Skip Navigation Links
गणेश चतुर्थी


गणेश चतुर्थी

गणेश चतुर्थी जिसे कि विनायक चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है, हिन्दु धर्म में एक बहुत ही शुभ पर्व माना जाता है। यह पर्व हिन्दी कैलेन्डर के भाद्रपद मास (अगस्त मध्य से सितम्बर मध्य) में मनाया जाता है। विशेषकर पश्चिम भारत के महाराष्ट्र राज्य में गणेश चतुर्थी को बहुत ही भव्यता एवं आस्था के साथ मनाया जाता है। क्योंकि गणेश जी का एक नाम विघ्नहरता भी है इसलिए हिन्दुओं का मानना है कि इन दस दिनों के दौरान, जो कि बहुत ही शुभ माने जाते हैं, यदि श्रद्धा एवं विधि-विधान के साथ गणेश जी का पूजन किया जाए तो गणेश भगवान जो कि देवताओँ के भी अग्रणी हैं, आप के जीवन की समस्त बाधाओं का अन्त करते हैं तथा अपने भक्तों पर सौभाग्य, समृद्धि एवं सुखों की वर्षा करते हैं।



दस दिनों तक चलने वाला यह त्योहार हिन्दुओं की आस्था का एक ऐसा अद्भुत प्रमाण है जिसमें कि शिव-पार्वती-नंदन श्री गणेश की 3/4 इंच से लेकर 25 फुट या इससे भी अधिक ऊँचाई की प्रतिमा को घरों, मन्दिरों अथवा पन्डालों में साज-श्रँगार के साथ शुद्ध चतुर्थी वाले दिन स्थापित किया जाता है, जहाँ एक पुजारी जो कि लाल धोती पहने रहता है इस मूर्ति में वैदिक मन्त्रोच्चारण के साथ प्राण फूँकता है जिसे कि “प्राणप्रतिष्ठा” कहा जाता है। दस दिन तक अर्थात अनंत-चतुर्दशी तक गणेश प्रतिमा का नित्य विधिपूर्वक पूजन किया जाता है, ग्यारहवें दिन इस प्रतिमा को किसी स्वच्छ जलाशय जैसे कि नदी अथवा सागर आदि में प्रवाहित (विसर्जित) कर दिया जाता है।


महाराष्ट्र में तो इस दिन विशेष आयोजन होते हैं तथा जलाशयों पर उमड़े जनसैलाव व उनकी आस्था को देखकर मन भावविभोर हो उठता है। इस दिन समस्त श्रद्धालुगण गणेश-प्रतिमा को हाथों, रथों व वाहनों पर उठा कर बहुत धूम-धाम से गाजों-बाजों के साथ इसे प्रवाहित करने के लिए पैदल ही जलाशयों की ओर चल पड़ते हैं और ऊँची आवाज में नारे लगाते हैं, गणपति बप्पा मोरया, मंगल मूर्ति मोरया, पर्चा वर्षी लौकरिया। जिसका अर्थ होता है कि “ओ परमपिता गणेश जी! मंगल करने वाले, अगले बरस जल्दी आना।” यह शुभ पर्व हिन्दुओं के लिए बहुत ही प्रसन्नता का समय होता है।


गणेश-पूजन के इन दस दिनों के दौरान गणपति पूजन में इन चुने हुए यंत्रों को गणेश-प्रतिमा के साथ पूजने से निश्चित तौर पर गणपति जी प्रसन्न होकर आपके जीवन को सुख-समृद्धि एवं सौभाग्य से परिपूर्ण कर देते हैं। ऐसा इन यंत्रों के विशेष महत्व के कारण होता है जिसे कि पूजन के समय बहुत ही शुभ माना जाता है। विधि-विधान से पूजन के लिए जिस प्रकार दीया, धूप-बाती, पुष्प एवं प्रसाद का महत्व है वैसे ही इन यंत्रों के पूजन से आपको विशेष लाभ होता है।


गणपति यन्त्र
चाहे यह किसी नए व्यापार की शुरुआत हो, भवन-निर्माण का आरम्भ हो या आपकी किसी किताब, पेन्टिंग या यात्रा का शुभारम्भ हो, गणपति यन्त्र आपके कार्य में आने वाली हर प्रकार की बाधा से आपकी रक्षा करता है। जो इस यन्त्र का पूजन करता है वह अपने हर कार्य में सफल रहता है। इस यन्त्र को आप अपने पूजा के स्थान पर स्थापित कर सकते हैं।


ग्यारह-मुखी रूद्राक्ष
ग्यारह-मुखी रूद्राक्ष पहनने वाले को विधा एवं ज्ञान का विशेष वरदान मिलता है। इसे पहनने से विभिन्न प्रकार के शारीरिक एवं मानसिक रोगों का भी निदान होता है। जिन लोगों के साथ सदैव ही कठिनाइयाँ आती हैं, जो लोग धैर्यशील नहीं हैं, जो लोग अपमानित होते रहते हैं व उदास रहते हैं या गलत निर्णय लेते हैं, उन सभी के लिए ग्यारह-मुखी रूद्राक्ष माला जीवनदायिनी बूटी का काम करती है। इस माला को धारण करने से आपकी मानसिक शक्तियों का विकास होता है तथा आप सदैव प्रसन्नता का अनुभव करते हैं।


गौरी-शंकर रूद्राक्ष

यह रूद्राक्ष माला आप पर व आपके अपनों पर गणपति जी की कृपा की बरसात कर देगी। इस रूद्राक्ष को एक बन्द बक्से में रखकर अपने पूजा क स्थल पर अथवा मंदिर में रख दें तथा पूजा-अर्चना के दौरान इस रूद्राक्ष का भी पूजन कर लें और कुछ ही दिनों में देखें कि कैसे आप के जीवन में मंगल ही मंगल होता है। अन्यथा आप इसे धारण भी कर सकते हैं, गौरी-शंकर रूद्राक्ष का पूजन व धारण करने वाले को किसी भी वस्तु का अभाव नहीं रहता।


यह भी पढ़ें

गणेश चालीसा का पाठ करें   |   गणेश जी के मंत्रों का उच्चारण करें   |   श्री गणेश आरती   |   श्री गणपति आरती

श्री विनायक आरती   |   बुधवार को गणेश जी की पूजा है अतिलाभकारी   |   गणेश परिवार की पूजा से पूरी होंगी मनोकामना





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

अक्षय तृतीया 2017 - अक्षय तृतीया व्रत व पूजा विधि

अक्षय तृतीया 2017 ...

हर वर्ष वैसाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि में जब सूर्य और चन्द्रमा अपने उच्च प्रभाव में होते हैं, और जब उनका तेज सर्वोच्च होता है, उस ति...

और पढ़ें...
वैशाख अमावस्या – बैसाख अमावस्या दिलाती है पितरों को मोक्ष

वैशाख अमावस्या – ब...

अमावस्या चंद्रमास के कृष्ण पक्ष का अंतिम दिन माना जाता है इसके पश्चात चंद्र दर्शन के साथ ही शुक्ल पक्ष की शुरूआत होती है। पूर्णिमांत पंचांग क...

और पढ़ें...
बृहस्पति ग्रह – कैसे हुआ जन्म और कैसे बने देवगुरु पढ़ें पौराणिक कथा

बृहस्पति ग्रह – कै...

गुरु ग्रह बृहस्पति ज्योतिष शास्त्र में बहुत अहमियत रखते हैं। ये देवताओं के गुरु माने जाते हैं इसी कारण इन्हें गुरु कहा जाता है। राशिचक्र की ध...

और पढ़ें...
बाबा खाटू श्याम - हारे का सहारा बाबा श्याम हमारा

बाबा खाटू श्याम - ...

निर्धन को धनवान का, निर्बल को बलवान और इंसा को भगवान का सहारा मिलना चाहिये। हिम्मत वाले के हिमायती तो राम बताये ही जाते हैं लेकिन हारे हुए बि...

और पढ़ें...
मेंहदीपुर बालाजी – यहां होती है प्रेतात्माओं की धुलाई

मेंहदीपुर बालाजी –...

मेंहदीपुर बाला जी का नाम तो आपने बहुत सुना होगा। हरियाणा, राजस्थान, दिल्ली व उत्तरप्रदेश में तो बालाजी के भक्तों की बड़ी तादाद आपको मिल जायेग...

और पढ़ें...