Skip Navigation Links
आपका राशि चक्र और रूचि


आपका राशि चक्र और रूचि

हर राशि के व्यक्तियों का व्यक्तित्व एक दुसरे से विभिन्न ही होता है| अक्सर आप भी महसूस करते होंगे कि कुछ कार्य आपको तो पसंद है किन्तु आपके परम मित्र को उस कार्य में ज़रा भी रूचि नहीं है| तो आप यह कैसे जान सकते है कि किस राशि के व्यक्ति को किस कार्य में रूचि है| जानिए इस लेख से|

मेष (21 मार्च - 19 अप्रैल)
मेष राशि के व्यक्ति स्पोर्ट्स यानि खेल में विशेष रूचि रखते है| बाहरी खेल, उत्साह से भरपूर स्पोर्ट्स, विडियो गेम्स खेलना, जोश से भर देने वाले गाने सुनना, मोटरबाइक चलाना, और अगर वे घर पर बैठे है तो टी.वी. पर नए कार्यक्रम देखना मेष राशि के व्यक्तियों को खासा लुभाता है|

वृषभ (20 अप्रैल - 20 मई)
वृषभ राशि वाले मेष राशि की तुलना में स्पोर्ट्स के कम शौक़ीन होते है| इनकी रूचि निम्न कार्यों में होती है – चित्रकला, संगीत, गायन, मूर्तिकला, प्राचीन वस्तुओं का संग्रहण, बागबानी, साहित्यिक अध्धयन| वृषभ राशि वाले इन कलाओं में खुद को संपूर्ण रूप से समर्पित करने की क्षमता रखते है|

मिथुन (21 मई - 20 जून)
मिथुन राशि के व्यक्तियों के शौक कुशलता को दर्शाते है| इनके शौक निम्न कार्यों में होते है – टेबल टेनिस, बेडमिंट, उत्साह और जोखिम से भरपूर स्पोर्ट्स, पहेलियाँ बुझाना, इन्टरनेट पर काम करना, सांस्कृतिक उत्सवों में शामिल होना, लेखन, व विभिन्न भाषाओं को सीखना|

कर्क (21 जून - 22 जुलाई)
कर्क राशि के प्रसिद्ध कार्यों में बागबानी, घर की भीतरी सजावट, खाना बनाना इत्यादि है| किन्तु उन्हें सफर करना, म्युसीयम यानी संग्रहालय में जाना, अध्ध्यन, प्राचीन वस्तुओं का संग्रहण, पुराने सिक्के व पोस्टकार्ड्स जमा करना भी काफी पसंद होता है|

सिंह (23 जुलाई - 22 अगस्त)
सिंह राशि के व्यक्ति मेल-मिलाप में बहुत विश्वास रखते है| इन्हें हर रोज, हर दिन नए लोगो से मिलना अच्छा लगता है| इसलिए इनके शौक भी सामाजिक होते है जैसे नृत्य करना, चित्रकला, उत्साहपूर्ण खेल खेलना, संगीत सुनना इत्यादि| सिंह राशि अपने शौकों के कारण बहुत लोकप्रिय रहते है|

कन्या (23 अगस्त - 22 सितम्बर)
कन्या राशि धरती चिन्ह है इसलिए इस राशि के व्यक्ति कृषि से सम्बंधित शौक रखते है जैसे बागबानी, हस्तकला इत्यादि| साथ ही इनके पसंदीदा कार्यों में कुछ ऐसे कार्य भी होते है जिनमें दिमाग का इस्तेमाल होता है जैसे अध्धयन, लेखन, भाषाओं का सीखना, इन्टरनेट पर काम करना इत्यादि|

तुला (23 सितम्बर - 22 अक्टूबर)
तुला राशि खासतौर पर संगीत प्रेमी होते है| इसलिए इनके शौक भी कुछ ऐसे ही होते है जैसे संगीत सुनना, कोई संगीत से सम्बंधित कार्यक्रम देखने जाना| साथ ही इन्हें चित्रकला, लेखन, फाईन आर्ट्स, सफर करना, नए लोगों से मिलना, यह सब भी पसंद होता है|

वृश्चिक (23 अक्टूबर - 21 नवम्बर)
वृश्चिक राशि वालो की रूचि गुप्त विज्ञान से सम्बंधित कार्यों में खासा रहती है| उदाहरण के तौर पर इन्हें योग करना, ध्यान लगाना, धर्मं, दर्शनशास्त्र व ज्योतिष विद्या इत्यादि पसंद है| इन सब के बारे में जानना या इनका पालन करना वृश्चिक राशि वालो को लुभाता है| साथ ही इन्हें संगीत सुनना भी पसंद है और कपडे लत्तो के अलावा परफ्यूम्स यानि इत्र भी इकठ्ठा करना पसंद है|

धनु (22 दिसम्बर - 21 दिसम्बर)
धनु राशि भी मस्ती भरे शौक रखते है, अधिकतर राशियों की तरह इन्हें भी सफर करना, लेखन, अध्धयन करना जैसी चीज़े करना पसंद है| नई-नई जगह जाना और विभिन्न प्रकार के लोगो से मिलना भी इन्हें अच्छा लगता है|

मकर (22 दिसम्बर - 19 जनवरी)
अध्धयन, बागबानी, कलात्मक कार्य, चित्रकला, बाहर खाना खाना इत्यादि मकर राशि के व्यक्तियों के चंद पसंदीदा कार्यों में से है| शिल्पकला में मकर राशि वालो को महारथ हासिल होती है और इस कला से इन्हें सुकून भी प्राप्त होता है|

कुम्भ (20 जनवरी - 18 फ़रवरी)
कुम्भ राशि के शौक बहुत ही वैज्ञानिक होते है| उदाहरण के तौर पर इन्हें कंप्यूटर पर गेम्स खेलना, किसी भी नई चीज़ की खोज या अविष्कार करना बेहद पसंद होता है| प्राकृतिक तौर से राशि वाले सामाजिक भी होते है इसलिए ये अधिकतर सामाजिक उत्सवों में उपस्थित रहते है|

मीन (19 फ़रवरी - 20 मार्च)
मीन राशि के व्यक्तियों की सूचि में लेखन, अध्धयन, संगीत सुनना, नृत्य, फ़िल्में देखना, वॉटर स्पोर्ट्स खेलना, अपने घर के लिए फर्नीचर एकत्रित करना इत्यादि शामिल है| इन्हें प्रयोग करना पसंद होता है| किसी दुसरे से प्रेरणा लेकर मीन राशि वाले अपना कुछ अविष्कार करने की क्षमता रखते है|
 




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

दुर्गा पूजा 2017 – जानिये क्या है दुर्गा पूजा का महत्व

दुर्गा पूजा 2017 –...

हिंदू धर्म में अनेक देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। अलग अलग क्षेत्रों में अलग-अलग देवी देवताओं की पूजा की जाती है उत्सव मनाये जाते हैं। उत्त...

और पढ़ें...
जानें नवरात्र कलश स्थापना पूजा विधि व मुहूर्त

जानें नवरात्र कलश ...

 प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्रे आते है। पहले नवरात्रे चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरु होकर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि ...

और पढ़ें...
नवरात्र में कैसे करें नवग्रहों की शांति?

नवरात्र में कैसे क...

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से मां दुर्गा की आराधना का पर्व आरंभ हो जाता है। इस दिन कलश स्थापना कर नवरात्रि पूजा शुरु होती है। वैसे ...

और पढ़ें...
सर्वपितृ अमावस्या – इस दिन करें सभी पितरों के लिये श्राद्ध

सर्वपितृ अमावस्या ...

आश्विन मास वर्ष के सभी 12 मासों में खास माना जाता है। लेकिन इस मास की अमावस्या तिथि तो और भी महत्वपूर्ण मानी जाती है। इसकी सबसे बड़ी वजह है प...

और पढ़ें...
शुक्र परिवर्तन 15 सितंबर 2017 – क्या रहेगा आपका राशिफल?

शुक्र परिवर्तन 15 ...

ऊर्जा व कला के कारक शुक्र माने जाते हैं। शुक्र जातक के किस भाव में बैठे हैं यह बहुत मायने रखता है। शुक्र के हर परिवर्तन के साथ जातक की कुंडली...

और पढ़ें...