Skip Navigation Links
चैंपियंस ट्रॉफी फाइनल भारत बनाम पाकिस्तान – भारत की जीत के प्रबल योग


चैंपियंस ट्रॉफी फाइनल भारत बनाम पाकिस्तान – भारत की जीत के प्रबल योग

चैंपियंस ट्रॉफी 2017 का रोमांच अब चरम पर है। भारत और पाकिस्तान लीग मैच में आमने सामने हुए तो वह मैच किसी फाइनल से कम नहीं लग रहा था। लेकिन भारत से शिकस्त मिलने के बावजूद पाकिस्तान ने शानदार वापसी कर अपने के फिर से भारत के सामने ला खड़ा किया है। दोनों ही टीमें फिर से रविवार के दिन 18 जून को चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल मुकाबले में आमने सामने होंगी। ऐसे में 18 जून को होने वाले मैच का हाल क्या रहेगा आइये जानते हैं दोनों देशों की कुंडली के ज्योतिषशास्त्रीय आकलन से।

मैच के समय ग्रह चाल

भारत व पाकिस्तान के बीच चैंपियंस ट्रॉफी 2017 का फाइनल मुकाबला 18 जून को इंगलैंड के लंदन स्थित ओवल स्टेडियम में स्थानीय समयानुसार प्रात: 10:30 बजे शुरु होगा। मैच के समय का लग्न सिंह तो राशि मीन रहेगी। इस समय मंगल और सूर्य के लाभ स्थान में होंगे वहीं लग्न में राहू का होना कहीं न कहीं दोनों टीमों के आत्मविश्वास में भी उतार-चढ़ाव लाने वाला रहने के आसार हैं।

भारत की कुंडली के अनुसार ग्रहों की दशा

15 अगस्त 1947 मध्यरात्रि के समय देश को आज़ादी मिली। इस समयानुसार भारत की कुंडली पुष्य नक्षत्र में वृषभ लग्न व कर्क राशि की बन रही है। इस समय भारत पर राशि स्वामी चंद्रमा की महादशा चल रही है तो अंतर्दशा में राहू हैं वहीं प्रत्यंतर में देव गुरु गोचर कर रहे हैं। खेल के समय लग्न की राशि से भारत का चंद्रमा पांचवा रहेगा तो चंद्र राशि से यह 9वां होगा। भारत की कुंडली व मैच के समय ग्रहों की दशाओं के आधार पर भारत को विजय श्री मिलने की प्रबल संभावना हैं।

पाकिस्तान की कुंडली के अनुसार ग्रहों की दशा

स्वतंत्रता प्राप्ति के समय से देखा जाये पाकिस्तान का जन्म 14 अगस्त की मध्यरात्रि से माना जाता है। उक्त समयानुसार पाकिस्तान की कुंडली वृषभ लग्न व मिथुन राशि की बनती है। शुक्र की महादशा, राहू का अंतर व शुक्र का प्रत्यंतर चल रहा है। मैच के समय का चंद्रमा पाकिस्तान की राशि से दसवें घर में है जो कि राशि से काफी दूर है। चंद्र का सहयोग न होने से खिलाड़ियों का भारत के प्रति जुनून तो होता है लेकिन चंद्रमा कमजोर होने से आत्मविश्वास की कमी होगी।

दोनों देशों की कुंडलियों का 18 जून को मैच आरंभ होने के समयानुसार ग्रह दशा से आकलन किया जाये तो भारत की कुंडलिका के हिसाब से मैच के समय चंद्रमा भारत की राशि से नवम घर में रहेगा जो कि भाग्य का प्रतीक है। गुरु की राशि व भाग्य घर में चंद्रमा होने से भारत का पलड़ा भारी रहने के योग है। वहीं पाकिस्तान की चंद्र राशि मिथुन है, मैच के समय लाभ घर में सूर्य और मंगल होने के कारण कुछ समय के लिये पाकिस्तानी टीम भारत के लिये कड़ी चुनौति पेश कर सकती है जो कि मैच में लंबे समय न रहने के आसार हैं। दर्शकों की  अपेक्षानुसार यह मैच काफी प्रतिस्पर्धात्मक रहने के आसार हैं। लेकिन मैच का अंतिम परिणाम भारत के पक्ष में आये इसकी उम्मीद की जा सकती है।

यदि आप भी अपनी कुंडली में ग्रहों की दशा के बारे में जानना चाहते हैं तो एस्ट्रोयोगी पर देश भर के जाने माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श कर सकते हैं। ज्योतिषियों से अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें। 




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

जगन्नाथ रथयात्रा 2018 - सौ यज्ञों के बराबर पुण्य देने वाली है पुरी रथयात्रा

जगन्नाथ रथयात्रा 2...

उड़िसा में स्थित भगवान जगन्नाथ का मंदिर हिन्दुओं के चार धामों में शामिल है। जगन्नाथ मंदिर, सनातन धर्म के पवित्र तीर्थस्थलों में से एक है। हिन्दू धर्मग्रन्थ ब्रह्मपुर...

और पढ़ें...
जगन्नाथ पुरी मंदिर - जानें पुरी के जगन्नाथ मंदिर की कहानी

जगन्नाथ पुरी मंदिर...

सप्तपुरियों में पुरी हों या चार धामों में धामसर्वोपरी पुरी धाम में जगन्नाथ का नामजगन्नाथ की पुरी भारत में ही नहीं बल्कि दुनिया भर में प्रसिद्ध है। उड़िसा प्रांत के प...

और पढ़ें...
चंद्र ग्रहण 2018 - 2018 में कब है चंद्रग्रहण?

चंद्र ग्रहण 2018 -...

चंद्रग्रहण और सूर्य ग्रहण के बारे में प्राथमिक शिक्षा के दौरान ही विज्ञान की पुस्तकों में जानकारी दी जाती है कि ये एक प्रकार की खगोलीय स्थिति होती हैं। जिनमें चंद्रम...

और पढ़ें...
गुप्त नवरात्र 2018 – जानिये गुप्त नवरात्रि की पूजा विधि एवं कथा

गुप्त नवरात्र 2018...

देवी दुर्गा को शक्ति का प्रतीक माना जाता है। मान्यता है कि वही इस चराचर जगत में शक्ति का संचार करती हैं। उनकी आराधना के लिये ही साल में दो बार बड़े स्तर पर लगातार नौ...

और पढ़ें...
तुला राशि में बृहस्पति की बदली चाल – जानिए किन राशियों के करियर में आयेगा उछाल

तुला राशि में बृहस...

ज्ञान के कारक और देवताओं के गुरु माने जाने वाले बृहस्पति की ज्योतिषशास्त्र के अनुसार बहुत अधिक मान्यता है। गुरु बिगड़ी को बनाने, बनते हुए को बिगाड़ने में समर्थ माने ...

और पढ़ें...