Skip Navigation Links
चैंपियंस ट्रॉफी 2017 का दूसरा सेमीफाइनल भारत व बांग्लादेश


चैंपियंस ट्रॉफी 2017 का दूसरा सेमीफाइनल भारत व बांग्लादेश

चैंपियंस ट्रॉफी 2017 की चार श्रेष्ठ टीमों के बीच 14 जून से मुकाबला आरंभ होगा। फाइनल से एक कदम दूर खड़ी चारों टीमों के लिये दोनों मैच महत्वपूर्ण हैं। पाकिस्तान और ईंग्लैंड जहां 14 को आमने सामने होंगे तो वहीं भारत व बांग्लादेश के बीच 15 जून को मुकाबला होगा। क्या गत विजेता भारत इस बार भी अपनी बादशाहत कायम रखते हुए फाइनल में पंहुचेगा या फिर बांग्लादेश की टीम किस्मत के सहारे कोई उलटफेर हो सकता है? ज्योतिष शास्त्र के अनुसार दोनों देशों की कुंडली क्या कहती है आइये जानते हैं।

मैच के दिन ग्रहों की दशा

भारत व बांग्लादेश के बीच चैंपियंस ट्रॉफी 2017 का दूसरा सेमीफाइनल 15 जून को इंगलैंड के बर्मिंघम स्थित एजबेस्टन में स्थानीय समय के अनुसार प्रात: 10:30 बजे आरंभ होगा। मैच के समय सिंह लग्न व राशि कुंभ रहेगी। इस समय मंगल और सूर्य के लाभ स्थान में होने से इस मैच के एकतरफा रहने के आसार भी नज़र आ रहे हैं। हालांकि लग्न में राहू का होना कहीं न कहीं दोनों टीमों का आत्मविश्वास डगमगाने की ओर भी ईशारा करता है। यह तो रहा मैच शुरु होने के समय ग्रहों का हाल अब जानते हैं दोनों देशों की कुंडली के बारे में।

क्या कहती है भारत की कुंडली

15 अगस्त 1947 मध्यरात्रि के समय देश को आज़ादी मिली। इस समयानुसार भारत की कुंडली पुष्य नक्षत्र में वृषभ लग्न व कर्क राशि की बन रही है। इस समय भारत पर राशि स्वामी चंद्रमा की महादशा चल रही है तो अंतर्दशा में राहू हैं वहीं प्रत्यंतर में देव गुरु गोचर कर रहे हैं। खेल के समय लग्न की राशि से भारत का चंद्रमा 12वां रहेगा तो चंद्र राशि से यह छठा होगा। भारत की कुंडली व मैच के समय ग्रहों की दशाओं के आधार पर भारत को विजय श्री मिलने की संभावनाएं काफी बलवती हैं।

क्या कहती है बांग्लादेश की कुंडली

26 मार्च 1971 को बांग्लादेश को एक स्वतंत्र देश घोषित किया गया था। उक्त समयानुसार बांग्लादेश की कुंडली वृश्चिक लग्न व कुंभ राशि की है। चंद्रमा उस दिन बांग्लादेश की राशि में ही संचरण करेंगें इसका संकेत है कि बांग्लादेश को इस मैच में बने रहने के लिये कड़ी मशक्कत करनी पड़ सकती है। बांग्लादेश का लाभेश और मैच के समय के लग्न के लाभेश बुध हैं जो कि बांग्लादेश की कुंडलिका में नीच राशि के हैं व वर्तमान कुंडलिका के हिसाब से अस्त चल रहे हैं।

दोनों देशों की कुंडलियों व मैच के समय ग्रह दशा का आकलन करने पर इस निष्कर्ष पर पंहुचा जा सकता है कि भारत का पलड़ा काफी भारी रहने के आसार हैं। उम्मीद की जा सकती है कि भारत यह मैच एकतरफा जीते।

हालांकि क्रिकेट विश्लेषकों के नज़रिये देखें तो इसमें कोई दो राय नहीं है कि बांग्लादेश की टीम भारत को विश्वकप में हरा कर उलटफेर कर चुकी है और इस चैंपियंस ट्रॉफी में भी टीम का प्रदर्शन काफी शानदार रहा है। इसलिये बांग्लादेशी टीम को हल्के में नहीं लिया जा सकता है लेकिन अति आत्मविश्वास न किया जाये तो भारत चैंपियंस ट्रॉफी का गत चैंपियंन है और उम्मीद है कि वह इस बार भी इस ट्रॉफी को अपने पास रखे। 


आपकी किस्मत आपका कितना साथ दे रही है? यदि भाग्य का साथ नहीं मिल रहा तो क्यों नहीं मिल रहा? जानें एस्ट्रोयोगी ज्योतिषाचार्यों से। अभी परामर्श करने के लिये यहां क्लिक करें।





एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

माँ कालरात्रि - नवरात्र का सातवाँ  दिन माँ दुर्गा के कालरात्रि स्वरूप की पूजा विधि

माँ कालरात्रि - नव...

माँ दुर्गाजी की सातवीं शक्ति कालरात्रि के नाम से जानी जाती हैं। दुर्गापूजा के सातवें दिन माँ कालरात्रि की उपासना का विधान है।माँ कालरात्रि का स्वरूप देखने में अत्यंत...

और पढ़ें...
गुरु गोचर 2018-19 : मंगल की राशि में गुरु, इन राशियों के अच्छे दिन शुरु!

गुरु गोचर 2018-19 ...

गुरु का वृश्चिक राशि में गोचर 2018-19 - देव गुरु बृहस्पति 11 अक्तूबर को लगभग 7 बजकर 20 मिनट पर राशि परिवर्तन कर रहे हैं। गुरु का गोचर ज्योतिषशास्त्र में बहुत महत्वपू...

और पढ़ें...
नवरात्रों में कन्या पूजन देता है शुभ फल

नवरात्रों में कन्य...

हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार नवरात्र में कन्या पूजन का विशेष महत्व है। सनातन धर्म वैसे तो सभी बच्चों में ईश्वर का रूप बताता है किन्तु नवरात्रों में छोटी कन्याओं में ...

और पढ़ें...
माँ महागौरी - नवरात्र का आठवां दिन माँ दुर्गा के महागौरी स्वरूप की पूजा विधि

माँ महागौरी - नवरा...

माँ दुर्गाजी की आठवीं शक्ति का नाम महागौरी है। दुर्गापूजा के आठवें दिन महागौरी की उपासना का विधान है। इनकी शक्ति अमोघ और सद्यः फलदायिनी है। इनकी उपासना से भक्तों के ...

और पढ़ें...
ज्योतिष क्या है?

ज्योतिष क्या है?

ज्योतिषां सूर्यादिग्रहाणां बोधकं शास्त्रम् अर्थात सूर्यादि ग्रह और काल का बोध कराने वाले शास्त्र को ज्योतिष शास्त्र कहा जाता है| इसमें मुख्य रूप से ग्रह, नक्षत्र आदि...

और पढ़ें...