Ruling Number

अपनी जन्मतिथि दर्ज करें

अंक ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जानें अपना भाग्यांक

भाग्यांक(Life Path Number) की अंक ज्योतिषशास्त्र में बहुत अधिक महत्ता है। प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में अंकों का बहुत महत्व है। हमारे जन्म से लेकर मृत्यु तक अंकों का अपनी ही एक अलग गणित है। हमारी पूरी जिंदगी अंकों के चारों ओर ही तो घूमती रहती है। फिर चाहें वो हमारे जन्म की तारीख हो या शादी की सालगिरह हो या नौकरी की तारीख हो या स्कूल का एडमीशन हो आदि। जिंदगी के हर क्षेत्र में अंक एक अलग भूमिका अदा करते हैं। कुछ अंक हमारी जिंदगी के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण होते हैं, तो कई अंक हमारी जिंदगी के गणित को बिगाड़ देते हैं।जिस प्रकार ज्योतिषशास्त्र से आप अपने ग्रह और नक्षत्रों की चाल का पता लगा सकते हैं वैसे ही अंक ज्योतिष के जरिए आप व्यक्ति के व्यवहार, जीवन चरित्र इत्यादि के विषय में जान सकते हैं।

वैसे अंकशास्त्र के अनुसार, आप मूलांक, भाग्यांक और नामांक के जरिए किसी भी व्यक्ति के जीवन के उतार-चढ़ाव, सफलता और भाग्योंदय के समय आदि का पता लगा सकते हैं। भाग्यांक को जीवनचक्रांक( Life Cycle Number), जीवन-पथ( Life Path) या व्यक्तित्वांक( Individuality Number) भी कहा जाता है। भाग्यांक से आप किसी भी जातक की विचारधारा यानि सोच और उसके जीवन में घटने वाली महत्वपूर्ण घटनाओं के बारे में जान सकते हैं। भाग्यांक भी 1 से 9 होते हैं। अंकज्योतिष में जहां मूलांक केवल आपके जन्म की तारीख से संबंधित है, वहीं दूसरी ओर जन्म की तारीख, जन्म का महीना और जन्म के वर्ष का योग करके जो अंक निकलता है उसे भाग्यशाली अंक यानि भाग्यांक (life path number) कहते हैं। अंक ज्योतिष में मूलांक से ज्यादा भाग्यांक का महत्व है। मूलांक भाग्यांक से ज्यादा प्रभावशाली माना गया है। भाग्यशाली अंक 1 से 9 तक होते हैं।

अंक शास्त्र में मूलांक भाग्यांक जानने की विधि

अब आपके के मन में सवाल होगा कि लकी नंबर यानि भाग्यांक(life path number in hindi) का पता कैसे लगा सकते हैं? तो चलिए हम आपको भांग्याक निकालने का तरीका बताते हैं। भाग्यांक को हम 'संयुक्तांक ' भी कह सकते हैं, क्योंकि इसमें जन्म की तारीख, जन्म के महीने और जन्म के वर्ष का आपस में योग करके एक अकं प्राप्त होता है जिसे 'भाग्यांक ' कहते हैं। भाग्यांक को निकालने के लिए पाइथारोगस जैसे अंकशास्त्रियों ने सरल तरीके से लोगों को परिचित करवाया है। भाग्यांक की गणना कुछ लंबी तो होती है लेकिन सरल होती है जिसे कोई भी व्यक्ति आसानी से निकाल सकता है।

अकंज्योतिष मे जिस तरह जन्म की तारीख से मूलांक को ज्ञात किया जाता है। उसी प्रकार

भाग्यांक (life path number) को जानने के लिए आपको अपने जन्म की तारीख, जन्म का महीना और जन्म का वर्ष ज्ञात होना चाहिए। माना कि किसी जातक का जन्म 23 दिसंबर 1982 में हुआ है, तो उस जातक का भाग्यांक क्या होगा? इसको निकालने के लिए सबसे पहले जन्म की तारीख को जोड़े 23= 2+3=5, फिर जन्म का महीना दिसंबर यानि 12= 1+2=3 इसके पश्चात् जन्म का वर्ष 1982 यानि 1+9+8+2=20=2+0=2, अब जन्म की तारीख+जन्म का महीना+जन्म का वर्ष= 5+3+2=10=1+0=1 इस प्रकार उस जातक का भाग्यांक 1 है।

एस्ट्रो लेख


2020 Numerology Predictions

2020 अंकज्योतिष भविष्यवा...

नव वर्ष 2020 का वर्षांक 2 है। आप सोच रहे होंगे की 2019 का वर्षांक 2 कैसे आया तो इसका...

और पढ़ें...
Numerology Personality Analysis

अंकज्योतिष, व्यक्तित्व व...

अपने मुल्यांक (स्वामी अंक) की मदद से आप खुद के व्यक्तित्व का एक सटीक विश्लेषण प्राप्त कर सकते हैं।...

और पढ़ें...
Specific Traits

आपके विशिष्ट लक्षण...

हर व्यक्ति में दूसरों के अलग बहुत सी बातें होती है और कुछ आपके गुण-लक्षण आपको, औरों से अलग भी...

और पढ़ें...
Chat Now for Support