एस्ट्रोयोगी ने किया नेशनल एस्ट्रोलॉजर्स मीट का आयोजन

26 अप्रैल 2019 (गुरुग्राम) : एस्ट्रोयोगी के तत्वाधान में गुरुग्राम स्थित कोर्टयार्ड मैरिएट होटल में एस्ट्रोलॉजर्स मीट का सफल आयोजन किया गया। ज्योतिषाचार्यों के इस महाकुंभ में 2018 के प्रदर्शन के आधार पर ज्योतिष की अलग अलग कैटगरीज़ में 22 एस्ट्रोलॉजर्स को बेस्ट एस्ट्रोलॉजर अवार्ड दिये गये।

 

 

कार्यक्रम के शुभारंभ में एस्ट्रोयोगी की संस्थापक CEO मीना कपूर ने सभी मेहमान ज्योतिषाचार्यों का स्वागत करते हुए अपने संबोधन में कहा कि एस्ट्रोयोगी का उद्देश्य हमारी वैदिक परंपराओं और आध्यात्मिक विज्ञान के ज्ञान को उन युवाओं तक पंहुचाना व तार्किक रूप से ज्योतिष विज्ञान के प्रति उनकी समझ को विकसित करना है जो आज के इस भागदौड़ भरे युग में अपनी परंपराओं से विमुख होते जा रहे हैं।

 

उन्होंने कहा कि एस्ट्रोयोगी के प्लेटफोर्म पर 2000 से ज्यादा एस्ट्रोलॉजर्स 85 से भी अधिक देशों में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों के पास यूके, यूएसए के साथ-साथ सियोल, कोरिया, जेनेवा, स्विट्ज़रलैंड जैसे देशों से भी कॉल आती हैं।

 

उन्होंने ज्योतिषाचार्यों को संबोधित करते हुए ऑनलाइन गाइडेंस को और बेहतर बनाने के लिये तकनीकी सुझावों सहित अन्य टिप्स भी दिये।

 

एस्ट्रोयोगी प्रो एप हुई लॉंच

एस्ट्रोयोगी के बहुचर्चित उत्पाद जिसकी एस्ट्रोलॉजर्स को काफी जरुरत महसूस हो रही थी एस्ट्रोयोगी प्रो एप को भी इस इवेंट में लॉंच किया गया। इस एप की खास बात यह है कि इसके डाउनलोड करने पर ज्योतिषाचार्यों को किसी अन्य कुंडली सॉफ्टवेयर या एप की आवश्यकता नहीं रहेगी। अपनी कॉल के साथ-साथ अपने फोन से ही ज्योतिषाचार्य ऐप के माध्यम से जातकों का उचित मार्गदर्शन कर पाएंगें।

 

गौरतलब है कि यह अपनी तरह की पहली ऐसी पहली ऐप है जो एस्ट्रोलॉजर्स को अपना बिजनेस बढ़ाने में सहायता करेगी। एस्ट्रोयोगी के सीनियर प्रोडक्ट मैनेजर आदित्य वर्मा ने ऐप लिंक के जरिये डाउनलोड व इंस्टाल का बटन दबाकर ऐप की औपचारिक शुरुआत की। एस्ट्रोलॉजर्स की ओर से ऐप के इस्तेमाल को लेकर तमाम तरह के प्रश्नों के उत्तर भी मौके पर दिये गये।

 

एस्ट्रोयोगी प्रो ऐप के रूप में एस्ट्रोयोगी की ओर से मिले तोहफे को एस्ट्रोलॉजर्स ने काफी हेल्पफुल और इस्तेमाल करने में भी बहुत आसान ऐप बताया।

 

इन्हें मिला बेस्ट एस्ट्रोयोगी एस्ट्रोलॉजर अवार्ड 2019

 

कार्यक्रम में 2018 में श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले एस्ट्रोलॉजर्स को एस्ट्रोयोगी अवार्ड 2018 से भी नवाज़ा गया। वैदिक ज्योतिष, न्यूमेरोलॉजी, टैरो कार्ड रीडिंग, वास्तु आदि कैटेगरीज़ में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के साथ-साथ इसी साल डेब्यू करने वाले एस्ट्रोलॉजर्स को भी राइजिंग स्टार एस्ट्रोलॉजर्स का अवार्ड दिया गया।

कुल 22 एस्ट्रोलॉजर्स को अवार्ड देकर सम्मानित किया गया।

 

इन्हें मिला एस्ट्रोयोगी एक्सीलैंसी अवार्ड 2019

वैदिक एस्ट्रोलॉजी में एक्सिलैंसी अवार्ड आचार्य आदित्य, आशीष गुप्ता, अवंतिका त्रिपाठी, डॉ. विक्रमादित्य, कंचन मल्होत्रा, पंडित मनोज कुमार द्विवेदी, रश्मी शर्मा, डॉ. नेहा प्रदीप सैनी, नीलू पाठक को मिला।

टैरो कार्ड रीडिंग में एक्सिलैंसी अवार्ड मीता भान, आरती भाटिया, रीमा कॉमर, रोहित दुआ को मिला।

वास्तु मे एक्सिलैंसी अवार्ड दीपक जोशी तो अंक ज्योतिष में उपमा श्रीवास्तव को यह पुरस्कार मिला।

 

ये बने एस्ट्रोयोगी के राइजिंग स्टार 2019

वैदिक एस्ट्रोलॉजी में राइजिंग स्टार के तौर पर जो नाम ऊभर कर आयें हैं उनमें ज्योतिषाचार्य सी कन्नन, डॉ. लक्ष्मी वैथिस्वर्ण, फानी अवुथु, रुचि मित्तल। टैरो रीडिंग में राइजिंग स्टार अवार्ड मिनी नरूला व पूनम बियोत्रा को मिला तो वहीं वास्तु कैटेगरी में सागर चुघ राइजिंग स्टार बने।

 

एस्ट्रोयोगी द्वारा की गई इस पहल के लिये ज्योतिषाचार्यों ने एस्ट्रोयोगी की भूरी-भूरी प्रशंसा की व आगे भी इस तरह के आयोजन कर ज्योतिषाचार्यों को प्रोत्साहन व प्रेरणा देते रहने का आग्रह किया।

 

 

कार्यक्रम में शिरकत करने के लिये न सिर्फ दिल्ली एनसीआर बल्कि पूर्व, पश्चिम, उत्तर दक्षिण जयपुर, लखनऊ, इलाहाबाद और गुवाहाटी तक से वैदिक एस्ट्रोलॉजर्स, टेरो रीडर्स, न्यूमेरोलॉजिस्ट, वास्तु विशेषज्ञ इस मीट में शिरकत करने पंहुचे।

एस्ट्रो लेख

शुक्र का सिंह र...

ऊर्जा व कला के कारक शुक्र माने जाते हैं। शुक्र जातक के किस भाव में बैठे हैं यह बहुत मायने रखता है। शुक्र के हर परिवर्तन के साथ जातक की कुंडली में शुक्र की स्थिति में भी बदलाव आता ह...

और पढ़ें ➜

विदेश जाने का य...

क्या आपको पता है कि आपके विदेश जाने राज आपके हथेली में छुपा है? क्या आप इस बात को मानते है कि हमारे हथेलियों की लकीर में छिपा है हमारे किस्मत का राज? यदि जवाब हां में है तो ठीक यदि...

और पढ़ें ➜

भाद्रपद - भादों...

हिन्दू पंचांग के अनुसार साल के छठे महीने को भाद्रपद अथवा भादों का महीना कहा जाता है। ये श्रावण माह के बाद और आश्विन माह से पहले आता है। सावन शंकर का महीना है तो भादों श्रीकृष्ण का ...

और पढ़ें ➜

भाई की सुख समृद...

हिंदू धर्म में कई तरह के रीति-रिवाज और परंपराएं विद्यमान है। दुनियाभर में भारत को त्योहारों का देश कहा जाता है, यहां आए दिन कोई न कोई पर्व मनाया जाता है। वहीं किसी भी तीज-त्योहार क...

और पढ़ें ➜