Skip Navigation Links
भारत बनाम श्री लंका – विराट कोहली के सितारे हैं मजबूत लंका से जीत सकता है भारत


भारत बनाम श्री लंका – विराट कोहली के सितारे हैं मजबूत लंका से जीत सकता है भारत

भारत ने चैंपियंस ट्रॉफी के अपने पहले मैच में पाकिस्तान को करारी शिकस्त देकर भारतीय टीम का मनोबल काफी उच्च है। क्या भारत श्री लंका को हराकर चैंपियंस ट्रॉफी के लिये सेमीफाइनल में अपना स्थान पक्का कर पायेगा। आज इंगलैंड के ओवल में भारतीय समय के अनुसार 3 बजे से भारत व श्री लंका का मैच शुरु होगा। मैच के समय स्थानीय समयानुसार ग्रहों की दशा व दिशा एवं दोनों कप्तानों की कुंडली का अध्ययन करने पर ज्योतिष शास्त्र के नज़रिये से किस टीम का पलड़ा आज भारी रहेगा? आइये जानते हैं।

श्री लंका के कप्तान एंजेलो मैथ्यू की कुंडली

नाम – एंजेलो मैथ्यू

जन्मतिथि – 02 जून 1987

जन्मस्थान – कोलंबो, श्री लंका

जन्म समय – 00:00 (ज्ञात नहीं)

श्री लंका के कप्तान एंजेलो मैथ्यू की कुंडली कुंभ लग्न कर्क राशि की है। इनकी वर्तमान दशा शुक्र की महादशा में अंतर शुक्र और प्रत्यंतर बृहस्पति का चल रहा है। शुक्र इनकी कुंडली में भाग्य और सुख के स्वामी हैं जो कि इनके समय को बलशाली दिखाता है। इनकी राशि कर्क जो कि चंद्रमा का स्वयी स्थान है। राशि से भी इनका समय मजबूत दिख रहा है और लाभ घर में शनि विराजमान हैं। जो कि शुभ संकेत देते हैं। राशि दशा और गोचर के अनुसार इनकी कुंडलिका सभी नायकों में मजबूत कुंडलिका बनती है। इनकी टीम का पूरा सहयोग मिलने पर ये भी अपनी श्रृंखला को पक्ष में लाने पूरे चांस बन रहे हैं।

भारत के कप्तान विराट कोहली की कुंडली

नाम - विराट कोहली

जन्मतिथि – 05 जून 1988

जन्मस्थान – दिल्ली, भारत

जन्म समय – 10:26 मिनट

भारत के कप्तान विराट कोहली की कुंडलिका के हिसाब से धनु लग्न और कन्या राशि की है। इन पर वर्तमान दशा राहू की महादशा शनि का अंतर व राहू का प्रत्यंतर चल रहा है। इनकी राशि में मंगल की भी सपष्ट दृष्टि है। जो कि ग्रह दशाओं के हिसाब से वर्तमान समय काफी चुनौतिपूर्ण दिखा रहा है। मंगल आक्रामकता का प्रतीक होते हैं। उसकी दृष्टि होने से हम इनके पलड़े को भारी मान सकते हैं खेल के क्षेत्र में। जैसा कि हमने पहले भी कहा है कि क्रिकेट एक टीम का खेल होता है। जिसमें अन्य खिलाड़ियों की राशि और ग्रह दशा भी प्रबल मानी जाती है। टीम के नायक के हिसाब से भारतीय टीम के लिये चुनौतिपूर्ण समय रहेगा।

मैच के समय चंद्रमा की स्थिति

इंगलैंड के स्थानीय समयानुसार 10:30 बजे मैच शुरु होगा इस समय चंद्रमा अपनी नीच राशि वृश्चिक में विराजमान रहेंगें। जो कि विराट कोहली की राशि से तीसरा रहेगा। लेकिन इस समय राशि स्वामी बुध कर्मक्षेत्र में सूर्य के साथ विराजमान हैं जो कि इनके लिये शुभ योग बुधादित्य योग बना रहे हैं। वहीं एंजेलो मैथ्यू की राशि के अनुसार इनका चंद्रमा नीच का है जो कि मन में घबराहट, निराशा आदि का कारक है। लेकिन पंचम चंद्रमा के होने से व्यक्ति का मान सम्मान बचा के रखता है। कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि एंजेलो मैथ्यू का व्यक्तिगत प्रदर्शन सही रह सकता है लेकिन भारत की जीत प्रबल आसार हैं। 

आपकी कुंडली के अनुसार ग्रहों की स्थिति आपके लिये क्या कहती हैं जानें एस्ट्रोयोगी पर देश के जाने-माने ज्योतिषाचार्यों से परामर्श करके। ज्योतिषियों से अभी बात करने के लिये यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें

ICC चैंपियंस ट्रॉफी 2017 – किस टीम के कप्तान के ग्रहों की दशा है अच्छी?   ।   Champions Trophy 2017 - 4 जून को भिड़ेंगें भारत-पाकिस्तान




एस्ट्रो लेख संग्रह से अन्य लेख पढ़ने के लिये यहां क्लिक करें

मार्गशीर्ष अमावस्या – अगहन अमावस्या का महत्व व व्रत पूजा विधि

मार्गशीर्ष अमावस्य...

मार्गशीर्ष माह को हिंदू धर्म में काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। इसे अगहन मास भी कहा जाता है यही कारण है कि मार्गशीर्ष अमावस्या को अगहन अमावस्य...

और पढ़ें...
कहां होगा आपको लाभ नौकरी या व्यवसाय ?

कहां होगा आपको लाभ...

करियर का मसला एक ऐसा मसला है जिसके बारे में हमारा दृष्टिकोण सपष्ट होना बहुत जरूरी होता है। लेकिन अधिकांश लोग इस मामले में मात खा जाते हैं। अक...

और पढ़ें...
विवाह पंचमी 2017 – कैसे हुआ था प्रभु श्री राम व माता सीता का विवाह

विवाह पंचमी 2017 –...

देवी सीता और प्रभु श्री राम सिर्फ महर्षि वाल्मिकी द्वारा रचित रामायण की कहानी के नायक नायिका नहीं थे, बल्कि पौराणिक ग्रंथों के अनुसार वे इस स...

और पढ़ें...
राम रक्षा स्तोत्रम - भय से मुक्ति का रामबाण इलाज

राम रक्षा स्तोत्रम...

मान्यता है कि प्रभु श्री राम का नाम लेकर पापियों का भी हृद्य परिवर्तित हुआ है। श्री राम के नाम की महिमा अपरंपार है। श्री राम शरणागत की रक्षा ...

और पढ़ें...
मार्गशीर्ष – जानिये मार्गशीर्ष मास के व्रत व त्यौहार

मार्गशीर्ष – जानिय...

चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है...

और पढ़ें...