Skip Navigation Links
विराट कोहली बर्थडे – राहू करेगा परेशान तो मंगल है बलवान


विराट कोहली बर्थडे – राहू करेगा परेशान तो मंगल है बलवान

विराट कोहली पिछले काफी समय से देश के सबसे लाजवाब क्रिकेटर बने हुए हैं। इनको दुनिया के सबसे घातक बल्लेबाजों में शुमार किया जाता है। कोहली को उनके फैन्स जितना प्यार बल्लेबाजी के लिए करते हैं उतना ही प्यार इनके स्टाइल के लिए भी होता है। अपनी दबगई और आक्रामकता के लिए प्रसिद्ध विराट कोहली 5 नवम्बर को अपना 27 वां जन्मदिन मनाने रहे हैं। इसी दिन दक्षिण अफ्रीका के साथ टेस्ट सीरीज का भी प्रारंभ हो रहा है और भारतीय क्रिकेट फैन्स नए कप्तान विराट कोहली से जीत की उम्मीद लगा रहे हैं।



तो आइये विराट कोहली के जन्मदिन के मौके पर, एक नजर डालते हैं कि इनका आने वाला समय इनके लिए कैसा रहेगा-

नामविराट कोहली

जन्म तिथि5 नवम्बर 1988

जन्म स्थानदिल्ली  

जन्म समय10:28:00

लग्न-धनु, चन्द्र राशि- कन्या, नक्षत्र- उत्तरा फाल्गुनी का दूसरा चरण, महादशा- राहू, अंतरदशा- शनि, प्रत्यांतर- बुध।



धनु लग्न में राहू का बहुत ज्यादा अच्छा परिणाम तो नहीं मिलता है। इस लग्न में राहू मन को विचलित करता है और कई बार अहंकार को भी उत्पन्न करता है। अभी वर्तमान में राहू, विराट कोहली की कुंडली में तीसरे घर में विराजमान है। इस कारण से अभी विराट खुद को मानसिक तौर पर थोड़ा परेशान महसूस कर सकते हैं। अभी खुद कोहली अपने खेलने के क्रम को लेकर दुविधा में चल रहे हैं। किन्तु यदि इस समय वह अपने से बड़ों की राय स्वीकार करते हैं तो यह इनके और टीम के लिए अच्छा होगा।


खेल का कारक मंगल कुंडली के चतुर्दश स्थान पर बैठकर, दसमं स्थान को देख रहा है और दसमं स्थान खेल का होता है। तो यह एक शुभ योग है और शनि एवं बुध का मेल कुंडली में होने से भी खेल का रुख अभी इनकी ओर हो रहा है। कुंडली में चतुर्दश मंगल होने से साथी खिलाडियों का अभी इनको पूरा साथ मिलने वाला है और इनका खुद का बल्ला भी आगामी टेस्ट सीरीज में चलने की पूरी संभावनायें हैं। खेल के क्षेत्र में अगर इनको कहीं कोई दिक्कत है तो राहू की वजह से ही है। इस वजह से विराट को विपक्षी लोगों से पूरी टक्कर प्राप्त होगी।


आगामी साल की बात करें तो आने वाला समय इनके लिए अच्छा है। इस साल का इनका लग्न सिंह है और मंगल जो भाग्य का स्वामी है वह त्रिकोंण में चतुर्दश स्थान पर बैठा है। इस स्थान का मंगल जातक को मान-सम्मान का पूरा-पूरा लाभ प्रदान करता है। आगामी साल में पूरी संभावनायें हैं कि टीम में कोहली को कुछ अन्य अहम जिम्मेदारियां भी प्राप्त हो जायें। लेकिन विरोधी इनको हराने के लिए पूरी कोशिश करेंगे, झूठे लांछन लगाकर कोहली को फसाने का भी कार्य हो सकता है। इसलिए अच्छा रहेगा कि सभी पर आँख मूंदकर विश्वास ना किया जाये।


अब अगर इस साल इनकी निजी जिंदगी की बात की जाये तो कुंडली में नीच का शुक्र होने की वजह से, पर्सनल लाइफ में इनको परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। बहुत अधिक गुस्सा और जल्दबाजी में लिए निर्णय अच्छे साबित नहीं होंगे।


स्वास्थ्य के लिहाज से विराज कोहली का आगामी साल मिला-जुला रहेगा। हल्की मौसमी बीमारियाँ इनको तकलीफ देती रहेंगी। क्योकि ब्रहस्पति इस साल के लिए द्वादश भाव में चला गया है जोकि बहुत अच्छा नहीं कहा जा सकता है। घर में किसी अपने को स्वास्थ्य की कुछ समस्याएं उठानी पड़ सकती हैं। लांछन, कोर्ट, कचहरी व धन संबंधित समस्या परेशान कर सकती है। एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों की राय है कि ब्रहस्पति के नकारात्मक परिणाम से बचने के लिए अगर नित्य रोज ॐ गुरुवे नमः मन्त्र का, कम से कम 108 बार जप और पीला पुखराज धारण करना, परेशानी कम कर सकता है।


एस्ट्रोयोगी विराट कोहली को इनके जन्मदिवस की बधाई देता है और उम्मीद करता है कि आगामी समय इनके लिए अच्छा रहेगा।




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

अक्षय तृतीया 2017 - अक्षय तृतीया व्रत व पूजा विधि

अक्षय तृतीया 2017 ...

हर वर्ष वैसाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि में जब सूर्य और चन्द्रमा अपने उच्च प्रभाव में होते हैं, और जब उनका तेज सर्वोच्च होता है, उस ति...

और पढ़ें...
बाबा खाटू श्याम - हारे का सहारा बाबा श्याम हमारा

बाबा खाटू श्याम - ...

निर्धन को धनवान का, निर्बल को बलवान और इंसा को भगवान का सहारा मिलना चाहिये। हिम्मत वाले के हिमायती तो राम बताये ही जाते हैं लेकिन हारे हुए बि...

और पढ़ें...
मेंहदीपुर बालाजी – यहां होती है प्रेतात्माओं की धुलाई

मेंहदीपुर बालाजी –...

मेंहदीपुर बाला जी का नाम तो आपने बहुत सुना होगा। हरियाणा, राजस्थान, दिल्ली व उत्तरप्रदेश में तो बालाजी के भक्तों की बड़ी तादाद आपको मिल जायेग...

और पढ़ें...
वरुथिनी एकादशी 2017 - जानें वरूथिनी एकादशी की व्रत पूजा विधि तिथि व मुहूर्त

वरुथिनी एकादशी 201...

एकादशी के व्रत का हिंदू धर्म में बहुत महत्व माना जाता है। प्रत्येक मास में दो एकादशियां आती हैं और दोनों ही एकादशियां खास मानी जाती हैं। वैशा...

और पढ़ें...
वल्लाभाचार्य जयंती – कौन थे पुष्टिमार्ग के प्रवर्तक वल्लभाचार्य?

वल्लाभाचार्य जयंती...

भारत अनेकता में एकता रखने वाला देश है। यहां पर विभिन्न धर्म, विभिन्न संस्कृतियों के लोग वास करते हैं। यहां तो प्रकृति में भी विविधता देखने को...

और पढ़ें...