Skip Navigation Links
वार्षिक राशिफल 2013 – प. उमेश चन्द्र पन्त – ज्योतिषाचार्य


वार्षिक राशिफल 2013 – प. उमेश चन्द्र पन्त – ज्योतिषाचार्य

मेष (Aries): चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ।

यद्यपि आप चुनौतियों और प्रतिशोधों का सामना करेंगे किंतु निवेश से बचना चाहिए। धन को सोच समझकर उपयोग करें। आपकी प्रगति एवं किस्मत अच्छी रहेगी। कैरियर क्षेत्र में उन्नति होगी। जीवन की स्थिति स्पष्ट करेंगे। अपने कैरियर को सँवारने हेतु शक्ति एवं लाभकारी स्थिति 14 मार्च 2013 के बाद दिखेंगी। अचल संपत्ति में लाभ होगा। 31 मई 2013 के बाद लाभकारी समय शुरु होगा। अंहकार के कारण पारिवारिक विवाद या दाम्पत्य जीवन में परेशानियाँ होगी। अचल सम्पत्ति का लाभ होगा। किसी भी प्रकार के कानूनी उलझनो से बचें। उच्च आय एवं बेहतर स्वास्थ्य रहेगा। वर्ष का पूर्वाद्ध जहां खुशियां लेकर आयेगा, वही उत्तरार्द्ध कष्टप्रद प्रतीत होगा। घर-परिवार की चिन्ता रहेगी। प्रतियोगी परीक्षाओं में वांछित सफलता मिलेगी। यह वर्ष विशेष उपलब्धियों का हो सकता है। आर्थिक लाभ हेतु आप वांछित प्रयास करेंगे जो सफल भी होंगे।

विशेष: कुल मिलाकर वर्ष में बेहतर स्वास्थ्य एवं उच्च आय रहेगी।
प्रभावशाली मंत्र: ‘‘ऊँ श्रीं नमः’’

वृषभ (Taurus): उ, इ, ऐ, ओ, बा, बी, बे, बो।
वर्ष 2013 आपके लिए यादगार वर्ष होगा। उत्कृष्ट प्रगति का दौर चलेगा। व्यावसायिक यात्रायें होगीं एवं आशातीत सफलता मिलेगी। अच्छी किस्मत रहेगी, उच्च स्तर की प्रगति होगी। स्पष्ट नीति निर्धारण कर, कैरियर प्रगति उच्च होगी। जून 2013 के बाद, आर्थिक रुप से उन्नति मिलेगी। लाभकारी अवसर आयेंगे। उच्चाधिकारियों से बहस से बचें। वरिष्ठ लोगो का समर्थन व सहयोग मिलेगा। शासन सत्ता से लाभकारी स्थितियाँ आयेंगी। कुछ चुनौतियों का भी सामना करना पड़ेगा। स्वास्थ्य का ध्यान रखें, अत्यधिक कार्य के कारण स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है। आर्थिक दृष्टि से यह वर्ष धन संचय के लिए महत्वपूर्ण होगा। इस वर्ष आप अनेक दुस्साहस पूर्ण कदम भी उठायेंगे। बुद्धि कौशल से मार्च अप्रैल में वांछित लाभ होगा। स्वार्णाभूषण में निवेश लाभप्रद रहेगा। विद्यार्थियो को प्रतियोगिता परीक्षा में सफलता मिलेगी। लंबी यात्राऐं होंगी। घर में मांगलिक कार्य सम्पन्न होगा।
विशेष: इस वर्ष प्रगति लाभ एवं आय में वृद्धि होगी।
प्रभावशाली मंत्र: ‘‘श्रीं कृष्ण शरणं मम्’’

मिथुन( Gemini): क, की, कू, घ, ड, छ, के, को, हा।
वर्ष 2013 एक नई सोच, एक नई योजना लेकर आयेगा। व्यापार में सकारात्मक परिणाम देखने को मिलेंगे। उच्च, वरिष्ठों से बहुत कुछ सीखने को मिलेगा। भाई-बहनों के साथ रिश्तों में सावधानी रखे। आय में वृद्धि होगी। अविवाहितों को वैवाहिक जीवन मिलेगा। 16 जुलाई 2013 के बाद बारम्बार लाभकारी स्थितियाँ आयेगी। राजकीय कार्यो में सफलता मिलेगी। भागीदारी कार्यो में अंहकार से बचें। स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। पारिवारिक माहौल नकारात्मक रहने से निराशा होगी। संतान संबंधी समस्या आ सकती है। धन संचय में कमी आयेगी। ऋण लेने की स्थितियाँ उत्पन्न होंगी। जीवन साथी से संबंधों में परेशानी आ सकती है, यह परिवार में क्लेश का कारण होगा। भागीदारी में लाभ होगा। जीवन साथी को लेकर मन में अनेक चिंताऐ भी होगी। सुख साधनों में वृद्धि होगी। भूमि-भवन का लाभ होगा। इस वर्ष आपको प्रसिद्धि भी प्राप्त होगी। आकस्मिक धन प्राप्ति सम्भव। आय में वृद्धि होगी। विदेश यात्रा के योग आयेंगे।
विशेष: भाई-बहन के साथ इस वर्ष नम्रतापूर्ण रिश्ते रखने का ख्याल रखें।
प्रभावशाली मंत्र: ‘‘ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय’’

कर्क (Cancer): ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो।
वर्ष 2013 में कार्य क्षेत्र में सावधानी से कार्य करना होगा। ध्यान रखें कि अपना काम अच्छी तरह हो। कठिन मुद्दे सामने आयेंगे। मई 2013 तक विशेष सावधानी रखनी चाहिए। मई 2013 के बाद अच्छी आय एवं उच्च लाभ के अवसर आयेंगे। ऊर्जा के स्तर एवम् सहनशक्ति के स्तर का ध्यान रखे, खासकर फरवरी मध्य 2013 तक। कैरियर के मोर्चे पर नये दरवाजे खुलने की सम्भावना है। उच्च आय एवं बेहतर स्वास्थ्य मिलेगा। भवन, वाहन की प्राप्ति सम्भव। प्रभावशाली लोगो से बहस से बचें। वर्ष घटना प्रधान रहेगा। माता के स्वास्थ्य के कारण चिन्तित रहेंगे। जमा पूंजी में वृद्धि होगी। उत्तरार्द्ध में आय की अपेक्षा व्यय अधिक होगा। दूरस्थ यात्राऐं करनी होंगी। नये कार्य स्थान का प्रारम्भ होगा। किसी भूमि-भवन के विक्रय में लाभ होगा। राजकीय कार्यो में लाभ होगा। साझेदारी कार्यो में लाभ होगा। जीवन साथी के नाम से किया गया निवेश लाभकारी होगा। पैतृक सम्पति में विवाद की स्थितियाँ आयेगी। पारिवारिक शांति स्थापित करने हेतु अथक प्रयास करना पड़ेगा।
विशेष: कार्य स्थान पर विशेष सावधानी एवम् अनावश्यक वाद विवाद से बचें।
प्रभावशाली मंत्र: ‘‘ऊँ गं गणपतये नमः’’

सिंह (Leo): मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे।
वर्ष 2013 में कार्य क्षेत्र में उच्च गतिविधियाँ होंगी। अत्यंत परिश्रम एवम् व्यावसायिक दबाव के चलते कार्य क्षेत्र में व्यस्तता रहेगी। आपके अथक परिश्रम से आपको शुभ समय एवं भाग्यशाली अवसर मिलेगा। मनोकामनाऐं पूर्ण होंगी। वर्ष में दो-तीन बार आप कैरियर सँवारने या नौकरी बदलने का प्रयास करेंगे। किसी के लिए अत्यधिक प्रतिबद्धता से बचें। खेल में चोट लग सकती हैं। सामाजिक दृष्टि से आप पुरस्कृत भी होंगे। समाज में आपका वर्चस्व बढ़ेगा। जुलाई 2013 तक आप अपने एजेंडे को व्यापकता देंगे। नए लोगो से मिलना होगा। कुल मिलाकर असाधारण वर्ष जायेगा। कार्य व्यवसाय में आशातीत लाभ होगा। वरिष्ठ अधिकारियों से संबंध मधुर होंगे। जीवन साथी के लिए वर्ष शुभप्रद रहेगा। यदि आप अविवाहित हैं तो विवाह संबंध बनेगे। विद्यार्थी वर्ग के लिए सफलता दायक वर्ष रहेगा। अनावश्यक यात्राओं से फिजूल खर्ची होगी। पैतृक धन प्राप्ति होगी। विदेश संबंधी यात्रा अथवा विदेश व्यापार लाभप्रद रहेगा। वर्ष में आर्थिक लाभ के साथ-साथ जिम्मेवारियाँ भी बढ़ेगी। वर्ष का उत्तरार्द्ध सबसे सफल जायेगा।
विशेष: यह वर्ष आपके लिए असाधारण वर्ष रहेगा।
प्रभावशाली मंत्र: ‘‘ऊँ विष्णवेनमः’’

कन्या (Virgo):  टो, पा, पू, ष, ण, ठ, पे, पी।
वर्ष 2013 में वित्तीय स्थिति में सुधार होगा। पारिवारिक मामलो में चुनौतिया रहेंगी। व्यापारिक यात्राऐं सुखद सकारात्मक परिणाम देगी। दाम्पत्य जीवन सुखमय रहेगा। उच्चाधिकारियों के सहयोग से पदोन्नति मिलेगी। बच्चों के संबंध में अंहकार में उल्लेखनीय वृद्धि होगी। करीबी लोगों से वाद-विवाद की स्थितियाँ आएगी। वार्ता में संयमित भाषा का प्रयोग करें। कुछ लोगो से विवाद की स्थितियाँ आ सकती हैं। वर्ष जहाँ घटना प्रधान रहेगा। वही बारम्बार लाभ के अवसर भी आयेंगे। प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता मिलेगी। माता के स्वास्थ्य के कारण चिंता होगी। घर परिवार में मांगलिक कार्य होंगे। वर्ष में कई-कई बार गृह क्लेश का सामना करना पड़ेगा। भूमि-भवन से माता-पिता को लाभ की स्थितियाँ आयेंगी। आर्थिक स्थितियों में अत्यन्त उतार चढ़ाव देखने को मिलेंगे। निवेश में सामान्य लाभ होगा। वर्ष के अन्तिम भाग में उन्नति अपेक्षाकृत अच्छी होगी। वर्ष में कई बार भाग्योदय कारी स्थितियाँ आयेंगी। धार्मिक कार्यो के प्रतिरुझान बढ़ेगा।
विशेष:संतान के कारण चिन्ता एवम् अहंकार से बचना चाहिए।
प्रभावशाली मंत्र: ‘‘ऊँ नमः शिवाय’’

तुला (Libra): रा, री, रू, रे, ता, ती, तू, ते।
वर्ष 2013 में साझोदारी एवम् परिवार संबंधी मामलो में रूखापन आ सकता है। बिना वजह प्रियजनों से वाद विवाद हो सकता है। बेवजह यात्राओं में समय व धन की बर्बादी होगी। आर्थिक मामलों में पेशेवर दृष्टिकोण अपनाना हितकर होगा। नौकरी या सेवा के मामले में मन में भ्रम बना रहेगा। स्वास्थ्य का ध्यान रखना चाहिए। कुछ चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। उपलब्धियों के बीच, कई बार जीवन संघर्ष चरम पर होगा। कार्य स्थान में बदलाव भी होगा। मानसिक अशांति का सामना करना पड़ेगा। धन प्राप्ति हेतु कठोर परिश्रम करना पड़ेगा। सोने, चाँदी, बैंक आदि में निवेश शुभप्रद रहेगा। वर्ष पर्यत्न साढेसाती के प्रभाव के कारण अत्यंत उतार-चढ़ाव देखने को मिलेंगे। बार बार कैरियर की चिंता से परेशान रहेंगे। धार्मिक क्रियाकलाप पूजा, अनुष्ठान क्रियान्वित होंगे। अत्यधिक आलस्य की स्थितियाँ आयेगी। स्वास्थ्य की दृष्टि से वर्ष कष्टप्रद रहेगा। अनियमित दिनचर्या के कारण स्वास्थ्य प्रभावित होगा, वर्षान्त में खर्चो में अनावश्यक वृद्धि होगी।
विशेष: कुल मिलाकर व्यावसायिक एवं वित्तीय सुखानुभूति होगी।
प्रभावशाली मंत्र: ‘‘ऊँ नमः शिवाय’’

वृश्चिक (Scorpio): तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू।
वर्ष 2013 में अधिकाशं समय व्यावसायिक गतिविधियों में व्यतीत होगा। परियोजनाओं में मित्रवर्ग से वांछित सहयोग मिलेगा। आकर्षण एवं रोमांस से भावनात्मक जुड़ाव होगा। ससुराल पक्ष से वांछित सहयोग मिलेगा। कार्य स्थान पर वरिष्ठ लोगो से तीखी नोक झोक हो सकती है। आय अनुरुप व्ययाधिक्य रहेगा। उच्च आय एवम् बेहतर स्वास्थ्य से प्रसन्नता होगी। विकास के लिए नये क्षेत्रों से जुड़ेगे। पारिवारिक अचल सम्पत्ति का लाभ होगा। कार्य व्यवसाय की दृष्टि से वर्ष अत्यंत संघर्षपूर्ण रहेगा। उदासी की भावना मन में रहेंगी। वरिष्ठ अधिकारियों से वैचारिक मतभेद रहेंगे। बारम्बार मानसिक अशांति के कारण परेशान रहेंगे। मानसिक स्थिति द्वन्दात्मक रहेगी। जहाँ वर्षारम्भ में ही अत्यंत खर्चे की स्थितियाँ आयेंगी, वही मध्य में कुछ राहत मिलेगी। आर्थिक संसाधनो के लिए अत्यंत संघर्ष करना पड़ेगा। छोटी दूरी की यात्राओं का आधिक्य होगा। मार्च माह में कुछ राहत मिलेगी। कई संघर्षो के बावजूद कार्य दक्षता उच्च कोटि की होगी। उत्तरार्द्ध में ऋण प्रबन्धन का प्रयास करेंगे। वर्षान्त में सम्मान का स्तर बढ़ जायेगा।
विशेष: कुल मिलाकर वर्ष संघर्षपूर्ण रहेगा।
प्रभावशाली मंत्र: ‘‘ऊँ गं गणपतये नमः’’

धनु (Sagittarius):  ये, यो, भ, भी, भू, धा, फा, ढा, भे।
वर्ष 2013 सामाजिक रुप से अत्यंत सुखद रहेगा। मित्रो व परिजनो का वांछित सहयोग मिलेगा। कार्य स्थान में तनाव की स्थितियाँ आयेंगी किन्तु आप स्थितियाँ व्यवस्थित कर लेंगे। आय के नये स्त्रोत खुलेंगे। यदि आप नई नौकरी देख रहे हैं तो, थोड़ा इंतजार करना पड़ेगा। जून उपरांत अविवाहितों हेतु विवाह के प्रस्ताव आयेंगे। यदा कदा पारिवारिक वातावरण दूषित सा रहेगा। उत्तरोतर विकास एवं वृद्धि होगी। निवेश के क्षेत्र में आप अच्छा लाभ अर्जित करेंगे। वर्ष मिश्रित फलदायक रहेगा। जहाँ शुरु में आप समस्याओं को हल करने में लगे होंगे वही धीरे-धीरे उत्तरार्द्ध में लाभ की मात्रा बढ़ जायेगी। जून उपरांत परिस्थितियाँ अनुकूल होगी। निवेश में लाभ ही लाभ होगा। छुट-पुट को छोड़ सामान्यतः पारिवारिक शांति बनी रहेगी। दूरस्थ यात्राऐं होंगी। प्रतियोगिता परिक्षा में सफलता से यह वर्ष उत्तम रहेगा। इस वर्ष आप चल-अचल सम्पति के स्वामी भी बनेंगे। जीवन साथी के नाम से या मिलकर किया गया पंूजी निवेश लाभप्रद होगा।
विशेष: असाधारण प्रगति एवं लाभ मार्ग प्रशस्त होगा।
प्रभावशाली मंत्र: ‘‘ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय’’

मकर (Capricorn): भो, जा, जी, खी, खू, खे, खो, ग, गी।
यह वर्ष 2013 आपके कार्य स्थान में विचित्र भूमिका लेकर आयेगा। आपका आत्म विश्वास, व्यक्तित्व एवम् क्षमता नियंत्रण एवं उच्च स्तर पर होगी। आपको कैरियर का उत्कृष्ट अवसर प्राप्त होगा। वाणी का अनियंत्रण कष्टकारक सिद्ध होगा। आर्थिक रुप से यह वर्ष आपके लिए औसत रहेगा। वाहन, घर आदि का लाभ होगा। आजीविका क्षेत्र में कोई बड़ा उतार चढ़ाव देखने को मिल सकता है। व्यवसाय की दृष्टि से यह वर्ष उत्तम रहेगा। आप अधिक से अधिक लाभ अर्जित करेंगे। पारिवारिक सामंजस्य बना रहेगा। सामान्यतः स्वास्थ्य ठीक रहेगा। उत्तरार्द्ध में प्रतियोगिता परीक्षा में वांछित लाभ होगा। आपकी आजीविका में असाधारण परिवर्तन आ सकते है।, सामान्यतः आपने जिसकी कल्पना भी नही की होगी। आर्थिक दबाव की स्थितियाँ आयेंगी। एक तरफ आपकी लोकप्रियता बढ़ेगी किंतु कुछ स्थानों पर मनमुटाव भी बढ़ेगा। समाज में मान सम्मान मिलेगा। आध्यात्मिक रूचि बढ़ेगी। वर्षांत तक कार्य का विस्तार होगा।
विशेष: कुल मिलाकर इस वर्ष में वांछित विकास एवं प्रगति होगी।
प्रभावशाली मंत्र: ‘‘ऊँ श्री कृष्णाय नमः’’ एवम् ‘‘ऊँ श्रीं नमः’’

कुंभ (Aquarius): गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा।
इस वर्ष 2013 में आप अपने आप को सशक्त एवं मजबूत पायेंगे। धर्मार्थ कार्यो में अत्यधिक व्यय करेंगे। वर्षातं तक मन में संदेह की स्थितियाँ रहेगी। सफलता के लिए विभिन्न अभिनय एवं चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा। आपको कुछ आकस्मिक अवसर प्राप्त होंगे किंतु अपरिपक्वता के कारण असफलता मिलेंगी। परिवार में किसी बुजुर्ग के स्वास्थ्य के कारण चिंता रहेगी। व्यावसायिक क्षेत्र में अकस्मात बड़ा लाभ होगा। मानसिक अशांति के कारण परेशान रहेंगे। प्रतियोगी परीक्षाओं हेतु अत्यधिक श्रम उपरांत भी लाभ में संदेह है। आय की अपेक्षा व्यय अधिक होने से आर्थिक परेशानियाँ झेलनी पड़ेगी। अविवाहितों हेतु नये वैवाहिक संबंध आयेंगे। पारिवारिक वातावरण उत्साहवर्धक रहेगा। तीर्थयात्रा का लाभ मिलेगा। दूरस्थ व्यावसायिक यात्राऐं भी होंगी। धर्म कर्म में रूचि बढ़ेगी। यदि संतान प्राप्ति की कामना है तो वह पूर्ण होगी। शत्रु पक्ष से पीड़ा होगी। आप कुछ नया करने की सोचेंगे जिसमें सफल भी होंगे।
विशेष: वर्ष 2013 में बेहतर वित्तीय लाभ एवं उच्च अवसर देकर ही जायेगा।
प्रभावशाली मंत्र: ‘‘ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय’’

मीन (Pisces):  दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची।
वर्ष 2013 में आपकी सार्वजनिक छवि एवं सामान्य कद में वृद्धि होगी। आर्थिक रुप से आपको संसाधनो की जरुरत है। पारिवारिक आवश्यकताओं के कारण दबाव में रहेंगे। किसी बड़े निवेश से बचना चाहिए क्योंकि यह निरर्थक सिद्ध होगा। पद, प्रतिष्ठा प्रभावित होगी। मई 2013 के बाद ही स्थितियों में वांछित सुधार आयेगा। नया व्यापार एवं साझेदारी आपके लिए लाभप्रद रहेगा। वाणी की कठोरता के कारण कुछ मित्रों से संबंध विच्छेद की स्थितियाँ आयेंगी। नौकरी पेशा लोगो को अकारण अपमान, आरोप आदि का सामना करना पड़ेगा। अनावश्यक वाद विवाद से बचना चाहिए। आर्थिक दृष्टि से कष्टदायक स्थितियाँ आ सकती हैं। पूंजी निवेश में हानि हो सकती है। धर्म कर्म के प्रति रूचि बढ़ेगी। नौकरी में दूरस्थ स्थानांतरण की संभावना। यह वर्ष कठिनाइयाँ दे सकता है, अतः सावधानी से कार्य लेना चाहिए। जहाँ पूर्वाद्ध कठिन जायेगा तो उत्तरार्द्ध में वांछित सफलता भी मिलेगी। इस वर्ष आप कुछ नया करने की भी सोचेंगे। आर्थिक लाभ के स्तर को लेकर तरह-तरह की चिंताऐ होगी किंतु समाधान भी निकलेगा। वर्षातं अपेक्षाकृत अच्छा जायेगा।
विशेष: कुल मिलाकर यह वर्ष तनाव व कुछ व्यक्तिगत परेशानियों में गुजरेगा।
प्रभावशाली मंत्र: ‘‘ऊँ गं गणपतये नमः’’
 





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

गीता जयंती 2016 - भगवान श्री कृष्ण ने कुरुक्षेत्र में दिया था गीता का उपदेश

गीता जयंती 2016 - ...

कर्मण्यवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन |मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोSस्त्वकर्मणि ||मनुष्य के हाथ में केवल कर्म करने का अधिकार है फल की चिंता करन...

और पढ़ें...
मोक्षदा एकादशी 2016 – एकादशी व्रत कथा व महत्व

मोक्षदा एकादशी 201...

एकादशी उपवास का हिंदुओं में बहुत अधिक महत्व माना जाता है। सभी एकादशियां पुण्यदायी मानी जाती है। मनुष्य जन्म में जाने-अंजाने कुछ पापकर्म हो जा...

और पढ़ें...
2017 में क्या कहती है भारत की कुंडली

2017 में क्या कहती...

2016 भारत के लिये काफी उठापटक वाला वर्ष रहा है। जिसके संकेत एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों ने उक्त समय दिये भी थे। खेलों के मामले में भी हमने कह...

और पढ़ें...
क्या हैं मोटापा दूर करने के ज्योतिषीय उपाय

क्या हैं मोटापा दू...

सुंदर व्यक्तित्व का वास्तविक परिचय तो व्यक्ति के आचार-विचार यानि की व्यवहार से ही मिलता है लेकिन कई बार रंग-रूप, नयन-नक्स, कद-काठी, चाल-ढाल आ...

और पढ़ें...
बुध कैसे बने चंद्रमा के पुत्र ? पढ़ें पौराणिक कथा

बुध कैसे बने चंद्र...

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मनुष्य के जीवन को ग्रहों की चाल संचालित करती है। व्यक्ति के जन्म के समय ग्रहों की जो दशा होती है उसी के आधार पर उसक...

और पढ़ें...