एस्ट्रो लेख

नवरात्र में कन्...

हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार नवरात्र में कन्या पूजन का विशेष महत्व है। सनातन धर्म वैसे तो सभी बच्चों में ईश्वर का रूप बताता है किन्तु नवरात्रों में छोटी कन्याओं में माता का रूप बता...

और पढ़ें ➜

माँ कालरात्रि -...

माँ दुर्गाजी की सातवीं शक्ति कालरात्रि के नाम से जानी जाती हैं। दुर्गापूजा के सातवें दिन माँ कालरात्रि की उपासना का विधान है। माँ कालरात्रि का स्वरूप देखने में अत्यंत भयानक है, लेक...

और पढ़ें ➜

माँ महागौरी - न...

माँ दुर्गाजी की आठवीं शक्ति का नाम महागौरी है। दुर्गापूजा के आठवें दिन महागौरी की उपासना का विधान है। इनकी शक्ति अमोघ और सद्यः फलदायिनी है। इनकी उपासना से भक्तों के सभी पाप धुल जात...

और पढ़ें ➜

माँ सिद्धिदात्र...

माँ दुर्गाजी की नौवीं शक्ति का नाम सिद्धिदात्री हैं। ये सभी प्रकार की सिद्धियों को देने वाली हैं। नवरात्र-पूजन के नौवें दिन इनकी उपासना की जाती है। इस दिन शास्त्रीय विधि-विधान और प...

और पढ़ें ➜

माँ कात्यायनी -...

नवरात्रि के छठे दिन आदिशक्ति श्री दुर्गा के छठे रूप कात्यायनी की पूजा-अर्चना का विधान है। महर्षि कात्यायन की तपस्या से प्रसन्न होकर आदिशक्ति ने उनके यहां पुत्री के रूप में जन्म लिय...

और पढ़ें ➜

माँ स्कंदमाता -...

नवरात्रि में पांचवें दिन स्कंदमाता की पूजा-अर्चना की जाती है। शास्त्र बताते हैं कि इनकी कृपा से मूढ़ भी ज्ञानी हो जाता है। स्कंद कुमार कार्तिकेय की माता के कारण इन्हें स्कंदमाता नाम...

और पढ़ें ➜

माँ कूष्माण्डा ...

नवरात्र-पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरूप की ही उपासना की जाती है। जब सृष्टि की रचना नहीं हुई थी उस समय अंधकार का साम्राज्य था, तब देवी कुष्मांडा द्वारा ब्रह्माण्ड का जन्म...

और पढ़ें ➜

माँ चंद्रघंटा -...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नाम चंद्रघंटा है। नवरात्रि उपासना में तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह का पूजन-आराधन किया जाता है। इस दिन साधक का मन ...

और पढ़ें ➜

माँ ब्रह्मचारिण...

नवरात्र पर्व के दूसरे दिन माँ  ब्रह्मचारिणी की पूजा-अर्चना की जाती है। साधक इस दिन अपने मन को माँ के चरणों में लगाते हैं। ब्रह्म का अर्थ है तपस्या और चारिणी यानी आचरण करने वाली। इस...

और पढ़ें ➜

माँ शैलपुत्री -...

देवी दुर्गा के नौ रूप होते हैं। दुर्गाजी पहले स्वरूप में 'शैलपुत्री' के नाम से जानी जाती हैं। ये ही नवदुर्गाओं में प्रथम दुर्गा हैं। पर्वतराज हिमालय के घर पुत्री रूप में उत्पन्न हो...

और पढ़ें ➜

अखंड ज्योति - न...

नवरात्रि का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। साल में हम 2 बार देवी की आराधना करते हैं। चैत्र नवरात्रि चैत्र मास के शुक्ल प्रतिपदा को शुरु होती है और रामनवमी पर यह खत्म होती है, वहीं ...

और पढ़ें ➜

चैत्र नवरात्रि ...

प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्रे आते है। चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरु होकर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि तक चलने वाले नवरात्र चैत्र नवरात्र व वासंती नवरात्र कह...

और पढ़ें ➜

कैसे करें नवरात...

पूरे भारतवर्ष में मां दुर्गा की पूजा का पर्व साल में 4 बार मनाया जाता है परंतु प्रमुख तौर पर देश में चैत्र नवरात्रि और शारदीय नवरात्रि की पूजा की जाती है। चैत्र नवरात्रि का अंत राम...

और पढ़ें ➜

जानें 2020 में ...

वैसे तो साल में चैत्र, आषाढ़, आश्विन और माघ महीनों में चार बार नवरात्र आते हैं लेकिन चैत्र और आश्विन माह की शुक्ल प्रतिपदा से नवमी तक चलने वाले नवरात्र ही ज्यादा लोकप्रिय हैं जिन्ह...

और पढ़ें ➜

दक्षिण भारत में...

उगादी (ugadi 2020) पर्व दक्षिण भारत का प्रमुख पर्व है। दक्षिण भारत में नववर्ष के रूप में उगादी पर्व मनाया जाता है। उगादी का त्योहार हिंदू पंचाग के मुताबिक चैत्र माह के प्रथम दिन मन...

और पढ़ें ➜

गुड़ी पड़वा - क...

गुड़ी पड़वा चैत्र मास की शुक्ल प्रतिपदा को मनाया जाने वाला पर्व है। यह आंध्र प्रदेश व महाराष्ट्र में तो विशेष रूप से लोकप्रिय पर्व है। चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को ही हिंदू नववर्ष का आर...

और पढ़ें ➜

नमस्ते कल्चर नह...

भारतीय संस्कृति में चरण स्पर्श और नमस्कार(namaste) समेत 5 तरह के अभिवादन बताए गए हैं। लेकिन सबसे लोकप्रिय अभिवादन नमस्कार ही माना गया है। जिसे प्राचीन काल से लोग करते चले आ रहे हैं...

और पढ़ें ➜

खर मास - क्या क...

भारतीय पंचाग के अनुसार जब सूर्य धनु राशि में संक्रांति करते हैं तो यह समय शुभ नहीं माना जाता इसी कारण जब तक सर्य मकर राशि में संक्रमित नहीं होते तब तक किसी भी प्रकार के शुभ कार्य न...

और पढ़ें ➜

मंगल का मकर राश...

22 मार्च 2020 को मंगल ग्रह का गोचर दोपहर 03:02 PM पर मकर राशि में हो रहा है। मकर राशि में मंगल उच्च के माने जाते हैं। निश्चित रूप से यह गोचर अधिकतर राशियों के लिये अनुकूल परिणाम ले...

और पढ़ें ➜

पितरों के मोक्ष...

हिंदू पंचांग में नए चंद्रमा के दिन को अमावस्या(amavasya) कहते हैं। इस दिन सूरज और चंद्रमा एक साथ होते हैं। वैसे तो हर महीने अमावस्या होती है लेकिन चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्...

और पढ़ें ➜