एस्ट्रो लेख

चंद्र ग्रहण 202...

चंद्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण के बारे में प्राथमिक शिक्षा के दौरान ही विज्ञान की पुस्तकों में जानकारी दी जाती है कि ये एक प्रकार की खगोलीय स्थिति होती हैं। जिनमें चंद्रमा, पृथ्वी के औ...

और पढ़ें ➜

चंद्र ग्रहण का ...

साल 2020 का दूसरा चंद्रग्रहण(chandra grahan 2020) इस बार 5 जून शुक्रवार को पड़ेगा। चंद्र ग्रहण 05 जून रात 11:15 बजे से शुरू होगा और 06 जून 02:34 बजे तक रहेगा। यह चंद्र ग्रहण वृश्चि...

और पढ़ें ➜

ज्येष्ठ पूर्णिम...

वैसे तो प्रत्येक माह की पूर्णिमा का हिंदू धर्म में बड़ा महत्व माना जाता है लेकिन ज्येष्ठ माह की पूर्णिमा तो और भी पावन मानी जाती है। धार्मिक तौर पर पूर्णिमा को स्नान दान का बहुत अध...

और पढ़ें ➜

निर्जला एकादशी ...

हिंदू पंचांग के अनुसार वर्ष में 24 एकादशियां आती हैं। लेकिन अधिकमास की एकादशियों को मिलाकर इनकी संख्या 26 हो जाती है। सभी एकादशियों पर हिंदू धर्म में आस्था रखने वाले भगवान विष्णु क...

और पढ़ें ➜

गंगा दशहरा 2020...

दुनिया की सबसे पवित्र नदियों में एक है गंगा। गंगा के निर्मल जल पर लगातार हुए शोधों से भी गंगा विज्ञान की हर कसौटी पर भी खरी उतरी विज्ञान भी मानता है कि गंगाजल में किटाणुओं को मारने...

और पढ़ें ➜

क्या आप भी जन्म...

1 साल में 12 महीने होते हैं और प्रत्येक महीने का अपना एक अलग ही महत्व होता है। ज्योतिष के अनुसार प्रत्येक महीने और दिन की एक खास अहमियत होती है। अलग-अलग महीने में जन्मे लोगों का स्...

और पढ़ें ➜

मिथुन राशि में ...

वाणी के कारक बुध का परिवर्तन ज्योतिष शास्त्र के नज़रिये से काफी अहम माना जाता है। लग्न के अनुसार बुध जिस लग्न से जिस भाव में गोचररत होते हैं उस के अनुसार सकारात्मक व नकारात्मक परिण...

और पढ़ें ➜

वट सावित्री व्र...

वट सावित्री व्रत एक ऐसा व्रत जिसमें हिंदू धर्म में आस्था रखने वाली स्त्रियां अपने पति की लंबी उम्र और संतान प्राप्ति की कामना करती हैं। उत्तर भारत में तो यह व्रत काफी लोकप्रिय है। ...

और पढ़ें ➜

ज्येष्ठ अमावस्य...

अमावस्या तिथि को दान पुण्य के लिये, पितरों की शांति के लिये किये जाने वाले पिंड दान, तर्पण आदि के लिये बहुत ही सौभाग्यशाली दिन माना जाता है। साथ अमावस्या एक मास के एक पक्ष के अंत क...

और पढ़ें ➜

शनि जयंती विशेष...

शनि देव को क्रूर ग्रहों में शुमार किया जाता है लेकिन सही मायनों में एक न्यायप्रिय देव हैं जो पाप कर्म करने वालों के लिये दंडाधिकारी की भूमिका निभाते हैं। मेहनत करने वालों को शनिदेव...

और पढ़ें ➜

शनि जयंती 2020 ...

ज्येष्ठ माह की अमावस्या को शनि जयंती के रूप में मनाया जाता है। माना जाता है कि इस दिन शनिदेव की पूजा करने से सारे शनि के कोप का भाजन बनने से बचा जा सकता है यदि पहले से ही कोई शनि क...

और पढ़ें ➜

साढ़े साती और ढ...

नव वर्ष 2020 की शुरूआत में (24 जनवरी 2020) न्याय के देवता शनि करीब 30 साल बाद अपनी स्वराशि में परिवर्तन कर रहे हैं। न्यायकारक शनि 2020 में धनु राशि से अपनी स्वराशि मकर में माघ मास ...

और पढ़ें ➜

अपरा एकादशी 202...

एकादशी हिंदू पंचाग के अनुसार प्रत्येक मास की ग्यारस यानि ग्यारहवीं तिथि एकादशी कहलाती है जिसका धार्मिक रूप से बहुत महत्व होता है। हिंदू धर्म में एकादशी के दिन व्रत उपवास पूजा आदि क...

और पढ़ें ➜

शनिदेव - कैसे ह...

अक्सर शनि का नाम सुनते ही शामत नजर आने लगती है, सहमने लग जाते हैं, शनि के प्रकोप का खौफ खा जाते हैं। कुल मिलाकर शनि को क्रूर ग्रह माना जाता है लेकिन असल में ऐसा है नहीं। ज्योतिषशास...

और पढ़ें ➜

वृषभ संक्रांति ...

सूर्य का राशि परिवर्तन करना ज्योतिष के अनुसार एक अहम घटना माना जाता है। सूर्य के राशि परिवर्तन से जातकों के राशिफल पर तो असर पड़ता ही है साथ ही सूर्य के इस परिवर्तन से सौर वर्ष के ...

और पढ़ें ➜

बृहस्पति वक्री ...

गुरु को वैदिक ज्योतिष में आध्यात्म का कारक माना जाता है। गुरु की कृपा से जातक जीवन में उच्च शिक्षा व सम्मान प्राप्त करता है। गुरु के वक्री हो जाने से इसका परिणाम भी बदल जाता है। इस...

और पढ़ें ➜

पहले टेस्ट ट्यू...

हिंदू धर्म के महाकाव्यों में से एक है महाकाव्य है महाभारत, जिसकी रचना महर्षि वेदव्यास ने की थी। इसको 3 चरण में लिखा गया था। महाभारत के पहले चरण में 8800 श्लोक, दूसरे चरण में 24 हजा...

और पढ़ें ➜

शनि वक्री – इस ...

जैसा कि हम जानते हैं कि शनि को न्याय का देवता माना जाता है। वैदिक ज्योतिष में शनि का एक विशेष स्थान है। इसे कर्म फल दाता कहा जाता है। यानी कि शनि आपको आपके कर्मों का फल देते हैं। ज...

और पढ़ें ➜

शुक्र का वृषभ र...

शुक्र को वैदिक ज्योतिष में सुख का कारक माना जाता है। मार्गी अवस्था में शुक्र शुभ परिणाम तो वक्री स्थिति में ये जातकों को अशुभ परिणाम देते हैं। कहते हैं जिस जातक का शुक्र अच्छे स्थि...

और पढ़ें ➜

बुद्ध पूर्णिमा ...

वैशाख मास की पूर्णिमा को गौतम बुद्ध की जयंती के रूप में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है| इसलिए वैशाख पूर्णिमा को बुद्ध पूर्णिमा कहा जाता है| कहते है इसी दिन भगवान बुद्ध को बुद्धत्व की ...

और पढ़ें ➜