अनुष्का शर्मा जन्मदिन विशेष - क्या कहती है अनुष्का की कुंडली?

1 मई 1988 को धर्म नगरी अयोध्या में जन्मी अनुष्का शर्मा के पिता अजय कुमार शर्मा भारतीय सेना में कर्नल के पद पर कार्यरत हैं। उनकी माता आशिमा शर्मा गृहणी हैं। मूल रूप से शर्मा परिवार उत्तराखंड के गढ़वाल का है। पढ़ाई पूरी करने के बाद अनुष्का अपनी करियर की शुरूआत करने मुंबई आ गई। 2007 में शर्मा ने अपने मॉडलिंग करियर की शुरूआत लैक्मे फैशन वीक में एक मॉडल के रूप में किया। इसके बाद शर्मा को फेम मिला। अनुष्का निर्देशक आदित्य चोपड़ा की निगाह में आई जिसके बाद इन्हें रब ने बना दी जोड़ी के लिए बतौर अभिनेत्री साइन किया गया। परंतु इस फिल्म से अनुष्का को कुछ खास प्रसिद्धि हासिल न हुई। लेकिन 2010 में यश राज फिल्म के बैनर तले बनी फिल्म बैंड बाजा बारात में अनुष्का द्वारा श्रुति कक्कड़ का निभाया गया किरदार इन्हें काफी लोकप्रियता दिलाने में सफल रहा। इस फिल्म को समीक्षकों के साथ दर्शकों ने भी खूब सराहा। माना जाता है कि इस फिल्म के बाद अनुष्का ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। अब तक अनुष्का ने जब तक है जान, पीके, सुल्तान, एन एच 10 और सुई-धागा जैसी कई हिट फिल्में बॉलीवुड को दे चुंकी हैं। 1 मई को अनुष्का शर्मा का जन्मदिन है। ऐसे में हम आपकी प्रिय अभिनेत्री की कुंडली का आकलन कर उनके लिए यह साल कैसा रहेगा, इनके सितारे इनका कितना साथ देंगे। इस बारे में पूर्वानुमान पेश कर रहे हैं। तो आइए जानते है अनुष्का की वर्ष कुंडली क्या कहती है।

क्या कहती है अनुष्का की वर्ष कुंडली?

नाम – अनुष्का शर्मा

जन्म दिनांक – 1 मई 1988

जन्म समय – 12:00 दोपहर

जन्म स्थान – अयोध्या (उत्तरप्रदेश)

बात अनुष्का की कुंडली की करें तो इनकी कुंडली कर्क लग्न की और चन्द्र राशि तुला राशि है तथा इनका जन्म स्वाती नक्षत्र में हुआ है जो कि राहु का नक्षत्र है। अनुष्का चर लग्न की जातक हैं। चर लग्न की होने से ये हर काम में तेजी दिखाती हैं। इनका स्वभाव चंचल व कर्मठी है। अनुष्का कर्क लग्न की जातक हैं जिसके चलते ये संगीत में काफी रुचि रखती हैं। इन्हें अच्छे खान- पान का भी शौक है। माना जाता है कि कर्क लग्न के जातक सुख व संपन्न पूर्ण जीवन व्यतित करते हैं। ये लोगों को अपनी ओर जल्दी आकर्षित कर लेते हैं तथा ये भाग्यवान माने जाते हैं। अनुष्का की कुंडली का आकलन करने पर पता चलता है कि इनके कुंडली में अलग-अलग तरह के राजयोग विद्धमान हैं जो इन्हें जीवन की परीक्षाओं में सफलता दिलाएंगे और सम्मान व प्रसिद्धि प्राप्त करने का इनके लिए मार्ग बनाएंगे। इन्हीं योगों के कारण जातक कम समय में अपने कर्म से सामाज में मान-सम्मान प्राप्त करने में सफल होता है। अनुष्का की पत्रिका में राजयोग कारक ग्रह और सिनेमा जगत में प्रसिद्धि दिलाने वाला ग्रह मंगल अपनी उच्च राशि के केंद्र में विराजमान है। जिसके होने से व्यक्ति कम समय में अपने लक्ष्य को प्राप्त करने में सफल होता है। मंगल का रोचक महायोग भी इनके कार्य में चौगुना ऊर्जा भरता है। जीवनसाथी के घर में ही मंगल का होना दाम्पत्य जीवन के लिए योग्य साथी दिलाता है। 

अपनी कुंडली बनाने के लिये इस लिंक पर क्लिक करें यह सेवा आपके लिये बिल्कुल फ्री है।

 

वर्तमान में शनि की महादशा भी शुभ हो चुकी है और पत्रिका में शनि भी विपरीत राज योग बना रहा है परंतु फल अधिक संघर्ष करने के बाद मिलेगा। वर्ष पत्रिका से देखा जाए तो मुंथा अष्टम भाव में विराजमान है जो कि शारीरिक रोग बढ़ा सकता है जिसमें नस संबंधी रोग होने के अधिक आसार हैं। परंतु यहां शुभ समाचार मिलने का भी योग बन रहा है। करियर में कुछ रोचक व नया करने का मौका मिलेगा। अनुष्का को धन के मामले में इस वर्ष उनकी कुंडली का पूरा सहयोग प्राप्त होगा। कर्म तथा भाग्य से धन अर्जित करने में अनुष्का सक्षम होंगी। केवल स्वास्थ्य के मामले में ही इन्हें सर्तक रहने की आवश्यकता है। जीवनसाथी के स्थान पर शनि का प्रभाव है जो इनके दाम्पत्य जीवन में परेशानी का कारण बन सकता है। परंतु एक-दूसरे के साथ समय व्यतीत करने से इस परेशानी से बचा जा सकता है। कुल मिलाकर यह वर्ष अनुष्का के लिए थोड़ा संघर्षमय रहने वाला है।

 

यह भी पढ़ें - कुंडली का यह योग व्यक्ति को बना देता है राजा  | राशि

एस्ट्रो लेख

चंद्र ग्रहण 202...

चंद्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण के बारे में प्राथमिक शिक्षा के दौरान ही विज्ञान की पुस्तकों में जानकारी दी जाती है कि ये एक प्रकार की खगोलीय स्थिति होती हैं। जिनमें चंद्रमा, पृथ्वी के औ...

और पढ़ें ➜

चंद्र ग्रहण का ...

साल 2020 का दूसरा चंद्रग्रहण(chandra grahan 2020) इस बार 5 जून शुक्रवार को पड़ेगा। चंद्र ग्रहण 05 जून रात 11:15 बजे से शुरू होगा और 06 जून 02:34 बजे तक रहेगा। यह चंद्र ग्रहण वृश्चि...

और पढ़ें ➜

ज्येष्ठ पूर्णिम...

वैसे तो प्रत्येक माह की पूर्णिमा का हिंदू धर्म में बड़ा महत्व माना जाता है लेकिन ज्येष्ठ माह की पूर्णिमा तो और भी पावन मानी जाती है। धार्मिक तौर पर पूर्णिमा को स्नान दान का बहुत अध...

और पढ़ें ➜

निर्जला एकादशी ...

हिंदू पंचांग के अनुसार वर्ष में 24 एकादशियां आती हैं। लेकिन अधिकमास की एकादशियों को मिलाकर इनकी संख्या 26 हो जाती है। सभी एकादशियों पर हिंदू धर्म में आस्था रखने वाले भगवान विष्णु क...

और पढ़ें ➜