Skip Navigation Links
बॉक्स ऑफिस भविष्यवाणी: `बाहुबली-द बिगनिंग`


बॉक्स ऑफिस भविष्यवाणी: `बाहुबली-द बिगनिंग`

सालों से एक बात भारतीय सिनेमा के लिए कही जाती है कि हमारे पास ऐतिहासिक फिल्में बनाने का कोई ख़ास हुनर नहीं है इसीलिए भारतीय दर्शक ऐतिहासिक फिल्मों के लिए हॉलीवुड का रूख करते हैं। लेकिन इस बार 'बाहुबली-द बिगनिंग' हॉलीवुड की तर्ज़ पर ही बनी एक भारतीय फ़िल्म है।

10 जुलाई 2015 को रिलीज़ हो रही, एस.एस.राजमौली द्वारा निर्देशित फ़िल्म 'बाहुबली-द बिगनिंग' फ़िल्म का ट्रेलर,दो महीने पहले मई में रिलीज़ हुआ था। 20 घंटे के अन्दर ही इस ट्रेलर को 10 लाख लोगों ने देखा था। निर्देशक एस.एस.राजमौली ने फ़िल्म का निर्माण तमिल और तेलुगु भाषा में किया है और फिल्म को हिन्दी में फिल्मकार करण जौहर अपने प्रोडक्शन से लेकर आ रहे हैं। फिल्म की कहानी में दिखाया गया है कि कैसे एक आम आदमी को उसके गाँव वाले लोग भगवान बना देते हैं और बाद में यही आदमी लोगों की रक्षा करता है। भारतीय सिनेमा के इतिहास में इस फ़िल्म को अब तक की सबसे मंहगी फ़िल्म बताया जा रहा है। फ़िल्म में प्रभास, राणा डग्गूबाती, अनुष्का शेट्टी और तमन्ना जैसे सफल तमिल कलाकार हैं।

फ़िल्म रिलीज़ के मौके पर एस्ट्रोयोगी ज्योतिषों की राय के अनुसार, यह फ़िल्म ‘बॉक्स ऑफिस’ पर अच्छा करने में कामयाब हो सकती है। ज्योतिष के अनुसार, 10 जुलाई 2015 को सिंह लग्न में फ़िल्म रिलीज़ होने के कारण और इस दिनमंगल ग्रह के एकादश स्थान में होने से धन प्राप्ति के अच्छे योग हैं। फिल्म के नाम पर नजर डालें, तो यह वृषभ राशि से संबंधित है और निर्देशक एस.एस.राजमौली की चद्र राशि कुंभ है। ज्योतिष के अनुसार वृषभ और कुंभ का मेल अच्छा बनता है इसलिए इस आंकलन से भी एक अच्छा योग बनता है। कुल मिलाकर देखा जाए तो सभी हिसाब से फ़िल्म के अच्छे करने के आसार नजर आ रहे हैं।

फ़िल्म के निर्देशक एस.एस.राजमौली द्वारा इस फ़िल्म से पहले ‘ऐगा’ फ़िल्म बनाई थी, जिसका हिंदी में ‘मक्खी’ नाम से प्रसारण हुआ था। इनकी तमिल फिल्मों ‘मगधीरा’ और ‘ऐगा’ को ‘आफ्टर इफेक्ट्स’ के लिए नेशनल फ़िल्म अवार्ड भी मिल चुका है। एस्ट्रोयोगी.कॉम 'बाहुबली-द बिगनिंग' की पूरी टीम को फ़िल्म की रिलीज़ के लिए बधाई देता है और हम उम्मीद करते हैं कि फ़िल्म बॉक्स ऑफिस पर कामयाब होने में सफल साबित होगी।




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

गीता जयंती 2016 - भगवान श्री कृष्ण ने कुरुक्षेत्र में दिया था गीता का उपदेश

गीता जयंती 2016 - ...

कर्मण्यवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन |मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोSस्त्वकर्मणि ||मनुष्य के हाथ में केवल कर्म करने का अधिकार है फल की चिंता करन...

और पढ़ें...
मोक्षदा एकादशी 2016 – एकादशी व्रत कथा व महत्व

मोक्षदा एकादशी 201...

एकादशी उपवास का हिंदुओं में बहुत अधिक महत्व माना जाता है। सभी एकादशियां पुण्यदायी मानी जाती है। मनुष्य जन्म में जाने-अंजाने कुछ पापकर्म हो जा...

और पढ़ें...
2017 में क्या कहती है भारत की कुंडली

2017 में क्या कहती...

2016 भारत के लिये काफी उठापटक वाला वर्ष रहा है। जिसके संकेत एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों ने उक्त समय दिये भी थे। खेलों के मामले में भी हमने कह...

और पढ़ें...
क्या हैं मोटापा दूर करने के ज्योतिषीय उपाय

क्या हैं मोटापा दू...

सुंदर व्यक्तित्व का वास्तविक परिचय तो व्यक्ति के आचार-विचार यानि की व्यवहार से ही मिलता है लेकिन कई बार रंग-रूप, नयन-नक्स, कद-काठी, चाल-ढाल आ...

और पढ़ें...
बुध कैसे बने चंद्रमा के पुत्र ? पढ़ें पौराणिक कथा

बुध कैसे बने चंद्र...

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मनुष्य के जीवन को ग्रहों की चाल संचालित करती है। व्यक्ति के जन्म के समय ग्रहों की जो दशा होती है उसी के आधार पर उसक...

और पढ़ें...