Skip Navigation Links
अपने धन और संपत्ति के लिए विख्यात 5 मंदिर


अपने धन और संपत्ति के लिए विख्यात 5 मंदिर

हिन्दू मंदिरों को मुग़ल काल से लेकर ब्रिटिश साम्राज्य तक ना जाने कितनी बार लूटा गया और तोड़ा गया है। लेकिन कुछ तो बात है कि ‘हस्ती मिटती नहीं हमारी’। जी हाँ कुछ तो बात है और यह बात कुछ है तो वह भक्तों का अपने भगवान के लिए प्यार ही है। कहते हैं कि भगवान अपने भक्तों को अपार धन देता है लेकिन भारत में भक्त भी अपने भगवान को खूब धन देते हैं। यकीन ना हो तो आइये पढ़ते हैं हिन्दुओं के पांच सबसे धनवान मंदिरों के बारे में ...


पद्मनाभस्वामी मंदिर

पद्मनाभस्वामी मंदिर दुनिया का सबसे अमीर मंदिर है। केरल की राजधानी तिरुअनंतपुरम के ‘श्री पद्मनाभ स्वामी मंदिर’ में कुल छह तहखाने हैं जिनमें से अब तक पांच को ही खोला गया है। इन पांच तहखानों में से मिली राशि की कीमत 5 लाख करोड़ रुपये है।


तिरुपति बालाजी मंदिर

हमारे तिरूपति बालाजी भगवान भारत के दूसरे सबसे अमीर भगवान हैं। देश के प्रख्यात मंदिरों में से एक बालाजी मन्दिर के पास अपार संपत्ति है। हैदराबाद से लगभग 550 किमी दूर पर स्थित, इस मंदिर में भगवान वेंकटेश्वर जी भगवान की पूजा की जाती है। भक्तों ने भगवान पर ऐसा प्यार लुटाया हैं कि करीब 832 करोड़ रुपए मंदिर के खजाने में जमा हो गए। मंदिर की कुल संपत्ति 5500 करोड़ से ज्यादा है।



शिरडी साईं बाबा का मंदिर

हिन्दू-मुस्लिम एकता के प्रतिक शिरडी साईं बाबा का मंदिर देश के तीसरे सबसे ज्यादा संपत्ति रखने  वाले भगवान हैं। सन 1922 में बना यह साईं भगवान का मंदिर है। मंदिर में करीब 35 करोड़ रूपए के सोने और चांदी के जेवर हैं। इसके अलावा मंदिर के पास चांदी के लगभग 8 लाख रूपए के सिक्के  हैं। मंदिर में करीब 400 करोड़ रूपए का चढ़ावा हर साल चढ़ाया जाता है।




वैष्णो देवी मंदिर

जम्मू कश्मीर स्थित माँ वैष्णो देवी मंदिर, सालाना आय में चौथे नंबर पर है। देश में सबसे ज्यादा भक्त दर्शन के लिए यहीं जाते हैं। मंदिर में हर साल सैकड़ों किलो सोने-चांदी के आभूषण चढ़ाए जाते हैं। माता वैष्णो देवी मंदिर की सालाना आय लगभग 380 करोड़ रुपये है।



सिद्धिविनायक मंदिर

श्री गणेश भगवान का यह मंदिर मुंबई में स्थित है। मुंबई देश की आर्थिक राजधानी भी है और बॉलीवुड का गढ़ भी है। हर साल इस मंदिर में लगभग 50 करोड़ रुपये का चढ़ावा चढ़ता है। इसके 125 करोड़ रुपये फिक्स्ड डिपॉजिट में भी जमा है।







एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

गीता जयंती 2016 - भगवान श्री कृष्ण ने कुरुक्षेत्र में दिया था गीता का उपदेश

गीता जयंती 2016 - ...

कर्मण्यवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन |मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोSस्त्वकर्मणि ||मनुष्य के हाथ में केवल कर्म करने का अधिकार है फल की चिंता करन...

और पढ़ें...
मोक्षदा एकादशी 2016 – एकादशी व्रत कथा व महत्व

मोक्षदा एकादशी 201...

एकादशी उपवास का हिंदुओं में बहुत अधिक महत्व माना जाता है। सभी एकादशियां पुण्यदायी मानी जाती है। मनुष्य जन्म में जाने-अंजाने कुछ पापकर्म हो जा...

और पढ़ें...
2017 में क्या कहती है भारत की कुंडली

2017 में क्या कहती...

2016 भारत के लिये काफी उठापटक वाला वर्ष रहा है। जिसके संकेत एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों ने उक्त समय दिये भी थे। खेलों के मामले में भी हमने कह...

और पढ़ें...
क्या हैं मोटापा दूर करने के ज्योतिषीय उपाय

क्या हैं मोटापा दू...

सुंदर व्यक्तित्व का वास्तविक परिचय तो व्यक्ति के आचार-विचार यानि की व्यवहार से ही मिलता है लेकिन कई बार रंग-रूप, नयन-नक्स, कद-काठी, चाल-ढाल आ...

और पढ़ें...
बुध कैसे बने चंद्रमा के पुत्र ? पढ़ें पौराणिक कथा

बुध कैसे बने चंद्र...

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मनुष्य के जीवन को ग्रहों की चाल संचालित करती है। व्यक्ति के जन्म के समय ग्रहों की जो दशा होती है उसी के आधार पर उसक...

और पढ़ें...