Skip Navigation Links
ब्रेक-अप के बाद


ब्रेक-अप के बाद

ज़िन्दगी नाम है कठिन से कठिन परिस्थितियों में भी हिम्मत के साथ आगे बढ़ने का| उस दर्द के एहसास को अपने भीतर दबाये रख मुस्कुराने का| जब आप दूसरों के सामने खुद को खुली किताब की तरह रख देते है तब दिल टूटने का जोखिम ज्यादा रहता है| भले ही वो दर्द शारीरिक नहीं होता लेकिन आत्मा को, मन को ज़िन्दगी भर का जख्म देने में सक्षम होता है| अक्सर ऐसा होता है कि पहले प्यार की तलाश के उत्साह को अचानक ही ग़मों के बादल घेर लेते है| ज्योतिष विद्या सिर्फ एक विज्ञान नहीं बल्कि एक ऐसी प्राचीन प्रथा है जिसके प्रयोग से आप अपने बारे में बहुत सी ऐसी बातें जान सकते है जो आपको बता सकती है कि ऐसी दर्द भरी परिस्थितियों में आप पर कैसा असर पड़ेगा और आपकी प्रतिक्रिया क्या होगी| ऐसे में इस विद्या के सहारे अपने व्यवहार के बारे में जानकारी होने से आप तनावग्रस्त होने से बच सकते है|



ज्योतिष विद्या में कुछ सूर्य राशि के व्यक्ति अपनी भावों के प्रकट करने में बिलकुल भी नहीं हिचकिचाते तो कुछ ऐसे होते हैं जो अपनी भावनाओं को खुद में समेटे रखते हैं| हर सूर्य राशि और उनके व्यक्तित्व को देखते हुए एस्ट्रोयोगी के ज्योतिषों के निरिक्षण के बाद आइये जानते है कि आप इन परिस्थितियों में कैसी प्रतिक्रिया दे सकते है| भविष्य में यह आपके लिए लाभकारी हो सकता है|



मेष: मेष राशि के व्यक्ति ‘ना’ नहीं सुन पाते है| अक्सर अपने गुस्से के कारण आप खुद के लिए परेशानियाँ खड़ी कर देते है| किन्तु गुस्सा शांत होने पर सब कुछ फिर से शुरू करने के लिए अग्रसर रहते है| अक्सर आपको ऐसा प्रतीत होता है कि आपका साथी समझौते के लिए तैयार नहीं है| गुस्से में भले ही आप जली-कटी बातें अपने साथी से कह देते है पर आपको ये भी पता है कि उनका दिल दुखाने का आपका इरादा नहीं था, इसलिए आप उस समय हैरान-परेशान हो जाते है जब आप देखते है कि आपके साथी पुरानी बातों को दिल में लिए बैठे हैं| ऐसा समय भी आता है जब आपके रिश्तों में दरार पड़ चुकी होती है और आपके साथी जीवन की राह में आगे बढ़ने का फैसला ले चुके होते हैं, ऐसे में आपको बहुत तकलीफ होती है, लेकिन आपको यह स्वीकार करना होगा कि आपका स्वभाव ऐसा ही है| और यदि आपके संबंधों का अंत ऐसा ही लिखा है तो इसे स्वीकार करे और अपने अतीत को पीछे छोड़ आगे बढ़े| एकांत आपके जीवन में सिर्फ कड़वाहट ही पैदा करेगा| फिर ऐसा ना हो कि आपके रोमांटिक जीवन को फिर से सक्रिय बनाने में कहीं देर न हो जाएँ|



वृषभ: वृषभ राशि, आप प्यार में एकदम अंधे हो जाते है| परिस्थितियों के बिगड़ने के बावजूद आपको उन्हें स्वीकार करने में खासा समय लग जाता है| भले ही आपका रिश्ता टूटने की कगार पर हो, आप उस रिश्ते के साथ चिपके रहना चाहते है| आप सामने वाले के व्यक्तित्व की सही पहचान नहीं कर पाते है और अक्सर खुद को एक ऐसे दलदल में फंसा पाते है जिससे आप खुद ही बाहर निकलना नहीं चाहते| आशावादी होना अच्छी बात है पर एक धोखे में रहना सही नहीं है, इससे आपको और भी दर्द होगा| अगर कभी भी आपका दिल टूटता है तो खुद को एकांत में ले जाएँ और अपनी पीड़ा को अपनी ताकत में बदलें|



मिथुन: मिथुन राशि, आप भले ही अपने आस-पास वालों से बहुत ही मज़बूत शख़्सियत वाले व्यक्ति है लेकिन जब बात दिल के दर्द की हो तो आपको ऐसा लगता है कि काश आप अपनी ज़िन्दगी की वास्तविकता को करीब से समझने की कोशिश करने वाले व्यक्ति ना होते| आप दुसरे लोगों से मिलते है और खुद को बहुत ही व्यस्त रख कर भीड़ में अपने दर्द को कम करने की अच्छी कोशिश करते है पर आपको खुद पर और अपनी ज़िन्दगी पर भरोसा करना होगा| अतीत के बेड़ियों को तोड़ वर्तमान को गले लगा कर आप इस दर्द से आज़ादी पा सकते है|



कर्क: कर्क राशि, आप बहुत जल्दी ही आहत हो जाते है और यह कामना भी करते है कि आप इतने कमज़ोर ना होते| दूसरें को आसानी से माफ़ करने की आपकी आदत ही आपको ऐसे लोगों के लिए आसान शिकार बना देती है जिनके लिए अपने स्वार्थ के लिए किसी भी रिश्ते में आना और जाना बच्चों का खेल लगता है| जब कोई आपका विश्वास तोड़ता है तब आपके दिल को बहुत ठेस पहुँचती है और इस दर्द-ए-दिल को सह पाना आपके लिए बहुत ही कठिन होता है| ऐसी परिस्थितियों से बचने के लिए आपको खुद को मज़बूत बनाने की ज़रूरत है और किसी पर भी आँख बंद कर भरोसा ना करें| अपने करीबियों के बीच में रहने से आपका ध्यान बंटा रहेगा और आप मानसिक रूप से और भी मज़बूत बनेंगे|



सिंह: आप अपने सशक्त स्वभाव और कठिन से कठिन परिस्थितियों में खुद को सँभालने के लिए जाने जाते है| आमतौर पर ऐसे हालातों में आप कमज़ोर नहीं पड़ते है लेकिन कई बार ऐसे में आप अकेले रहना पसंद करते है और अपनी परेशानियों के बारे में किसी को बताना भी आपको सही नहीं लगता| किसी करीबी मित्र से बात करना सहायक सिद्ध होता है पर यदि आप अपने भरोसे ही है तो आप में वो क्षमता है कि आप अपने विचारों को सुलझा सके और अपने जीवन को सही लय पर ला सके, जो आप अक्सर करते है|



कन्या: दुनिया के सामने एक सख्त और मज़बूत शख्सियत वाले मुखौटे के पीछे आपका सच्चा, स्नेहपूर्ण पर अतिसंवेदनशील चेहरा छुपा हुआ है| कन्या राशि, दूसरों के बीच अक्सर आपकी छवि एक गलतफ़हमी पैदा करती है| आपको देख सबको ऐसा लगता है जैसे आपको किसी भी बात का असर नहीं पड़ता है, लेकिन इसमें ज़रा भी सच्चाई नहीं है| आप में भी संवेदनाएं और भावनाएं समाई हुई है| कभी-कभार आपको लगता है कि आप भी बाकी कुछ राशियों की तरह जीवन के मज़े ले सकते लेकिन याद रखें वो सिर्फ एक मुखौटा होगा, जिसके भीतर आपका चेहरा| और मुखौटा हँस सकता है पर हँसी नहीं ला सकता|



तुला: आप हमेशा अपने आस-पास सभी को खुश और उत्साहित रखने की भरपूर कोशिश करते है और किसी के दुर्व्यवहार से आपको यकीनन आश्चर्य होता है| बहुत ही आसानी से आपके दिल को ठेस पहुँच जाती है, लेकिन ऐसा बहुत ही कम होता है कि किसी को आपके चेहरे पर शिकंज भी दिखाई दें| अपने चेहरे पर एक झूठी मुस्कराहट लिए आप हर मुश्किल का सामना करने के लिए जुझारू रहते है| आपके लिए यह दर्द सिर्फ कुछ समय के लिए होता है क्योंकि ज़िन्दगी को खुशनुमा बनाने की आपकी लगातार कोशिश आपको हर दुःख, हर दर्द से लड़ने का हौसला देती रहती है|



वृश्चिक: वृश्चिक राशि, यदि किसी ने आपका दिल दुखाया तो उसकी ख़ैर नहीं| आप ऐसी राशि है जो यह जरूर सुनिश्चित करती है कि अगर कोई आपको दर्द दें तो आप उसे दुगुना दर्द देंगे| समय के साथ-साथ भले ही आप सामने वाले को माफ़ कर दें, लेकिन उस व्यक्ति द्वारा की गयी गलती को आप कभी भी भूल नहीं सकते| आप में से कुछ व्यक्ति ऐसे भी है जो ऐसे दर्द का मज़ा लेना पसंद करते है क्योंकि ऐसे में वे खुद को जीवंत महसूस करते हैं| यदि कोई आपका विश्वास तोडें, तो आप एकांत में जाना पसंद करते है| एक सच यह भी है कि आप भले ही इस बात को स्वीकार ना करे, लेकिन कहीं न कहीं आपके मन में भावनाएं बहती है और आपका दिल भी आसानी से टूट जाता है| बदला लेने की भावना को दबाये रखने से ही आपको जीवन में फिर से खुशियाँ मिल सकती है|



धनु: धनु राशि के व्यक्ति बहुत ही शांत स्वभाव के व्यक्ति होते हैं और किसी के प्रति ईर्ष्या नहीं रखते| आप ऐसी बातों को जल्द ही भूल जाते है और फिर जीवन की राह में आगे बढ़ते जाते है| दरअसल यह अच्छी बात है| आपके इस व्यवहार से आपकी ज़िन्दगी के साथ-साथ दूसरों की ज़िन्दगी भी आसान हो जाती है| लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप हर किसी से दूरी बना लें| दूसरों से दूर रहना भी सही नहीं है|



मकर: मकर राशि, दूसरें व्यक्ति आपको कठोर और भावना रहित समझते है लेकिन आप अक्सर जो भी करते है, उनके लिए करते है जिनसे आपको प्यार और स्नेह है| यदि आप अपनी भावनाओं को सही तरीके से प्रकट नहीं कर सकेंगे तो उन्हें कैसे पता चलेगा कि आपके मन में क्या है और आप असल में किस व्यक्तित्व के मालिक है| किसी की बेवफाई को आप बर्दाश्त नहीं कर पाते है और यह दर्द आपके दिल में लम्बे समय तक रहता है| किसी नए व्यक्ति से रिश्ता आपके दुःख को दूर कर सकता है लेकिन आपको अतीत के उन पन्नों को अपनी जीवन की किताब से फाड़ना ही होगा|



कुम्भ: कुम्भ राशि के व्यक्तियों को समझने में अक्सर लोगों को ज्यादा समय लग जाता है और कभी-कभी तो इन्हें समझ पाना मुमकिन ही नहीं होता| आप हमेशा दूसरों की भलाई के बारे में सोचते है और आपका यही स्वभाव आपको मुसीबत के दर पा ला खड़ा करता है| लोग आपको कमज़ोर भी समझ सकते है| अपनी बातों को दूसरों के सामने रखने का दम आप में है लेकिन आप बेफिजूल की बातों पर अपना समय बर्बाद करना नहीं चाहते| आप अपने जीवन में विभिन्न स्वभाव, विभिन्न व्यक्तित्व के लोगों से मिलते है और आपके लिए महत्त्वपूर्ण यह है कि आप अपनी ज़िन्दगी के सफ़र में ध्यान दे और दूसरों की समस्याओं से अपनी रफ़्तार में कमी ना आने दें|



मीन: आप बहुत ही संवेदनशील व्यक्ति है| मीन राशि, यदि कोई आपके लिए बुरा ना भी सोच रहा हो, तब भी आपके मन में कई सवाल उमड़ते है कि सामने वाला आपसे ऐसा व्यवहार क्यों कर रहा है, या उसके मन में आपके प्रति क्या है? इस कारण आप मन ही मन विचलित होते रहते है और व्यर्थ ही इस पीड़ा को अपनी ज़िन्दगी में रहने की जगह देते है| आप में से कुछ लोग आसानी से तनाव में भी आ जाते है| ऐसी परिस्थितियों में या तो आप गुस्से में आ जाते है या फिर उन लोगों से दूर चले जाते है जो आपको समझ नहीं पाते हैं| ऐसे में आपके लिए सही उपाय है कि आप अपने आप को मज़बूत बनाये और खुद पर रहम खाना बंद करें|




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

गीता जयंती 2016 - भगवान श्री कृष्ण ने कुरुक्षेत्र में दिया था गीता का उपदेश

गीता जयंती 2016 - ...

कर्मण्यवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन |मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोSस्त्वकर्मणि ||मनुष्य के हाथ में केवल कर्म करने का अधिकार है फल की चिंता करन...

और पढ़ें...
मोक्षदा एकादशी 2016 – एकादशी व्रत कथा व महत्व

मोक्षदा एकादशी 201...

एकादशी उपवास का हिंदुओं में बहुत अधिक महत्व माना जाता है। सभी एकादशियां पुण्यदायी मानी जाती है। मनुष्य जन्म में जाने-अंजाने कुछ पापकर्म हो जा...

और पढ़ें...
2017 में क्या कहती है भारत की कुंडली

2017 में क्या कहती...

2016 भारत के लिये काफी उठापटक वाला वर्ष रहा है। जिसके संकेत एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों ने उक्त समय दिये भी थे। खेलों के मामले में भी हमने कह...

और पढ़ें...
क्या हैं मोटापा दूर करने के ज्योतिषीय उपाय

क्या हैं मोटापा दू...

सुंदर व्यक्तित्व का वास्तविक परिचय तो व्यक्ति के आचार-विचार यानि की व्यवहार से ही मिलता है लेकिन कई बार रंग-रूप, नयन-नक्स, कद-काठी, चाल-ढाल आ...

और पढ़ें...
बुध कैसे बने चंद्रमा के पुत्र ? पढ़ें पौराणिक कथा

बुध कैसे बने चंद्र...

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मनुष्य के जीवन को ग्रहों की चाल संचालित करती है। व्यक्ति के जन्म के समय ग्रहों की जो दशा होती है उसी के आधार पर उसक...

और पढ़ें...