Skip Navigation Links
एस्ट्रोयोगी पार्टनर्स मीट 2018


एस्ट्रोयोगी पार्टनर्स मीट 2018

21 अप्रैल 2018 (गुरुग्राम) : एस्ट्रोयोगी के तत्वाधान में गुरुग्राम स्थित वेस्टिन होटल में एस्ट्रोलॉजर्स मीट का सफल आयोजन किया गया। ज्योतिषाचार्यों के इस संगम में 2017 के प्रदर्शन के आधार पर ज्योतिष की अलग अलग कैटगरीज़ में बेस्ट एस्ट्रोलॉजर अवार्ड भी दिये गये।

एस्ट्रोयोगी द्वारा संपन्न हुई यह एस्ट्रोलॉजर्स मीट अपनी तरह का पहला ऐसा कार्यक्रम था जिसमें ज्योतिष समुदाय की जानी मानी हस्तियां एक साथ, एक मंच पर, एक दूसरे से मिलीं।

कार्यक्रम के शुभारंभ में एस्ट्रोयोगी की संस्थापक CEO मीना कपूर ने सभी मेहमान ज्योतिषाचार्यों का स्वागत किया। अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि एस्ट्रोयोगी का उद्देश्य हमारी वैदिक परंपराओं और आध्यात्मिक विज्ञान के ज्ञान को उन युवाओं तक पंहुचाना, तार्किक रूप से ज्योतिष विज्ञान के प्रति उनकी समझ को विकसित करना है जो आज के इस भागदौड़ भरे युग में अपनी परंपराओं से विमुख होते जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि एस्ट्रोयोगी के प्लेटफोर्म पर 2000 से ज्यादा एस्ट्रोलॉजर्स 85 से भी अधिक देशों में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों के पास यूके, यूएसए के साथ-साथ सियोल, कोरिया, जेनेवा, स्विट्ज़रलैंड जैसे देशों से भी कॉल आती हैं।

उन्होंने ज्योतिषाचार्यों को संबोधित करते हुए ऑनलाइन गाइडेंस को और बेहतर बनाने के लिये तकनीकी सुझावों सहित अन्य टिप्स भी दिये।


इन्हें मिला बेस्ट एस्ट्रोयोगी एस्ट्रोलॉजर अवार्ड 2017

कार्यक्रम के समापन पर 2017 में श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले एस्ट्रोलॉजर्स को एस्ट्रोयोगी अवार्ड 2017 से नवाज़ा गया। इनमें श्रेष्ठ वास्तु विशेषज्ञ का एस्ट्रोयोगी एस्ट्रोलॉजर अवार्ड 2017 डॉ. दीपक जोशी को मिला। श्रेष्ठ टेरो रीडर का अवार्ड जानी-मानी टेरो रीडर मीता भान को दिया गया। वैदिक एस्ट्रोलॉजी में जय प्रकाश ओझा, रंजना पुरी को एक्सीलेंसी अवार्ड के साथ-साथ नीलू पाठक को 2018 में बेस्ट डेब्यू अवार्ड दिया गया। 

कार्यक्रम में शिरकत करने के लिये न सिर्फ दिल्ली एनसीआर बल्कि जयपुर, लखनऊ, इलाहाबाद और गुवाहाटी तक से वैदिक एस्ट्रोलॉजर्स, टेरो रीडर्स, न्यूमेरोलॉजिस्ट, वास्तु विशेषज्ञ इस एस्ट्रोलॉजर मीट में शिरकत करने पंहुचे।




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

शुक्र मार्गी - शुक्र की बदल रही है चाल! क्या होगा हाल? जानिए राशिफल

शुक्र मार्गी - शुक...

शुक्र ग्रह वर्तमान में अपनी ही राशि तुला में चल रहे हैं। 1 सितंबर को शुक्र ने तुला राशि में प्रवेश किया था व 6 अक्तूबर को शुक्र की चाल उल्टी हो गई थी यानि शुक्र वक्र...

और पढ़ें...
वृश्चिक सक्रांति - सूर्य, गुरु व बुध का साथ! कैसे रहेंगें हालात जानिए राशिफल?

वृश्चिक सक्रांति -...

16 नवंबर को ज्योतिष के नज़रिये से ग्रहों की चाल में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव हो रहे हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों की चाल मानव जीवन पर व्यापक प्रभाव डालती है। इस द...

और पढ़ें...
कार्तिक पूर्णिमा – बहुत खास है यह पूर्णिमा!

कार्तिक पूर्णिमा –...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज ...

और पढ़ें...
गोपाष्टमी 2018 – गो पूजन का एक पवित्र दिन

गोपाष्टमी 2018 – ग...

गोपाष्टमी,  ब्रज  में भारतीय संस्कृति  का एक प्रमुख पर्व है।  गायों  की रक्षा करने के कारण भगवान श्री कृष्ण जी का अतिप्रिय नाम 'गोविन्द' पड़ा। कार्तिक शुक्ल ...

और पढ़ें...
देवोत्थान एकादशी 2018 - देवोत्थान एकादशी व्रत पूजा विधि व मुहूर्त

देवोत्थान एकादशी 2...

देवशयनी एकादशी के बाद भगवान श्री हरि यानि की विष्णु जी चार मास के लिये सो जाते हैं ऐसे में जिस दिन वे अपनी निद्रा से जागते हैं तो वह दिन अपने आप में ही भाग्यशाली हो ...

और पढ़ें...