Skip Navigation Links
भारत खेल 2017 - खेलों के लिये कैसा है 2017


भारत खेल 2017 - खेलों के लिये कैसा है 2017

नव वर्ष को लेकर सबके मन में उत्सुकुता होती है। व्यक्तिगत से लेकर पूरे जगत तक लिये हम जान लेना चाहते हैं कि आने वाला समय कैसा रहने वाला है, सामान्य है तो बेहतर कैसे हो, बेहतर है तो और बेहतर कैसे करें और यदि समय कठिनाइयों भरा है तो उसका इंतजाम क्या किया जाये। यही प्रश्न देश व समाज के हालातों के बारे में भी होते हैं। हर कोई जानना चाहता है भारत के लिये नया साल कैसा रहेगा। भारत में रहने वाले विभिन्न क्षेत्रों पर आने वाले समय में क्या प्रभाव पड़ेगा। राजनीति हो या व्यापार, मनोरंजन हो या खेल अपनी-अपनी रूचि के अनुसार हम जानना चाहते हैं उन के लिये यह नया साल क्या खास लेकर आ रहा है। तो इसी कड़ी में एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्य आपको बता रहे हैं कि खेल व खिलाड़ियों के लिये 2017 कैसा रहेगा।

शुरुआती दो महीने हैं खिलाड़ियों के लिये कठिन

वर्ष 2017 की शुरुआत कन्या लग्न और मकर राशि में होगी। खेलों के लिये कारक ग्रह शनि व मंगल माने जाते हैं जो कि वर्षारंभ के समय परस्पर एक दूसरे की राशि में हैं। इसका संकेत है कि शुरुआती दो महीनों का समय खिलाड़ियों के लिये कठिनाइयों भरा हो सकता है। लेकिन शनि व मंगल के स्थान परिवर्तन और चंद्रमा की महादशा रहने से नई प्रतिभाओं का उदय भी खेल जगत में होने की पूरी संभावना है।

इस समय की मेहनत भविष्य में लायेगी रंग

काफी समय से कठिन परिश्रम कर रहे खिलाड़ियों को मार्च के बाद से अनुकूल परिणाम मिलने के योग बन रहे हैं। जो खिलाड़ी भविष्य में अपने आपको शिखर में देखना चाहते हैं उन्हें अभी से तैयारियों में जुटने की आवश्यकता है। यह समय तैयारी के लिहाज से काफी सकारात्मक है इस समय की आपकी मेहनत भविष्य में रंग जरुर लेकर आयेगी, दरअसल साल 2017 की राशि शनि की राशि है और शनिदेव खिलाड़ियों में झूझारुपन और लड़ने की क्षमता का विकास करते हैं। लंबे समय से खेल से दूर रहने वाले खिलाड़ी भी 2017 में स्वर्णिम समय की उम्मीद कर सकते हैं।

सिंह व कुंभ राशि के खिलाड़ी रहें सावधान

खिलाड़ियों को उनकी मेहनत का फल तो मिलेगा लेकिन मेहनत यानि कि मैदान पर अपने खेल का अभ्यास करते समय आपको सचेत रहने की भी आवश्यकता होगी। दरअसल शुक्र व मंगल ग्रह नववर्ष के आगमन के समय एक साथ होंगे जोकि खिलाड़ियों के चोटिल होने की ओर भी संकेत कर रहे हैं। यदि आपने अभ्यास के दौरान किसी भी तरह की सावधानी नहीं बरती तो आपके लिये यह ग्रह किसी बड़ी चोट का कारण बन सकते हैं जिससे हो सकता है आपकी भावी योजनाओं पर भी पानी फिर जाये। जिन खिलाड़ियों की राशि सिंह व कुंभ हैं वे खिलाड़ी तो विशेष रूप से सचेत रहें।

 

भारत में खेलों के लिये कैसा है 2017


अगर भारत की कुंडली के अनुसार देखा जाये तो फरवरी 2017 में चंद्रमा के साथ राहू की अंतर्दशा शुरु हो जायेगी जो कि 10 अगस्त 2018 तक रहेगी। जबकि वर्ष 2017 की कुंडली में चंद्रमा की महादशा में गुरु का अंतर और राहू का प्रत्यंतर रहेगा यह दशा दोनों कुंडलियों के अनुसार बहुत अनुकूल तो नहीं है लेकिन वर्ष कुंडली में चंद्र गुरु तथा भारतीय खिलाड़ियों की राशि के हिसाब से 2017 फलदायी हो सकता है। इस योग से भारत को किसी खेल में नायकत्व का पद मिल सकता है। हालांकि इस समय में खिलाड़ियों को उच्च मनोबल बनाये रखना होगा क्योंकि यही उन्हें 2017 में सफलता  दिला सकता है।

अक्तूबर महीने में अंडर-17 फुटबाल विश्वकप की मेजबानी भारत कर रहा है। इस समय भारत की कुंडलीनुसार चंद्रमा की महादशा में राहू का अंतर और बुध का प्रत्यंतर रहेगा जो कि दिसबंर के आखिर सप्ताह के आरंभ तक बना रहेगा। वहीं वर्ष कुंडली में चंद्रमा की दशा में शनि का अंतर बना रहेगा। शनि जो कि वर्ष कुंडली का राशि स्वामी है। खेल जगत में शनि भारत की नई प्रतिभाओं को उभारने का मौका दे सकता है। फिफा अंडर -17 कप में भारत को हार मिले या जीत लेकिन भविष्य में इसका भारत को बहुत अच्छा लाभ मिलने के आसार हैं।

कुल मिलाकर भारत में खेल व खिलाड़ियों के लिये 2017 एक उत्तम वर्ष रहने के आसार हैं।


संबंधित लेख

2017 में कैसे रहेंगे भारत-पाक संबंध? क्या कहता है ज्योतिष?   |   2017 में क्या कहती है भारत की कुंडली   |   नववर्ष 2017 राशिफल 




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

माँ चंद्रघंटा - नवरात्र का तीसरा दिन माँ दुर्गा के चंद्रघंटा स्वरूप की पूजा विधि

माँ चंद्रघंटा - नव...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नामचंद्रघंटाहै। नवरात्रि उपासनामें तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह कापूजन-आरा...

और पढ़ें...
माँ कूष्माण्डा - नवरात्र का चौथा दिन माँ दुर्गा के कूष्माण्डा स्वरूप की पूजा विधि

माँ कूष्माण्डा - न...

नवरात्र-पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरूप की ही उपासना की जाती है। जब सृष्टि की रचना नहीं हुई थी उस समय अंधकार का साम्राज्य था, तब द...

और पढ़ें...
दुर्गा पूजा 2017 – जानिये क्या है दुर्गा पूजा का महत्व

दुर्गा पूजा 2017 –...

हिंदू धर्म में अनेक देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। अलग अलग क्षेत्रों में अलग-अलग देवी देवताओं की पूजा की जाती है उत्सव मनाये जाते हैं। उत्त...

और पढ़ें...
जानें नवरात्र कलश स्थापना पूजा विधि व मुहूर्त

जानें नवरात्र कलश ...

 प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्रे आते है। पहले नवरात्रे चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरु होकर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि ...

और पढ़ें...
नवरात्र में कैसे करें नवग्रहों की शांति?

नवरात्र में कैसे क...

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से मां दुर्गा की आराधना का पर्व आरंभ हो जाता है। इस दिन कलश स्थापना कर नवरात्रि पूजा शुरु होती है। वैसे ...

और पढ़ें...