Skip Navigation Links
करवा चौथ - पति की लंबी उम्र के लिए एक व्रत


करवा चौथ - पति की लंबी उम्र के लिए एक व्रत

विशेषरूप में उत्तर भारत में प्रचलित ‘करवा चौथ’ अब केवल भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में रहने वाली भारतीय मूल की स्त्रियों द्वारा भी पूर्ण श्रद्धा से किया जाता है। इस व्रत में अपने वैवाहिक जीवन को समृद्ध बनाए रखने के लिए और अपने पति की लम्बी उम्र के लिए विवाहित स्त्रियाँ व्रत रखती हैं। यह व्रत सायंकाल में चन्द्रमा के दर्शन के पश्चात ही खोला जाता है।


हिन्दू पंचांग के कार्तिक माह में कृष्ण पक्ष की चतुर्थी के दिन यह व्रत किया जाता है। इस वर्ष 2016 में यह शुभ तिथि 19 अक्टूबर को मनाई जाएगी।


करवा चौथ व्रत विशेष रूप से उत्तर प्रदेश, पंजाब, राजस्थान, बिहार और मध्य प्रदेश में मनाया जाता है। सभी विवाहित स्त्रियाँ इस दिन शिव-पार्वती की पूजा करती हैं। चूंकि शिव-पार्वती का पति-पत्नी के युगल रूप में धार्मिक महत्त्व है इसलिए इनके पूजन से सभी स्त्रियाँ पारिवारिक सुख-समृधि की कामना करती हैं।


करवा चौथ व्रत कथा


एक समय की बात है, सात भाइयों की एक बहन का विवाह एक राजा से हुआ। विवाहोपरांत जब पहला करवा चौथ आया, तो रानी अपने मायके आ गयी। रीति-रिवाज अनुसार उसने करवा चौथ का व्रत तो रखा किन्तु अधिक समय तक व भूख-प्यास सहन नहीं कर पर रही थी और चाँद दिखने की प्रतीक्षा में बैठी रही। उसका यह हाल उन सातों भाइयों से ना देखा गया, अतः उन्होंने बहन की पीड़ा कम करने हेतु एक पीपल के पेड़ के पीछे एक दर्पण से नकली चाँद की छाया दिखा दी। बहन को लगा कि असली चाँद दिखाई दे गया और उसने अपना व्रत समाप्त कर लिया। इधर रानी ने व्रत समाप्त किया उधर उसके पति का स्वास्थ्य बिगड़ने लगा। यह समाचार सुनते ही वह तुरंत अपने ससुराल को रवाना हो गयी।


रास्ते में रानी की भेंट शिव-पार्वती से हुईं। माँ पार्वती ने उसे बताया कि उसके पति की मृत्यु हो चुकी है और इसका कारण वह खुद है। रानी को पहले तो कुछ भी समझ ना आया किन्तु जब उसे पूरी बात का पता चला तो उसने माँ पार्वती से अपने भाइयों की भूल के लिए क्षमा याचना की। यह देख माँ पार्वती ने रानी से कहा कि उसका पति पुनः जीवित हो सकता है यदि वह सम्पूर्ण विधि-विधान से पुनः करवा चौथ का व्रत करें। तत्पश्चात देवी माँ ने रानी को व्रत की पूरी विधि बताई। माँ की बताई विधि का पालन कर रानी ने करवा चौथ का व्रत संपन्न किया और अपने पति की पुनः प्राप्ति की।


वैसे करवा चौथ की अन्य कई कहानियां भी प्रचलित हैं किन्तु इस कथा का जिक्र शास्त्रों में होने के कारण इसका आज भी महत्त्व बना हुआ है।


द्रोपदी द्वारा शुरू किए गए करवा चौथ व्रत की आज भी वही मान्यता है। द्रौपदी ने अपने सुहाग की लंबी आयु के लिए यह व्रत रखा था और निर्जल रहीं थीं। यह माना जाता है कि पांडवों की विजय में द्रौपदी के इस व्रत का भी महत्व था।


शुभ मुहूर्त


करवा चौथ तिथि          :           19 अक्टूबर 2016, बुधवार

करवा चौथ पूजा शुभ मुहूर्त  :      17:43 से 18:59

चंद्रोदय समय             :            रात्रि  20:51 बजे

चतुर्थी तिथि प्रारंभ         :           22:47 (18 अक्तूबर 2016)

चतुर्थी तिथि समाप्त        :         19:32 (19 अक्तूबर 2016)


संबंधित लेख 

कामकाजी महिलाएं कैसे रखें करवा चौथ का व्रत   |   जानिये करवा चौथ में किस तरह से करनी होती है पूजा   |   करवा चौथ - 2016




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

IPL 2017 – GL vs MI क्या रोहित के सितारे रैना पर पड़ेंगे भारी?

IPL 2017 – GL vs M...

आईपीएल 2017 में अब मुकाबले निर्णायक दौर में हैं। आधे से ज्यादा मैच खेले जा चुके हैं। ऐसे में अब हर मैच में हार जीत टीम के लिये आईपीएल के इस द...

और पढ़ें...
शंकराचार्य जयंती 2017 – आदि शंकराचार्य जिन्होंने हिंदू धर्म को दी एक नई चेतना

शंकराचार्य जयंती 2...

वैशाख मास का हिंदू धर्म में बहुत महत्व है। इस माह में अनेक धार्मिक गुरुओं, संत कवियों सहित स्वयं भगवान विष्णु ने परशुराम के रूप में अवतार धार...

और पढ़ें...
सूरदास जयंती 2017 – सूरदास जिसने जगत को दिखाई श्री कृष्णलीला

सूरदास जयंती 2017 ...

महाकवि सूरदास जिन्होंने जन-जन को भगवान श्री कृष्ण की बाल लीलाओं से परिचित करवाया। जिन्होंनें जन-जन में वात्सल्य का भाव जगाया। नंदलाल व यशोमति...

और पढ़ें...
IPL 2017 - KKR vs DD गंभीर को ग्रहों का साथ क्या ज़हीर खायेंगे मात?

IPL 2017 - KKR vs ...

IPL 2017 का हर मैच रोमांचकारी साबित हो रहा है हर रोज नये रिकॉर्ड बन रहे हैं पुराने रिकॉर्ड टूट रहे हैं। एस्ट्रोयोगी पर हम मुकाबले से पूर्व टी...

और पढ़ें...
चंद्र ग्रह - कैसे हुआ जन्म पढ़ें पौराणिक कथा

चंद्र ग्रह - कैसे ...

चंद्रमा, चांद, चंद्र, सुधाकर, सुधांशु जैसे अनेक नामों से हम एक ऐसे ग्रह के बारे में जानते हैं जो हमें सूर्य के बाद सबसे करीब दिखाई देता है। स...

और पढ़ें...