Skip Navigation Links
रहाणे का ‘राज-योग` और जिम्बाब्वे का टूर


रहाणे का ‘राज-योग` और जिम्बाब्वे का टूर

अपने कवर ड्राइव के लिए मशहूर अजिंक्य रहाणे को 10 जुलाई से शुरू हो रहे, जिम्बाब्वे दौरे के लिए टीम इंडिया का कप्तान बनाया गया है। टीम के पिछले बांग्लादेश दौरे की असफलता को देखते हुए, दोनों स्थायी कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और विराट कोहली की जगह इनको कप्तान चुना गया है। अपने शांत स्वभाव और धैर्य के लिए जाने-जाने वाले रहाणे के लिए, जहाँ एक तरफ अपनी काबिलियत साबित करने का समय है वहीँ दूसरी ओर टीम इंडिया को जीत दिलाने की जिम्मेदारी भी इन्हीं पर है। इसे नियति का चक्र ही कहेंगे कि जहाँ एक तरफ पिछले बांग्लादेश दौरे पर इनका चुनाव नहीं हुआ था, वहीँ मात्र 1 माह बाद ही यह टीम के कप्तान हैं। एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों के अनुसार अजिंक्य रहाणे का वर्तमान काफी अच्छा चल रहा है। आइये एक नजर डालते हैं कि वर्तमान जिम्बाब्वे दौरे को लेकर अजिंक्य रहाणे के सितारे क्या कहते हैं-

नाम- अजिंक्य रहाणे

जन्म तिथि- 5 जून, 1988

जन्म स्थान- (नल्लासोपरा ) महाराष्ट्र

लग्न- सिंह, महादशा- ब्रहस्पति, अंतर दशा- शनि, प्रत्यांतर दशा- बुध।

इस लग्न में ब्रहस्पति का अच्छा परिणाम प्राप्त होता है। अजिंक्य रहाणे का वर्तमान योग इनको सकारात्मक और शुभ फल देने वाला है। कुंडली के भाग्य स्थान में ब्रहस्पति है और इसीलिए पिछले कुछ समय से इनका भाग्य अच्छा चल रहा है। सूर्य के दशम में विराजमान होने से इनकी कुंडली में एक राज योग का निर्माण हुआ है और ज्योतिष राय के अनुसार इसी योग ने कप्तान चुने जाने में इनकी मदद की है।

वर्ष कुंडली में मंगल, कुंडली के ग्यारवें स्थान पर सूर्य के साथ है इसलिए साल 2015 का इनका पूरा समय अच्छा जाने की संभावनायें हैं और भाग्य का निरंतर साथ प्राप्त हो सकता है। अब इन ग्रहों और कप्तान रहाणे की कुंडली को देखकर यही लगता है कि कप्तान की इस सकारात्मक ऊर्जा का लाभ टीम इंडिया को प्राप्त हो सकता है और टीम इंडिया विजयी होकर देश वापस आयेगी।

एस्ट्रोयोगी.कॉम की अजिंक्य रहाणे को यही सलाह है कि अपने धैर्य को बनाएं रखें और अध्यात्म के लिए समय जरूर निकाले। किसी भी परिस्थिति को शांत होकर संभालें, आक्रामकता इनको हानि पंहुचा सकती है।

एस्ट्रोयोगी, अजिंक्य रहाणे और पूरी टीम इंडिया को आगामी दौरे के लिए शुभकामनाएं देता है और इनकी सफलता के लिए प्रार्थना करता है। 




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

उपनयन संस्कार – हिंदू धर्म का दसवां संस्कार है यज्ञोपवीत

उपनयन संस्कार – हि...

उपनयन या कहें यज्ञोपवीत या विद्याध्ययन आरंभ करने का संस्कार भी कह सकते हैं। हिंदू धर्म में यह बहुत ही महत्वपूर्ण संस्कार है। सोलह संस्कारों म...

और पढ़ें...
शुक्र राशि परिवर्तन - 29 जून को शुक्र बदलेंगें राशि जानें राशिफल

शुक्र राशि परिवर्त...

ज्योतिषशास्त्र में शुक्र ग्रह बहुत अधिक मायने रखते हैं। लाभ, सुख-समृद्धि एवं कला क्षेत्र के प्रतिनिधि भी शुक्र माने जाते हैं। वृषभ एवं तुला र...

और पढ़ें...
देवशयनी एकादशी 2017 – चार मास तक सौते हैं भगवान विष्णु

देवशयनी एकादशी 201...

साल भर में आषाढ़ महीने की शुक्ल एकादशी से लेकर कार्तिक महीने की शुक्ल एकादशी तक यज्ञोपवीत संस्कार, विवाह, दीक्षाग्रहण, ग्रहप्रवेश, यज्ञ आदि ध...

और पढ़ें...
कैलाश मानसरोवर – कब और कैसें करें मानसरोवर यात्रा

कैलाश मानसरोवर – क...

भारत धार्मिक विविधताओं का देश है। यहां लगभग सभी धर्मों के अनुयायी मिलते हैं, सभी धर्मों के धार्मिक तीर्थ स्थल भी यहां खूब हैं। लेकिन हिंदू धर...

और पढ़ें...
सलमान खान – वक्री शनि के कारण नहीं हुई भाईजान की ईद मुबारक

सलमान खान – वक्री ...

भाई जान के नाम से मशहूर सलमान खान का बॉलीवुड में सिक्का चलता है। सलमान खान के प्रशंसक बड़ी संख्या में हैं। कुछ प्रशंसक लड़कियां तो उनकी इतनी ...

और पढ़ें...