Skip Navigation Links
माता महागौरी - अष्टमी नवरात्रे की पूजा विधि


माता महागौरी - अष्टमी नवरात्रे की पूजा विधि

माँ दुर्गाजी की आठवीं शक्ति का नाम महागौरी है। दुर्गापूजा के आठवें दिन महागौरी की उपासना का विधान है। इनकी शक्ति अमोघ और सद्यः फलदायिनी है। इनकी उपासना से भक्तों के सभी पाप धुल जाते हैं और पूर्वसंचित पाप भी विनष्ट हो जाते हैं। भविष्य में पाप-संताप, दैन्य-दुःख उसके पास कभी नहीं जाते। वह सभी प्रकार से पवित्र और अक्षय पुण्यों का अधिकारी हो जाता है।


कथा

भगवान शिव को पति रूप में पाने के लिए देवी ने कठोर तपस्या की थी जिससे इनका शरीर काला पड़ जाता है। देवी की तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान इन्हें स्वीकार करते हैं और शिव जी इनके शरीर को गंगा-जल से धोते हैं तब देवी विद्युत के समान अत्यंत कांतिमान गौर वर्ण की हो जाती हैं तथा तभी से इनका नाम गौरी पड़ा। महागौरी रूप में देवी करूणामयी, स्नेहमयी, शांत और मृदुल दिखती हैं। देवी के इस रूप की प्रार्थना करते हुए देव और ऋषिगण कहते हैं “सर्वमंगल मंग्ल्ये, शिवे सर्वार्थ साधिके। शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोस्तुते।।”। महागौरी जी से संबंधित एक अन्य कथा भी प्रचलित है इसके जिसके अनुसार, एक सिंह काफी भूखा था, वह भोजन की तलाश में वहां पहुंचा जहां देवी उमा तपस्या कर रही होती हैं। देवी को देखकर सिंह की भूख बढ़ गयी परंतु वह देवी के तपस्या से उठने का इंतजार करते हुए वहीं बैठ गया। इस इंतजार में वह काफी कमज़ोर हो गया। देवी जब तप से उठी तो सिंह की दशा देखकर उन्हें उस पर बहुत दया आती है और माँ उसे अपना सवारी बना लेती हैं क्योंकि एक प्रकार से उसने भी तपस्या की थी। इसलिए देवी गौरी का वाहन बैल और सिंह दोनों ही हैं।


पूजन विधि

अष्टमी के दिन महिलाएं अपने सुहाग के लिए देवी मां को चुनरी भेंट करती हैं। सबसे पहले लकड़ी की चौकी पर या मंदिर में महागौरी की मूर्ति या तस्वीर स्थापित करें। इसके बाद चौकी पर सफेद वस्त्र बिछाकर उस पर महागौरी यंत्र रखें और यंत्र की स्थापना करें। मां सौंदर्य प्रदान करने वाली हैं। हाथ में श्वेत पुष्प लेकर मां का ध्यान करें।

अष्टमी के दिन कन्या पूजन करना श्रेष्ठ माना जाता है। कन्याओं की संख्या 9 होनी चाहिए नहीं तो 2 कन्याओं की पूजा करें। कन्याओं की आयु 2 साल से ऊपर और 10 साल से अधिक न हो। भोजन कराने के बाद कन्याओं को दक्षिणा देनी चाहिए।



ध्यान

वन्दे वांछित कामार्थे चन्द्रार्घकृत शेखराम्।
सिंहरूढ़ा चतुर्भुजा महागौरी यशस्वनीम्॥
पूर्णन्दु निभां गौरी सोमचक्रस्थितां अष्टमं महागौरी त्रिनेत्राम्।
वराभीतिकरां त्रिशूल डमरूधरां महागौरी भजेम्॥
पटाम्बर परिधानां मृदुहास्या नानालंकार भूषिताम्।
मंजीर, हार, केयूर किंकिणी रत्नकुण्डल मण्डिताम्॥
प्रफुल्ल वंदना पल्ल्वाधरां कातं कपोलां त्रैलोक्य मोहनम्।
कमनीया लावण्यां मृणांल चंदनगंधलिप्ताम्॥


स्तोत्र पाठ

सर्वसंकट हंत्री त्वंहि धन ऐश्वर्य प्रदायनीम्।
ज्ञानदा चतुर्वेदमयी महागौरी प्रणमाभ्यहम्॥
सुख शान्तिदात्री धन धान्य प्रदीयनीम्।
डमरूवाद्य प्रिया अद्या महागौरी प्रणमाभ्यहम्॥
त्रैलोक्यमंगल त्वंहि तापत्रय हारिणीम्।
वददं चैतन्यमयी महागौरी प्रणमाम्यहम्॥



माता के नौ रुप

माँ शैलपुत्री - नवरात्रि के पहले दिन की पूजा विधि              माँ ब्रह्मचारिणी- नवरात्रे के दूसरे दिन की पूजा विधि 

माता चंद्रघंटा - तृतीय माता की पूजन विधि                       कूष्माण्डा माता- नवरात्रे के चौथे दिन करनी होती है इनकी पूजा 

स्कंदमाता- नवरात्रि में पांचवें दिन होती है इनकी पूजा        माता कात्यायनी- नवरात्रि के छठे दिन की पूजा

माता कालरात्रि - नवरात्रे के सातवें दिन होती है इनकी पूजा  माता सिद्धिदात्री - नवरात्रे के अंतिम दिन की पूजा 





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

शनि परिवर्तन 2017 - शनि करेंगें राशि परिवर्तन क्या होगा असर

शनि परिवर्तन 2017 ...

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार किसी भी समय में व्यक्ति, क्षेत्र, देश आदि की परिस्थितियों, घटनाओं पर ग्रहों की दशा, ग्रहों के परिवर्तन का प्रभाव पड़...

और पढ़ें...
2017 - विवाह के अबूझ मुहूर्त

2017 - विवाह के अब...

किसी भी काम की अच्छी शुरुआत व उस काम के परिणाम भी लाभदायक मिलें इसके लिए मान्यता है कि उस काम को शुभ मुहूर्त में करना चाहिए। अब विवाह से बड़ा...

और पढ़ें...
बृहस्पतिवार व्रत कथा व महत्व

बृहस्पतिवार व्रत क...

बृहस्पतिवार यानि बृहस्पति का दिन, बृहस्पति यानि देवताओं के गुरु, इसलिये यह गुरु का दिन यानि गुरुवार भी कहलाता है। हालांकि बृहस्पतिवार के दिन ...

और पढ़ें...
प्रेमियों के लिये कैसा रहेगा 2017

प्रेमियों के लिये ...

नये साल में हर किसी को नई खुशियों का इंतजार है। कुछ प्यार में होते हैं कुछ इतंजार में होते हैं। जिन का दिल टूटा हो उन्हें जख्मों पर मरहम लगान...

और पढ़ें...
पौष मास – जानें पौष मास के व्रत त्यौहार व महत्व के बारे में

पौष मास – जानें पौ...

हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार हिंदू पंचाग के हर मास की अपनी खासियत होती है। हर मास के आराध्य देव भी होते हैं। पौष मास में सूर्य की उपासना का व...

और पढ़ें...