बजट 2019 - कैसा रहेगा आपके लिये 2019 का आम बजट

2019 का आम बजट 1 फरवरी को 11 बजे संसद में पेश किया जायेगा। यह बजट कई मायनों में खास रहने वाला है। दरअसल वित्त वर्ष 2018-19 नोटबंदी व जीएसटी के साइड इफेक्ट दिखने की बातें हो रही थी तो वहीं इसे उम्मीदों का बजट भी बताया गया था। हालांकि यह बजट मिला जुला ही रहा। अब चूंकि 2019 में चुनाव भी होने हैं तो चुनाव से चंद महीने पहले इस सरकार का यह अंतिम बजट होगा। तो लोगों के लिये सामान्यत: बहुत ही बढ़िया रहने के आसार हैं। हालांकि ज्योतिषशास्त्र में ग्रहों की दशा व दिशा के अनुसार यह पूर्वानुमान लगाया जा सकता है कि किस क्षेत्र में उछाल आने की संभावना है तो किस क्षेत्र में मंदी। आइये जानते हैं 2019-20 के बजट पर ग्रहों की चाल के क्या संकेत हैं?


बजट 2019 के समय ग्रह चाल

अनुमानित समय अनुसार 1 फरवरी को 11 बजे बजट पेश होने की संभावना है इस समय के अनुसार मेष लग्न रहेगा तो राशि धनु रहेगी। लग्न स्वामी मंगल 12वें भाव में विराजमान हैं। जबकि धनु राशि में शनि, शुक्र व चंद्रमा की युति है जो कि लग्न से भाग्य का स्थान बनता है। प्रजा के स्वामी माने जाने वाले शनि मंगल से दसवें स्थान यानि कर्म भाव में एवं मेष लग्न से भाग्य स्थान में गोचररत हैं।

कुल मिलाकर मंगल से संबंधित चीज़ों (ऊर्जा, भूमि, दवाईयां, रक्षा, इलेक्ट्रोनिक, बड़ी मशीनें आदि)  के मामले में तेजी आ सकती है। शनि, चंद्रमा व शुक्र की युति जनता के लिये बजट को राहत देने वाला रहने की उम्मीदें लगाई जा सकती हैं। 


बजट 2019 – कहां आयेगी तेजी कहां छायेगी मंदी?

इलेक्ट्रोनिक सामान, भूमि, मकान, वाहन, बड़ी मशीने, मेडिसिन आदि में तेजी के आसार

मंगल के प्रभाव से इलेक्ट्रोनिक एवं ऊर्जा उपकरणों की कीमतों में बढ़ोतरी हो सकती है। साथ ही संपत्ति में उछाल आने की संभावनाएं भी हैं। घर और गाड़ी की कीमतें भी बढ़ सकती हैं। हालांकि इन पर लोन थोड़ा और सस्ता हो सकता है।

उद्योगों के लिये लाभकारी

उद्योग के कारक ग्रह शुक्र व सूर्य माने जाते हैं जो कि लग्न से भाग्य (शुक्र) व कर्म (सूर्य) भाव में गोचर कर रहे हैं जिससे उद्योगों के लिये यह बजट लाभकारी रह सकता है। विशेषकर नये उद्यमों को बढ़ावा देने हेतु कुछ घोषणाएं हो सकती हैं। हालांकि छोटे उद्योगों के लिये हो सकता है ज्यादा उत्साहित करने वाला बजट साबित न हो लेकिन बड़े कारोबारियों के लिये मुनाफे का बजट रहने के आसार हैं। नौकरीपेशा लोगों को भी बजट से खुशख़बरी मिल सकती है। सरकारी क्षेत्र में कार्यरत कर्मचारियों के लिये भी बजट अच्छा रह सकता है।

निवेश करना पड़ सकता है मंहगा

12वें मंगल के कारण धन निवेश करने वाले जातक थोड़ा सोच समझकर निर्णय लें खासकर शॉर्ट टर्म के निवेश हो सकता है आपको अपेक्षानुसार लाभ न दे पायें। सफ़र करना थोड़ा मंहगा हो सकता है। विशेषकर रेल किराये में वृद्धि होने के आसार हैं।

शेयर बाज़ार में तेजी

शेयर बाज़ार के लिये 2019 का बजट उत्साहित कहा जा सकता है, हालांकि थोड़े बहुत उतार-चढ़ाव की अपेक्षा रख सकते हैं लेकिन सामान्यत: इसमें तेजी देखने को मिल सकती है।

सर्राफा बाज़ार में आ सकती है तेजी

चंद्रमा शनि व शुक्र के साथ भाग्य स्थान में हैं जिस कारण सोना, चांदी आदि द्रव्य पदार्थ थोड़े मंहगे हो सकते हैं।

शिक्षा हो सकती है मंहगी

लग्न समय से देखा जाए तो शिक्षा तो घर के स्वामी सूर्य कर्म भाव में केतु व बुध के साथ गोचर कर रहे हैं। वहीं बृहस्पति अष्टम भाव विराजमान हैं। जो शिक्षा क्षेत्र के लिये बजट के सामान्य रहने की उम्मीद जता रहे हैं। 

महिलाओं के लिये बजट

2019 के बजट से स्त्री पक्ष को अपेक्षित लाभ मिलने के आसार हैं विशेषकर गृहणियों के लिये यह बजट शुभ रहने के आसार हैं।

कुल मिलाकर 1 फरवरी को पेश होने वाला बजट लग्न से भाग्य स्थान चंद्रमा, शुक्र व शनि, अष्टम भाव में गुरु, कर्म भाव में सूर्य, बुध व केतु और 12वें भाव में मंगल के चलते इसे उम्मीदों का बजट रहने की उम्मीद की जा सकती है।

आम बजट के साथ-साथ ग्रहों की नज़र आपके बजट पर कैसी पड़ रही है? एस्ट्रोयोगी पर देश के जाने माने ज्योतिषियों से जानें कैसे मिलेगी बजट की चिंता से मुक्ति? पंडित जी से बात करने के लिये यहां क्लिक करें।


यह भी पढ़ें

वित्त राशिफल 2019    |   दैनिक वित्त राशिफल   |   पढ़ें अपनी व्यवसायिक प्रोफाइल   |   2019 देश के आंतरिक हालात पर कैसी है ग्रहों की नज़र?

नरेंद्र मोदी 2019 - कैसा रहेगा नया साल प्रधानमंत्री मोदी के लिये   |   विद्यार्थियों के लिये कैसा रहेगा साल 2019   |   2019 क्या लायेगा अच्छे दिन?

साल 2019 में किस क्षेत्र में बढ़ेंगें रोजगार के अवसर   |   2019 में क्या कहती है भारत की कुंडली   |   2019 में कैसे रहेंगें सिनेमा के सितारे

एस्ट्रो लेख

मार्गशीर्ष – जा...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है इसलिये हर मास को अमावस्या और पूर्णिमा ...

और पढ़ें ➜

देव दिवाली - इस...

आमतौर पर दिवाली के 15 दिन बाद यानि कार्तिक माह की पूर्णिमा के दिन देशभर में देव दिवाली का पर्व मनाया जाता है। इस बार देव दिवाली 12 नवंबर को मनाई जा रही है। इस दिवाली के दिन माता गं...

और पढ़ें ➜

कार्तिक पूर्णिम...

हिंदू पंचांग मास में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कृष्ण पक्ष में जहां धनतेरस से लेकर दीपावली जैसे महापर्व आते हैं तो शुक्ल पक्ष में भी गोवर्धन पूजा, भैया दूज लेकर छठ पूजा, ग...

और पढ़ें ➜

तुला राशि में म...

युद्ध और ऊर्जा के कारक मंगल माने जाते हैं। स्वभाव में आक्रामकता मंगल की देन मानी जाती है। पाप ग्रह माने जाने वाले मंगल अनेक स्थितियों में मंगलकारी परिणाम देते हैं तो बहुत सारी स्थि...

और पढ़ें ➜