बॉक्स ऑफिस भविष्यवाणी: ’बाहुबली-द बिगनिंग’

सालों से एक बात भारतीय सिनेमा के लिए कही जाती है कि हमारे पास ऐतिहासिक फिल्में बनाने का कोई ख़ास हुनर नहीं है इसीलिए भारतीय दर्शक ऐतिहासिक फिल्मों के लिए हॉलीवुड का रूख करते हैं। लेकिन इस बार 'बाहुबली-द बिगनिंग' हॉलीवुड की तर्ज़ पर ही बनी एक भारतीय फ़िल्म है।

10 जुलाई 2015 को रिलीज़ हो रही, एस.एस.राजमौली द्वारा निर्देशित फ़िल्म 'बाहुबली-द बिगनिंग' फ़िल्म का ट्रेलर,दो महीने पहले मई में रिलीज़ हुआ था। 20 घंटे के अन्दर ही इस ट्रेलर को 10 लाख लोगों ने देखा था। निर्देशक एस.एस.राजमौली ने फ़िल्म का निर्माण तमिल और तेलुगु भाषा में किया है और फिल्म को हिन्दी में फिल्मकार करण जौहर अपने प्रोडक्शन से लेकर आ रहे हैं। फिल्म की कहानी में दिखाया गया है कि कैसे एक आम आदमी को उसके गाँव वाले लोग भगवान बना देते हैं और बाद में यही आदमी लोगों की रक्षा करता है। भारतीय सिनेमा के इतिहास में इस फ़िल्म को अब तक की सबसे मंहगी फ़िल्म बताया जा रहा है। फ़िल्म में प्रभास, राणा डग्गूबाती, अनुष्का शेट्टी और तमन्ना जैसे सफल तमिल कलाकार हैं।

फ़िल्म रिलीज़ के मौके पर एस्ट्रोयोगी ज्योतिषों की राय के अनुसार, यह फ़िल्म ‘बॉक्स ऑफिस’ पर अच्छा करने में कामयाब हो सकती है। ज्योतिष के अनुसार, 10 जुलाई 2015 को सिंह लग्न में फ़िल्म रिलीज़ होने के कारण और इस दिनमंगल ग्रह के एकादश स्थान में होने से धन प्राप्ति के अच्छे योग हैं। फिल्म के नाम पर नजर डालें, तो यह वृषभ राशि से संबंधित है और निर्देशक एस.एस.राजमौली की चद्र राशि कुंभ है। ज्योतिष के अनुसार वृषभ और कुंभ का मेल अच्छा बनता है इसलिए इस आंकलन से भी एक अच्छा योग बनता है। कुल मिलाकर देखा जाए तो सभी हिसाब से फ़िल्म के अच्छे करने के आसार नजर आ रहे हैं।

फ़िल्म के निर्देशक एस.एस.राजमौली द्वारा इस फ़िल्म से पहले ‘ऐगा’ फ़िल्म बनाई थी, जिसका हिंदी में ‘मक्खी’ नाम से प्रसारण हुआ था। इनकी तमिल फिल्मों ‘मगधीरा’ और ‘ऐगा’ को ‘आफ्टर इफेक्ट्स’ के लिए नेशनल फ़िल्म अवार्ड भी मिल चुका है। एस्ट्रोयोगी.कॉम 'बाहुबली-द बिगनिंग' की पूरी टीम को फ़िल्म की रिलीज़ के लिए बधाई देता है और हम उम्मीद करते हैं कि फ़िल्म बॉक्स ऑफिस पर कामयाब होने में सफल साबित होगी।

एस्ट्रो लेख

माँ चंद्रघंटा -...

माँ दुर्गाजी की तीसरी शक्ति का नाम चंद्रघंटा है। नवरात्रि उपासना में तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्व है और इस दिन इन्हीं के विग्रह का पूजन-आराधन किया जाता है। इस दिन साधक का मन ...

और पढ़ें ➜

माँ ब्रह्मचारिण...

नवरात्र पर्व के दूसरे दिन माँ  ब्रह्मचारिणी की पूजा-अर्चना की जाती है। साधक इस दिन अपने मन को माँ के चरणों में लगाते हैं। ब्रह्म का अर्थ है तपस्या और चारिणी यानी आचरण करने वाली। इस...

और पढ़ें ➜

माँ शैलपुत्री -...

देवी दुर्गा के नौ रूप होते हैं। दुर्गाजी पहले स्वरूप में 'शैलपुत्री' के नाम से जानी जाती हैं। ये ही नवदुर्गाओं में प्रथम दुर्गा हैं। पर्वतराज हिमालय के घर पुत्री रूप में उत्पन्न हो...

और पढ़ें ➜

अखंड ज्योति - न...

नवरात्रि का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। साल में हम 2 बार देवी की आराधना करते हैं। चैत्र नवरात्रि चैत्र मास के शुक्ल प्रतिपदा को शुरु होती है और रामनवमी पर यह खत्म होती है, वहीं ...

और पढ़ें ➜