Skip Navigation Links
एक ऐसा मंदिर जहाँ प्रसाद में मिलता है ‘चाइनीज फ़ूड`


एक ऐसा मंदिर जहाँ प्रसाद में मिलता है ‘चाइनीज फ़ूड`

भारत मंदिरों का देश है। यहाँ आपको गली-गली और चौराहे पर अलौकिक और चमत्कारिक मंदिर मिल जायेंगे। भारत का कोई मंदिर अपने नाम के लिए, तो कोई अपनी महिमा के लिए विख्यात होता है। भारत मे कुछ मंदिर तो हज़ारों साल पुराने हैं, इन मंदिरों का इतिहास ही पर्यटक और भक्तों को अपनी ओर आकर्षित करता है। आइये आज जानते हैं भारत के एक ऐसे मंदिर के बारे में जहाँ प्रसाद के रूप में नूडल्स और मोमोज जैसे चाइनीज व्यंजन दिए जाते हैं। यहाँ हर साल लगने वाले एक मैले के अन्दर भारत के अलावा चीन से भी भक्त आते हैं। आइए पढ़ते हैं इस मंदिर की पूरी कहानी-


कोलकाता के टंगरा में ‘चाइनीज काली मंदिर’ है। बताया जाता है कि यह मंदिर ब्रिटिश साम्राज्य के समय का है। मंदिर में बेशक जो प्रतिमा रखी गयी है वह काली माता जी की है किन्तु मंदिर को ‘चाइनीज काली मंदिर’ के नाम से जाना जाता है। इस जगह को चाइनाटाउन नाम से भी जाना जाता है। ब्रिटिश काल में व्यापार करने के दौरान कुछ चाइनीज परिवार यहाँ रहते थे इसलिए इस जगह को चाइनाटाउन के नाम से पुकारा जाता था। मंदिर के इस नाम के पीछे एक बड़ी रोचक कथा, यहाँ के स्थानीय लोगों द्वारा बताई जाती है।


कहा जाता है कि अंग्रेजों के समय, इस जगह पर काफी चीन के लोग रहते थे(आज भी काफी संख्या में चीनी लोग यहाँ रहते हैं), उस समय में एक पेड़ के नीचे रखे, काले पत्थर को लोग(काली माता)के रूप में पूजते थे। एक बार किसी एक चीनी परिवार का बच्चा काफ़ी बीमार हुआ। डॉक्टर भी इस बच्चे का ईलाज नहीं कर पा रहे थे, तब इस बच्चे के माता-पिता को इस जगह का पता चला और बच्चे के स्वास्थ्य के लिए यहाँ इन लोगों ने मन्नत मांगी। मन्नत के कुछ दिनों बाद बच्चा पूरी तरह से सही हो गया और तब इसी चीनी परिवार ने यहाँ मंदिर का निर्माण कराया। तभी से मंदिर ‘चाइनीज काली मंदिर’ के नाम से जाना जाता है।


मंदिर में आज हिन्दू लोगों के अलावा, यहाँ रह रहे चीन के लोग तो पूजा करते ही हैं साथ ही साथ चीन से भी लोग माता के दर्शन करने आते हैं।


मंदिर की ख़ास बात यह है कि यहां आने वाले लोगों को प्रसाद में नूडल्स, मोमोज, चावल आदि चाइनीज फ़ूड दिया जाता है। यह मंदिर अपने आप में एक चमत्कार से कम नहीं है। वहीँ मंदिर की महिमा के बारें में भी लोग खूब बातें करते देखे जा सकते हैं।    




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

सूर्य ग्रहण 2017 जानें राशिनुसार क्या पड़ेगा प्रभाव

सूर्य ग्रहण 2017 ज...

26 फरवरी को वर्ष 2017 का पहला सूर्यग्रहण लगेगा। सूर्य और चंद्र ग्रहण दोनों ही शुभ कार्यों के लिये अशुभ माने जाते हैं। पहला सूर्यग्रहण हालांकि...

और पढ़ें...
सूर्य ग्रहण 2017

सूर्य ग्रहण 2017

ग्रहण इस शब्द में ही नकारात्मकता झलकती है। एक प्रकार के संकट का आभास होता है, लगता है जैसे कुछ अनिष्ट होगा। ग्रहण एक खगोलीय घटना मात्र नहीं ह...

और पढ़ें...
क्यों नहीं पूजे जाते जगद्पिता ब्रह्मा? क्या कहते हैं पुराण

क्यों नहीं पूजे जा...

ब्रह्मा सृष्टि के रचनाकार माने जाते हैं। त्रिदेवों में ब्रह्मा, विष्णु और महेश हैं ब्रह्मा का नाम सबसे पहले आता है क्योंकि वे दुनिया के रचनाक...

और पढ़ें...
महाशिवरात्रि - देवों के देव महादेव की आराधना पर्व

महाशिवरात्रि - देव...

देवों के देव महादेव भगवान शिव-शंभू, भोलेनाथ शंकर की आराधना, उपासना का त्यौहार है महाशिवरात्रि। वैसे तो पूरे साल शिवरात्रि का त्यौहार दो बार आ...

और पढ़ें...
शिव मंदिर – भारत के प्रसिद्ध शिवालय

शिव मंदिर – भारत क...

सावन का महीना आ चुका है और इस पावन महीने में भगवान शिव की आराधना करने का पुण्य बहुत अधिक मिलता है। शिवभक्तों के लिये तो यह महीना बहुत खास होत...

और पढ़ें...