Skip Navigation Links
पन्ना रत्न - ज्योतिष के अनुसार पन्ना धारण करने के लाभ व सावधानियां


पन्ना रत्न - ज्योतिष के अनुसार पन्ना धारण करने के लाभ व सावधानियां

पन्ना यह शब्द तो आपने सुन्ना ही होगा। हीरे और मोती की तरह ही पन्ना भी एक प्रकार का रत्न है। इसे मरकत मणि, जमरन, एमराल्ड विभिन्न भाषाओं में भिन्न नामों से जाना जाता है। पन्ना आभूषणों में जड़े जाने के बाद उन्हें तो खूबसूरत बनाता ही है साथ ही यदि आप इसे धारण करें तो यह आपकी शोभा को भी बढ़ाएगा। लेकिन इस रत्न का महत्व मात्र आभूषण की शोभा बढ़ाने तक सीमित नहीं है बल्कि ज्योतिषीय दृष्टि से यह रत्न बहुत ही खास अहमियत रखता है। तो आइये जानते हैं पन्ने का महत्व और इसे धारण करते समय क्या सावधानियां रखनी चाहियें।

ज्योतिष के अनुसार पन्ना धारण करने के लाभ

पन्ना नवग्रहों में से एक माने जाने वाले ग्रह बुध का रत्न माना जाता है। बुध जो कि बुद्धि के दाता हैं। जो संचार, तकनीक आदि के कारक हैं। जिनके प्रभाव से व्यवसाय में सफलता मिलती है। जिनके प्रभाव से वाणी में जादू बरकरार रहता है। यदि जातक की कुंडली में बुध की स्थिति कमजोर हो या फिर बुध पाप ग्रहों द्वारा पीड़ित हों तो माना जाता है कि बुध का रत्न पन्ना धारण करने से अधूरी तमन्नाएं पूरी होने लगती हैं क्योंकि इससे बुध ग्रह को मजबूती मिलती है। विद्यार्थी जातक अगर पन्ना धारण करते हैं तो मान्यता है कि इससे उनकी बुद्धि तेज होने लगती है। यदि किसी रोगी को पन्ना पहनाया जाता है तो उसके बल में वृद्धि होती है आरोग्य का सुख मिलता है। घर में पन्ना रत्न रहने से अन्न-धन्न आदि में वृद्धि होती है, सुयोग्य संतान का सुख मिलता है और भी बहुत सार लाभ पन्ना धारण करने के बताये जाते हैं।

पन्ना धारण करते समय रखें यह सावधानी

ज्योतिष शास्त्र में पन्ना धारण करने के जहां लाभ बताये गये हैं वहीं यह भी बताया गया है कि कई बार अज्ञानतावश पन्ना धारण करने से जातकों पर इसके नकारात्मक प्रभाव भी पड़ने लग जाते हैं। इसलिये पन्ना धारण करते समय यह ध्यान रखें की पन्ना शुद्ध है या नहीं।  

शुद्ध पन्ने की पहचान कैसे करें

पन्ना रत्न खरीदने से पहले यह अच्छी प्रकार से देख लें कि कहीं इसमें जाल तो नहीं गुंथा दिख रहा यदि ऐसा प्रतीत हो रहा हो तो यह अशुभ माना जाता है। यदि आपने यह पन्ना धारण कर लिया तो इससे अस्वस्थ्ता का भय बना रहता है।

जिस पन्ने में टूटी हुई धारियां नज़र आयें ऐसे रत्न को भी शुद्ध नहीं माना जाता मान्यता है कि यह संतान पक्ष के लिये शुभ संकेत नहीं होता।

थोड़ी सी कम कीमत के चलते यदि कोई आपको खुरदरा पन्ना थमाना चाहे और आप भी सस्ते के लोभ में फंस जायें तो यह आपके लिये नुक्सानदायक हो सकता है। क्योंकि खुरदरा पन्ना भी शुद्ध नहीं माना जाता और पशुधन की हानि होने की संभावनाएं बनती हैं।

यदि पन्ने में कोई गड्ढा सा नज़र आये यानि कि उसकी सतह कहीं से भी आपको कुछ अलग सी प्रतीत हो तो इसे भी धारण करने से परहेज करें मान्यता है कि यह शत्रुभय को बढ़ाता है।

रत्न तो जाने ही अपनी चमक से जाते हैं। यदि पन्ना चमकदार न हो तो पन्ना पाने की इस तमन्ना से तौबा करें क्योंकि यह आपके लिये धन हानि के संकेत करता है।

पन्ना यदि स्वर्ण रंग का हो तो इससे भी परहेज करें यह हर प्रकार से कष्टदायी माना जाता है। इसके अलावा जिसमें रक्त कणों से बिंदु दिख रहे हों या फिर शहद जैसा रंग दिखाई दे रहा हो अथवा पीली बिंदियां दिखाई दें, एक से अधिक रंग दिख रहे हों, जिसमें पतली रेखाएं दिखाई दे रही हों या फिर धब्बेदार हो तो ऐसे पन्ने को नहीं धारण करना चाहियें।

आपके लिये कौनसा रत्न धारण करना सही रहेगा? जानने के लिये एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करें। अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

शुक्र मार्गी - शुक्र की बदल रही है चाल! क्या होगा हाल? जानिए राशिफल

शुक्र मार्गी - शुक...

शुक्र ग्रह वर्तमान में अपनी ही राशि तुला में चल रहे हैं। 1 सितंबर को शुक्र ने तुला राशि में प्रवेश किया था व 6 अक्तूबर को शुक्र की चाल उल्टी हो गई थी यानि शुक्र वक्र...

और पढ़ें...
वृश्चिक सक्रांति - सूर्य, गुरु व बुध का साथ! कैसे रहेंगें हालात जानिए राशिफल?

वृश्चिक सक्रांति -...

16 नवंबर को ज्योतिष के नज़रिये से ग्रहों की चाल में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव हो रहे हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ग्रहों की चाल मानव जीवन पर व्यापक प्रभाव डालती है। इस द...

और पढ़ें...
कार्तिक पूर्णिमा – बहुत खास है यह पूर्णिमा!

कार्तिक पूर्णिमा –...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज ...

और पढ़ें...
गोपाष्टमी 2018 – गो पूजन का एक पवित्र दिन

गोपाष्टमी 2018 – ग...

गोपाष्टमी,  ब्रज  में भारतीय संस्कृति  का एक प्रमुख पर्व है।  गायों  की रक्षा करने के कारण भगवान श्री कृष्ण जी का अतिप्रिय नाम 'गोविन्द' पड़ा। कार्तिक शुक्ल ...

और पढ़ें...
देवोत्थान एकादशी 2018 - देवोत्थान एकादशी व्रत पूजा विधि व मुहूर्त

देवोत्थान एकादशी 2...

देवशयनी एकादशी के बाद भगवान श्री हरि यानि की विष्णु जी चार मास के लिये सो जाते हैं ऐसे में जिस दिन वे अपनी निद्रा से जागते हैं तो वह दिन अपने आप में ही भाग्यशाली हो ...

और पढ़ें...