। फिर भी व्यक्तिगत स्तर पर कुछ खिलाड़ी अपने भाग्य की बदौलत श्रेष्ठ प्रदर्शन कर देश का नाम रोशन कर सकते हैं।

 

2018 हॉकी विश्वकप

नवंबर के अंत में 28 नवंबर से 16 दिसंबर तक हॉकी विश्वकप का आयोजन भारत के भुवनेश्वर में होगा। ग्रहों की स्थिति भारत के अनुकूल रहने के आसार हैं उम्मीद है हॉकी में भारत अपने सम्मान को बढ़ाये।

कुल मिलाकर खेलों के मामले में भारत के लिये यह वर्ष उपलब्धियों वाला साल रह सकता है।

आपकी कुंडली 2018 में क्या कहती है जानने के लिये परामर्श करें भारत के सर्वश्रेष्ठ ज्योतिषाचार्यों से

यह भी पढ़ें

2018 में क्या कहती है भारत की कुंडली   |   सलमान खान – कैसा रहेगा भाई जान के लिये 2018?   |   चंद्र ग्रहण 2018   |   बसंत पंचमी 2018

लोहड़ी 2018 - कब है 2018 में लोहड़ी?   |   सूर्य ग्रहण 2018




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

वृषभ राशि में बुध का परिवर्तन – जानिए किन राशियों के लिये लाभकारी है वृषभ राशि में बुधादित्य योग

वृषभ राशि में बुध ...

बुध ग्रह राशि चक्र में तीसरी और छठी राशि मिथुन व कन्या के स्वामी हैं। बुध वाणी के कारक माने जाते हैं। बुध का राशि परिवर्तन ज्योतिष शास्त्र के अनुसार एक बड़ी घटना मान...

और पढ़ें...
अधिक मास - क्या होता है मलमास? अधिक मास में क्या करें क्या न करें?

अधिक मास - क्या हो...

अधिक शब्द जहां भी इस्तेमाल होगा निश्चित रूप से वह किसी तरह की अधिकता को व्यक्त करेगा। हाल ही में अधिक मास शब्द आप काफी सुन रहे होंगे। विशेषकर हिंदू कैलेंडर वर्ष को म...

और पढ़ें...
सकारात्मकता के लिये अपनाएं ये वास्तु उपाय

सकारात्मकता के लिय...

हर चीज़ को करने का एक सलीका होता है। शउर होता है। जब चीज़ें करीने सजा कर एकदम व्यवस्थित रखी हों तो कितनी अच्छी लगती हैं। उससे हमारे भीतर एक सकारात्मक उर्जा का संचार ...

और पढ़ें...
मलमास - जानिए मल मास के बारे में

मलमास - जानिए मल म...

16 मई 2018 से मलमास का आरंभ हो चुका है। ज्येष्ठ मास में पड़ने वाला यह मलमास 16 मई से आरंभ होकर 13 जून 2018 तक रहेगा। प्रत्येक वर्ष हर तीन साल में एक बार अतिरिक्त माह...

और पढ़ें...
वृषभ संक्रांति – वृषभ राशि में हुआ सूर्य का परिवर्तन जानें अपना राशिफल

वृषभ संक्रांति – व...

सूर्य का राशि परिवर्तन करना ज्योतिष के अनुसार एक अहम घटना माना जाता है। सूर्य के राशि परिवर्तन से जातकों के राशिफल पर तो असर पड़ता ही है साथ ही सूर्य के इस परिवर्तन ...

और पढ़ें...