Skip Navigation Links
आदि पेरुक्कू - जलदेवी को मनाने का अनोखा त्यौहार


आदि पेरुक्कू - जलदेवी को मनाने का अनोखा त्यौहार

आदि पेरुक्कू एक हिंदू तमिल त्यौहार है जो तमिल महिने, आदि के 18वें दिन मनाया जाता है। यह त्यौहार जल और जीवनोपयोगी संपतियों को सम्मान देने के लिए मनाया जाता है। यह त्यौहार अक्सर अंग्रेजी कलेंडर के हिसाब से जुलाई और अगस्त के मध्य में आता है, जो इस बार 3 अगस्त को मनाया जा रहा है। ये वो वक्त होता है जब सूर्य की किरणों का असर कम होता है और मौसम के साथ साथ तापमान भी सुहावना होता है।

यह त्यौहार तमिलनाडू में मानसून के आगमन के प्रतीक के रुप में भी मनाया जाता है, इस महीने के दौरान मानसून की बरसात के कारण नदियों का पानी बढने लगता है। इसके अलावा यह त्यौहार प्रकृति के प्रति श्रद्धा प्रकट करने के साथ साथ कावेरी नदी और मां पार्वती के सम्मान में भी मनाया जाता है। यह त्यौहार उस पवित्र जल के लिए है जो किसानों के लिए एक नई उम्मीद, परिवारों के लिए एक नई उमंग और नवविवाहितों के लिए एक नए आनंद को अपने साथ लेकर आता है। इसी कारण इस त्यौहार को जल भंडारों के किनारे मनाया जाता है जिसमें नदी, तालाब, कुंए या फिर समुद्र के किनारे भी शामिल होते हैं। कुल मिला कर कहें तो आदि पेरुक्कू त्यौहार जल की देवी को सम्मान और धन्यवाद देने के लिए ही मनाया जाता है। मानव जाति की सुख, समृद्धि और खुशियों के लिए वृषा की देवी अम्मन की पूजा अर्चना इस त्यौहार पर की जाती है जो जन जीवन के कल्याण के लिए प्रकृति पर मेहरबान होती है। मान्यताओं के अनुसार पचई अम्मन उस धार्मिक संरचना का प्रतीक है जो मानव जाति के लिए शांति और सौहार्द की भावनाओं की स्थापना करती है।

पचई अम्मन और कन्नी अम्मन तमिलनाडू के कई स्थानीय क्षेत्रों में स्थापित हैं जो उस स्थान के निवासियों पर धार्मिक उर्जा की उपस्थिति और प्रभाव को प्रदर्शित करती हैं। स्थानीय मान्यताओं के अनुसार तिरुमुलेवोयल में पचई अम्मन के प्रगटिकरण के कारण, अम्मन देवी संसार में सफलतापूर्वक सुख और शांति स्थापित करती है। इसे विवाह की देवी के रुप में भी जाना जाता है क्योंकि लोग मानते हैं कि ये उन लोगो पर कृपा बरसाती है जो शादी के लिए इंतजार करके वैवाहिक बंधन में बंधते हैं।

आदि पेरक्कू त्यौहार खासकर उन किसानों और अन्य लोगों द्वारा विशेषकर मनाया जाता है जो अपने व्यावसाय या जीवन यापन के लिए नदियों और मानसून की बरसात पर निर्भर रहते हैं। इस त्यौहार पर मंदिरों और धार्मक स्थानों पर वर्षा के देव वरुण और कावेरी देवी की पूजा अर्चना की जाती है, ताकि अच्छे जल से अच्छी फसल पा सके और अनिश्चितकालीन बरसात से बचाव हो सके।

अन्य भारतीय त्यौहारो की तरह ही इस त्यौहार पर भी औरतों का मुख्य योगदान रहता है। इस त्यौहार के दिन सुबह सवेरे महिलाएं चावल, गुड़, चीनी, नारियल,केले, दिए, हल्दी, फूल आदि पूजा सामग्री लेकर तालाब, नदि आदि के किनारे पर जाती हैं। पूजा शुरु करने से पहले वे पानी में डुबकी लगाती हैं। इसके बाद वे धरती माता के स्वरूप के रुप में मिट्टी की ढेरियां बनाती हैं। इसके साथ साथ केले के पत्तो पर चावल के आटे को पानी में गुड़ मिला कर छोटे गड्डे नुमा आकार का निर्माण किया जाता है। इसमें घी डाल कर दिए के रुप मे प्रज्जवलित किया जाता है। दिए के साथ साथ फूल, हल्दी और पीले धागे भी रखे जाते हैं। इस दिए को महिलाओं द्वारा नदि में तैराया जाता है। 

यहां की स्त्रियां चावलों के विभिन्न पकवान बना कर देवी पार्वती को भोग लगाती है और नदियों में फूल और चावल वित्सर्जन कर पूजा की विधी को संपन्न करती हैं। लोग इस अवसर पर पानी में धार्मिक डुबकियां लगाते हैं और नदियों के किनारों पर पूजा करके इस त्यौहार को मनाते हैं।

तमिलनाडू के कुछ हिस्सों में नवविवाहित जोड़ियों को आमन्त्रित किया जाता है और लड़की वालो की तरफ से अपने जमाई को उपहार भेंट किए जाते हैं। ज्यादातर आदि महिने के दौरान नवविवाहिताएं अपने मां बाप के घर पर ही रहती हैं।

आदि पेरुक्कू 2018

दिनाँक - 3 अगस्त

शुभ समय - सुबह 7.38 से 9.14 तक

एस्ट्रोयोगी की ओर से आपको आदि पेरुक्कू पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं। 

एस्ट्रोयोगी पर आप इंडिया के बेस्ट एस्ट्रोलॉजर्स से ऑनलाइन गाइडेंस ले सकते हैं। परामर्श लेने के लिये क्लिक करें।




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

शुक्र मार्गी - शुक्र की बदल रही है चाल! क्या होगा हाल? जानिए राशिफल

शुक्र मार्गी - शुक...

शुक्र ग्रह वर्तमान में अपनी ही राशि तुला में चल रहे हैं। 1 सितंबर को शुक्र ने तुला राशि में प्रवेश किया था व 6 अक्तूबर को शुक्र की चाल उल्टी हो गई थी यानि शुक्र वक्र...

और पढ़ें...
वृश्चिक सक्रांति - सूर्य, गुरु व बुध का साथ! कैसे रहेंगें हालात जानिए राशिफल?

वृश्चिक सक्रांति -...

16 नवंबर को ज्योतिष के नज़रिये से ग्रहों की चाल में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव हो रहे हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों की चाल मानव जीवन पर व्यापक प्रभाव डालती है। इस द...

और पढ़ें...
कार्तिक पूर्णिमा – बहुत खास है यह पूर्णिमा!

कार्तिक पूर्णिमा –...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज ...

और पढ़ें...
गोपाष्टमी 2018 – गो पूजन का एक पवित्र दिन

गोपाष्टमी 2018 – ग...

गोपाष्टमी,  ब्रज  में भारतीय संस्कृति  का एक प्रमुख पर्व है।  गायों  की रक्षा करने के कारण भगवान श्री कृष्ण जी का अतिप्रिय नाम 'गोविन्द' पड़ा। कार्तिक शुक्ल ...

और पढ़ें...
देवोत्थान एकादशी 2018 - देवोत्थान एकादशी व्रत पूजा विधि व मुहूर्त

देवोत्थान एकादशी 2...

देवशयनी एकादशी के बाद भगवान श्री हरि यानि की विष्णु जी चार मास के लिये सो जाते हैं ऐसे में जिस दिन वे अपनी निद्रा से जागते हैं तो वह दिन अपने आप में ही भाग्यशाली हो ...

और पढ़ें...