Skip Navigation Links
ईद - इंसानियत का पैगाम देता है ईद-उल-फ़ितर


ईद - इंसानियत का पैगाम देता है ईद-उल-फ़ितर

भारत में ईद-उल-फ़ितर 7 जुलाई 2016 को मनाया जाएगा। इस्लामी कैलेंडर के नौवें महीने को रमदान का महीना कहते हैं और इस महीने में अल्लाह के सभी बंदे रोज़े रखते हैं। इसके बाद दसवें महीने की ‘शव्वाल रात’ पहली चाँद रात में ईद-उल-फ़ितर मनाया जाता है। इस रात चाँद को देखने के बाद ही ईद-उल-फ़ितर का ऐलान किया जाता है।


ईद-उल-फ़ितर ऐसा त्यौहार है जो सभी ओर इंसानियत की बात करता है। इस दिन सबको एक समान समझना चाहिए और गरीबों को खुशियाँ देनी चाहिए। कहते है कि रमदान के इस महीने में जो नेकी करेगा और रोज़ा के दौरान अपने दिल को साफ़-पाक रखता है, अल्लाह उसे ख़ुशीयां ज़रूर देता है। रमदान महीने में रोज़े रखना हर मुसलमान के लिए एक फ़र्ज़ कहा गया है। भूखा-प्यासा रहकर इंसान को किसी भी प्रकार के लालच से दूर रहने और सही रास्ते पर चलने की हिम्मत मिलती है।


शव्वाल महीने के पहले दिन सभी मुसलमान इबादत करने के बाद ख़ुतबा (उपदेश) सुनते हैं और रमदान के महीने के दौरान ज़कात-उल-फ़ितर देते हैं। इसमें गरीबों को खान-पान की सुविधा दी जाती है। अगर कोई किसी वजह से ज़कात-उल-फ़ितर नहीं दे पाया हो, तो वह ईद--उल-फ़ितर पर यह दान कर सकता है। सभी मुस्लिम इस ख़ास दिन में एक-दूसरें को ‘ईद मुबारक’ कहकर गले मिलते हैं। सेवइयों और शीर-खुरमें से एक दूसरें का मूंह मीठा किया जाता है।


कब दिखेगा ईद का चांद


पूरी दुनिया के मुसलमानों द्वारा ईद-उल-फ़ितर चाँद रात में नये चाँद के दिखने के बाद ही मनाया जाता है। चूंकि दुनिया में जगह-जगह चाँद अलग-अलग वक़्त पर दिखाई देता है, इसलिए ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार ईद-उल-फ़ितर की तारीख भी ऊपर-नीचे हो जाती है। भारत में देश की राजधानी दिल्ली के समयानुसार नया चांद 6 जुलाई को 19:18 से लेकर 20:46 बजे तक दिखाई देगा।


ईद-उल-फ़ितर का एक ही मकसद होता है कि हर आदमी एक दूसरें को बराबर समझे और इंसानियत का पैगाम फैलाएं। भाईचारे के इस पर्व पर एस्ट्रोयोगी की ओर से आप सबको ईद मुबारक।


यह भी पढ़ें

रमदान क्या है





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

अक्षय तृतीया 2017 - अक्षय तृतीया व्रत व पूजा विधि

अक्षय तृतीया 2017 ...

हर वर्ष वैसाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि में जब सूर्य और चन्द्रमा अपने उच्च प्रभाव में होते हैं, और जब उनका तेज सर्वोच्च होता है, उस ति...

और पढ़ें...
बाबा खाटू श्याम - हारे का सहारा बाबा श्याम हमारा

बाबा खाटू श्याम - ...

निर्धन को धनवान का, निर्बल को बलवान और इंसा को भगवान का सहारा मिलना चाहिये। हिम्मत वाले के हिमायती तो राम बताये ही जाते हैं लेकिन हारे हुए बि...

और पढ़ें...
मेंहदीपुर बालाजी – यहां होती है प्रेतात्माओं की धुलाई

मेंहदीपुर बालाजी –...

मेंहदीपुर बाला जी का नाम तो आपने बहुत सुना होगा। हरियाणा, राजस्थान, दिल्ली व उत्तरप्रदेश में तो बालाजी के भक्तों की बड़ी तादाद आपको मिल जायेग...

और पढ़ें...
वरुथिनी एकादशी 2017 - जानें वरूथिनी एकादशी की व्रत पूजा विधि तिथि व मुहूर्त

वरुथिनी एकादशी 201...

एकादशी के व्रत का हिंदू धर्म में बहुत महत्व माना जाता है। प्रत्येक मास में दो एकादशियां आती हैं और दोनों ही एकादशियां खास मानी जाती हैं। वैशा...

और पढ़ें...
वल्लाभाचार्य जयंती – कौन थे पुष्टिमार्ग के प्रवर्तक वल्लभाचार्य?

वल्लाभाचार्य जयंती...

भारत अनेकता में एकता रखने वाला देश है। यहां पर विभिन्न धर्म, विभिन्न संस्कृतियों के लोग वास करते हैं। यहां तो प्रकृति में भी विविधता देखने को...

और पढ़ें...