Sheetala Ashtami 2022: कब है शीतला अष्टमी, जानें क्‍या है इस व्रत की खास बात

bell icon Wed, Mar 16, 2022
टीम एस्ट्रोयोगी टीम एस्ट्रोयोगी के द्वारा
चैत्र माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को शीतला अष्टमी मनाई जाती है।

Sheetala Ashtami 2022:  हिन्‍दू धर्म में हर माह में कोई न कोई व्रत या त्‍यौहार पड़ते ही हैं, और सब की अलग-अलग मान्‍यता और महत्व भी है। तो वहीं चैत्र माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को शीतला अष्टमी (Sheetala ashtami 2022) मनाई जाती है, जो कि इस साल 25 मार्च शुक्रवार को मनाई जाएगी। शीतला अष्‍टमी को लोग बसौड़ा (बसोडा) (basoda ashtami 2022) की पूजा करते हैं, जो कि देवी शीतला को समर्पित है। 

लोग इस व्रत और पूजन को बहुत ही श्रद्धाभाव से करते हैं और होली के बाद कृष्ण पक्ष को यह अष्टमी मनाई जाती है। मान्‍यता है कि शीतला अष्टमी के दिन पूरे विधि विधान के साथ पूजा अर्चना करने से बीमारियों से मुक्ति और घर में सुख शांति बनी रहती है। तो चालिए जानते हैं इस शीतला अष्टमी या बसौड़ा का क्या है महत्व (Importance) और कैसे करनी चाहिए पूजा अर्चना।  

शीतला अष्टमी शुभ मुहूर्त:

अष्टमी तिथि प्रारम्भ  25 मार्च, 2022 को प्रात: 12:09 बजे से
अष्टमी तिथि समाप्त 25 मार्च, 2022 को रात्रि 10:04 बजे तक

अष्टमी पूजन विधि: 

शीतला अष्टमी के दिन प्रात: स्नान करके साफ कपड़े धारण करें, इसके बाद पूजा के दौरान आटे से बना दीपक, फूल, अक्षत, जल, हल्दी, मोली, वस्त्र, धूप, दीप, मेहंदी, दक्षिणा और बासी भोग आदि माता को अर्पित करें। शीतला माता को दही, रबड़ी, चावल आदि चीजों का भी भोग लगाया जाता है। पूजा के वक्त शीतला स्त्रोत का पाठ करें और पूजा के बाद आरती जरूर करें, लेकिन दीपक कभी भी शीतला मां के समीप न रखें, उसे आरती के बाद बाहर रख दें। क्‍योंकि आज के दिन गर्म चीजों का भोग नहीं लगते हैं। पूजन के बाद माता का भोग खाकर व्रत खोलें। 

शीतला अष्टमी का महत्व:

सनातन धर्म में शीतला अष्टमी का विशेष महत्व बताया गया है। मान्यता है कि इस दिन माता शीतला की आराधना करने से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं। इसके साथ ही रोगों से भी मुक्ति मिलती है, क्योंकि माता शीतला को शीतलता प्रदान करने वाला कहा गया है। मां को अष्टमी के दिन बासी भोजन का भोग लगाया जाता है। इसके बाद इसे प्रसाद के रूप में ग्रहण किया जाता है। मान्यता है कि इस दिन बासी भोजन करने से शीतला माता का आशीर्वाद प्राप्त होता है।

मां को चढ़ता है बासी भोग: 

हिंदू धर्म में मान्यता है, कि एक दिन पहले पूरा भोजन बनाकर तैयार कर लिया जाता है और फिर दूसरे दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करके मां की पूजा अर्चना के बाद माता शीतला देवी को बासी भोग अर्पित किया जाता है, जिसके बाद यह भोग घर के सभी सदस्यों को इसका प्रसाद दिया जाता है।  

व्यक्तिगत व कुंडली के विश्लेषण के आधार पर उपाय प्राप्त करने के लिए आप हमारे विशेषज्ञ ज्योतिषाचार्य से परामर्श कर सकते हैं। परामर्श के लिए 9999091090 पर कॉल करें या लिंक पर क्लिक करें।

✍️By - टीम एस्ट्रोयोगी

देश के प्रसिद्ध ज्योतिषियों द्वारा अपना व्यक्तिगत भविष्यफल प्राप्त करने के लिए आज ही डाउनलोड करें एस्ट्रोयोगी एस्ट्रोलॉजर ऍप गूगल प्ले स्टोर या iOS ऐप स्टोर से

यह भी पढ़ें: - होलिका दहन 2022 | होली 2022 

chat Support Chat now for Support
chat Support Support