Skip Navigation Links
2017 - विवाह के अबूझ मुहूर्त


2017 - विवाह के अबूझ मुहूर्त

किसी भी काम की अच्छी शुरुआत व उस काम के परिणाम भी लाभदायक मिलें इसके लिए मान्यता है कि उस काम को शुभ मुहूर्त में करना चाहिए। अब विवाह से बड़ा कार्य मनुष्य के जीवन में भला क्या हो सकता है। विवाह ही एक ऐसी परंपरा है, जिससे मानव प्रजाति व परिवार का विस्तार होता है। उसका पारिवारिक जीवन कितना खुशहाल होगा, जीवनसाथी कैसा होगा व संबंध किस तरह रहेंगें, यह सब दंपति की कुंडलियों के साथ-साथ जिस समय, जिस घड़ी, जिस लग्न में उनका विवाह हुआ है, उस समय ग्रहों की दशा पर भी निर्भर करता है। इसलिए तो विवाह के लिए कुंडली मिलान से लेकर सात फेरे लेने तक के लिए शुभ मुहूर्त निकलवाया जाता है।


क्या है अबूझ मुहूर्त?

साल भर में वैसे तो कई दिन होते हैं जिनमें आप शुभ मुहूर्त देखकर विवाह कर सकते हैं। लेकिन कुछ मुहूर्त ऐसे होते हैं जिनमें आप बिना मुहूर्त देखे भी विवाह कर सकते हैं। ये दिन किसी भी तरह के मांगलिक कार्य के लिये बहुत ही शुभ माने जाते हैं व इन्हें अबूझ मुहूर्त कहा जाता है।

 

2017 में विवाह के अबूझ मुहूर्त

साल 2017 में पड़ने वाले अबूझ मुहूर्त निम्न हैं

मकर संक्रांति – मकर संक्रांति का त्यौहार मांगलिक आयोजन के लिये बहुत ही शुभ माना जाता है। हर वर्ष 14 जनवरी को यह त्यौहार मनाया जाता है। दरअसल इस दिन सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है। खरमास की समाप्ति होने पर नये सौर मास का आरंभ होता है। चूंकि सूर्य दक्षिणायन से उतरायण की ओर बढ़ेगा जो कि हर कार्य के लिए मंगलकारी होता है और शुभ कार्यों के बंद द्वार को खोलता है। इसलिये यह दिन एक अबूझ मुहूर्त माना जाता है अर्थात आप इस दिन बिना निश्चिंत होकर विवाह कर सकते हैं।

बसंत पंचमी - बंसंत पंचमी के दिन को कई महापुरुषों की जयंति के रुप में भी मनाया जाता है। बंसंत पंचमी के आगमन का तात्पर्य जीवन में नई उर्जा, नई स्फूर्ति के अंकुर फूटना होना है। बंसंत ऋतु को वैसे भी प्रेम की रुत कहा जाता है। अत: बसंत पंचमी का दिन भी विवाह जैसे मांगलिक कार्य के लिए बहुत ही शुभ है। 2017 में बंसत पंचमी 1 फरवरी को है।

चैत्र प्रतिपदा से रामनवमी - हिंदू नव वर्ष की शुरुआत यानि चैत्र मास की प्रतिपदा से लेकर रामनवमी तक की तिथियां विवाह के लिये शुभ मानी जाती हैं, इन तिथियों को चैत्र या वासंती नवरात्र के रूप में भी मनाया जाता है। नवमी तिथि को भगवान श्री राम के जन्मदिन के रुप में मनाये जाने के कारण रामनवमी कहा जाता है इसलिये यह दिन मांगलिक कार्यों के लिये विशेष रूप से कल्याणकारी माना जाता है। इस दिन भी आप अपने प्रियतम के साथ अग्नि के सात फेरे ले सकते हैं। 2017 में चैत्र या कहें वासंती नवरात्र 28 मार्च से 5 अप्रैल तक होंगे। रामनवमी का त्यौहार 5 अप्रैल को मनाया जायेगा।

बैसाखी – हर वर्ष 13 अप्रैल को बैसाखी का त्यौहार मनाया जाता है। इसी दिन सूर्य अपनी उच्च राशि मेष में दाखिल होता है जिसे बहुत शुभ माना जाता है अत: इस दिन को भी आप शुभ मुहूर्त मानकर विवाह कर एक नए जीवन की शुरुआत कर सकते हैं।

भारत के जाने माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करने के लिये आप एस्ट्रोयोगी पर अपना रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं। अभी रजिस्ट्रेशन करने पर एस्ट्रोयोगी की ओर से आपको मिलेगा 100 रुपये तक की बातचीत निशुल्क करने का मौका। रजिस्ट्रेशन करने के लिये लिंक पर क्लिक करें।

अक्षय तृतीया – अक्षय तृतीया को अखा तीज के नाम से भी जाना जाता है इस दिन को भी अबूझ मुहूर्त के रूप में जाना जाता है। यह तिथि अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार 2017 में 28 अप्रैल को है।

शारदीय नवरात्र से दशहरा – शारदीय नवरात्र के प्रथम नवरात्र से लेकर दशहरे तक के दिन भी विवाह के लिये शुभ माने जाते हैं। दशहरे का दिन तो विशेष रूप से शुभ फलदायी माना जाता है। इस दिन को भी आप आंख मूंद कर विवाह के लिये शुभ मान सकते हैं। 2017 में शारदीय नवरात्र 21 से 30 सितंबर तक रहेंगें। वहीं 2017 में दशहरा 30 सितंबर को है।

देवउठनी एकादशी – देवउठनी एकादशी का दिन भी विशेष रूप से विवाह के लिये मंगलकारी है। इस दिन चतुर्मास के बाद भगवान विष्णु निद्रा से जागते हैं इसलिये यह तिथि अबूझ मुहूर्त मानी जाती है। इससे पहले मांगलिक कार्यों के आयोजन लगभग बंद होते हैं। इसी दिन से शुभ कार्यों के बंद दरवाजे खुलते हैं। 2017 में देवउठनी एकादशी की शुभ तिथि 31 अक्तूबर को है।

आपको बतादें कि मकर संक्रांति के बाद से अप्रैल तक विवाह के योग बनते रहेंगें उसके बाद मई से लेकर अक्तूबर तक एक लंबा विराम विवाह के अवसरों पर लग जाएगा उसके बाद नवंबर व दिसंबर में ही शुभ मुहूर्त निकलेंगें।




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

माँ चंद्रघंटा - नवरात्र का तीसरा दिन माँ दुर्गा के चंद्रघंटा स्वरूप की पूजा विधि

माँ चंद्रघंटा - नव...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नामचंद्रघंटाहै। नवरात्रि उपासनामें तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह कापूजन-आरा...

और पढ़ें...
माँ कूष्माण्डा - नवरात्र का चौथा दिन माँ दुर्गा के कूष्माण्डा स्वरूप की पूजा विधि

माँ कूष्माण्डा - न...

नवरात्र-पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरूप की ही उपासना की जाती है। जब सृष्टि की रचना नहीं हुई थी उस समय अंधकार का साम्राज्य था, तब द...

और पढ़ें...
दुर्गा पूजा 2017 – जानिये क्या है दुर्गा पूजा का महत्व

दुर्गा पूजा 2017 –...

हिंदू धर्म में अनेक देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। अलग अलग क्षेत्रों में अलग-अलग देवी देवताओं की पूजा की जाती है उत्सव मनाये जाते हैं। उत्त...

और पढ़ें...
जानें नवरात्र कलश स्थापना पूजा विधि व मुहूर्त

जानें नवरात्र कलश ...

 प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्रे आते है। पहले नवरात्रे चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरु होकर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि ...

और पढ़ें...
नवरात्र में कैसे करें नवग्रहों की शांति?

नवरात्र में कैसे क...

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से मां दुर्गा की आराधना का पर्व आरंभ हो जाता है। इस दिन कलश स्थापना कर नवरात्रि पूजा शुरु होती है। वैसे ...

और पढ़ें...