Skip Navigation Links
आपका राशि चक्र और शौक


आपका राशि चक्र और शौक

हर राशि के व्यक्तियों का व्यक्तित्व एक दुसरे से अलग ही होता है| अक्सर आप भी सोचते होंगे कि कुछ काम आपको तो पसंद है लेकिन आपके खास दोस्त को उस काम में ज़रा भी मज़ा नहीं आता है| तो आप यह कैसे जान सकते है कि किस राशि के व्यक्ति को किस काम में रूचि है| जानिए इस लेख से|

मेष (मार्च 21 - अप्रैल 19)
मेष राशि के व्यक्ति स्पोर्ट्स यानि खेल में खास रूचि रखते है| बाहरी खेल, उत्साह से भरपूर स्पोर्ट्स, विडियो गेम्स खेलना, जोश से भर देने वाले गानें सुनना, मोटरबाइक चलाना, और अगर वे घर पर बैठे हैं तो टी.वी. पर नए कार्यक्रम देखना मेष राशि के व्यक्तियों को खासा लुभाता है|

वृषभ (अप्रैल 20 – मई 20)
वृषभ राशि वाले मेष राशि की तुलना में स्पोर्ट्स के कम शौक़ीन होते है| इनकी रूचि निम्न कार्यों में होती है – चित्रकला, संगीत, गायन, मूर्तिकला, प्राचीन वस्तुओं का संग्रहण, बागबानी, साहित्यिक अध्धयन| वृषभ राशि वाले इन कलाओं में खुद को संपूर्ण रूप से समर्पित करने की क्षमता रखते है|

मिथुन (मई 21 – जून 20)
मिथुन राशि के व्यक्तियों के शौक कुशलता को दर्शाते है| इनके शौक निम्न कार्यों में होते है – टेबल टेनिस या बेडमिंट खेलना, उत्साह और जोखिम से भरपूर स्पोर्ट्स, पहेलियाँ बुझाना, इन्टरनेट पर काम करना, सांस्कृतिक उत्सवों में शामिल होना, लेखन, व विभिन्न भाषाओं को सीखना|

कर्क (जून 21 – जुलाई 22)
कर्क राशि के लोकप्रिय कामों में बागबानी, घर की भीतरी सजावट, खाना बनाना इत्यादि है| लेकिन उन्हें सफर करना, म्युसीयम यानी संग्रहालय में जाना, अध्ध्यन, प्राचीन वस्तुओं का संग्रहण, पुराने सिक्के व पोस्टकार्ड्स जमा करना भी काफी पसंद होता है|

सिंह (जुलाई 23 – अगस्त 22)
सिंह राशि के व्यक्ति मेल-मिलाप में बहुत विश्वास रखते है| इन्हें हर रोज, हर दिन नए लोगों से मिलना अच्छा लगता है| इसलिए इनके शौक भी सामाजिक होते है जैसे नृत्य करना, चित्रकला, उत्साहपूर्ण खेल खेलना, संगीत सुनना इत्यादि| सिंह राशि अपने शौकों के कारण बहुत लोकप्रिय रहते है|

कन्या (अगस्त 23 – सितम्बर 22)
कन्या राशि धरती चिन्ह है इसलिए इस राशि के व्यक्ति कृषि से सम्बंधित शौक रखते है जैसे बागबानी, हस्तकला इत्यादि| साथ ही इनके पसंदीदा कार्यों में कुछ ऐसे भी होते है जिनमें दिमाग का इस्तेमाल होता है जैसे अध्धयन, लेखन, भाषाओं का सीखना, इन्टरनेट पर काम करना इत्यादि|

तुला (सितम्बर 23 – अक्टूबर 22)
तुला राशि खासतौर पर संगीत प्रेमी होते है| इसलिए इनके शौक भी कुछ ऐसे ही होते है जैसे संगीत सुनना, कोई संगीत से सम्बंधित कार्यक्रम देखने जाना| साथ ही इन्हें चित्रकला, लेखन, फाईन आर्ट्स, सफर करना, नए लोगों से मिलना, यह सब भी पसंद होता है|

वृश्चिक (अक्टूबर 23 – नवम्बर 21)
वृश्चिक राशि वालों की रूचि गुप्त विज्ञान से सम्बंधित कार्यों में खासा रहती है| उदाहरण के तौर पर इन्हें योग करना, ध्यान लगाना, धर्मं, दर्शनशास्त्र व ज्योतिष विद्या इत्यादि पसंद है| इन सब के बारे में जानना या इनका पालन करना वृश्चिक राशि वालों को लुभाता है| साथ ही इन्हें संगीत सुनना भी पसंद है और कपड़े-लत्तो के अलावा परफ्यूम्स यानि इत्र भी इकठ्ठा करना पसंद है|

धनु (नवंबर 22 – दिसम्बर 21)
धनु राशि भी मस्ती भरे शौक रखते है, अधिकतर राशियों की तरह इन्हें भी सफर करना, लेखन, अध्धयन करना जैसी चीज़े करना पसंद है| नई-नई जगह जाना और विभिन्न प्रकार के लोगो से मिलना भी इन्हें अच्छा लगता है|

मकर (दिसम्बर 22 – जनवरी 19)
अध्धयन, बागबानी, कलात्मक कार्य, चित्रकला, बाहर खाना इत्यादि मकर राशि के व्यक्तियों के चंद पसंदीदा कार्यों में से है| शिल्पकला में मकर राशि वालों को महारथ हासिल होती है और इस कला से इन्हें सुकून भी प्राप्त होता है|

कुम्भ (जनवरी 20 – फरवरी 18)
कुम्भ राशि के शौक बहुत ही वैज्ञानिक होते है| उदाहरण के तौर पर इन्हें कंप्यूटर पर गेम्स खेलना, किसी भी नई चीज़ की खोज या आविष्कार करना बेहद पसंद होता है| स्वाभाविक तौर से कुम्भ व्यक्ति सामाजिक भी होते है इसलिए ये अधिकतर सामाजिक उत्सवों में दिखाई देते हैं| 

मीन (फरवरी 19 – मार्च 20)
मीन राशि के व्यक्तियों की सूचि में लेखन, अध्धयन, संगीत सुनना, नृत्य, फ़िल्में देखना, वॉटर स्पोर्ट्स खेलना, अपने घर के लिए फर्नीचर एकत्रित करना इत्यादि शामिल है| इन्हें कुछ न कुछ नया करना बहुत पसंद होता है| किसी दुसरे से प्रेरणा लेकर मीन राशि वालें अपना कुछ आविष्कार करने की क्षमता रखते हैं|




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

अक्षय तृतीया 2017 - अक्षय तृतीया व्रत व पूजा विधि

अक्षय तृतीया 2017 ...

हर वर्ष वैसाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि में जब सूर्य और चन्द्रमा अपने उच्च प्रभाव में होते हैं, और जब उनका तेज सर्वोच्च होता है, उस ति...

और पढ़ें...
वैशाख अमावस्या – बैसाख अमावस्या दिलाती है पितरों को मोक्ष

वैशाख अमावस्या – ब...

अमावस्या चंद्रमास के कृष्ण पक्ष का अंतिम दिन माना जाता है इसके पश्चात चंद्र दर्शन के साथ ही शुक्ल पक्ष की शुरूआत होती है। पूर्णिमांत पंचांग क...

और पढ़ें...
बृहस्पति ग्रह – कैसे हुआ जन्म और कैसे बने देवगुरु पढ़ें पौराणिक कथा

बृहस्पति ग्रह – कै...

गुरु ग्रह बृहस्पति ज्योतिष शास्त्र में बहुत अहमियत रखते हैं। ये देवताओं के गुरु माने जाते हैं इसी कारण इन्हें गुरु कहा जाता है। राशिचक्र की ध...

और पढ़ें...
बाबा खाटू श्याम - हारे का सहारा बाबा श्याम हमारा

बाबा खाटू श्याम - ...

निर्धन को धनवान का, निर्बल को बलवान और इंसा को भगवान का सहारा मिलना चाहिये। हिम्मत वाले के हिमायती तो राम बताये ही जाते हैं लेकिन हारे हुए बि...

और पढ़ें...
मेंहदीपुर बालाजी – यहां होती है प्रेतात्माओं की धुलाई

मेंहदीपुर बालाजी –...

मेंहदीपुर बाला जी का नाम तो आपने बहुत सुना होगा। हरियाणा, राजस्थान, दिल्ली व उत्तरप्रदेश में तो बालाजी के भक्तों की बड़ी तादाद आपको मिल जायेग...

और पढ़ें...