Skip Navigation Links
क्या आपके बने-बनाये ‘कार्य` बिगड़ रहे हैं? सावधान ‘विष योग` से


क्या आपके बने-बनाये ‘कार्य` बिगड़ रहे हैं? सावधान ‘विष योग` से

इंसान का व्यवहार और कार्य, कुंडली के शुभ और अशुभ योगों से प्रभावित होता रहता है। जहाँ शुभ योग, अच्छे फल प्रदान करते हैं वहीँ अशुभ योग पीड़ादायक साबित होते हैं। अगर समय से कुंडली के अशुभ योगों को पहचान लिया जाए और सावधानियां बरती जायें तो पीड़ा को कुछ कम भी किया जा सकता है। अशुभ योग में एक नाम ‘विष योग’ आता है।

आईये पढ़ते हैं क्या होता है विष योग और इसकी पीड़ा को कैसे कम किया जा सकता है-

व्यक्ति की कुण्डली में विष योग का निर्माण ‘शनि और चन्द्रमा’ के कारण बनता है। शनि और चन्द्र की जब युति( दो कारकों का जुड़ा होना) होती है तब विष योग का निर्माण होता है।

कुंडली मिलान से जानें क्या आपकी कुंडली में विष योग है 



कुंडली में ‘विष योग’ उत्पन्न होने के कारण

लग्न में अगर चन्द्रमा है और चन्द्रमा पर शनि की 3, 7 अथवा 10 वे घर से दृष्टि होने पर भी इस योग का निर्माण होता है।

कर्क राशि में शनि पुष्य नक्षत्र में हो और चन्द्रमा मकर राशि में श्रवण नक्षत्र का रहे अथवा चन्द्र और शनि विपरीत स्थिति में हों और दोनों अपने-अपने स्थान से एक दुसरे को देख रहे हो तो तब भी विष योग की स्थिति बन जाती है।

यदि कुण्डली में आठवें स्थान पर राहु मौजूद हो और शनि (मेष, कर्क, सिंह, वृश्चिक) लग्न में हो तब भी विष योग की स्थिति बन जाती है।


‘विष योग’ से होने वाली परेशानियां  

यह योग मृत्यु, भय, दुख, अपमान, रोग, दरिद्रता, दासता, बदनामी, विपत्ति, आलस और कर्ज जैसे अशुभ योग उत्पन्न करता है तथा इस योग से जातक (व्यक्ति) नकारात्मक सोच से घिरने लगता है और उसके बने बनाए कार्य भी काम बिगड़ने लगते हैं।


कैसे पहचानें ‘विष योग’ को

यदि आप अपनी कुंडली किसी अच्छे और विद्यवान ज्योतिष को दिखाते हैं तो वह कुंडली का विश्लेषण कर, आपको विष योग बनने के समय को बता सकता है।

एस्ट्रोयोगी ज्योतिष से विष योग की जानकारी के लिए क्लिक करें 



इन सरल उपायों से विष योग की पीड़ा को कम किया जा सकता है


विष योग की पीड़ा को कम करने के लिए महादेव शिव की आराधना व उपासना शुभ रहती है। ‘ऊँ नमः शिवाय’ मन्त्र का नित्य रोज (सुबह-शाम) कम से कम 108 बार करना चाहिए।

शिव भगवान के ‘महा म्रंत्युन्जय मन्त्र’ का जाप, प्रतिदिन (5 माला जाप) करने से भी पीड़ा कम हो जाती है।

राम भक्त, हनुमान जी की पूजा, पूरे नियम के साथ करना भी इस योग में शुभ बताया गया है।

 
शनिवार को शनि देव का संध्या समय तेलाभिषेक करने से भी पीड़ा कम हो जाती है।




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

मार्गशीर्ष – जानिये मार्गशीर्ष मास के व्रत व त्यौहार

मार्गशीर्ष – जानिय...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है...

और पढ़ें...
शनि शिंगणापुर मंदिर

शनि शिंगणापुर मंदि...

जब भी जातक की कुंडली की बात की जाती है तो सबसे पहले उसमें शनि की दशा देखी जाती है। शनि अच्छा है या बूरा यह जातक के भविष्य के लिये बहुत मायने ...

और पढ़ें...
जानिये उत्पन्ना एकादशी व्रत कथा व पूजा विधि

जानिये उत्पन्ना एक...

एकादशी व्रत कथा व महत्व के बारे में तो सभी जानते हैं। हर मास की कृष्ण व शुक्ल पक्ष को मिलाकर दो एकादशियां आती हैं। यह भी सभी जानते हैं कि इस ...

और पढ़ें...
हिंदू क्यों करते हैं शंख की पूजा

हिंदू क्यों करते ह...

शंख हिंदू धर्म में बहुत ही पवित्र माना जाता है। जैसे इस्लाम में अज़ान देकर अल्लाह या खुदा का आह्वान किया जाता है उसी तरह हिंदूओं में शंख ध्वन...

और पढ़ें...
भैरव जयंती – भैरव कालाष्टमी व्रत व पूजा विधि

भैरव जयंती – भैरव ...

क्या आप जानते हैं कि मार्गशीर्ष मास की कालाष्टमी को कालाष्टमी क्यों कहा जाता है? इसी दिन भैरव जयंती भी मनाई जाती है क्या आप जानते हैं ये भैरव...

और पढ़ें...