Skip Navigation Links
पन्ना रत्न - ज्योतिष के अनुसार पन्ना धारण करने के लाभ व सावधानियां


पन्ना रत्न - ज्योतिष के अनुसार पन्ना धारण करने के लाभ व सावधानियां

पन्ना यह शब्द तो आपने सुन्ना ही होगा। हीरे और मोती की तरह ही पन्ना भी एक प्रकार का रत्न है। इसे मरकत मणि, जमरन, एमराल्ड विभिन्न भाषाओं में भिन्न नामों से जाना जाता है। पन्ना आभूषणों में जड़े जाने के बाद उन्हें तो खूबसूरत बनाता ही है साथ ही यदि आप इसे धारण करें तो यह आपकी शोभा को भी बढ़ाएगा। लेकिन इस रत्न का महत्व मात्र आभूषण की शोभा बढ़ाने तक सीमित नहीं है बल्कि ज्योतिषीय दृष्टि से यह रत्न बहुत ही खास अहमियत रखता है। तो आइये जानते हैं पन्ने का महत्व और इसे धारण करते समय क्या सावधानियां रखनी चाहियें।

ज्योतिष के अनुसार पन्ना धारण करने के लाभ

पन्ना नवग्रहों में से एक माने जाने वाले ग्रह बुध का रत्न माना जाता है। बुध जो कि बुद्धि के दाता हैं। जो संचार, तकनीक आदि के कारक हैं। जिनके प्रभाव से व्यवसाय में सफलता मिलती है। जिनके प्रभाव से वाणी में जादू बरकरार रहता है। यदि जातक की कुंडली में बुध की स्थिति कमजोर हो या फिर बुध पाप ग्रहों द्वारा पीड़ित हों तो माना जाता है कि बुध का रत्न पन्ना धारण करने से अधूरी तमन्नाएं पूरी होने लगती हैं क्योंकि इससे बुध ग्रह को मजबूती मिलती है। विद्यार्थी जातक अगर पन्ना धारण करते हैं तो मान्यता है कि इससे उनकी बुद्धि तेज होने लगती है। यदि किसी रोगी को पन्ना पहनाया जाता है तो उसके बल में वृद्धि होती है आरोग्य का सुख मिलता है। घर में पन्ना रत्न रहने से अन्न-धन्न आदि में वृद्धि होती है, सुयोग्य संतान का सुख मिलता है और भी बहुत सार लाभ पन्ना धारण करने के बताये जाते हैं।

पन्ना धारण करते समय रखें यह सावधानी

ज्योतिष शास्त्र में पन्ना धारण करने के जहां लाभ बताये गये हैं वहीं यह भी बताया गया है कि कई बार अज्ञानतावश पन्ना धारण करने से जातकों पर इसके नकारात्मक प्रभाव भी पड़ने लग जाते हैं। इसलिये पन्ना धारण करते समय यह ध्यान रखें की पन्ना शुद्ध है या नहीं।  

शुद्ध पन्ने की पहचान कैसे करें

पन्ना रत्न खरीदने से पहले यह अच्छी प्रकार से देख लें कि कहीं इसमें जाल तो नहीं गुंथा दिख रहा यदि ऐसा प्रतीत हो रहा हो तो यह अशुभ माना जाता है। यदि आपने यह पन्ना धारण कर लिया तो इससे अस्वस्थ्ता का भय बना रहता है।

जिस पन्ने में टूटी हुई धारियां नज़र आयें ऐसे रत्न को भी शुद्ध नहीं माना जाता मान्यता है कि यह संतान पक्ष के लिये शुभ संकेत नहीं होता।

थोड़ी सी कम कीमत के चलते यदि कोई आपको खुरदरा पन्ना थमाना चाहे और आप भी सस्ते के लोभ में फंस जायें तो यह आपके लिये नुक्सानदायक हो सकता है। क्योंकि खुरदरा पन्ना भी शुद्ध नहीं माना जाता और पशुधन की हानि होने की संभावनाएं बनती हैं।

यदि पन्ने में कोई गड्ढा सा नज़र आये यानि कि उसकी सतह कहीं से भी आपको कुछ अलग सी प्रतीत हो तो इसे भी धारण करने से परहेज करें मान्यता है कि यह शत्रुभय को बढ़ाता है।

रत्न तो जाने ही अपनी चमक से जाते हैं। यदि पन्ना चमकदार न हो तो पन्ना पाने की इस तमन्ना से तौबा करें क्योंकि यह आपके लिये धन हानि के संकेत करता है।

पन्ना यदि स्वर्ण रंग का हो तो इससे भी परहेज करें यह हर प्रकार से कष्टदायी माना जाता है। इसके अलावा जिसमें रक्त कणों से बिंदु दिख रहे हों या फिर शहद जैसा रंग दिखाई दे रहा हो अथवा पीली बिंदियां दिखाई दें, एक से अधिक रंग दिख रहे हों, जिसमें पतली रेखाएं दिखाई दे रही हों या फिर धब्बेदार हो तो ऐसे पन्ने को नहीं धारण करना चाहियें।

आपके लिये कौनसा रत्न धारण करना सही रहेगा? जानने के लिये एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

माँ चंद्रघंटा - नवरात्र का तीसरा दिन माँ दुर्गा के चंद्रघंटा स्वरूप की पूजा विधि

माँ चंद्रघंटा - नव...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नामचंद्रघंटाहै। नवरात्रि उपासनामें तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह कापूजन-आरा...

और पढ़ें...
माँ कूष्माण्डा - नवरात्र का चौथा दिन माँ दुर्गा के कूष्माण्डा स्वरूप की पूजा विधि

माँ कूष्माण्डा - न...

नवरात्र-पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरूप की ही उपासना की जाती है। जब सृष्टि की रचना नहीं हुई थी उस समय अंधकार का साम्राज्य था, तब द...

और पढ़ें...
दुर्गा पूजा 2017 – जानिये क्या है दुर्गा पूजा का महत्व

दुर्गा पूजा 2017 –...

हिंदू धर्म में अनेक देवी-देवताओं की पूजा की जाती है। अलग अलग क्षेत्रों में अलग-अलग देवी देवताओं की पूजा की जाती है उत्सव मनाये जाते हैं। उत्त...

और पढ़ें...
जानें नवरात्र कलश स्थापना पूजा विधि व मुहूर्त

जानें नवरात्र कलश ...

 प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्रे आते है। पहले नवरात्रे चैत्र शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से शुरु होकर चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि ...

और पढ़ें...
नवरात्र में कैसे करें नवग्रहों की शांति?

नवरात्र में कैसे क...

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से मां दुर्गा की आराधना का पर्व आरंभ हो जाता है। इस दिन कलश स्थापना कर नवरात्रि पूजा शुरु होती है। वैसे ...

और पढ़ें...