Skip Navigation Links
कंकण सूर्यग्रहण: शुभ परिवर्तन के साथ नई शुरुआत!


कंकण सूर्यग्रहण: शुभ परिवर्तन के साथ नई शुरुआत!

इस तीसरे सहस्राब्दी का सबसे अधिक लम्बे समय तक चलने वाला सूर्यग्रहण 15 जनवरी 2010, शुक्रवार को दिखाई देगा। एक दिव्य खगौलिक घटना को दोबारा देखना हम में से किसी के लिए संभव न होगा क्योंकि अगली बार इस प्रकार का कंकण सूर्यग्रहण वर्ष 3043 में दिखाई देगा।


यह एक कंकण सूर्योग्रहण है जिसमें चन्द्रमा द्वार छिपाया गया सूर्य एक आग की अँगूठी (मुद्रा) के जैसा प्रतीत होता है। भारत के अधिकाँश क्षेत्रों में इस सूर्यग्रहण का केवल आँशिक रुप ही देखा जा सकेगा।


जैसा कि माना जाता है कि मानव जीवन पर सूर्यग्रहण का शुभ प्रभाव ही पड़ता है, ज्योतिष शास्त्र का भी यही मानना है। सूर्यग्रहण के पश्चात पुरानी वस्तुओं, विचारों एवं प्रभावों का अन्त होता है और एक बिल्कुल नए दौर की शुरुआत होती है। इस कंकण सूर्यग्रहण का प्रभाव भी प्रत्येक मनुष्य पर पड़ेगा और इसके पश्चात हम सभी को अपने- अपने व्यक्तिगत प्रयासों से अपनी कार्यकुशलता एवं योग्यता को और अधिक विकसित करना होगा।


यह सूर्यग्रहण 25°01'  मकर राशि में लगेगा, मकर – एक समुद्री बकरी का चिन्ह है। इसके साथ ही उसी दिन शुक्र के संयोग से बुध ग्रह भी कई सप्ताह की अपनी उल्टी अथवा वक्रीय चाल छोड़कर अपनी मार्गीय स्थिति ग्रहण कर रहा है। इसलिए यह सूर्यग्रहण मानवजाति के लिए अतिकल्याणकारी और मंगलमयी है और हमारे विभिन्न प्रकार के तनावों एवं कष्टों को नष्ट करके पूरे विश्व को एक नई शुरुआत प्रदान कर रहा है।


इस कंकण सूर्यग्रहण के बाद आप खुद को मानसिक एवं भावनात्मक तौर पर बहुत शक्तिशाली एवं ऊर्जावान् महसूस करेंगे। जिन देशों में यह ग्रहण दिखाई देगा (जैसे अफ्रीका, एशिया, पूर्वी यूरोप) उन पर तो इसके सबसे अधिक प्रभाव पड़ेंगे। इस कंकण सूर्यग्रहण पर हमें विभिन्न प्रकार के  आकस्मिक राजनैतिक, प्राकृतिक एवं आर्थिक बदलावों के लिए तैयार रहना होगा। इस कंकण सूर्यग्रहण का अधिकत्तम प्रभाव फरवरी 15, 2010 लगभग 1 महीने तक रहेगा और उसके बाद धीरे- धीरे कम होगा।


ज्योतिष के अनुसार कंकण सूर्यग्रहण से हम कुछ नया शुरु कर सकते हैं, कोई संकल्प अथवा प्रण ले सकते हैं, कोई विशेष निर्णय अथवा प्रतिज्ञा कर सकते हैं, अधिक यात्रा कर सकते हैं, अधिक व्यस्त होने से तनाव महसूस कर सकते हैं या भावनात्मक कलह का सामना भी कर सकते हैं।


तो फिर आइए जानते हैं कि विभिन्न सूर्य राशियों पर इस कंकण सूर्यग्रहण का क्या प्रभाव पड़ेगा:


मेष
कंकण सूर्यग्रहण का मेष राशि पर तो सकारात्मक प्रभाव रहेगा और इसके बाद आप अधिक स्वतन्त्र महसूस करेंगे, आपको कई नए अवसर प्राप्त होंगे आप कोई नया कार्य आरम्भ कर सकते हैं जिसमें कि आप पूर्णतयाः सफल भी रहेंगे इसके लिए इस कंकण सूर्यग्रहण का धन्यवाद अवश्य करें।


वृष
वृष राशि के लिए कंकण सूर्यग्रहण धन- लाभ ला रहा है लेकिन इस दौरान आपको अपनी सेहत का बहुत ख्याल रखना होगा। ऍस्ट्रोयोगी का कथन है कि आप कुछ सुस्त अवश्य हो जाएंगे किन्तु अपने “करो या मरो” की सोच के बलबूते आप इस दौर को भी जीत लेंगे।


मिथुन
मिथुन राशि पर वैसे तो इस कंकण सूर्यग्रहण का कोई प्रभाव नहीं होगा किन्तु फिर भी अपने दंपत्ति एवं बच्चों का विशेष ख्याल रखें। ऍस्ट्रोयोगी कहते हैं कि कुछ बाधाएँ पैदा होंगी किन्तु आप भी इस दौरान बेहद चौकस रहेंगे और हर एक समस्या को नए तरीके से हल करेंगे।


कर्क
कर्क राशि को कंकण सूर्यग्रहण के बाद अपने लक्ष्यों को पाने के लिए बेहद एकाग्रचित्त होकर काम करना होगा। साथ ही आपको अपने स्वास्थ्य का भी विशेष ख्याल रखना होगा। यदि आप किसी स्वास्थ्य संबंधी समस्या से ग्रसित हैं तो उसका शीघ्रातिशीघ्र उचित इलाज कराएं।


सिंह
कंकण सूर्यग्रहण सिंह राशि के लिए बहुत अच्छा समय लेकर आ रहा है। अपनी मनोकामनाओं की पूर्ति करने एवं विदेश से मिलने वाले किसी अवसर का लाभ उठाने के लिए ये समय सर्वथा उपयुक्त होगा। ऍस्ट्रोयोगी के अनुसार इस दौरान आप जौ कुछ भी नया कार्य करेंगे वह सफल रहेगा।


कन्या
कन्या राशि के लिए कंकण सूर्यग्रहण कुछ छोटी- मोटी व्यवसायिक समस्याएँ लेकर आ रहा है। आप जो नहीं चाह रहे थे अंततः वह आपके लिए लाभदायक सिद्ध होगा इसलिए किसी भी अवसर को हाथ से न जाने दें।


तुला
तुला राशि! ऍस्ट्रोयोगी का कहना है कि धन- संबंधी मामलों को लेकर सावधान रहें! फरवरी 15, 2010 से पहले किसी भी प्रकार के नए समझौते अथवा योजना को टालना ही बेहतर रहेगा। तो किसी भी प्रकार के निर्णय को लेने के लिए इस कंकण सूर्यग्रहण के प्रभाव को समाप्त होने दें जो कि लगभग 1 महीने तक रहेगा।


वृश्चिक
ऍस्ट्रोयोगी के कथनानुसार यह कंकण सूर्यग्रहण आप पर बहुत शुभ प्रभाव डालेगा। इस के  प्रभाव के दौरान आप न केवल उत्साहपूर्ण रहेंगे बल्कि यह समय आपके जीवन के सबसे अधिक उत्पादक एवं रचनात्मक दौरों में से एक होगा।


धनु
धनु राशि! इस कंकण सूर्यग्रहण के दौरान बेहद सावधान रहें, विशेषकर अपने स्वास्थ्य के प्रति। ग्रहण के बाद फरवरी 15, 2010 तक कोई भी महत्वपूर्ण निर्णय अथवा नया कार्य शुरु करने से परहेज ही करें। लेकिन इस दौरान आप अपने प्रियजनों के साथ बेहद संतोषजनक समय बिताएँगे।


मकर
मकर राशि! कंकण सूर्यग्रहण काल एवं उसके प्रभाव के दौर में आपको बेहद सतर्क रहना होगा। ऍस्ट्रोयोगी के अनुसार यधपि इसके बाद आपको धन- लाभ तो होगा किन्तु सेहत- संबंधी समस्या भी आपको परेशान कर सकती है, विशेषकर यदि आप पहले से ही किसी स्वास्थ्य- संबंधी समस्या से ग्रसित हैं तो।


कुँभ
इस कंकण सूर्यग्रहण से आप अध्यात्मिकता एवं धार्मिकता की ओर आकृष्ट होंगे। आप अपने अन्तर्मन से इतने अधिक जुड़ जाएँगे जितना शायद ही कभी पहले जुड़े हों। इस दौरान अपनी सेहत का ख्याल रखें और फरवरी 15, 2010 तक लंबी यात्राओं से परहेज ही करें।


मीन
मीन राशि! यह कंकण सूर्यग्रहण वास्तव में आपके लिए तो अतिविशेष है। इस दौरान आपकी आर्थिक स्थिति बहुत मजबूत होगी और आपको हर प्रकार से लाभ ही होंगे। ग्रहण के प्रभाव से आप सारे वर्ष ही बहुत सी यात्राएँ करेंगे।





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

यहाँ भगवान शिव को झाड़ू भेंट करने से, खत्म होते हैं त्वचा रोग

यहाँ भगवान शिव को ...

ईश्वर भी कितना महान है, ना कोई इच्छा होती है ना कोई चाह होती है भक्त जो भी दे प्यार से सब स्वीकार कर लेता है। शायद यही एक बात है जो भगवान को ...

और पढ़ें...
मार्गशीर्ष – जानिये मार्गशीर्ष मास के व्रत व त्यौहार

मार्गशीर्ष – जानिय...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है...

और पढ़ें...
शनि शिंगणापुर मंदिर

शनि शिंगणापुर मंदि...

जब भी जातक की कुंडली की बात की जाती है तो सबसे पहले उसमें शनि की दशा देखी जाती है। शनि अच्छा है या बूरा यह जातक के भविष्य के लिये बहुत मायने ...

और पढ़ें...
जानिये उत्पन्ना एकादशी व्रत कथा व पूजा विधि

जानिये उत्पन्ना एक...

एकादशी व्रत कथा व महत्व के बारे में तो सभी जानते हैं। हर मास की कृष्ण व शुक्ल पक्ष को मिलाकर दो एकादशियां आती हैं। यह भी सभी जानते हैं कि इस ...

और पढ़ें...
हिंदू क्यों करते हैं शंख की पूजा

हिंदू क्यों करते ह...

शंख हिंदू धर्म में बहुत ही पवित्र माना जाता है। जैसे इस्लाम में अज़ान देकर अल्लाह या खुदा का आह्वान किया जाता है उसी तरह हिंदूओं में शंख ध्वन...

और पढ़ें...