बुलंदियों पर हैं बॉलीवुड महानायक अमिताभ बच्चन के सितारे

बॉलीवुड के महानायक अभिनेता अमिताभ बच्चन किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। प्रसिद्ध लेखक और कवि हरिवंश राय बच्चन के पुत्र होने से लेकर 5 दशक तक अपने अभिनय से दर्शकों का मनोरंजन करने वाले बिग बी ने अपनी मेहनत से और उनके ग्रहों की चाल ने उन्हें हमेशा सफलता की सीढ़ियां ही चढ़ाई है। एक्टर के करियर में कई बार उतार-चढ़ाव आए, लेकिन उनके ग्रहों ने उनका साथ हमेशा दिया। हाल हि में, हिंदी सिनेमा में अपने उत्कृष्ट योगदान लिए उन्हें दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। अमिताभ बच्चन अपने अभिनय के दम पर देश ही नहीं दुनिया में भी काफी मशहूर हैं। 

 

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि हर किसी का भाग्य ज्योतिष पर निर्भर करता है, क्योंकि आपकी जन्मकुंडली के ग्रह और उनकी चाल आपके भाग्य को नियंत्रित करती हैं। कभी ग्रहों का सकारात्मक प्रभाव पड़ता है तो कभी इन्हीं ग्रहों का आपके जीवन में नकारात्मक असर भी पड़ता है। वे भविष्य में होने वाली अच्छी और बुरी गतिविधियों की भविष्यवाणी करने के लिए जिम्मेदार हैं। कई बार आपके द्वारा कड़ी मेहनत करने के बाद भी आपको लंबे समय तक सफलता नहीं मिलती है क्योंकि वह आपकी जन्मकुंडली में ग्रहों की गति के कारण होती है और हमारे नियंत्रण से परे होती है। 

 

अमिताभ बच्चन के ग्रहों की चाल

हैरानी की बात यह है कि वैदिक ज्योतिष के अनुसार, अमिताभ बच्चन की जन्मकुंडली सबसे अनोखी और दिलचस्प है। कुम्भ लग्न और तुला राशि में जन्मे बिग बी की कुंडली ने उन्हें बहुत से उतार-चढाव दिए, चार प्रमुख ग्रह अष्टम भाव होने की वजह से कई बार वह स्वास्थ्य समस्याओं से जूझते भी रहे। अमिताभ बच्चन ने अपने फिल्मी करियर की शुरूआत साल 1969 में की थी। लेकिन उस वक्त उनकी गुरु की महादशा चल रही थी जिसकी वजह से उन्हें 1971 में फिल्म ‘आनंद’ से सफलता प्राप्त हुई और फिल्म ‘जंजीर’ उनके जीवन में महत्वपूर्ण मोड़ लाई जिसके बाद उ्न्होंने कभी मुड़कर नहीं देखा और उनका करियर ग्राफ बढ़ता रहा। वहीं साल 1982 में शनि की साढ़ेसाती के समय फिल्म कुली की शूटिंग के वक्त उन्हें गंभीर चोट लगी और वह मौत के मुंह में चले गए लेेकिन उनकी राशि के ऊपर से होने वाले गुरु के शुभ गोचर और महादशानाथ व लग्नेश शनि ने इनके प्राणों की रक्षा की। 

 

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, ग्रह अपनी चाल बदलते हैं तो हमारे जीवन में एक नया मोड़ आता है। एक सामान्य व्यक्ति के लिए ग्रहों की चाल को समझ पाना मुमकिन नहीं है इसलिए एक अनुभवी एस्ट्रोलॉजर आपकी मदद कर सकता है। 

 

आप एस्ट्रोयोगी पर अनुभवी ज्योतिषाचार्यों से परामर्श ले सकते हैं और जान सकते हैं कि आपकी जन्मकुंडली में ग्रहों की चाल आपको कब उपलब्धि, सफलता और प्रसिद्धि दिलाएगी। आप ग्रहों के अशुभ प्रभावों से बचने और उनके उपाय करने के लिए भी संपर्क कर सकते हैं। 

 

'बिग बी' पहनते हैं नीला नीलम रत्न 

आपको बता दें कि बॉलीवुड के महानायक होने के बावजूद भी अमिताभ बच्चन अच्छे स्वास्थ्य और जीवन के लिए ज्योतिषीय रत्न पहनते हैं, जिसका मतलब है कि वह ब्रह्मांड में ऊर्जा और ज्योतिष की शक्ति पर विश्वास भी करते हैं। वह नीला नीलम रत्न पहनते हैं, जो शनि ग्रह के साथ जुड़ा हुआ है। माना जाता है कि जब से बिग बी ने इस रत्न को पहनना शुरू किया है, उन्हें तुरंत परिणाम मिले हैं और दिन दूनी रात चौगुनी नाम और शोहरत मिलती रही है। ज्योतिष के अनुसार, नीले नीलम रत्न को एस्ट्रोलॉजी में सबसे शक्तिशाली रत्न माना जाता है। लेकिन अनुभवी ज्योतिषी से परामर्श करने के बाद ही इसे पहनने की सलाह दी जाती है। इसे बिना सलाह के पहनने से बचना चाहिए, क्योंकि इसका प्रभाव उलटा भी पड़ सकता है। 

 

वर्तमान में महानायक के ग्रहों की चाल

वर्तमान में, शनि ग्रह की अनुकूल स्थिति अमिताभ बच्चन को भौतिक आराम और विलासिता का आश्वासन देती है जबकि उच्च बुध एक्टर को कुशल कौशल और बेहतरीन संवाद का आशीर्वाद देते हैं। केतु ग्रह उन्हें आध्यात्मिकता की ओर झुकाव देता है और जीवन के उद्देश्य को खोजने में मदद करता है, दूसरी ओर, शुक्र ग्रह का स्थान उनकी रचनात्मक और प्रस्तुति पक्ष को बढ़ाता है। बृहस्पति ग्रह महानायक के बुद्धिमान पक्ष को सामने लाता है और उन्हें दान और सामाजिक कार्यों के प्रति दयालु बनाता है। अंत में, बुध के साथ सूर्य ग्रह की उपस्थिति उनके लिए बुध-आदित्य योग बनाती है जो जीवन के सबसे शुभ समयों में से एक है। वर्तमान में, वह अपनी कुंडली में शुक्र महादशा का आनंद ले रहे हैं। यह बिग बी को नई ऊंचाइयों तक पहुंचने में मदद करेगा और सफलता उनके कदम चूमेगी।

 

आपकी जन्मकुंडली आपके लिए क्या भविष्यवाणी करती है? अमिताभ बच्चन जैसा सफल जीवन या इससे भी बेहतर? एस्ट्रोयोगी के विशेषज्ञ ज्योतिषियों से पूछें, सिर्फ एक कॉल के जरिए पाएं सफलता का एक मंत्र !

 

एस्ट्रो लेख

मार्गशीर्ष – जा...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है इसलिये हर मास को अमावस्या और पूर्णिमा ...

और पढ़ें ➜

देव दिवाली - इस...

आमतौर पर दिवाली के 15 दिन बाद यानि कार्तिक माह की पूर्णिमा के दिन देशभर में देव दिवाली का पर्व मनाया जाता है। इस बार देव दिवाली 12 नवंबर को मनाई जा रही है। इस दिवाली के दिन माता गं...

और पढ़ें ➜

कार्तिक पूर्णिम...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज लेकर छठ पूजा, ग...

और पढ़ें ➜

तुला राशि में म...

युद्ध और ऊर्जा के कारक मंगल माने जाते हैं। स्वभाव में आक्रामकता मंगल की देन मानी जाती है। पाप ग्रह माने जाने वाले मंगल अनेक स्थितियों में मंगलकारी परिणाम देते हैं तो बहुत सारी स्थि...

और पढ़ें ➜