Skip Navigation Links
बॉक्स ऑफिस भविष्यवाणी: बंगिस्तान


बॉक्स ऑफिस भविष्यवाणी: बंगिस्तान

‘दुनिया के कोने में एक ऐसी जगह भी है जहां कभी भी गोली चल सकती है कभी भी बम फट सकता है और उस जगह का नाम है ‘बंगिस्तान’। जी हाँ, फ़िल्म का एक डायलोग तो कुछ ऐसी ही जानकारी दे रहा है। करण अंशुमन द्वारा निर्देशित फिल्म ‘बंगिस्तान’ 31 जुलाई 2015 को रिलीज़ हो रही है।


फ़िल्म की कहानी दो धर्मों के लोगों के बीच चल रही तनातनी पर आधारित है। जैसा की फिल्म के नाम से पता चलता है, यह एक काल्पनिक देश की कहानी है। बंगिस्तान दो भागों उत्तर और दक्षिण में बंटा हुआ है। एक्टर रितेश देशमुख और पुलकित सम्राट फ़िल्म में मुख्य किरदार में हैं। बंगिस्तान के दोनो ही कलाकार एक अंडरकवर मिशन पर हैं जिनका उद्देश्य विश्व सम्मेलनों में बाधा उत्पन्न करना है। फिल्म के निर्माता, मशहूर अभिनेता एवं निर्देशक फरहान अख्तर और रितेश सिदवानी हैं।


फ़िल्म रिलीज़ के मौके पर एस्ट्रोयोगी ज्योतिषों की राय के अनुसार, यह फ़िल्म ‘बॉक्स ऑफिस’ पर अपने बजट का पैसा वसूल करने में तो कामयाब हो सकती है किन्तु ग्रहों की चाल के अनुसार फ़िल्म शायद बहुत अच्छा ना कर पाए। ज्योतिष के अनुसार, 31 जुलाई 2015 को कन्या लग्न में फ़िल्म रिलीज़ हो रही है। कन्या लग्न ज्योतिष शास्त्र के हिसाब से द्वि-स्वभाव वाली लग्न मानी जाती है और इस लग्न में कार्यों की गति भी धीमी ही रहती है।  


फिल्म में मुख्य किरदार में मौजूद अभिनेता रितेश देशमुख की कुंडली पर नजर डालें तो इनका जन्म, कुंभ-लग्न, कर्क-राशि, बुध-महादशा, शनि-अंतरदशा और चंद्रमा-प्रत्यांतर, दशा में हुआ है। लग्नेश का सप्तम में शत्रु के घर में बैठने के कारण, कार्यों के बहुत अच्छे परिणाम प्राप्त नहीं हो पाते हैं। व्यापार से संबंधित ‘कुंडली घर’ में शनि और राहू का एक साथ उपस्थित रहना एक नकारात्मक योग बनाता है और अभी अभिनेता रितेश देशमुख की कुंडली में यही योग बना हुआ है इसलिए शायद इनको काम-काज में बहुत अच्छी सफलता प्राप्त ना हो पाए। इस आकलन से भी एस्ट्रोयोगी ज्योतिषों को यही लगता है कि इनकी आगामी फ़िल्म ‘बंगिस्तान’ एक मध्यम दर्जे का ही व्यवसाय शायद बॉक्स ऑफिस पर करे।


फ़िल्म के निर्देशक करण अंशुमन का कोई जन्म विवरण प्राप्त नहीं होने की वजह से इनका ज्योतिष आंकलन नहीं हो पाया है।


फ़िल्म के निर्माता फरहान अख्तर की कुंडली में अभी शुक्र की महादशा चल रही है जिसे ज्योतिष शास्त्र में बहुत अच्छा नहीं कहा जा सकता है। शुक्र और ब्रहस्पति जब एकादश में विराजमान होते हैं तब पैसा-फाइनेंस के लिए भी समय अनुकूल नहीं माना जाता है।


ज्योतिष के नजरिये से तो यही लग रहा है कि शायद फ़िल्म ‘बंगिस्तान’ कमाई के नजरिये से एक औसत दर्जे की ही फ़िल्म साबित हो पायेगी।


एस्ट्रोयोगी.कॉम ‘बंगिस्तान’ की पूरी टीम को फ़िल्म की रिलीज़ के लिए बधाई देता है और हम उम्मीद करते हैं कि फ़िल्म बॉक्स ऑफिस पर कामयाब होने में सफल साबित होगी।




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

गीता जयंती 2016 - भगवान श्री कृष्ण ने कुरुक्षेत्र में दिया था गीता का उपदेश

गीता जयंती 2016 - ...

कर्मण्यवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन |मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोSस्त्वकर्मणि ||मनुष्य के हाथ में केवल कर्म करने का अधिकार है फल की चिंता करन...

और पढ़ें...
बुध कैसे बने चंद्रमा के पुत्र ? पढ़ें पौराणिक कथा

बुध कैसे बने चंद्र...

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मनुष्य के जीवन को ग्रहों की चाल संचालित करती है। व्यक्ति के जन्म के समय ग्रहों की जो दशा होती है उसी के आधार पर उसक...

और पढ़ें...
पंचक - क्यों नहीं किये जाते इसमें शुभ कार्य ?

पंचक - क्यों नहीं ...

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों और नक्षत्र के अनुसार ही किसी कार्य को करने या न करने के लिये समय तय किया जाता है जिसे हम शुभ या अशुभ मुहूर्त ...

और पढ़ें...
केमद्रुम योग - क्या आपकी कुंडली में है केमद्रुम योग ? जानें ये उपाय

केमद्रुम योग - क्य...

आपने कुंडली के ऐसे योगों के बारे में जरुर सुना होगा जिनमें व्यक्ति राजा तक बन जाता है। निर्धन व्यक्ति भी धनवान बन जाता है। ऐसे योग भी जरुर दे...

और पढ़ें...
यहाँ भगवान शिव को झाड़ू भेंट करने से, खत्म होते हैं त्वचा रोग

यहाँ भगवान शिव को ...

ईश्वर भी कितना महान है, ना कोई इच्छा होती है ना कोई चाह होती है भक्त जो भी दे प्यार से सब स्वीकार कर लेता है। शायद यही एक बात है जो भगवान को ...

और पढ़ें...