Skip Navigation Links
विवेक ओबरोय का आगामी समय है शुभ, हो सकती है धमाकेदार वापसी


विवेक ओबरोय का आगामी समय है शुभ, हो सकती है धमाकेदार वापसी

राम गोपाल वर्मा की फिल्म कंपनी (2002) से अपने फिल्मी सफ़र की शुरुआत करने वाले विवेक ओबरोय आज किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। अपने करियर की पहली ही फ़िल्म में अच्छे प्रदर्शन के लिए इन्हें ‘बेस्ट मेल डेब्यू’  और ‘सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता’ के लिए फिल्मफेयर अवार्ड से सम्मानित किया गया था। फिल्म ‘रक्त चरित्र’, ‘ओमकारा’, ‘साथिया’  और ‘क्रिश’ 3 के अभिनय के लिए इनकी काफी प्रशंसा की गयी थी। लेकिन एक अच्छे दौर के बाद विवेक को आज अपने सबसे बुरे दौर से भी गुजरना पड़ रहा है। एक के बाद एक फ्लॉप हुई फिल्मों से इनको काफी निराशा हाथ लगी है।

आगामी 3 सितम्बर को विवेक ओबरोय अपना 39 वां जन्मदिन मनाने जा रहे हैं। पिछले कुछ साल विवेक ओबरोय  के करियर के हिसाब से बिल्कुल भी सही नहीं गये हैं। विवेक ओबरोय के जन्मदिन के मौके पर, आइये एक नजर डालते हैं कि इनका आने वाला समय इनके लिए कैसा रहेगा-

नाम- विवेक ओबरोय

जन्म तिथि- 3 सितम्बर 1976

जन्म स्थान- हैदराबाद

जन्म समय- ज्ञात नहीं।


लग्न- वृश्चिक, चन्द्र राशि- धनु, महादशा- मंगल, अंतर दशा- केतु, प्रत्यांतर- शुक्र, नक्षत्र- पूर्वाषाढा का पहला चरण। 


वृश्चिक लग्न वाले गर्म स्वभाव के व्यक्ति होते हैं। बात-बात पर आने वाला इनका गुस्सा, इनके लिए एक बड़ी समस्या होती है। अभी विवेक ओबरोय की कुंडली में मंगल की महादशा चल रही है। मंगल अभी वर्तमान में वैसे भी नीच का चल रहा है। तो वर्तमान समय विवेक के लिए मानसिक तनाव का समय है। 15 सितम्बर तक मंगल नीच का ही रहने वाला है। तो यह समय इनके लिए बहुत अच्छा रहने की संभावना कम ही है।


अगर विवेक ओबरोय की कुंडली का आंकलन कर आगामी समय का बताया जाए तो आगामी समय इनके लिए अच्छे अवसर लेकर आ रहा है। सही समय पर सही फैसले ले लिए जाएँ तो इनके लिए एक उत्तम समय बन सकता है। इस साल इनकी कुंडली में सूर्य और ब्रहस्पति दसमं स्थान में एक साथ बैठे हुए हैं। साथ ही साथ कुंडली में बन रहा, केंद्र त्रिकोण योग भी आगामी समय में इनको शुभ फल प्रदान करेगा। कार्य के क्षेत्र में नाम, प्रभाव और पैसा प्राप्त होने की पूरी-पूरी संभावना है।


दसमं स्थान में सूर्य होने से एक राज योगकारी समय का निर्माण हो रहा है। इनकी कुंडली में सूर्य दसमं स्थान पर विराजमान है और यह सूर्य का अपना ही घर होता है। दसमं स्थान का सम्बन्ध पिता से भी होता है और कुंडली में पिता सहयोग का कारक भी सूर्य होता है। कुंडली के दसमं स्थान में सूर्य का होना, यह दर्शाता है कि अभी विवेक ओबरोय को अपने पिता की तरफ से पूरा सहयोग प्राप्त हो रहा है और यह आगे भी प्राप्त होगा।


स्वास्थ्य की बात करें तो स्वास्थ्य में इस साल कुछ उतार-चढ़ाव बना रह सकता है। पेट संबंधित कुछ विकार और मोटापे से कुछ परेशानी हो सकती है। दसमं का ब्रहस्पति जातक के स्वास्थ्य लिए कुछ परेशानी खड़ा करता रहता है।


एस्ट्रोयोगी की विवेक ओबरोय को सलाह है कि अपने गुस्से पर वह काबू रखें। आपका गुस्सा किसी और को नहीं आपको सबसे पहले नुकसान पंहुचाता है। उपाय के लिए ब्रहस्पतिवार को पीली चीजों का दान और नित्य रोज ॐ गुरुवे नमः मन्त्र का 108 बार जप, इनको आश्चर्यचकित रूप से लाभ पहुंचा सकता है। साथ ही साथ अगर सिद्ध दस मुखी रुद्राक्ष भी पीड़ा कम कर सकता है।


एस्ट्रोयोगी विवेक ओबरोय को इनके जन्मदिवस की बधाई देता है और उम्मीद करता है कि आगामी समय इनके लिए अच्छा रहेगा।





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

गीता जयंती 2016 - भगवान श्री कृष्ण ने कुरुक्षेत्र में दिया था गीता का उपदेश

गीता जयंती 2016 - ...

कर्मण्यवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन |मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोSस्त्वकर्मणि ||मनुष्य के हाथ में केवल कर्म करने का अधिकार है फल की चिंता करन...

और पढ़ें...
मोक्षदा एकादशी 2016 – एकादशी व्रत कथा व महत्व

मोक्षदा एकादशी 201...

एकादशी उपवास का हिंदुओं में बहुत अधिक महत्व माना जाता है। सभी एकादशियां पुण्यदायी मानी जाती है। मनुष्य जन्म में जाने-अंजाने कुछ पापकर्म हो जा...

और पढ़ें...
2017 में क्या कहती है भारत की कुंडली

2017 में क्या कहती...

2016 भारत के लिये काफी उठापटक वाला वर्ष रहा है। जिसके संकेत एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों ने उक्त समय दिये भी थे। खेलों के मामले में भी हमने कह...

और पढ़ें...
क्या हैं मोटापा दूर करने के ज्योतिषीय उपाय

क्या हैं मोटापा दू...

सुंदर व्यक्तित्व का वास्तविक परिचय तो व्यक्ति के आचार-विचार यानि की व्यवहार से ही मिलता है लेकिन कई बार रंग-रूप, नयन-नक्स, कद-काठी, चाल-ढाल आ...

और पढ़ें...
बुध कैसे बने चंद्रमा के पुत्र ? पढ़ें पौराणिक कथा

बुध कैसे बने चंद्र...

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मनुष्य के जीवन को ग्रहों की चाल संचालित करती है। व्यक्ति के जन्म के समय ग्रहों की जो दशा होती है उसी के आधार पर उसक...

और पढ़ें...