Skip Navigation Links
शुक्र का मकर राशि में परिवर्तन – क्या होगा प्रभाव?


शुक्र का मकर राशि में परिवर्तन – क्या होगा प्रभाव?

ज्योतिषशास्त्र में ग्रहों के गोचर में आने वाले बदलावों का मानव जीवन पर व्यापक प्रभाव पड़ता है। जातक के जन्म समय के अनुसार ग्रहों की स्थिति से ही उनके व्यक्तित्व व भविष्य के पूर्वानुमान लगाया जाता है। नवग्रहों की अपनी अपनी अहमियत होती है। कुछ ग्रह शुभ माने जाते हैं तो कुछ के परिणाम नकारात्मक भी होते हैं। इन्हीं शुभाशुभ स्थितियों से जीवन में सुख व दुख का चक्र चलता है। शुक्र ग्रह आमतौर पर शुभ परिणाम देने वाले माने जाते हैं लेकिन विशेष परिस्थितियों में जब पाप या कहें क्रूर ग्रहों की नज़र उन पर पड़ रही हो या फिर जिन्हें शुक्र अपना दुश्मन मानते हैं उनके स्थान पर चले जायें या उच्च व नीच राशि में भी शुभाशुभ प्रभाव शुक्र देते हैं। इसलिये शुक्र का गोचर भी ज्योतिषशास्त्र में काफी मायने रखता है। 13 जनवरी को शुक्र का परिवर्तन धनु राशि से मकर में हो रहा है। शुक्र के साथ-साथ सूर्य भी 14 जनवरी को मकर में ही प्रवेश कर रहे हैं। हालांकि सूर्य के नजदीक होने से शुक्र फिलहाल अस्त चल रहे हैं जो कि लगभग 19 फरवरी तक अस्त ही रहेंगे ऐसे में शुक्र आपकी राशि को कैसे प्रभावित करेंगें आइये जानते हैं।

मेष राशि    

आपकी राशि से शुक्र का परिवर्तन कर्मक्षेत्र में हो रहा है। यह समय आपके लिये नये अवसर लेकर आने वाला रहने के आसार हैं। जो नया स्टार्टअप शुरु करना चाहते हैं उनके लिये अच्छा समय है। व्यावसायिक तौर पर धन प्राप्ति के संकेत मिल रहे हैं। कार्यस्थल पर काम का थोड़ा दबाव रह सकता है हालांकि आपको इससे परेशानी नहीं होगी। स्वास्थ्य सामान्य बने रहने के आसार हैं। रोमांटिक जीवन भी अच्छा रहने की उम्मीद कर सकते हैं विशेषकर जो जातक प्रेम जीवन में प्रवेश करना चाहते हैं उनके लिये किसी के दिल का दरवाज़ा खुल सकता है।

वृष

शुक्र आपकी राशि के स्वामी भी हैं जो आपकी राशि से भाग्य स्थान में गोचररत होंगे। यह समय आपके लिये सौभाग्यशाली रहने की उम्मीद कर सकते हैं। दोस्तों का भी पूरा सहयोग आपको मिल सकता है। विशेषकर नये दोस्त आपके लिये काफी अच्छे साबित हो सकते हैं। स्वास्थ्य के मामले में भी स्थिति अच्छी रह सकती है। प्रेम जीवन की बात करें तो शुक्र का यह गोचर आपके लिये काफी रोमांटिक सिद्ध हो सकता है। वित्तीय स्थिति भी मजबूत रहने की उम्मीद आप कर सकते हैं।

मिथुन

आपकी राशि से शुक्र का परिवर्तन अष्टम भावल में हो रहा है। इस समय आप अपने भविष्य को लेकर चिंतित रह सकते हैं। अपने स्वास्थ्य का भी आपको ध्यान रखने की आवश्यकता है विशेषकर सर्दी संबंधी समस्याओं से दो चार हो सकते हैं सावधानी बरतें। कामकाजी जीवन में स्थिति सामान्य बनी रह सकती है। किसी बड़े लाभ की उम्मीद इस समय न ही करें तो बेहतर है। व्यवसायी जातकों को थोड़ा देखभाल कर निर्णय लेने की आवश्यकता रहेगी। जो जातक अपने भविष्य को लेकर चिंतित हैं उन्हें अपनी शिक्षा पर ध्यान देने की आवश्यकता रहेगी।

कर्क

आपकी राशि से सप्तम भाव में शुक्र का परिवर्तन हो रहा है। दांपत्य जीवन सुखद रहने के आसार हैं। हर परिस्थिति में जीवनसाथी का सहयोग आपको हिम्मत देगा। व्यवसायी जातक अपने दायरे को बढ़ाने का विचार बना सकते हैं हालांकि इसके लिये उन्हें चुनौतियों का सामना भी करना पड़ सकता है। निर्णय लेने की स्थिति में भी आप दुविधा में पड़ सकते हैं इसलिये सोच समझकर विवेकपूर्ण तरीके से निर्णय लेना ही बेहतर रहेगा।

सिंह

आपकी राशि से शुक्र छठे घर में दाखिल हो रहे हैं। 14 जनवरी से राशि स्वामी सूर्य भी शुक्र के साथ रहेंगें। इस समय आपको अपने स्वास्थ्य के प्रति थोड़ा सचेत रहने की आवश्यकता है। कार्यस्थल पर भी आपको थोड़ा सतर्क रहना पड़ेगा, कुछ लोग आपकी प्रतिष्ठा को ठेस पंहुचाने का प्रयास कर सकते हैं। वित्तीय तौर पर भी आपकी स्थिति सामान्य से थोड़ा कम ही रहने के आसार हैं। इस स्थिति से निपटने के लिये अपने खर्चों पर नियंत्रण रखने का प्रयास करें।

कन्या

आपकी राशि से शुक्र पंचम भाव में गोचररत हो रहे हैं। कामकाजी जीवन में आपके लिये समय अच्छा रहने के आसार हैं आपको नये अवसर सुलभ हो सकते हैं। व्यक्ति जीवन में भी आराम महसूस कर सकते हैं। हालांकि आपके खर्चों में बढ़ोतरी अवश्य हो सकती है लेकिन आपको घबराने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि आर्थिक तौर पर आप इसमें सक्षम रह सकते हैं।


2018 में कैसा रहेगा आपका भविष्यफल, पढ़ें अपना वार्षिक राशिफल।


तुला

तुला राशि के स्वामी स्वयं शुक्र हैं जो कि आपकी राशि से चौथे स्थान में प्रवेश कर रहे हैं। चौथा स्थान सुख का स्थान माना जाता है। शुक्र का यह गोचर आपके सुख साधनों में वृद्धि के संकेत कर रहा है। घर की सजावट के लिये कुछ खरीददारी कर सकते हैं। जीवन में विलासिता का आनंद उठाने के लिये भी कोई उपयोगी वस्तु घर पर ला सकते हैं। दोस्तों के साथ भी अच्छा समय व्यतीत करने को मिल सकता है। आपका मिज़ाज काफी खुशनुमा रहने के आसार हैं। वित्तीय तौर पर आप इस समय काफी अच्छी स्थिति में हो सकते हैं।

वृश्चिक

आपकी राशि से शुक्र तीसरे भाव में आ रहे हैं जो कि आपके पराक्रम का क्षेत्र है। इस समय आपको थोड़ा सचेत रहने की आवश्यकता है विशेषकर संबंधों के मामले में आपको अपने व्यवहार में थोड़ा संयम रखने की आवश्यकता है। किसी भी स्थिति में आवेश में आने से बचें। साथी की भावनाओं का भी सम्मान करें। आप अपने स्वभाव में उतार-चढ़ाव महसूस कर सकते हैं। प्रयास करें कि अपने व्यक्तिगत एवं व्यावसायिक जीवन में संतुलन बना रहे। भविष्य को बेहतर बनाने के लिये किसी योजना पर काम कर सकते हैं।

धनु

शुक्र का परिवर्तन आपकी ही राशि से हो रहा है। धन भाव में शुक्र के चले जाने से आपके लिये यह गोचर धन प्राप्ति के संकेत कर रहा है। रोमांटिक जीवन में भी साथी से भरपूर सहयोग व सम्मान मिलने की उम्मीद रख सकते हैं। परिजन भी आवश्यकता पड़ने पर आपकी मदद के लिये अपना हाथ आगे बढ़ा सकते हैं। कुल मिलाकर यह समय आपके लिये काफी सौहार्दपूर्ण बने रहने के आसार हैं। अविवाहित प्रेमी जातक भी अपने साथी के साथ खुशनुमा लम्हें गुजार सकते हैं।

मकर

शुक्र आपकी राशि में आ रहे हैं। यह समय आपके अनुकूल रहने के आसार हैं। इस समय आप अपनी दोस्ती के दायरे को बढ़ा सकते हैं। फैशन एवं इंटिरियर डिजाइनिंग क्षेत्र से जुड़े जातकों के लिये यह समय विशेष रूप से लाभकारी रहने के आसार हैं। स्वास्थ्य भी अच्छा रहने के आसार हैं। आप अपने अंदर एक नया उत्साह महसूस कर सकते हैं। यात्रा के संकेत भी आपके लिये बन रहे हैं अपनी तैयारी रखें।

कुंभ

आपकी राशि से शुक्र का गोचर 12वें भाव में हो रहा है जो कि आपके लिये व्यय का स्थान है। यात्रा के योग आपके लिये इस दौरान बन सकते हैं। आपके लिये सलाह है कि यात्रा के समय अनावश्यक खर्च से बचने का प्रयास करें जिसके होने की संभावनाएं प्रबल हैं। जो जातक लंबे समय से किसी सुदूरवर्ती क्षेत्र (विदेश) जाने के इच्छुक हैं उनके लिये भी सकारात्मक योग बन रहे हैं। धन की आवक तो होगी लेकिन इसकी भी संभावनाएं है कि आप बचत करने में नाकाम रहें। रोमांटिक जीवन आनंद मिलने तो व्यक्तिगत जीवन में सौहार्द कायम रहने की उम्मीद भी कर सकते हैं।

मीन

आपकी राशि से शुक्र लाभ घर में आ रहे हैं। शुक्र को वैसे भी लाभ का कारक माना जाता है। शुक्र का यह गोचर आपके लिये धन लाभ के संकेत कर रहा है। सामाजिक रूप से भी आपकी सक्रियता बढ़ सकती है। बड़े बुजूर्गों का आशीर्वाद आप पर बने रहने के आसार हैं। स्वास्थ्य भी बेहतर रहने की उम्मीद कर सकते हैं। यदि किसी के प्यार में पड़ना चाहते हैं यह समय आपके लिये अच्छे संकेत कर रहा है किसी के दिल में आपकी दस्तक हो सकती है। अविवाहित प्रेमी जातक अपने प्रेमजीवन में आगे बढ़ने का निर्णय ले सकते हैं। विवाह के लिये अपने साथी को प्रपोज़ करने के लिये अच्छा समय है।

यह राशिफल सामान्य ज्योतिषीय आकलन के आधार पर लिखा गया है। आपकी कुंडली के अनुसार शुक्र के शुभ अशुभ प्रभाव जानने के लिये एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। पंडित जी अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।


यह भी पढ़ें

 ग्रह गोचर 2018   |   शुक्र गोचर 2018   |   शुक्र ग्रह - कैसे बने भार्गव श्रेष्ठ शुक्राचार्य पढ़ें पौराणिक कथा   |




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

सीता नवमी 2018 – जानें जानकी नवमी की व्रत कथा व पूजा विधि

सीता नवमी 2018 – ज...

चैत्र मास की शुक्ल पक्ष की नवमी को भगवान राम का प्राकट्य हुआ तो माता सीता वैशाख शुक्ल नवमी को प्रकट हुई थी। यही कारण है कि हिंदू धर्मानुयायी विशेषकर वैष्णव संप्रदाय ...

और पढ़ें...
मोहिनी एकादशी 2018 – जानें मोहिनी एकादशी की व्रत कथा व पूजा विधि

मोहिनी एकादशी 2018...

वैशाख मास को भी पुराणों में कार्तिक माह की तरह ही पावन बताया जाता है इसी कारण इस माह में पड़ने वाली एकादशी भी बहुत ही पुण्य फलदायी मानी जाती है। वैशाख शुक्ल एकादशी क...

और पढ़ें...
शनि वक्री 2018 - शनि की वक्री चाल क्या होगा हाल? जानें राशिफल

शनि वक्री 2018 - श...

शनि वक्री 2018 - 18 अप्रैल 2018 को जैसे ही शनि की चाल बदलेगी उसके साथ हमें भी अपने आस-पास बहुत कुछ बदलता हुआ दिखाई देगा। यह चेंज हमें अपनी पर्सनल, प्रोफेशनल से लेकर ...

और पढ़ें...
शुक्र का वृषभ राशि में गोचर – क्या होगा असर आपकी राशि पर !

शुक्र का वृषभ राशि...

20 अप्रैल को शुक्र मेष राशि को छोड़कर स्वराशि वृषभ में प्रवेश कर रहे हैं। शुक्र को मीन राशि में उच्च तो कन्या में नीच का माना जाता है। उच्च राशि व स्वराशि के होने पर...

और पढ़ें...
जपमाला - जप माला में 108 दाने क्यों होते हैं? जानें रहस्य।

जपमाला - जप माला म...

हिन्दू धर्म में हम मंत्र जप के लिए जिस माला का उपयोग करते है, उस माला में दानों की संख्या 108 होती है। शास्त्रों में इस संख्या 108 का अत्यधिक महत्व होता है । माला मे...

और पढ़ें...